गुरुवार, 17 सितंबर 2009

अरे कैसे मिलेगा मुझ जैसा हीरो....एक मस्ती भरा गीत गोपाल राव और महालक्ष्मी अय्यर का गाया

ताजा सुर ताल (22)

ताजा सुर ताल में आज में आज सुनिए एक कम चर्चित फिल्म का कम चर्चित मगर शानदार गीत

सजीव- सुजॉय, आज हम अपने श्रोताओं को कौन सी अपकमिंग फ़िल्म के संगीत से अवगत करवाने जा रहे हैं?

सुजॉय- आज हम चर्चा करेंगे 'लव खिचड़ी' फ़िल्म की और ये फिल्म अपकमिंग नहीं रही, फिल्म आ चुकी है और अधिकतर सिनेमाघरों से जा भी चुकी है, लेकिन इस फिल्म का एक गीत ख़ास ध्यान आकर्षित करता है जो आज हम सुनवाएँगे।

सजीव- अच्छा, नाम से तो लगता है कि यह कोई कॉमेडी फ़िल्म होगी, क्या ख़याल है?

सुजॉय- हाँ, यह कॊमेडी फ़िल्म ही है, और यह भी आपको बता दूँ कि इसकी कहानी कॉपी की गई है एक ऐसी हॉलीवुड फ़िल्म से, और यह हॉलीवुड फ़िल्म कॉपी है एक अमेरिकन टीवी धारावाहिक 'किचन confidentials' की।

सजीव- यानी कि चोर पे मोर!

सुजॉय- सजीव जी, ज़रा ज़बान संभाल के, सभ्य समाज में इसे चोरी नहीं कहते, इसे कहते हैं 'इन्स्पायर्ड', यानी कि प्रेरीत!

सजीव- बिल्कुल बिल्कुल, ग़लती हो गई मुझसे! इस फ़िल्म में नायक हैं रणदीप हुडा जो फ़िल्म में एक लड़कीबाज़ नौजवान का रोल अदा कर रहे हैं। साथ मे हैं सदा, रितुपर्णा सेनगुप्ता, सोनाली कुल्कर्णी, दिव्या दत्ता, कल्पना पंडित, जेसी रंधवा और रिया सेन।

सुजॉय- यानी कि नायिकाओं की भरमार है फ़िल्म में। अच्छा संगीतकार कौन है?

सजीव- प्रीतम। सुजॉय, आज के दौर के कामयाब संगीतकारों में प्रीतम ऐसे संगीतकार हैं जो सही रूप में नए गायकों को मौके दे रहे हैं। इस फ़िल्म में उन्होने गोपाल राव और सुनिता सारथी जैसे नए गायकों से गाने गवाए हैं।

सुजॉय- ये आपने बिल्कुल ठीक बात कही है, प्रीतम ने हर फ़िल्म में कम से कम एक नए कलाकार को मौका दिया है। अब इसी फ़िल्म में कुल पाँच गीतों में से दो गीतों को इन दो नए गायकों से गवाए हैं। बाक़ी के तीन गीत गाए हैं शान, श्रेया घोषाल और अलिशा चुनॉय ने।

सजीव- सुजॉय, कई बार फिल्म के न चलने से अच्छे गीत भी लोगों तक पहुँचने से वंचित रह जाते हैं, आज का प्रस्तुत गीत भी कुछ ऐसा ही है। 'लव आजकल', 'न्युयार्क', और 'लाइफ़ पार्ट्नर' के कामयाब संगीत के बाद प्रीतम तो सब से आगे चल रहे हैं इस साल। एक के बाद एक उनकी फिल्में आई जा रही है, अगर वो इसी रफ़्तार से काम करेंगें तो उनका हाल भी नदीम श्रवण जैसा हो जायेगा....मैं तो हैरान होता है की एक संगीतकार एक साथ कैसे इतनी सारी फिल्मों पर ध्यान दे पाता है.

सुजॉय- हाँ इतना सारा कार एक साथ करने पर संगीत की गुणवतत्ता पर असर पड़ना लाजमी ही है ।

सजीव- वैसे आज जिस गीत को हमें चुना है प्रीतम का रचा, उसके बारे में आपका क्या ख़याल है..

सुजॉय- मैने इस गीत को सुना है हाल ही में, एक 'रोक्किंग song' है, और इसका संगीत भी प्रीतम के दूसरे गीतों से बिल्कुल अलग है। गीत फ़िल्म के किसी 'सिचुयशन' पर लिखा गया होगा, ऐसा लगता है। इसके गीतकार कौन हैं, कुछ पता है?

सजीव- हाँ, इस फ़िल्म के सभी गीत सिचुयशनल' हैं, यानी कि बे-मतलब का कोई गीत ज़बरदस्ती नहीं डाला गया है। जहाँ तक गीतकारों का सवाल है, तो अमिताभ वर्मा और शालीन शर्मा ने गानें लिखे हैं।

सुजॉय- यानी कि गीतकार भी नए?

सजीव- हाँ।

सुजॉय- यह एक पेपी नंबर है, जैसा कि गीत के बोल हैं "मेरा नशा है तुम पर चढ़ा है जो, डर है मज़ा है नज़दीक आती रहो", तो हम भी यही कामना करेंगे कि इस गीत का नशा लोगों पर चढ़े और लम्बे समय तक इसका सुरूर बरक़रार रहे। गोपाल राव की आवाज़ बिल्कुल ताज़े हवा के झोंके की तरह सुनाई दी मुझे । मुझे तो अच्छी लगी उनकी आवाज़, एक यूथ अपील है इस नई आवाज़ में, आपका क्या कहना है सजीव?

सजीव- सही कहा तुमने, उम्मीद करते हैं कि दूसरे संगीतकारों की भी नज़र इन पर जल्द ही पड़ेगी, और जहाँ तक गीत का सवाल है ये इस साल आये कुछ बेहतरीन गीतों में से है यकीनन, मुझे इस गीत का संगीत संयोजन जबरदस्त लगा, पियानों के थिरकते नोट्स पर जैज़ बीट्स कमाल का नशा पैदा कर देते हैं.

सुजॉय- तो चलिए, अब सुनते हैं गोपाल राव और महालक्ष्मी अय्यर का गाया आज का ताज़ा सुर ताल, मेरी तरफ़ से गीत को ३.५.

सजीव - बिलकुल सुजॉय मैं भी इस गीत को ३.५ अंक दूंगा, एक और ख़ास बात ये है की ये गीत लगभग ९.५ मिनट लम्बा है, जैसे की आजकल के अधिकतर गीत नहीं होते, और ४ लम्बे लम्बे अंतरे हैं....पर हमें यकीं है की इस गीत को हमारे श्रोता भी उतना ही एन्जॉय करेंगें जितना हमने किया



आवाज़ की टीम ने दिए इस गीत को 3.5 की रेटिंग 5 में से. अब आप बताएं आपको ये गीत कैसा लगा? यदि आप समीक्षक होते तो प्रस्तुत गीत को 5 में से कितने अंक देते. कृपया ज़रूर बताएं आपकी वोटिंग हमारे सालाना संगीत चार्ट के निर्माण में बेहद मददगार साबित होगी.

क्या आप जानते हैं ?
आप नए संगीत को कितना समझते हैं चलिए इसे ज़रा यूं परखते हैं.एक ताजा गीत में "मर्तबा" शब्द का बहुत खूब इस्तेमाल हुआ है, कौन है इस गीत के गीतकार ...बताईये और हाँ जवाब के साथ साथ प्रस्तुत गीत को अपनी रेटिंग भी अवश्य दीजियेगा.

पिछले सवाल का सही जवाब दिया एक बार फिर से सीमा जी ने, बहुत बहुत बधाई, सागर जी आपने गलती दुरुस्त की उसके लिए धन्येवाद....और आपको गीत पसंद आया जानकर ख़ुशी हुई...



अक्सर हम लोगों को कहते हुए सुनते हैं कि आजकल के गीतों में वो बात नहीं. "ताजा सुर ताल" शृंखला का उद्देश्य इसी भ्रम को तोड़ना है. आज भी बहुत बढ़िया और सार्थक संगीत बन रहा है, और ढेरों युवा संगीत योद्धा तमाम दबाबों में रहकर भी अच्छा संगीत रच रहे हैं, बस ज़रुरत है उन्हें ज़रा खंगालने की. हमारा दावा है कि हमारी इस शृंखला में प्रस्तुत गीतों को सुनकर पुराने संगीत के दीवाने श्रोता भी हमसे सहमत अवश्य होंगें, क्योंकि पुराना अगर "गोल्ड" है तो नए भी किसी कोहिनूर से कम नहीं. क्या आप को भी आजकल कोई ऐसा गीत भा रहा है, जो आपको लगता है इस आयोजन का हिस्सा बनना चाहिए तो हमें लिखे.

4 टिप्‍पणियां:

seema gupta ने कहा…

Music Director : Sidhartha Suhas

regards

Manju Gupta ने कहा…

जवाब -संगीत निर्देशक -सिद्धार्थ सुहास हैं .
रेटिंग ३/५ दूंगी .

Manish Kumar ने कहा…

Pata nahin ye geet mujhe to bilkul nahin bhaya

Shamikh Faraz ने कहा…

सीमा जी का जवाब नहीं.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ