Wednesday, January 18, 2012

१८ जनवरी- आज का गाना


गाना: नुक्तचीन है गम-ऐ -दिल

चित्रपट:यहूदी की लड़की
संगीतकार:पंकज मलिक
गीतकार: मिर्ज़ा ग़ालिब
गायक:के.एल. सहगल





नुक्ताचीं है, ग़म-ए-दिल उसको सुनाये न बने
क्या बने बात जहाँ बात बनाये न बने
क्या बने बात जहाँ बात बनाये न बने

मैं बुलाता तो हूँ उसको मगर ऐ जज़्बा-ए-दिल
मैं बुलाता तो हूँ उसको मगर ऐ जज़्बा-ए-दिल
उस पे बन जाये कुछ ऐसी
उस पे बन जाये कुछ ऐसी कि बिन आये न बने
उस पे बन जाये कुछ ऐसी कि बिन आये न बने
नुक्ताचीं है, ग़म-ए-दिल उसको सुनाये

बोझ वो सर से गिरा
बोझ वोह सर से गिरा है, कि उठाये न उठे
काम वो आन पड़ा है के बनाये न बने
काम वो आन पड़ा है के बनाये न बने
नुक्ताचीं है, ग़म-ए-दिल उसको सुनाये

इश्क़ पर ज़ोर नहीं
इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतिश ग़ालिब
के लगाये न लगे
के लगाये न लगे और बुझाये न बने
के लगाये न लगे और बुझाये न बने
नुक्ताचीं है, ग़म-ए-दिल उसको सुनाये




No comments:

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ