Skip to main content

मने कही दो....आशुतोष गोवारिकर ने क्यों खेला नए संगीतकार सोहैल सेन पर दांव "व्हाट यौर राशि" के लिए

ताजा सुर ताल (21)

ताजा सुर ताल में आज में आज सुनिए गुजराती अंदाज़ में ढाला एक प्यारा सा गीत

सजीव- सुजॉय, तुमने किसी अभिनेता को एक ही फ़िल्म में सब से ज़्यादा कितने किरदार निभाते हुए देखा है?

सुजॉय - जहाँ तक मुझे याद है, संजीव कुमर ने 'नया दिन नई रात' में नौ किरदार निभाए थे। क्या इससे भी ज़्यादा कोई उदाहरण है?

सजीव- हाँ मराठी अभिनेता राजेश श्रृंगारपुरे ने "शंभू मज़ा नावाचा" में १२ अलग अलग किरदारों को निभाया था...

सुजॉय - वाह, यह तो मुझे मालूम नहीं था। लेकिन आज हम इन सब बातों में क्यों उलझ रहे हैं सजीव?

सजीव - वही तो, आज हम सुनने जा रहें हैं फ़िल्म 'व्हाट्स योर राशी' का एक गीत। इस फ़िल्म में प्रियंका चोपड़ा ने कुल १२ किरदार निभाए हैं १२ अलग अलग राशी के लड़कियों के। और यह दिखाया गया है कि किस राशी के किस तरह के चरित्र, गुण और स्वभाव होते हैं अमूमन...

सुजॉय - अच्छा तो ये बात है! इस फ़िल्म में प्रियंका के साथ नज़र आएँगे हरमन बवेजा, जिनका 'लव स्टोरी २०५०' से फ़िल्म जगत में पदार्पण हुआ था बतौर नायक। इस फ़िल्म में भी प्रियंका बनीं थीं उनकी नायिका। फ़िल्म तो बुरी तरह पिटी थी, लेकिन शान का गाया गीत "मिलो ना मिलो" काफ़ी हिट हुआ था।

सजीव- उसके बाद 'विक्टरी' नामक फ़िल्म में भी हरमन कुछ कमाल नहीं दिखा सके। अब देखा यह है कि इस फ़िल्म में वो क्या कमाल दिखाते हैं! अच्छा, तुम्हे पता है 'व्हाट्स योर राशी' के संगीतकार कौन हैं?

सुजॉय - हाँ, ये एक नए संगीतकार हैं, उनका नाम है सोहैल सेन, जो कि एक गायक भी हैं।

सजीव- ठहरो सुजय, कहीं ये सोहैल सेन वही तो नहीं जिन्होने २००८ की फ़िल्म 'सिर्फ़' मे संगीत दिया था?

सुजॉय - बिल्कुल ठीक! सोहैल सेन और शिवानी कश्यप ने मिलकर उस गुमनाम फ़िल्म का संगीत तैयार किया था। लेकिन हैरत की बात है कि आशुतोश गोवारिकर एक तो इस तरह की हास्य फ़िल्म पहली बार बना रहे हैं (स्वदेस, लगान, जोधा अक़बर जैसी फ़िल्में बनानेवाले) और दूसरे कि उन्होंने ए. आर. रहमान के बदले इस नए संगीतकार को मौका दिया है।

सजीव- मैं भी हैरान हूँ, और ख़ास तौर से इस बात पे हैरान हूँ कि इस फ़िल्म में कुल १३ गानें हैं जिनमें से १२ गानों में १२ अलग अलग राशियों के किरदारों को दर्शाया गया है। ऐसे महत्वपूर्ण गीतों के लिए किसी सुप्रतिष्ठित संगीतकार के बजाय इस नए कलाकार को मौका देने के पीछे आशुतोश का कोई तो प्लान ज़रूर होगा! अब देखना यह है कि सोहैल आशुतोश के उम्मीदों पर कितने खरे उतरते हैं।

सुजॉय - हाँ सजीव, १३ अलग अलग तरह के गीतों का संगीत एक दम से तैयार करना आसान काम नहीं है, सोहैल की तारीफ़ किए बगैर आगे नहीं बढ़ा जा सकता। और ज़रूरी बात यह भी है कि सोहैल ने और संगीतकारों की तरह इस फ़िल्म में ना ही पंजाबी भँगड़े का सहारा नहीं लिया और ना ही हिप-हॊप शैली का रुख़ किया।

सजीव- गीत सुनवाने से पहले हम अपने श्रोताओं और पाठकों को ये बारह गीत और उनसे जुड़ी राशी के बारे में बता देते हैं।

सुजॉय - ज़रूर!

Aries - व्हाट्स यौर राशी (शीर्षक गीत)
Aquarius - जायो ना
Gemini - आजा लहराते
Cancer - बिखरी बिखरी
तुला - मानूँगा मानूँगा
मीन - सौ जनम
scropio - आ ले चल
कन्या- प्यारी प्यारी
Taurus - सु छे
Sagittarius - सलौने क्या
सिंह - धड़कन धड़कन
Capricorns - कोई जाने ना

और जो तेरहवाँ गीत है, "चेहरे जो देखे हैं", वह इन सभी गीतों का निचोड़ है, यानी कि हीरो उन सभी १२ लड़कियों के बारे में कहता है जिनसे वो मिला है।

सजीव- जब इतने सारे गानें हैं तो ज़ाहिर है बहुत से गायकों ने अपनी आवाज़ मिलाई होगी?

सुजॉय - बिल्कुल हाँ, कुछ नए, कुछ पुराने। सोहैल सेन तो हैं ही, साथ में हैं अल्का याज्ञ्निक, मधुश्री, अस्लेशा गोवारिकर, तरन्नुम मलिक, बेला शेंडे, उदित नारायण, रजब अली भारती, भाव्या पंडित, शान, मरियन डी'क्रुज़, पमेला जैन, और ख़ुद आशुतोश गोवारिकर भी।

सजीव- हाँ, मैने आशुतोश की आवाज़ महसूस की है "मानूँगा मानूँगा" गीत में। मुझे तो 'स्वदेस' फ़िल्म का वह गीत "पल पल है भारी विपदा है आई" याद आ गई। और भाव्या पंडित भी वही लड़की है न जिसे हमने 'इंडियन आइडल' में देखा था पिछले साल?

सुजॉय - हाँ, मुझे भी ऐसा ही लगता है। तो सजीव, इतने सारे गीतों में से कौन सा गीत सुनवाया जाए?

सजीव- चलो "सु छे" सुनते हैं और सभी को सुनवाते हैं। क्योंकि यह फ़िल्म एक गुजराती कहानी पर आधारित है, तो गुजराती अंदाज़ वाला यह गीत सुनवाने का कुछ अर्थ तो बनता है। इस गीत को गाया है सोहैल सेन और बेला शेंडे ने। तुमने तो गीत को सुना होगा, कितने अंक दोगे इसे?

सुजॉय - माफ़ी चाहूँगा, लेकिन मैं २.५ से ज़्यादा नहीं दे पा रहा हूँ, संगीत में ना कुछ नयापन दिखा और बहुत ही साधारण कोम्पोसिशन लगा मुझे। X-factor की कमी लगी, बाक़ी सोहैल सेन की क़िस्मत! मैं उन्हे शुभकामनाएँ देता हूँ कि आगे चलकर वो एक कामयाब संगीतकार बनें और अच्छे से अच्छा संगीत सुननेवालो को दें।

सजीव - आ हाँ ....यहाँ एक एक कैच है सुजॉय....दरअसल ये गीत जब मैंने भी पहली बार सुना था मुझे भी कुछ खास नहीं लगा पर मेरी छठी इन्द्री कहती है कि इस गीत कुछ तो ख़ास है, तभी मैंने इसे चुना....बेला ने जिस अंदाज़ में "माने कही दे" बोला है वो धीरे धीरे अपना असर करता है....हाँ दूसरे हिस्से सोहेल की आवाज़ आने पर गीत कुछ कमजोर सा हो जाता है फिर भी मैं इसे ५ में ३ अंक दूंगा, वैसे इस फिल्म के किसी भी गीत में X फैक्टर जैसी कोई बात नहीं है, पर मुझे लगता है यदि ये गीत अच्छे फिल्माए गए हों और फिल्म दिलचस्प बनी हो तो सभी गीत फिल्म के साथ न्याय कर जायेंगें....

सुजॉय - ठीक है सजीव तो बाकी काम श्रोताओं पर छोड़ते हैं......और सुनते हैं "सो छे...."



आवाज़ की टीम ने दिए इस गीत को 2.75 की रेटिंग 5 में से. अब आप बताएं आपको ये गीत कैसा लगा? यदि आप समीक्षक होते तो प्रस्तुत गीत को 5 में से कितने अंक देते. कृपया ज़रूर बताएं आपकी वोटिंग हमारे सालाना संगीत चार्ट के निर्माण में बेहद मददगार साबित होगी.

क्या आप जानते हैं ?
आप नए संगीत को कितना समझते हैं चलिए इसे ज़रा यूं परखते हैं.फिल्म मोहनदास में दो गीतकारों ने गीत लिखे हैं, कौन हैं इस साहित्यिक कृति पर आधारित फिल्म के गीतकार और संगीतकार...बताईये और हाँ जवाब के साथ साथ प्रस्तुत गीत को अपनी रेटिंग भी अवश्य दीजियेगा.

पिछले सवाल का सही जवाब दिया का सही जवाब दिया एक बार फिर सीमा जी ने. उदय प्रकाश जी से हम आपकी मुलाकात भी जल्द ही करायेंगें...इस शृंखला में....मंजू जी और शमिख जी ने भी रेटिंग दी धन्येवाद...



अक्सर हम लोगों को कहते हुए सुनते हैं कि आजकल के गीतों में वो बात नहीं. "ताजा सुर ताल" शृंखला का उद्देश्य इसी भ्रम को तोड़ना है. आज भी बहुत बढ़िया और सार्थक संगीत बन रहा है, और ढेरों युवा संगीत योद्धा तमाम दबाबों में रहकर भी अच्छा संगीत रच रहे हैं, बस ज़रुरत है उन्हें ज़रा खंगालने की. हमारा दावा है कि हमारी इस शृंखला में प्रस्तुत गीतों को सुनकर पुराने संगीत के दीवाने श्रोता भी हमसे सहमत अवश्य होंगें, क्योंकि पुराना अगर "गोल्ड" है तो नए भी किसी कोहिनूर से कम नहीं. क्या आप को भी आजकल कोई ऐसा गीत भा रहा है, जो आपको लगता है इस आयोजन का हिस्सा बनना चाहिए तो हमें लिखे.

Comments

seema gupta said…
Lyricist: VK Sonakia , Yash Malviya,
Music Director: Vivek Priyadarshan
regards
regards
Manju Gupta said…
मोहनदास के गीतकार- विवेक प्रियादर्शन हैं
संगीतकार- वि.के.सोलंकिया और यश मालवीय हैं .
राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर शौहरत पाई है.
Manju Gupta said…
मोहनदास को रेटिंग ३ /५ दूंगी .
बहुत खूब...
मैं सामान्यत: नये गाने सुनना कम ही पसन्द करता हूं और अगर शास्त्रीय संगीत पर आधारित ना हो तो बिल्कुल भी नहीं।
आज कई दिनों बाद आवाज पर आना हुआ, और यह पोस्ट दिखी, पढ़ने के बाद सुनने का मन हुआ; यकीन मानिये गीत इतना अच्छा लगा कि लगातार पांच छ: बार सुना।
इस गीत को सुनने के बाद और मेरे हिसाब से सोहैल पूरे अंकों से पास हुए, इनका भविष्य उज्जवल है। बेला ने भी वाकई कमाल किया है।
इसे मैं रेटिंग 3.5 देना चाहूंगा।
और हां गीत का नाम शुं छे, सो छे नहीं।
:)
Shamikh Faraz said…
मैं गीत को २.५/५ दूंगा.

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट 'तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर बनेगी प्रीत...'   ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस लघु श्रृंखला में हम आपसे भारतीय संगीत के रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था पर चर्चा कर रहे हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। व