Skip to main content

ओ दिलदार बोलो एक बार, क्या मेरा प्यार पसंद है तुम्हें...कवि प्रदीप का एक गीत ये भी...

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 70

'ओल्ड इज़ गोल्ड' की ७०-वीं कड़ी में आप सभी का स्वागत है। सुरीले फ़िल्म संगीत का यह सफ़र पिछले ७० दिनो से चला आ रहा है और आप भी इसमें पूरी तरह से हिस्सेदारी निभा रहे हैं जिस वजह से हमें भी रोज़ नयी ऊर्जा मिल रही है बेहतर से बेहतर गाने और उनसे संबंधित जानकारियाँ खोजने में। कभी कभी जब जानकारियों में कुछ गड़बड़ हो जाती है तो आप उसका सुधार भी कर देते हैं जिसके लिए हम आप के तह-ए-दिल से आभारी हैं। आगे भी आप हमारा इसी तरह से मार्ग-दर्शन करते रहेंगे ऐसा हमारा विश्वास है। तो चलिये इसी बात पर अब हम आते हैं आज के गाने पर। दोस्तों, कुछ दिन पहले हमने 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में आपको एक गीत सुनवाया था लता मंगेशकर और तलत महमूद का गाया हुआ फ़िल्म 'मौसी' का - "टिम टिम टिम तारों के दीप जले नीले आकाश तले"। याद है न आपको? इस गीत को भरत व्यास ने लिखा था और संगीत था वसंत देसाई का। आज इस गीत से मिलता-जुलता एक और गीत हम लेकर आये हैं, इसे भी लताजी और तलत साहब ने गाया है और संगीत भी एक बार फिर वसंत देसाई साहब का है। बस गीतकार भरत व्यास के जगह आ गये हैं कवि प्रदीप। फ़िल्म 'स्कूल मास्टर' के इस गीत के साथ हमने 'मौसी' फ़िल्म के गाने का ज़िक्र इसलिए किया क्योंकि जब भी हम इनमें से कोई भी गीत सुनते हैं तो दूसरा गीत अपने आप ही जेहन में आ जाता है। कुछ तो है समानता इन दोनो गीतों में। गीत सुनने के बाद आप ख़ुद इस ब्लाग पर लिखियेगा अगर आपको भी इन गीतों में कोई समानता नज़र आती हो तो।

१९५९ में बनी फ़िल्म 'स्कूल मास्टर' के मुख्य कलाकार थे बी.सरोजा देवी और राजा गोस्वामी। ए. एल. एस प्रोडक्शन्स के बैनर तले बनी यह फ़िल्म एक मराठी फ़िल्म की रीमेक थी। फ़िल्म तो बहुत ज़्यादा कामयाब नहीं रही लेकिन इस फ़िल्म का कम से कम से यह गाना बेहद सुना गया और आज भी जब इस गीत को कहीं सुनने को मिलता है तो दिल के साथ साथ पाँव भी अपने आप ही जैसे थिरकने लगते हैं। कुछ ऐसी संक्रामक है इस गीत की धुन। यूँ तो कवि प्रदीप ज़्यादातर गम्भीर विषयों और काव्य को ही अपने गीतों में स्थान दिया करते थे, लेकिन यह एक ऐसा गीत है जिसमें उन्होने बड़े ही हल्के-फुल्के बोलों का प्रयोग किया है, जिस वजह से यह गीत आम जनता में इतना ज़्यादा लोकप्रिय हुआ है। तो अब आप सुनिये यह गीत और मैं चला अगले गीत की जानकारियाँ समेटने।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं -

१. संगीतकार रवि का एक बेहद शानदार गीत.
२. लता के स्वर की पवित्रता अपने चरम पर है इस गीत में
३. "मंदिर" और मंदिर के "देवता" का जिक्र है मुखड़े में.

कुछ याद आया...?

पिछली पहेली का परिणाम -
एक मुश्किल गाने को पहचान लिया मनु जी ने...भाई वाह बधाई....

शरद तैलंग और भरत पंडया जी को भी बधाई। शरद जी आप ईमेल से पहेली मिलने का इंतज़ार करने की बजाय रोज़ाना भारतीय समयानुसार शाम 6 से 7 बजे के बीच http://podcast.hindyugm.com खोल लें तो आप पहले विजेता हो सकते हैं।

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम ६-७ के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.


Comments

manu said…
तुम्ही मेरे मंदिर , तुम्ही मेरी पूजा, तुम्ही देवता हो..
neelam said…
isme bataana kya tha ??????????
rasmdaaygi to manu ji ne kar hi di hai aur unki haan me haan bhi dilip ji mila hi chuke hain ,waise gana to sunne ka man hai hi .
Parag said…
यह गीत मेरे ख़ास पसंदीदा गीतोंमें से है. मुझे गीत के बोल तो अच्छे से याद थे मगर फिल्म का नाम याद नहीं आ रहा था. वसंत देसाई साहब एक और ऐसे संगीतकार है जिन्हें अदभुत प्रतिभा के बावजूद उतनी लोकप्रियता नहीं मिली. एक छोटी सी त्रुटी सुधार, फिल्म के मुख्य अभिनेता का नाम राजा गोसावी है.

सुरीला गाना सुनाने के लिए आभारी.

पराग
shanno said…
खूब सुना हुआ है यह गाना मैंने भी बचपन में. बड़ा मजेदार है.
Neeraj Rohilla said…
मनु जी का जवाब सही है,
पिछले कई दिनो से बहुत व्यस्तता के चलते चिट्ठे पढने का काम बन्द है। जल्द ही नियमित हाजिरी लगाया करूँगा।
neelam said…
saawdhaan ,hosiyaar khabardaar ,
neeraj ji padhaar rahe hain ,manu ji jagah khaali kar dijiye ,mera matlab hai ki line me doosre number par aa hi jaayiye .
तुम्ही मेरे मंदिर , तुम्ही मेरी पूजा, तुम्ही देवता हो..सुना दें आनंद आएगा.

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया