Skip to main content

ई मेल के बहाने यादों के खजाने (१०) - ऐसीच हूँ मैं कहकर इंदु जी जीत लेती हैं सबका दिल

'ओल्ड इज़ गोल्ड शनिवार विशेष' में आप सभी का बहुत बहुत स्वागत है। "आज है २ अक्तुबर का दिन, आज का दिन है बड़ा महान, आज के दिन दो फूल खिले हैं, जिनसे महका हिंदुस्तान, नाम एक का बापू गांधी और एक लाल बहादुर है, एक का नारा अमन एक का जय जवान जय किसान"। समूचे 'आवाज़' परिवार की तरफ़ से हम राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और महान नेता लाल बहादुर शास्त्री को उनकी जयंती पर स्नेह नमन अर्पित करते हुए आज का यह अंक शुरु कर रहे हैं। 'ईमेल के बहाने यादों के ख़ज़ाने', दोस्तों, यह 'आवाज़' का एक ऐसा साप्ताहिक स्तंभ है जिसमें हम आप ही की बातें करते हैं जो आप ने हमें ईमेल के माध्यम से लिख भेजा है। यह सिलसिला पिछले १० हफ़्तों से जारी है और हर हफ़्ते हम आप ही में से किसी दोस्त के ईमेल को शामिल कर आपके भेजे हुए यादों को पूरी दुनिया के साथ बाँट रहे हैं। आज के अंक के लिए हम चुन लाये हैं हमारी प्यारी इंदु जी का ईमेल और उनकी पसंद का एक निहायती ख़ूबसूरत गीत। आइए अब आगे का हाल इंदु जी से ही जानें।

**********************************************************
कुछ बड़े प्यारे गाने हैं, जिनको भी सुनाया, आश्चर्य! सबने कहा 'हमने इन्हें पहले नही सुने'। उस खजाने मे से अभी सिर्फ एक गीत आपको भेज रही हूँ। आप सुनिए और ओनेस्टली बताइए कि क्या आपने या सुजॉय ने इस गाने को पहले कभी सुना है? यह गाना है फ़िल्म 'दूज का चाँद' का, "चाँद तकता है इधर", मोहम्मद रफ़ी और सुमन कल्याणपुर ने गाया है। अगर मुझसे पूछोगे कि ये गाना मुझे क्यों पसंद है? क्यों बताऊँ जी? ये कोई बात हुई? वृन्दावन गई थी, सोचा बरसाना भी हो आये 'वियोगिनी राधाजी' के दर्शन ही हो जाये? यूँ अपनी कल्पना और बनाई छवि के विपरीत पाया वहाँ सब। सिवाय प्रत्येक पेड़ पर लिखे 'राधे रानी' के नाम के। वर्तमान ब्रज से आँखें मूँद मैं 'उस' ब्रज में घूमती रही। कालिंदी के तट पर जा कर हम बैठ गए। तभी बड़े बेटे ने कहा -'मम्मी ! देखो कितना प्यारा गाना बज रहा है!' वो यही गाना था। "चाँद तकता है इधर आओ कही छुप जाए, कहीं लागे ना नजर आओ कही छुप जाएँ"। गाना मधुर था। प्रेम रस में डूबा हुआ। कहीं ऐसा कुछ नही था कि कोई गम्भीर हो जाये। मैं आँखें बंद कर कालिंदी के तट पर ये गीत सुनती रही। सुन रही थी, फिल्म या नायक नायिका के नाम से तक परिचित नही थी। इसलिए आँखों के सामने कोई नही आया। आया तो सिर्फ कृष्ण....... और मैं??? जैसे राधा थी उस पल। ऐसीच हूं मैं। जाने किस दुनिया की अजीब 'प्राणी'............ इस साधारण से प्रेम गीत ने मुझे भाव विभोर कर दिया और आज भी कर देता है। और मेरे आँसू तब भी नही रुके....आज भी नही रुकते। मैं नही रहती तब आपकी इस दुनिया का हिस्सा। इसीलिए मुझे पसंद है ये गाना, मुझे एकाकार कर देता है 'उससे', फिर मुझे किसी भजन या भक्ति गीत की आवश्यकता नही रहती बाबा! ऐसिच हूं मैं।

इंदु।

*********************************************
वाह इंदु जी, आपके अंदाज़-ए-बयाँ के तो कहने ही क्या! एक बेहद सुमधुर गीत की तरफ़ आपने हमारा ध्यान आकृष्ट करवाया है। सिर्फ़ हम ही नहीं, इस गीत को बहुत लोगों ने एक लम्बे अरसे से नहीं सुना होगा। यह हमारी बदक़िस्मती ही है कि ऐसे और इस तरह के न जाने कितने सुरीले गीतों पर वक़्त का धूल चढ़ चुकी है। आइए हम सब मिल कर इस तरह के गीतों पर जमी मैल को साफ़ करें और उन्हें 'ओल्ड इज़ गोल्ड' का हिस्सा बनायें। साहिर लुधियानवी के बोल, रोशन की तर्ज़, और आवाज़ को बता ही चुके हैं, रफ़ी और सुमन की। सुनते हैं फ़िल्म 'दूज का चाँद' का यह बेहद सुरीला नग़मा।

गीत - चाँद तकता है इधर (दूज का चाँद)


दोस्तों, इंदु जी की तरह अगर आप भी ऐसे ही किसी गीत की तरफ़ हमारा ध्यान आकृष्ट करवाना चाहते हैं तो हमें ईमेल करें oig@hindyugm.com के पते पर। इसके अलावा आप अपने जीवन की कोई यादगार घटना, कोई संस्मरण, या कोई ऐसा गीत जिसके साथ आपकी यादें जुड़ी हुई हैं, हमें लिख भेजें इस स्तंभ के लिए। ख़ास कर हमारे उन दोस्तों से, जिन्होंने अभी तक हमें ईमेल नहीं किया है, उनसे तो हमारा ख़ास निवेदन है कि इस स्तंभ में भाग लेकर 'ओल्ड इज़ गोल्ड' परिवार का हिस्सा बन जायें। साथ ही 'ओल्ड इज़ गोल्ड' को और भी बेहतर बनाने के लिए अगर आपके पास कोई सुझाव हो, तो उसे भी आप oig@hindyugm.com पर लिख सकते हैं। तो इसी उम्मीद के साथ कि आप अपना साथ युंही बनाये रखेंगे, आज के लिए हम विदा लेते हैं, 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की नियमीत कड़ी के साथ हम फिर हाज़िर होंगे कल शाम भारतीय समयानुसार ६:३० बजे। नमस्कार!

प्रस्तुति: सुजॊय

Comments

बहुत सुन्दर गीत। वाकई पहले कभी नहीं सुना था।
बी एस पाबला said…
शैतान की नानी इंदु जी से यहीं, इसी आवाज़ पर, भिड़ंत हुई थी! पहेलियों का सही पहला ज़वाब देने के लिए बच्चों जैसी आतुरता और झड़प के अनजान संवाद आज भाई-बहन के अटूट, भावुकता भरे रिश्ते में बदल चुके है।

ऐसीच है ये जाने किस दुनिया की अजीब 'प्राणी'! अच्छे खासे इंसान को ऐसा भाव विभोर कर देती है कि आँसू नही रुकते।

उनकी पसंद के गीत के बारे में यही कहूँगा कि
ऊँचे लोग-ऊँची पसंद
ममा.... की बात ही अलग है....
ऐसीच हैं ही इंदु जी !!
गीत - चाँद तकता है इधर (दूज का चाँद)
error बता रहा है :(
अल्ले वाह ! इत्ते जने आये हैं यहाँ!
सुजॉय सजीव जी! थेंक्स बोलू क्या? यूँ सोरी और थेंक्स मैं घर पर और अपने बच्चों को भी बेझिझक बोलती हूँ तो.....थेंक्स.मेरी पसंद को अपने कार्यक्रम में शामिल करने के लिए.
मेरे पास गीतों का खजाना है. बचपन से गानों की दीवानी हूँ.
ऐसिच हूँ मैं तो सच्ची
manu said…
kyaa kahein..?
AVADH said…
हम सब की प्यारी इंदु बहिन अपने स्वभाव के बारे में तो विस्तार से बताने का कोई मौका छोडती नहीं यह तो हम सब अब जान ही चुके हैं.उनके सरल, निश्छल और अत्यंत संवेदनशील व्यक्तित्व से सभी परिचित प्रभावित हैं. पुराने और अच्छे संगीत (विशेषकर गंभीर प्रकृति वाले गीतों) के प्रति इनकी रुझान से इनकी सुरुचि का पता चलता है.
'दूज का चाँद' स्वयं अभिनेता भारत भूषण की प्रस्तुति थी. उस समय (वर्ष १९६४ में) हम कुछ मित्रगण फ़िल्में फर्स्ट डे- फर्स्ट शो देखने में विश्वास रखते थे. फिल्म तो बॉक्स ऑफिस पर अधिक सफल नहीं हुई थी पर रोशन साहेब का संगीत हमेशा की तरह उत्तम होना ही था.
सचमुच इंदु बहिन ने बहुत मधुर गीत का चयन किया जो मैंने काफी अरसे से नहीं सुना था.
अधिकतर लोगों ने इस गीत को शायद याद ना रखा हो.
लेकिन मैं शर्त लगा सकता हूँ कि कोई ऐसा व्यक्ति नहीं होगा जिसने मन्ना दा का इसी फिल्म का वोह अमर गीत ना सुना हो और उसकी प्रशंसा ना की हो: फुल गेंदवा न मारो लगत करेजवा में चोट.
इंदु बहिन को एक बार फिर बहुत बहुत धन्यवाद इस लगभग विस्मृत गीत को याद दिलाने के लिए.
शुभेच्छु
अवध लाल
AVADH said…
हम सब की प्यारी इंदु बहिन अपने स्वभाव के बारे में तो विस्तार से बताने का कोई मौका छोडती नहीं यह तो हम सब अब जान ही चुके हैं.उनके सरल, निश्छल और अत्यंत संवेदनशील व्यक्तित्व से सभी परिचित प्रभावित हैं. पुराने और अच्छे संगीत (विशेषकर गंभीर प्रकृति वाले गीतों) के प्रति इनकी रुझान से इनकी सुरुचि का पता चलता है.
'दूज का चाँद' स्वयं अभिनेता भारत भूषण की प्रस्तुति थी. उस समय (वर्ष १९६४ में) हम कुछ मित्रगण फ़िल्में फर्स्ट डे- फर्स्ट शो देखने में विश्वास रखते थे. फिल्म तो बॉक्स ऑफिस पर अधिक सफल नहीं हुई थी पर रोशन साहेब का संगीत हमेशा की तरह उत्तम होना ही था.
सचमुच इंदु बहिन ने बहुत मधुर गीत का चयन किया जो मैंने काफी अरसे से नहीं सुना था.
अधिकतर लोगों ने इस गीत को शायद याद ना रखा हो.मगर रफ़ी साहेब का एक गीत इस फिल्म का बहुत चला था - महफ़िल से उठ जानेवाले तुम लोगों पर क्या इलज़ाम, मेरे साथी, मेरे साथी खाली जाम.
लेकिन मैं शर्त लगा सकता हूँ कि कोई ऐसा व्यक्ति नहीं होगा जिसने मन्ना दा का इसी फिल्म का वोह अमर गीत ना सुना हो और उसकी प्रशंसा ना की हो: फुल गेंदवा न मारो लगत करेजवा में चोट.
इंदु बहिन को एक बार फिर बहुत बहुत धन्यवाद इस लगभग विस्मृत गीत को याद दिलाने के लिए.
शुभेच्छु
अवध लाल
बहुत सुंदर गीत चुना आप ने हम सब को सुनाने के लिये , आप की बातो से आप बडी भोली भाली लगती है, ओर आप के सुंदर ओर अच्छे लेख पढ कर, ओर आप की बाते सुन कर मै तो यही कहुंगा... दीवानी ऐसिच ही तो होती है सच्ची मुच्ची, आप को प्रणाम
सबको प्यार.
सजीव-सुजोय्जी !गाना किसी ने नही सुना होगा क्योंकि 'एरर' के कारन गाना'प्ले'ही नही हो रहा.कुछ करो न बाबु!
राज सर!अरे मेरी बाते सुन कर कोई भी धोखा खा जाता है सच्ची. लिखने,बोलने की कला जो दी है भगवान ने.बाकि....न भोली हूँ न अच्छी.अच्छी होती तो...क्यों आपकी इस दुनिया में होती अब तक?मुझ जैसो से तो 'वो' भी इतना घबराता है कि लिस्ट में से नाम नीचे सरकाता जाता है.... मैंने भी कह दिया 'उससे'-'कुछ ऐसा तो करवा मुझसे कि जब जाऊं तो लोग इतना सा कहे'वो सचमुच एक अच्छी औरत थी'
इस बार नही कहूँगी कि.. ऐसिच हूँ मैं.
आप लोगों की अपेक्षाओं पर खरी उतरूं बस.
इंदु जी गाना चल रहा है और मैं इसी पृष्ठ पर कई बार सुन चुका हूँ, कई बार सर्वर की समस्या होती है रेफेश कर लिया कीजिये ऐसे में
indu ji ek alag vyaktitva hain .... bas waiseich
वन्दना अवस्थी दुबे said…
वाह!! बहुत सुन्दर गीत है इन्दु जी. कितना धन्यवाद दूं? मैने पहली बार सुना है इस गीत को, लेकिन लगा जैसे हमेशा से सुनती आ रही हूं. ये उसी तरह अपना सा लगा जैसे जब मैने " बस एक चुप सी लगी है....( हेमन्त कुमार/लता मंगेशकर) गीत पहली बार सुना, तो लगा ये तो हमेशा से मेरे मन में गूंज रहा था...
Ye get bahut he dino baad sunaa. Suman Kalyanpur ke awaaz kee komalataa aur bhaavpravenataa hai isame.
sach kaha aapne pahle kabhi nahi sunaa..

aapse kabhi mulakaat huii to aapka collection to hum jaroor lenge
'दूज का चाँद' ... समझ गये ... इस लाजवाब गीत का राज ... बहुत ही मस्त है ये गीत ... और रफ़ी जी के साथ सुमन कल्याण पूरी जी की आवाज़ है ... और इंदु जी का तो क्या कहना .... सरल हृदय, मस्त ... जिन्ददिल ... क्या कहने हैं ... इंदु जी का जवाब नही ...
Himanshu Mohan said…
सुमधुर, अवाक् - आभार!
सही मे इन्दू जी के संगीत प्रेम की दाद देनी होगी। बधाई।
ρяєєтii said…
waaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaah....sacchi awesome song....!

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट 'तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर बनेगी प्रीत...'   ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस लघु श्रृंखला में हम आपसे भारतीय संगीत के रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था पर चर्चा कर रहे हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। व