Skip to main content

दस सप्ताह के घमासान के बाद क्षिति तिवारी और प्रकाश गोविंद बने हैं 'सिने पहेली' के तीसरे सेगमेण्ट के संयुक्त विजेता


सिने-पहेली # परिणाम विशेषांक (30 जुलाई, 2012) 

नमस्कार दोस्तों! पिछले दस सप्ताहों से 'सिने पहेली' के तीसरे सेगमेण्ट का जो घमासान चल रहा था, वह अब अपने अंजाम तक पहुँच चुका है। गत सोमवार को 'सिने पहेली' की तीसवीं कड़ी में पूछे गए सवालों के जवाब और पूरे सेगमेण्ट के आँकड़ों के साथ मैं, आपका ई-दोस्त, सुजॉय चटर्जी, हाज़िर हूँ इस परिणाम विशेषांक के साथ। आज सबसे पहले मैं स्वागत करना चाहूँगा पिट्सबर्ग के डॉ. महेश बसंतनी का, जो इस सप्ताह 'सिने पहेली' से जुड़े हैं, और प्रतियोगिता में भाग लेते हुए 90 अंक भी बटोरे हैं। महेश जी पिट्सबर्ग विश्वविद्यालय के एन्डोक्राइनोलोजी विभाग में पोस्ट-डॉकटरल ऐसोसिएट के पद पर कार्य कर रहे हैं। दोस्तों, ब्लॉगर के आँकड़ों के हिसाब से 'रेडियो प्लेबैक इंडिया' के लगभग 50% पाठक/श्रोता भारत में स्थित हैं, जबकि बाकी के 50% विश्व के अलग-अलग देशों से ताल्लुख रखते हैं जिनमें अमरीका, इंगलैण्ड, रूस, संयुक्त अरब अमीरात, ब्राज़िल, पाकिस्तान, कनाडा, फ़्रान्स, नेदरलैण्ड्स, ताइवान, ट्यूनिशिया और जर्मनी मुख्य रूप से शामिल हैं। दुनिया के कोने-कोने से आप 'रेडियो प्लेबैक इंडिया' के वेबसाइट पर पधार रहे हैं, यह हमारे लिए बेहद ख़ुशी की बात है, और इसके लिए हम आप सभी का तहे दिल से शुक्रिया अदा करते हैं।


आइए सबसे पहले आपको बताएँ 'सिने-पहेली-30' में पूछे गए सवालों के सही जवाब।

'सिने पहेली - 30' के सही जवाब


सिने पहेली का पिछला अंक समर्पित था राजेश खन्ना की स्मृति को। उन पर पूछे गए दस सवालों के जवाब ये रहे....

1. "यूं ही तुम मुझसे बात करती हो" (सच्चा झूठा)

2. "और कुछ देर ठहर" (आख़िरी ख़त)

3. श्रीदेवी (मक्सद, मास्टरजी, नज़राना, नया कदम)

4. "आधी रोटी सारा कबाब, बोल मेरे मुर्गी कूक-ड़ू-कू" (जनता हवलदार)। इस गीत में राजेश खन्ना और हेमा मालिनी हैं, जबकि फ़िल्म में राजेश खन्ना की नायिका हैं योगिता बाली।

इस प्रश्न के जवाब में अधिकतर खिलाड़ियों ने "बागों में बहार है" गीत लिखा है जो ग़लत है क्योंकि न तो इसमें पहेलियों की लड़ाई है (महज़ सवाल जवाब हैं) और न ही राजेश खन्ना नायिका के अलावा किसी अन्य अभिनेत्री के साथ हैं। इस गीत में फ़रीदा जलाल हैं जो राजेश खन्ना के उस चरित्र की नायिका भी हैं।

5. 'महबूबा' और 'कुदरत'

6. "जवानी ओ दीवानी तू ज़िंदाबाद" (आन मिलो सजना)

7. 'डोली'

8. 'अनुरोध'

9. 'बावर्ची'

10. "जय गोविंदम जय गोपालम..... इत्तेफ़ाकम राजेश खन्नाम" (आँसू और मुस्कान), "सातों जनम तुझको पाते..... जो तू होती डिम्पल कपाडिया हम भी तो काका होते" (हीरो नंबर वन)। इन दो गीतों के अलावा 1974 की फ़िल्म 'राजा काका' में एक गीत था "काका हूँ मैं राजा काका"। यह फ़िल्म अपने आप में राजेश खन्ना को समर्पित थी। फ़िल्म के नायक किरण कुमार ने राजेश खन्ना के अंदाज़ में ही अभिनय किया था। फ़िल्म 'रब ने बना दी जोड़ी' के गीत "हम हैं राही प्यार के, फिर मिलेंगे चलते चलते" में राजेश खन्ना के नाम का उल्लेख तो नहीं है, पर फ़िल्मांकन में ज़रूर है।

'सिने पहेली - 30' का परिणाम


1. प्रकाश गोविन्द, लखनऊ --- 100 अंक

2. क्षिति तिवारी, जबलपुर --- 100 अंक

3. अल्पना वर्मा, अल-आइन, यू.ए.ई --- 90 अंक

4. तरुशिखा सुरजन, नई दिल्ली --- 90 अंक

5. महेश बसंतनी, पिट्सबर्ग, यू.एस.ए --- 90 अंक

6. विजय कुमार व्यास, बीकानेर --- 90 अंक

7. गौतम केवलिया, बीकानेर --- 90 अंक

8. पंकज मुकेश, बेंगलुरू --- 90 -अंक

9. रीतेश खरे, मुंबई --- 80 अंक

10. नीरजा श्रीवास्तव, सोनभद्र, यू.पी --- 80 अंक

11. शुभ्रा शर्मा, नई दिल्ली --- 80 अंक

12. मनु बेतख़ल्लुस, नई दिल्ली --- 70 अंक

13. चन्द्रकांत दीक्षित, लखनऊ --- 70 अंक

14. अदिति चौहान, देहरादून --- 60 अंक


और अब 'सिने पहेली' के तीसरे सेगमेण्ट के प्रथम तीन स्थान पाने वाले खिलाड़ी ये रहे....

प्रथम स्थान


क्षिति तिवारी व प्रकाश गोविंद


द्वितीय स्थान


गौतम केवलिया


तृतीय स्थान


रीतेश खरे


'सिने पहेली' प्रतियोगिता के तीसरे सेगमेण्ट का सम्मिलित स्कोर-कार्ड यह रहा...



क्षिति तिवारी, प्रकाश गोविंद, गौतम केवलिया और रीतेश खरे को हार्दिक बधाई। आप चारों को 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में अंक प्राप्त हो रहे हैं। अब तक का 'महाविजेता स्कोरकार्ड' यह रहा...



पंकज मुकेश, विजय कुमार व्यास, अल्पना वर्मा, शुभ्रा शर्मा, चन्द्रकान्त दीक्षित, तरुशिखा सुरजन और सलमन ख़ान को भी बधाई और अगले सेगमेण्ट के लिए शुभकामनाएँ। वैसे सलमन भाई ने पिछली कड़ी में भाग न लेकर हमें बड़ा हतोत्साहित किया, और वो प्रथम स्थान से लुढ़क कर सीधे नौवे स्थान पर आ गए। आपकी क्या मजबूरी रही होगी ज़रूर बताइएगा ईमेल के द्वारा। 

'सिने पहेली- 30' में कुल 26 खिलाड़ियों ने भाग लिया, जिनमें से केवल पाँच खिलाड़ी ऐसे हैं जिन्होंने इस सेगमेण्ट का एक भी एपिसोड मिस नहीं किया। और देखिए, ये ही पाँच खिलाड़ी आज स्कोरकार्ड में सबसे उपर बिराजमान हैं। अत: हम सभी खिलाड़ियों से यही निवेदन करना चाहते हैं कि अगले सेगमेण्ट से आप नियमित रूप से इस प्रतियोगिता में भाग लें, इधर आपने एक एपिसोड मिस किया कि बाकी खिलाड़ी आपसे चार कदम आगे निकल गए। 

तो दोस्तों, आज बस इतना ही। 'सिने पहेली' के चौथे सेगमेण्ट की पहली कड़ी, यानी कि 'सिने पहेली' की 31वीं कड़ी के साथ मैं पुन: उपस्थित हो‍ऊँगा इसी सप्ताह शनिवार की सुबह, अर्थात्‍ 4 अगस्त को, और हम सब फिर से जुट जायेंगे चौथे सेगमेण्ट की लड़ाई में। नए खिलाड़ियों के लिए इस प्रतियोगिता के नियम हम अगले अंक में दुबारा बतायेंगे। तो ज़रूर पधारिएगा इस मज़ेदार प्रतियोगिता में। एक बार फिर से सभी विजेताओं और सभी खिलाड़ियों को बधाई और शुभकामना देते हुए आज मैं आपसे विदा लेता हूँ, फिर मिलेंगे, नमस्कार!

'सिने पहेली' की अगली कड़ी इसी शनिवार 4 अगस्त सुबह 9:30 बजे पोस्ट होगी, भाग लेना न भूलें...

Comments

सिने-पहेली के विजेताओं को हार्दिक बधाई!
Shubham Jain said…
क्षिति तिवारी , प्रकाश गोविंद, गौतम केवलिया, रीतेश खरे सहित सभी विजेताओ व प्रतियोगियों को बधाई....
Reetesh said…
धन्यवाद कृष्णमोहन जी और शुभम जैन जी....
Sujoy Chatterjee said…
shubham ji, aapne kyun cine paheli mein bhaag lena chhod diya? aap next episode se dobara bhaag leejiye zaroor. mahavijeta banne ki ladaai abhi bahut baaki hai, abhi bhi bilkul bhi der nahi hui hai.
Amit said…
सभी विजेताओं को हार्दिक बधाईयाँ
Alpana Verma said…
Sabhi Vijetaon ko badhayee.

Aur saath hi radioplayback ko bhi safal aayojan ke liye badhayee.

Paheliyan banana aur sanchalan koi asaan kaam nahin hota hai.
har segment mei aap ki mehnat dikhaayee deti hai.
Best wishes.
Vijay Vyas said…
क्षिति जी,प्रकाश जी, गौतम जी और रीतेश जी को हार्दिक बधाई । अन्‍य साथी दोस्‍तों को भी बधाई, जिन्‍होंनें कडी मेहनत से विजेताओं को पूरी पूरी टक्‍कर दी। हालांकि मैंनें इस सेगमेंट की चौथी कडी से शुरूवात की और यह निश्चित था कि सेगमेंट में नम्‍बर 1,2,3 पर नहीं आया जा सकता, लेकिन जब खेलना प्रारम्‍भ किया तो बात हार-जीत की नहीं रहकर इस खेल का मजा लेने में तब्‍दील हो गई। पूरा सेगमेंट मनोरंजक रहा। अल्‍पना जी की बात से पूरी तरह सहमत हूँ कि पहेलियां बनाना और उनका संचालन कोई आसान कार्य नहीं हैं। प्रत्‍येक कडी में नई क्रियेटिविटी देखने को मिली, जिसके लिए रेडियोप्‍लेबैक टीम और ई-मित्र श्री सुजॉय चटर्जी बधाई के पात्र हैं । बस, यूँ ही इसे जारी रखें। सभी का आभार। शुभकामनाऍं।
समस्त विजेताओं और प्रतिभागियों को बहुत-बहुत बधाई एवं शुभ कामनाएं !

पहेलियाँ बनाना और उन्हें सुलझाना .... दोनों ही बहुत मेहनत के काम हैं !
Smart Indian said…
सिने-पहेली के सभी प्रतिभागियों को हार्दिक बधाई!
Pankaj Mukesh said…
sabhi vijai pratiyogiyon ko badhaai!!!!abhi to ye angadaii hai, aage aur ladai hai!!!!

Popular posts from this blog

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट 'तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर बनेगी प्रीत...'   ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस लघु श्रृंखला में हम आपसे भारतीय संगीत के रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था पर चर्चा कर रहे हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। व

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया

राग कलिंगड़ा : SWARGOSHTHI – 439 : RAG KALINGADA

स्वरगोष्ठी – 439 में आज भैरव थाट के राग – 5 : राग कलिंगड़ा कौशिकी चक्रवर्ती से राग कलिंगड़ा में एक दादरा और लता मंगेशकर से फिल्मी गीत सुनिए लता मंगेशकर विदुषी कौशिकी चक्रवर्ती “रेडियो प्लेबैक इण्डिया” के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी हमारी श्रृंखला “भैरव थाट के राग” की पाँचवीं कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट-व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट, रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्र