Skip to main content

मोहब्बत तर्क की मैने...तलत की कांपती आवाज़ का जादू

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 294

ज पराग सांकला जी की पसंद पर बारी है तलत महमूद साहब के मख़मली आवाज़ की। १९५१ में 'आराम' और 'तराना' जैसी हिट म्युज़िकल फ़िल्में देने के बाद अनिल बिस्वास के संगीत में १९५२ में प्रदर्शित हुए दो फ़िल्में - 'आकाश' और 'दोराहा'। हालाँकि ये दोनों फ़िल्में ही बॊक्स ऒफ़िस पर असफल रही, लेकिन इनके गीतों को, ख़ास कर फ़िल्म 'दोराहा' के गीतों को लोगों ने पसंद किया। दिलीप कुमार के बाद 'दोराहा' में अनिल दा ने तलत साहब की मख़मली अंदाज़ का इस्तेमाल किया अभिनेता शेखर के लिए। दिल को छू लेनेवाली और पैथोस वाले गानें जैसे कि "दिल में बसा के मीत बना के भूल ना जाना प्रीत पुरानी", "तेरा ख़याल दिल से मिटाया नहीं कभी, बेदर्द मैने तुझको भुलाया नही अभी", और "मोहब्बत तर्क की मैने गरेबाँ चीर लिया मैने, ज़माने अब तो ख़ुश हो ज़हर ये भी पी लिया मैने" इस फ़िल्म के सुपरहिट गानें रहे हैं। दोस्तों, आज है इसी तीसरे गीत की बारी। अनिल दा फ़िल्मों के लिए हल्के फुल्के अदाज़ में ग़ज़लें बनाने के लिए जाने जाते थे जिन्हे आम जनता आसानी से गुनगुना सके। इस फ़िल्म के गानें उनके इसी खासियत को उजागर करते हैं। शायर और गीतकार साहिर लुधियानवी ने ये ख़ूबसूरत बोल लिखे हैं। युं तो सचिन देव बर्मन के संगीत में साहिर साहब के पहले पहले गानें फ़िल्म 'नौजवान' और 'बाज़ी' जैसी फ़िल्मों में सुने गए थे सन् १९५१ मे। लेकिन साहिर साहब ने पहली दफ़ा अनिल दा के साथ ही काम किया था सन् १९५० में इसी 'दोराहा' फ़िल्म में। लेकिन फ़िल्म बनते बनते दो साल निकल गए और १९५२ में जाकर यह फ़िल्म और इसके गानें प्रदर्शित हुए।

आज जब एक साथ अनिल दा और तलत महमूद साहब की बात चली है तो आपको यह याद दिला दें, हालाँकि आपको मालूम ही होगा, कि तलत साहब को पहली बार किसी फ़िल्म में गवाने का श्रेय अनिल दा को ही जाता है। फ़िल्म 'आरज़ू' में "ऐ दिल मुझे ऐसी जगह ले चल" गीत गा कर ही तलत साहब रातों रात मशहूर हो गए थे। तलत साहब जब बम्बई में जमने लगे थे तब एक अफ़वाह फ़ैल गई कि वो गाते वक़्त नर्वस हो जाते हैं। उनके गले की लर्जिश को नर्वसनेस का नाम दिया गया, जिससे उनके करीयर पर विपरीत असर होने लगा था। तब अनिल बिस्वास ने यह बताया कि उनके गले की यह कंपन ही उनकी आवाज़ की खासियत है। जब अनिल दा के पास तलत गाना रिकार्ड करने पहुँचे तो जान बूझ कर उन्होने बिना कंपन के गाना गाया। इससे अनिल दा बहुत नाराज़ हुए और कहा कि उनकी उस कंपन के लिए ही वो उनसे वह गाना गवाना चाहते हैं और उनको उनके गले की वही लर्जिश चाहिए। इससे तलत साहब का हौसला बढ़ा और एक के बाद एक बेहतरीन गीत गाते चले गए, और यह फ़ेहरिस्त लम्बी, और लम्बी होती चली गई। दोस्तों, आज हम उस फ़ेहरिस्त पर नहीं जाएँगे, बल्कि अब जल्दी से आपको सुनवा रहे हैं फ़िल्म 'दोराहा' में तलत साहब की मख़मली आवाज़।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा अगला (अब तक के चार गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी (दो बार), स्वप्न मंजूषा जी, पूर्वी एस जी और पराग सांकला जी)"गेस्ट होस्ट".अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. शकील नौशाद की जोड़ी का है ये नग्मा जिसे चुना है पराग जी ने.
२. इसी फिल्म में लता और शमशाद का गाया एक मशहूर युगल गीत भी था.
३. मुखड़ा शुरू होता है इस शब्द से -"नज़र".

पिछली पहेली का परिणाम -
इंदु जी एक कदम और मंजिल की तरफ आपका...बधाई

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

indu puri said…
SAAJIV AAPKE CHARAN KAHAN HAI ?
bhaisahib hum ko to ek gana hi malum hai jo 'najar'shbd se shuru hota hai pr use shamsha begum ke sath lataji ne nhi Durraniji ne gaya tha
deedar film ka
ab aise swal puchhoge to apna to bhagwan hi malik hai
PABLAJI to jane kahan gayab ho gaye hai
सुन्दर प्रेस्तुति धन्यवाद्
indu puri said…
'nazar mil gai jane kis ki nazar se''
anokhi ada
is prashn ka uttar PABLA BHAIYA NE MUJHE NAHI BATAYA HAI
तलत साहब की आवाज़ में लर्ज़िश तो कुदरती ही थी, मगर ये बात भी सच है कि वे बडे ही जल्दी नर्वस हो जाते थे.

उनके एक कार्यक्रम की एंकरिंग करने का सौभाग्य मुझे मिला था, तो जब तक कार्यक्रम शुरु नहीं हुआ वे बडे ही नरवस थे, मगर जैसे ही पहला गाना गाया और लोगों नें तालियों से उसे नवाज़ा, तो फ़िर वे आश्वस्त हो कर खुल कर गाने लग गये.

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया