Skip to main content

ये दुनिया ये महफ़िल मेरे काम की नहीं.....वीभत्स रस को क्या खूब उभरा है रफ़ी साहब ने इस दर्द भरे नगमें में

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 499/2010/199

'ओल्ड इज़ गोल्ड' के दोस्तों, नमस्कार! आज है इस स्तंभ की ४९९ वीं कड़ी। नौ रसों की चर्चा में अब बस एक ही रस बाक़ी है और वह है विभत्स रस। जी हाँ, 'रस माधुरी' लघु शृंखला की अंतिम कड़ी में आज ज़िक्र विभत्स रस का। विभत्स रस का अर्थ है अवसाद, या मानसिक अवसाद भी कह सकते हैं इसे। अपने आप से हमदर्दी इस रस का एक लक्षण है। कहा गया है कि विभत्स रस से ज़्यादा क्षतिकारक और व्यर्थ रस और कोई नहीं। विभत्स उस भाव को कहते हैं कि जिसमें है अतृप्ति, अवसाद और घृणा। गाली गलोच और अश्लीलता भी विभत्स रस के ही अलग रूप हैं। विभत्स रस के चलते मन में निराशावादी विचार पनपने लगते हैं और इंसान अपने धर्म और कर्म के मार्ग से दूर होता चला जाता है। शक्ति और आत्मविश्वास टूटने लगता है। यहाँ तक कि आत्महत्या की भी नौबत आ सकती है। अगर इस रस का ज़्यादा संचार हो गया तो आदमी मानसिक तौर पर अस्वस्थ होकर उन्मादी भी बन सकता है। विभत्स रस से बाहर निकलने का सब से अच्छा तरीक़ा है शृंगार रस का सहारा लेना। अच्छे मित्र और अच्छी रुचियाँ इंसान को मानसिक अवसाद से बाहर निकालने में मददगार साबित हो सकती हैं। दोस्तों, विभत्स रस के ये तमाम विशेषताओं को पढ़ने के बाद आप समझ गए होंगे कि हमारी फ़िल्मों में इस रस के गीतों की कितनी प्रचूरता है। "तेरी दुनिया में दिल लगता नहीं, अब तो पास बुलाले" जैसे गीत इस रस के उदाहरण है। तलत महमूद साहब ने इस तरह के निराशावादी और ग़मगीन गीत बहुत से गाए हैं। लेकिन हमने आज के लिए जिस गीत को चुना है, वह है १९७१ की फ़िल्म 'हीर रांझा' का मोहम्मद रफ़ी साहब का गाया "ये दुनिया ये महफ़िल मेरे काम की नहीं"। अपनी हीर से जुदा होकर दीवाना बने रांझा की ज़ुबान से निकले इस गीत में शब्दों के रंग भरे हैं गीतकार कैफ़ी आज़्मी ने और संगीत है मदन मोहन का।

वैसे तो मदन मोहन के साथ लता मंगेशकर का नाम जोड़ा जाता है अपने सर्वोत्तम गीतों के लिए, लेकिन सच्चाई यह है कि मदन मोहन साहब ने जितने भी गायक गायिकाओं से अपने गीत गवाए हैं, उन सभी से वो उनके १००% पर्फ़ेक्शन लेकर रहे हैं। फिर चाहे आशा भोसले हो या किशोर कुमार, मुकेश हो या तलत महमूद, भूपेन्द्र हो या फिर रफ़ी साहब। और यही बात गीतकारों के लिए भी लागू होती है। कैफ़ी आज़्मी के साथ मदन मोहन ने फ़िल्म 'हक़ीक़त' में काम किया जिसके गानें कालजयी बन गये हैं। और फ़िल्म 'हीर रांझा' के गानें भी उसी श्रेणी में शोभा पाते हैं। इस गीत के बोल मुकम्मल तो हैं ही, इसकी धुन और संगीत संयोजन भी कमाल के हैं। फ़िल्म के सिचुएशन और सीन के मुताबिक़ गीत के इंटरल्युड संगीत में कभी बांसुरी पर भजन या कीर्तन शैली की धुन है तो अगले ही पल क़व्वाली का रीदम भी आ जाता है। तो आइए सुनते हैं यह गीत और इसी के साथ नौ रसों पर आधारित 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की यह लघु शृंखला 'रस माधुरी' यहीं सम्पन्न होती है। आशा है इन रसों का आपने भरपूर रसपान किया होगा और हमारे चुने हुए ये नौ गीत भी आपको भाए होंगे। आपको यह शृंखला कैसी लगी, यह आप हमें टिप्पणी के अलावा हमारे ईमेल पते oig@hindyugm.com पर भी भेज सकते हैं। दोस्तों, कल है 'ओल्ड इज़ गोल्ड' का ५००-वाँ अंक। इस ख़ास अवसर पर हमने कुछ विशेष सोच रखा है आपके मनोरंजन के लिए। तो अवश्य पधारिएगा कल इसी समय अपने इस मनपसंद ब्लॊग पर। और हाँ, आज जो हम पहेली पूछने जा रहे हैं, वह होगा उस गीत के लिए जो बजेगा हमारे ५०१ अंक में। तो अब हमें इजाज़त दीजिए, और आप हल कीजिए आज की पहेली का और आनंद लीजिए रफ़ी साहब की आवाज़ का। नमस्कार!



क्या आप जानते हैं...
कि मुम्बई के ब्रीच कैण्डी का बॊम्बेलिस रेस्तराँ मदन मोहन की पसंदीदा जगहों में से एक थी जहाँ तलत महमूद और जयकिशन भी जाया करते थे। जिस दिन तीनों वहाँ मौजूद हों तो उनमें एक होड़ सी लग जाती थी कि कितनी लड़कियाँ किससे ऒटोग्राफ़ माँगती हैं। इसमें तलत की ही अक्सर जीत होती थी।

दोस्तों आज पहेली नहीं है. बल्कि एक निमंत्रण है, कल के ओल्ड इस गोल्ड के लिए, जो कि हमारी इस कोशिश में एक मील का पत्थर एपिसोड होने वाला है. कल ओल्ड इस गोल्ड भारतीय समय अनुसार सुबह ९ बजे प्रसारित होगा. जिसमें हम बात करेंगें भारत की पहली बोलती फिल्म "आलम आरा" की जिसके माध्यम से से हमें फिल्म संगीत की अनमोल धरोहर आज मिली हुई है. उन कलाकारों की जिन्होंने एक असंभव से लगते कार्य को अंजाम दिया. और एक बड़ी कोशिश हम कर रहे हैं. जैसा कि आप जानते होंगें भारत के पहली हिंदी फ़िल्मी गीत "दे दे खुदा के नाम पर" जो कि इसी फिल्म का था, कहीं भी ऑडियो विडियो के रूप में उपलब्ध नहीं है. एक प्रतियोगिता के माध्यम से हमने इस गीत को मुक्कमल किया (उपलब्ध बोलों को विस्तरित कर) और प्रतियोगिता के माध्यम से ही उसे हमारे संगीतकार मित्रों से स्वरबद्ध करा कर. जिस प्रविष्ठी को हमने चुना है इस गीत के नए संस्करण के रूप में उसे भी हम कल के एतिहासिक एपिसोड में आपके सामने रखेंगें....यदि आप को हमारी ये कोशिश अच्छी लगेगी तो हम इस तरह के प्रयोग आलम आरा के अन्य गीतों के साथ भी करना चाहेंगें. तो कल अवश्य पधारियेगा हमारी इस यादगार महफ़िल में. जहाँ तक पहेली का सवाल है ये एक नए रूप में आपके सामने होगी ५०१ वें एपिसोड से. शरद जी और अवध जी १०० का आंकड़ा छूने में सफल रहे हैं. इनके लिए एक खास तोहफा है जो हम देंगें इन्हें हमारे वार्षिक महोत्सव में. इसके आलावा जिन प्रतिभागियों ने बढ़ चढ कर पहेली में हिस्सा लिया उन सब का आभार तहे दिल से.....सबका नाम शायद नहीं ले पायें यहाँ पर जहाँ तक "." का चिन्ह आपको दिखे समझिए वो सब आप श्रोताओं के नाम हैं.....इंदु जी, प्रतिभा जी, नवीन जी, पदम सिंह जी, पाबला जी, मनु जी, सुमित जी, तन्हा जी, दिलीप जी, महेंद्र जी, निर्मला जी, स्वप्न मंजूषा जी, किशोर जी, राज सिंह जी, नीलम जी, शन्नो जी, ......................................................... सभी का आभार.

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

सुजोज, सजीव जी!याद भी नही जाने और कब कैसे आपके ब्लॉग पर चली आई थी
गीत और संगीत के प्रति आप दोनों की दीवानगी,समर्पण देख आश्चर्यचकित रह गई.आप लोगो की बाते मासूमियत भरी होती थी और उसका एक स्तर आप लोगो ने हमेशा मेंटेन रखा.इन सब बातों के कारन और खुद गीत संगीत की बेहद शौक़ीन होने के कारन इस ब्लॉग से क्या जुडी आप सब से जुड गई.यहाँ पूरा परिवार मिल गया.आप लोगो को मोटिवेट करना पाबला भैया और मेरा मैंन ऐम था पर..यहाँ तो हम मोटिवेट हो गए.हा हा हा
बरसों तक ये कार्यक्रम चलता रहे.
सबको ढेर सारा प्यार और शुभकामनाये
AVADH said…
अत्यंत प्रशंसनीय है आवाज़ नेतृत्व की प्रतिबद्धिता वास्तव में संगीत के प्रति और वोह भी उस समय का जब संगीत शोर नहीं था; अनावश्यक साजों की भीड़ भाड़ नहीं थी जिसमें गायक की आवाज़ दब कर रह जाये, ना ही ज़बरदस्ती का गला फाड़ना और चीखना चिल्लाना "When melody was king indeed".हम सब संगीतप्रेमी आभारी और ऋणी हैं आप सबके.
इंदु बहिन जी की तरह मेरी भी (क्या सभी की) यही दिली इच्छा होगी कि यह कार्यक्रम इसी भांति अनवरत चलता रहे.
शुभेच्छु
अवध लाल
manu said…
जिन प्रतिभागियों ने बढ़ चढ कर पहेली में हिस्सा लिया उन सब का आभार तहे दिल से.....सबका नाम शायद नहीं ले पायें यहाँ पर जहाँ तक "." का चिन्ह आपको दिखे समझिए वो सब आप श्रोताओं के नाम हैं.....इंदु जी, प्रतिभा जी, नवीन जी, पदम सिंह जी, पाबला जी, मनु जी, सुमित जी, तन्हा जी, दिलीप जी, महेंद्र जी, निर्मला जी, स्वप्न मंजूषा जी, किशोर जी, राज सिंह जी, नीलम जी, शन्नो जी, ...........................................


hamne kab bhaag liyaa ismein...?
hamein ekdam yaad nahin aa rahaa....
manu said…
अपनी भेजी गयी मेल भी चेक कर ली हैं हमने.....
हमारे हिसाब से हमने इस प्रतियोगिता में भाग नहीं लिया है जी..

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया