Skip to main content

कैसे दिन बीते कैसे बीती रतिया....पंडित रवि शंकर और शैलेन्द्र की जुगलबंदी

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 299

'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर इन दिनों आप सुन रहे हैं शरद तैलंग जी के पसंद के पाँच गानें बिल्कुल बैक टू बैक। आज है उनके चुने हुए चौथे गाने की बारी। फ़िल्म 'अनुराधा' से यह है लता जी का गाया "कैसे दिन बीते कैसे बीती रतिया, पिया जाने ना"। इस फ़िल्म का एक गीत हमने 'दस राग दस रंग' शृंखला के दौरान आपको सुनवाया था। याद है ना आपको राग जनसम्मोहिनी पर आधारित गीत "हाए रे वो दिन क्यों ना आए"? फ़िल्म 'अनुराधा' के संगीतकार थे सुविख्यात सितार वादक पंडित रविशंकर, जिन्होने इस फ़िल्म के सभी गीतों में शास्त्रीय संगीत की वो छटा बिखेरी कि हर गीत लाजवाब है, उत्कृष्ट है। इस फ़िल्म में उन्होने राग मंज खमाज को आधार बनाकर दो गानें बनाए। एक है "जाने कैसे सपनों में खो गई अखियाँ" और दूसरा गीत है "कैसे दिन बीते कैसे बीती रतिया", और यही दूसरा गीत पसंद है शरद जी का। शैलेन्द्र की गीत रचना है और लता जी की सुरीली आवाज़। वैसे हम इस फ़िल्म के बारे में सब कुछ "हाए रे वो दिन..." गीत के वक़्त ही बता चुके हैं। यहाँ तक कि फ़िल्म की कहानी का सारांश भी बताया जा चुका है। तो आज बस इतना ही कहेंगे कि इस राग पर एक और गीत जो लोकप्रिय हुआ है वह है फ़िल्म 'शागिर्द' का भजन "कान्हा आन पड़ी मैं तेरे द्वार"।

आइए आज जब मौका हाथ लगा है तो आपको पंडित रविशंकर जी के बारे में कुछ बातें बताई जाए। पंडित जी का जन्म ७ अप्रैल १९२० में वारानसी में हुआ था। उस समय उनका नाम रखा गया था रबीन्द्र शंकर चौधरी। उन्होने अपनी जवानी अपने भाई उदय शंकर के डांस ग्रूप के साथ पूरे भारत और यूरोप के टूर करते हुए गुज़ार दी। १८ वर्ष की अयु में, यानी कि १९३८ में उन्होने नृत्य छोड़ दिया और अल्लाउद्दिन ख़ान के पास चले गए सितार सीखने के लिए। १९४४ में पढ़ाई ख़त्म कर वो बन गए एक संगीतकार और सत्यजीत रे की बंगला फ़िल्मों में संगीत देने लगे। इनमें शामिल है कालजयी बंगला फ़िल्म 'अपुर संसार'। १९४९ से लेकर १९५६ तक पंडित जी आकाशवाणी दिल्ली में संगीतकार रहे। १९५६ से उन्होने भारतीय शास्त्रीय संगीत के प्रचार प्रसार के लिए अमरीका व यूरोप के टूर शुरु किए। सितार और भारतीय शास्त्रीय संगीत को दुनिया में लोकप्रिय बनाने में उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा है और इस प्रयास के लिए उन्हे समय समय पर बहुत सारे सम्मानों से सम्मानित भी किया गया है। १९९९ में उन्हे देश के सर्वोच्च सम्मान 'भारत रत्न' से समानित किया गया, जिसके बाद और किसी पुरस्कार का ज़िक्र फीका सा लगेगा। २००० के दशक में वो अपनी बेटी अनूष्का के साथ पर्फ़ॊर्म करते हुए देखे और सुने गए। आज वो ८९ वर्ष के हैं। हम हिंद युग्म की तरफ़ से उनके उत्तम स्वास्थ्य और दीर्घायु की ईश्वर से कामना करते हैं और उनके द्वारा बनाए इस सुमधुर गीत का आनंद उठाते हैं। आइए सुनें...



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा अगला (अब तक के चार गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी (दो बार), स्वप्न मंजूषा जी, पूर्वी एस जी और पराग सांकला जी)"गेस्ट होस्ट".अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. कल होगा हमारा एतिहासिक ३०० वां एपिसोड जो समर्पित होगा हमारे वीर जांबाज़ जवानों के नाम.
२. मन्ना डे हैं गायक.
३. मख़्दूम मोहिउद्दिन के रचे इस गीत के मुखड़े में शब्द है-"पूछो", और हाँ कल ज़रा कमर कस कर आईएगा, क्योंकि कल होगी आपके संगीत ज्ञान की अब तक की सबसे कठिन परीक्षा...

पिछली पहेली का परिणाम -
इंदु जी, हमें खुशी है कि ३०० तक पहुचते पहुँचते हमें आपके रूप में एक जबरदस्त विजेता मिल गया है, आपने ये दूरी रिकॉर्ड टाइम में पूरी की है, शरद जी तो अपने उदगार व्यक्त कर चुके ही हैं, दो बार विजेता बने शरद जी के मूह से निकले ये शब्द बहुत कुछ कह जाते हैं, तो ढोल नगाड़े बज रहे हैं और तालियाँ भी खूब जोरों शोरों से बज रही हैं आशा है आप भी सुन पा रही होंगीं, एक बार फिर से बधाई, पाबला जी और अवध जी भी शामिल हैं इस सत्कार में, राज जी, गोदान फिल्म के गीत शैलेन्द्र ने नहीं लिखे थे, पर मैंने और सुजॉय ने आज तक इस फिल्म का कोई गीत नहीं सुना है, यदि आपके पास उपलब्ध हों तो हमें अवश्य भेजने का कष्ट करें, और हाँ कल होगी हमारे सभी अब तक के धुरंधरों की सबसे बड़ी टक्कर, तैयार हैं न आप सब ?

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

indu puri said…
jaane wale sipahi se puchho
film -usne kaha tha
sunil dutt,nanda
सुजॊय जी
बहुत बहुत धन्यवाद आपने मेरी पसन्द के गीतों को सुनवाकर मुझे अविभूत कर दिया । समझ में नहीं आ रहा है कि हिन्दयुग्म का किस तरह शुक्रिया अदा करूं । पुन: बहुत आभारी हूँ । सभी को क्रिसमस पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं ।
RAJ SINH said…
इंदु जी मेरी भी बधाई .
बहुत खुशी होती है की हम जैसे ' ओल्ड ' का ' गोल्ड ' नयी पीढी का भी है.

दादा मैंने यह नहीं कहा की ' गोदान ' के गीत शैलेन्द्र के थे.संगीत रवि शंकर जी का था . गीत तो ' अनजान ' जी के थे .जिनके सुपुत्र समीर जी फ़िल्मी गीत लेखन के नए प्रतिमान गढ़ रहे हैं .
गोदान के वैसे तो सभी गीत सुन्दर थे पर मुकेश जी के गाये ' जिया जरत रहत दिन रैन हो रामा , जरत रहत दिन रैन ..... ' गजब का था . ' लोक रंग ' की ' चैती पर आधारित और अभिनेता राजकुमार पर फिल्माया ,उस किसान ' होरी ' का सब दर्द कह गया था यह गीत .
त्रिलोक कपूर निर्देशित इस फिल्म के कलाकार , राजकुमार , कामिनी कौशल, महमूद, शुभा खोटे , नाना पलसीकर ,शशिकला वगैरह थे.
इतने विस्तृत कैनवाज़ के प्रेमचंद जी के इस उपन्यास को फिल्म में समेटना बहुत बड़ा चैलेन्ज था और पटकथा इसे समेट नहीं पाई और पूरी फिल्म बिखरी बिखरी रह गयी .हिन्दी के सब से शसक्त उपन्यास की यह नियति फिल्म विधा की एक ट्रेजडी ही कहूँगा .संगीत पक्छ छोड़ .
देखता हूँ की इसके गीत उपलब्ध होते हों तो .

' अनजान ' जी मेरे चाचा जी के मित्र भी थे और जब यह फिल्म बन रही थी तो उसकी प्रगति पर सुनने का मौका भी मिलता था .
' धर्मयुग ' साप्ताहिक ने भी उस वक्त इसे चर्चा में काफी स्थान दिया था .

ये ना सोचियेगा की आपकी महफ़िल से नदारत रहता हूँ .टिप्पणियां नहीं कर पाता अक्सर . बस ये कि.......

दुनियां भी तेरी याद ना बेगाना कर सकी
गो तुझसे दिलफरेब हैं गम रोज़गार के .

( चचा ' ग़ालिब ' के मशहूर शेर का मेरा अपना वर्जन :) .)
RAJ SINH said…
और इंदु जी , शायद आप गलत समझ गयीं मेरी टिप्पणी को पिछले एपिसोड में , मैंने कोई प्रश्न कहाँ किया था . सिर्फ बताना चाहा था की रविशंकर जी ने ' गोदान ' में भी संगीत दिया था .
और मैं आपसे प्रश्न करूंगा ?
ऐसा कौन सा सवाल है की जिसका जबाब आपके पास नहीं ,और वह भी सबसे पहले !
मैं तो आपको गुरु ही मानूंगा .साबित तो आपने रिकार्ड समय में कर दिया .
सुजोय दा , गलत तो नहीं कह गया ?..... :)
indu puri said…
भई ,अपन तो जा रहे है बाहर दो चार दिन के लिए
इसलिए आपकी महफिल में शामिल नही हो पाएंगे
हाँ ,आके जरुर कहेंगे ' हम आपकी महफिल में भूले से चले आये
हो माफ़ खता अपनी गर्दिश के ठुकराए .......''
गाना अपनी पसंद का है जी
वरना इंदु का दूसरा नाम है जोश,उमंग,लतीफे,कोमेडी,गाने और जिंदगी
क्रिसमस की ढेरो शुभकामनायें
उत्तर दीजिये ,इंजॉय कीजिये ,आप सभी को बहुत मिस करुँगी
सुजोय,सजीव राज जी ने एकदम सही लिखा था 'गोदान' के गीत भी शैलेन्द्रजी ने ही लिखे थे
शैलेन्द्र+गोदान लिख कर इंटर मारो,सब सामने आ जायेगा ,raj sir godan ke geet shailendraji ne hee likhe the ,(hmaraforum,authersubcontinent web sites pr sb mil jayega) music salil chaudhri ji ka tha.
naraz? indu ? jana hi nhi mujhe aap logo ne. fir bhi kahi dil dukhaya ho to maaf kr dijiye please
main yhan injoy krne,khushiyan baantne aai hun,dil dukhane nhi,na hi bdo ka apmaan krne.
maaf kr diya sir aapne mujhe ?
indu puri said…
aaj yh pej jaane kaise saamne aa gay.ha ha ha pabla ji se yahin tkkr hui thi 'induji' unki naani bn gai hai ab apne veere kii ha ha ha
आप सब मिले. इन दिनों नही आ पा रही हूँ परिवार में शादियों की बहारे आई हुई है और महमानों की भी हा हा हा

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया