Skip to main content

इस इतवार की कॉफी ऑनलाइन कवि सभा के साथ

Dr Shyam Sakha Shyam
डॉ श्याम सखा 'श्याम'
सभी कविता प्रेमियों को अप्रैल माह के अंतिम रविवार का नमस्कार। जो आवाज़ के पुराने श्रोता हैं, उन्हें तो समझ में आ ही गया होगा कि हमने आखिरी रविवार क्यों कहा। जी हाँ, हम लेकर हाज़िर है पॉडकास्ट कवि सम्मेलन का ताज़ा अंक। इस बार कार्यक्रम की स्थाई संचालिका डॉ॰ मृदुल कीर्ति अनुपस्थित थीं। इसलिए इसबार संचालन का दायित्य डॉ॰ श्याम सखा 'श्याम' निभा रहे हैं। हिन्द युग्म के वार्षिकोत्सव में हमने श्याम जी के संचालन कौशल को देखा था,आज जब हमने उनसे संचालन हेतु कहा तो उन्होंने बताया कि वे व्यस्त हैं, और आज ही उनकी मेरिज एनिवर्सिरी भी है। पर हमारे कहने पर वे तैयार हो गये। उन्होंने अति व्यस्त कार्यक्र्म में यह संचालन किया हम उनके आभारी हैं।
डॉ० श्याम अपना-अपनी धर्मपत्नि व बच्चों के जन्मदिन था वैवाहिक वर्षगाँठ जैसे अवसरों पर अपने अस्पताल में मरीजो का मुफ़्त इलाज कर मनाते हैं। यह अलग बात है कि वे यह बात मरीजों को बताते नहीं कि वह आज जाँच-x-ray,test,ultrasound आदि मुफ़्त क्यों कर रहे हैं।

यद्यपि डॉ॰ मृदुल कीर्ति की अनुपस्थिति की सूचना हमें एक सप्ताह पहले मिल गई थी। उसके बाद हमने इसका संचालन युवा पत्रकार तरूश्री शर्मा को सौंप दिया था। परंतु अचानक उनके बीमार हो जाने से यह आपातकालीन स्थिति बनी, जिसके कारण हमें एक डॉक्टर की शरण में जाना पड़ा।

अब आप सुनें और बतायें कि हम अपने प्रयास में कितने सफल हुए हैं-
नीचे के प्लेयर से सुनें:

प्रतिभागी कवि- विवेक रंजन श्रीवास्तव 'विनम्र', आचार्य संजीव 'सलिल', शारदा अरोरा, डॉ॰ अनिल चड्डा, एस कुमार शर्मा, हरिहर झा, रश्मि प्रभा, योगेन्द्र समदर्शी और कमलप्रीत सिंह।

यह भाग डाउनलोड करें।


यह कवि सम्मेलन तकनीक के माध्यम से अलग-अलग स्थानों पर बैठे कवियों को एक वर्चुअल मंच पर एक साथ बिठाने की कोशिश है। यदि आप हमारे आने वाले पॉडकास्ट कवि सम्मलेन में भाग लेना चाहते हैं
1॰ अपनी आवाज़ में अपनी कविता/कविताएँ रिकॉर्ड करके भेजें।
2॰ जिस कविता की रिकॉर्डिंग आप भेज रहे हैं, उसे लिखित रूप में भी भेजें।
3॰ अधिकतम 10 वाक्यों का अपना परिचय भेजें, जिसमें पेशा, स्थान, अभिरूचियाँ ज़रूर अंकित करें।
4॰ अपना फोन नं॰ भी भेजें ताकि आवश्यकता पड़ने पर हम तुरंत संपर्क कर सकें।
5॰ कवितायें भेजते समय कृपया ध्यान रखें कि वे 128 kbps स्टीरेओ mp3 फॉर्मेट में हों और पृष्ठभूमि में कोई संगीत न हो।
6॰ उपर्युक्त सामग्री भेजने के लिए ईमेल पता- podcast.hindyugm@gmail.com


पॉडकास्ट कवि सम्मेलन के अगले अंक का प्रसारण 31 मई 2009 को किया जायेगा और इसमें भाग लेने के लिए रिकॉर्डिंग भेजने की अन्तिम तिथि है 24 मई 2009

हम सभी कवियों से यह अनुरोध करते हैं कि अपनी आवाज़ में अपनी कविता/कविताएँ रिकॉर्ड करके podcast.hindyugm@gmail.com पर भेजें। आपकी ऑनलाइन न रहने की स्थिति में भी हम आपकी आवाज़ का समुचित इस्तेमाल करने की कोशिश करेंगे।

रिकॉर्डिंग करना कोई बहुत मुश्किल काम नहीं है। हमारे ऑनलाइन ट्यूटोरियल की मदद से आप सहज ही रिकॉर्डिंग कर सकेंगे। अधिक जानकारी के लिए कृपया यहाँ देखें।

# Podcast Kavi Sammelan. Part 10. Month: April 2009.
कॉपीराइट सूचना: हिंद-युग्म और उसके सभी सह-संस्थानों पर प्रकाशित और प्रसारित रचनाओं, सामग्रियों पर रचनाकार और हिन्द-युग्म का सर्वाधिकार सुरक्षित है।


Comments

श्याम जी वैवाहिक वर्षगांठ की ढेरों ढेरों बधाई....आप इन महत्वपूर्ण दिनों को जिस अंदाज़ में मानते हैं वो तो वाकई अनुसरणीय है. ईश्वर आपको और अधिक संपन्नता और समृद्धी दें. कवि सम्मलेन में मृदुल जी की कमी अवश्य खली पर कुछ अच्छी कवितायेँ भी सुनने को मिली, कुछ रिकॉर्डइंग्स साफ़ नहीं है.
"पॉडकास्ट कवि सम्मलेन" को संचालित करने का डॉ. श्याम सखा "श्याम" जी का अंदाज अच्छा लगा | उनको, उनके वैवाहिक वर्षगांठ की हार्दिक बधाई | इस कवि सम्मलेन के माध्यम से अच्छी - अच्छी कविताये सुनने को मिली, ये क्रम आगे भी यू ही बना रहें | हमारी शुभकामनाये और इस सम्मलेन में मेरी कविता "बचपन" को स्थान देने के लिए धन्यवाद |
शोभा said…
इसबार का कविसम्मेलन और भी अधिक प्रभावी रहा। हर एक कविता विशिष्ट रही।
रश्मि जी की कविता और पाठ बहुत भाया। श्याम जी का संचालन हमेशा की तरह बहुत सहज और स्वाभाविक लगा। युग्म को इतने अच्छे आयोजन के लिए बधाई।
shanno said…
श्याम जी,
सबसे पहले आपकी Marriage Anniversary पर ढेरों बधाई! फिर कहना चाहती हूँ कि इस बार के कवि-सम्मलेन का संचालन आपने भी बहुत अच्छी तरह से निभाया. और इस बार तो तालियाँ भी सुनाई पड़ीं. वाह! भई, वाह! और सभी कवियों की रचनाएं भी अच्छी लगीं.
Rashmi Prabha said…
bahut achha laga kavya-paath,par aawaaz aur spasht ho to behtar lagega......
आपातकालीन स्थिति थी, फिर भी डॉ॰ श्याम सखा जी ने कार्यक्रम को सम्हाल लिया और सफल बनाया। बहुत-बहुत आभार। इस बार अच्छी बात यह भी रही कि बहुतेरे नये कवियों की कविताएँ सुनने को मिलीं। विवेक रंजन जी ने, शारदा जी ने, रश्मि प्रभा जी ने, डॉ॰ अनिल चड्डा जी ने और एस॰ कुमार शर्मा जी ने पहली बार इस सम्मेलन में भाग लिया। आशा है आप सभी आगे भी भाग लेंगे।

मुझे रश्मि प्रभा जी का काव्यपाठ बेहद पसंद आया। विवेक रंजन का काव्यपाठ भी अच्छा लगा।

रश्मि जी,

जहाँ तक आवाज़ और रिकॉर्डिंग का मुद्दा है तो यह कार्यक्रम आप जानती हैं कि अलग-अलग स्थानों से मिली रिकॉर्डिंग को पिरोकर बनाया जाता है। कई कवि अभी रिकॉर्डिंग को नया-नया सीखे हैं। बहुत तो सीख भी नहीं पाये हैं। सोच रहे हैं। हिन्द-युग्म के इस प्रयास ने बहुतों को आवाज़ रिकॉर्ड करना सिखा दिया है। लेकिन फिर भी किसी की रिकॉर्डिंग में आवाज़ बहुत धीमी होती है, तो किसी-किसी रिकॉर्डिंग के पार्श्व में कुछ और चल रहा होता है। वैसे हम इसे भी इस कार्यक्रम का विविध रंग मानकर चलना चाहिए।

अगली बार हमारी कोशिश होगी कि आवाज़ और रिकॉर्डिंग की गुणवत्ता इस बार से बेहतर हो।
हिन्दी युग्म का यह प्रयास भी पसँद आया -
सभी कवियोँ की कविता विविध विष्योँ पर बहुत ही अच्छी लगीँ
श्याम जी वैवाहिक वर्षगांठ की ढेरों ढेरों बधाई कवि सम्मेलन इसी भाँति सफल हो यही सद्` आशा सहित,
स स्नेह,
- लावण्या
manu said…
अभी तक नहीं सुन पाए हम तो,,,,
पर श्याम जी ने यकीनन सुंदर संचालन किया होगा,,,,
आपको बहुत बहुत बधाई शादी की सालगिरह की,,,,
आप सभी को धन्यवाद-
छुपाने में जिसको थे मश्गूल सारे
वही बात कैसे हुई यार जाहिर’
जीहाँ-मैं और हम सभी इस बात को लोगों से छुपाते थे कि इन दिनो में निशुल्क क्यों देखता हूं ,इसीलिये केवल परिवार वालों को ही इन तारीखों की खबर थी।उस दिन जब शैलेश ने पोडकास्ट की बात की तो व्यस्तता का कारण बतला बैठा,जब उसने कहा कि फ़िर तो आपकी कोई पार्टी होगी आज-बस तब यह बात निकल गई-खैर
पुन: आप सभी को धन्यवाद
श्याम सखा‘श्याम’

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया