Saturday, April 25, 2009

चल री सजनी अब क्या सोचें...सुनकर मुकेश के इस गीत कौन न रो पड़े...

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 61

'ओल्ड इज़ गोल्ड' की ६१-वीं कड़ी में आप सभी का हार्दिक स्वागत है। हिंदी फ़िल्मों में विदाई गीतों की बात करें तो सब से पहले "बाबुल की दुआयें लेती जा" ज़्यादातर लोगों को याद आती है। लेकिन इस विषय पर कुछ और भी बहुत ही ख़ूबसूरत गीत बने हैं और ऐसा ही एक विदाई गीत आज हम चुन कर ले आये हैं। मुकेश की आवाज़ में यह है फ़िल्म 'बम्बई का बाबू' का गाना "चल री सजनी अब क्या सोचे, कजरा ना बह जाये रोते रोते"। मेरे ख़याल से यह गाना फ़िल्म संगीत का पहला लोकप्रिय विदाई गीत होना चाहिए। 'बम्बई का बाबू' १९६० की फ़िल्म थी। इससे पहले ५० के दशक में कुछ चर्चित विदाई गीत आये तो थे ज़रूर, जैसे कि १९५० में फ़िल्म 'बाबुल' में शमशाद बेग़म ने एक विदाई गीत गाया था "छोड़ बाबुल का घर मोहे पी के नगर आज जाना पड़ा", १९५४ में फ़िल्म 'सुबह का तारा' में लता ने गाया था "चली बाँके दुल्हन उनसे लागी लगन मोरा माइके में जी घबरावत है", और १९५७ में मशहूर फ़िल्म 'मदर इंडिया' में शमशाद बेग़म ने एक बार फिर गाया "पी के घर आज प्यारी दुल्हनिया चली"। लेकिन मुकेश के गाये इस गीत में कुछ ऐसी बात थी कि गीत सीधे लोगों के दिलों को छू गया और आज भी इस गीत को सुनते ही जैसे दिल रो पड़ता है उस बेटी के लिये जो अपने बाबुल का घर छोड़ एक नये संसार में प्रवेश करने जा रही है। "बाबुल पछताए हाथों को मल के, काहे दिया परदेस टुकड़े को दिल के", "ममता का आँचल, गुड़ियों का कंगना, छोटी बड़ी सखियाँ घर गली अँगना, छूट गया रे" जैसे बोलों ने इस गीत को और भी ज़्यादा भावुक बना दिया है। मजरूह सुल्तानपुरी ने इस गीत को लिखा था और संगीतकार थे हमारे बर्मन दादा।

'बम्बई का बाबु' के मुख्य कलाकार थे देव आनंद और सुचित्रा सेन। यूँ तो इस फ़िल्म के दूसरे कई गाने भी मशहूर हुए लेकिन इस गीत को सब से ज़्यादा लोकप्रिय इसलिये कहा जा सकता है क्योंकि अमीन सायानी के बिनाका गीतमाला के वार्षिक कार्यक्रम में इस फ़िल्म के केवल इसी गीत को स्थान मिला था और वह भी पाँचवाँ। फ़िल्म की कहानी के मुताबिक यह गीत फ़िल्म में ख़ास जगह रखता है। सीन ऐसा है कि सुचित्रा सेन की शादी हो जाती है और वो अपने बाबुल का घर छोड़ विदा होती है। यह बात इस गीत को और भी ज़्यादा ग़मगीन बना देती है कि सुचित्रा सेन की शादी फ़िल्म के नायक देव अनंद से नहीं बल्कि किसी और से हो रही होती है। इस फ़िल्म के बाक़ी गीतों में रफ़ी साहब की आवाज़ थी, बस यह एक गीत ही सिर्फ़ मुकेश की आवाज़ में था। इस गीत में बर्मन दादा ने 'कोरस' का इतना बेहतरीन इस्तेमाल किया है कि 'इन्टरल्युड म्युज़िक' केवल शहनाई और कोरल सिंगिंग से ही बनाया गया है। इस गीत के आख़िर में करीब डेढ़ मिनट का संगीत है जो इसी तरह के शहनाई और कोरल सिंगिंग से बना है। यह ऐसा संगीत है जो कानों से सीधे दिल में उतर जाता है। तो लीजिये सुनिये विदा हो रही एक बेटी की व्यथा। हमें उम्मीद है कि गीत को सुनते हुए विदा हो रही किसी बेटी की तस्वीर आपके आँखों के सामने ज़रूर आ जाएगी क्योंकि मजरूह, दादा बर्मन और मुकेश ने मिलकर यही तस्वीर तो बनाई थी!



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं -

१. चंदामामा को बुला रही है द्वार आशा की आवाज़.
२. बर्मन दा का संगीत, नर्गिस के अभिनय से सजी फिल्म.
३. मुखड़े में शब्द है - "हार"

कुछ याद आया...?

पिछली पहेली का परिणाम -
इस बार बहुत से विजेता रहे. नीरज जी, नीलम जी, मनु जी, सुमित जी, सलिल जी सभी के जवाब सही रहे, नीलम जी और पी एन साहब आपकी पसंद का गीत वाकई बहुत प्यारा है....जल्द ही सुनेंगे बने रहिये ओल्ड इस गोल्ड के साथ. अनिल जी और अवध जी, आपके जानकारी के बाद इन गीतों को सुनना और भी सुखद रहेगा...आभार

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम ६-७ के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.


3 comments:

manu said...

सारे सूत्र एक नजर में तो आसान लगे पर सोचने बैठे तो सभी फ़ेल हो गए,,,,,
आशा और नर्गिस का चाँद वाला कोई गीत फिलहाल तो याद नहीं,,

आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' said...

चल री सजनी सुनकर आनंद आगया...चंदा मामा पर एक बाल गीत 'चंदा मामा आवो आवो..चांदी की कटोरिया में दूध-भात लै के आवो, बबुआ का मुइयाँ मां घुसू' कुछ-कुछ ऐसे ही बोल थे...यह तो नहीं?

ZEAL said...

Mukesh ji ke sabhi songs sunvaiye...

I am crazy about his voice.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ