Skip to main content

सब कुछ करना इस दुनिया में, प्यार न करना भूल के...चेता रहे हैं आशा और एस डी बतीश साहब

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 197

ज है '१० गायक और एक आपकी आशा' की सातवीं कड़ी। इस शृंखला में हम आप को सुनवा रहे हैं आशा भोंसले के साथ १० अलग अलग गायकों के गाये फ़िल्म संगीत के सुनहरे दौर के १० युगल गीत। इन गायकों में से कुछ गायक हैं अपने ज़माने के मशहूर गायक, और कुछ हैं थोड़े से कम जाने पहचाने, जिन्हे हम कह सकते हैं कमचर्चित। आज ऐसे ही एक कमचर्चित गायक की बारी। ये गायक भी हैं और संगीतकार भी। फ़िल्म संगीत में ये कमचचित ज़रूर हो सकते हैं लेकिन संगीत के क्षेत्र में इनका नाम एक चमकता हुआ सितारा है जिन्होने संगीत के विकास में, संगीत के प्रचार में बेहद सराहनीय योगदान दिया है। ये हैं शिव दयाल बतीश, जिन्हे हम एस. डी. बतीश के नाम से भी जानते हैं, और जिन्होने कई गीत सिर्फ़ बतीश के नाम से भी गाए हैं। हम बतीश जी पर थोड़ी देर में आते हैं, आइए उससे पहले चलते हैं ५० के दशक के शुरुआती साल में। १९५१ में एक फ़िल्म आयी थी 'अदा'. १९५० में देवेन्द्र गोयल की फ़िल्म 'आँखें' से शुरुआत करने के बाद इसके अगले ही साल संगीतकार मदन मोहन को अपना पहला बड़ा ब्रेक मिला शेखर और रेहाना अभिनीत देवेन्द्र गोयल साहब की ही फ़िल्म 'अदा' में। मदन मोहन लता जी को 'आँखें' में गवाना चाहते थे लेकिन बात नहीं बनी थी। पर 'अदा' से शुरु हुई लता-मदन मोहन की जोड़ी, जिसने आगे चलकर क्या रूप धारण किया यह शायद बताने की ज़रूरत नहीं। इस जोड़ी की बातें तो हम करते ही रहते हैं, चलिए आज बात की जाए मदन मोहन और आशा भोंसले की। मदन साहब अपनी इस दूसरी छोटी बहन आशा के बारे में बता रहे हैं, मौका वही, आशा भोंसले के फ़िल्मी गायन के २५ वर्ष पूरे हो जाने का जश्न, "मेरी अच्छी सी, छोटी सी बहन आशा के गानें के करीयर की सिल्वर जुबिली मनाई जा रही है, मुझे इतनी ख़ुशी हो रही है कि बयान नहीं कर सकता। ज्यों ज्यों वक़्त गुज़रता जाता है, आशा की आवाज़ और गाने का अंदाज़ और रोशन होते जाते हैं। याद्दाश्त ऐसी है कि जवाब नहीं, और आवाज़ का जादू बयान से बाहर। दिल बिल्कुल बच्चों के दिल की तरह है, बहुत साफ़ और बिल्कुल ईमोशनल। हाल ही में मेरे यहाँ रिहर्सल करने के लिए आयीं, और मैने और किसी का गाया हुआ गाना सुना दिया। बच्चों की तरह रोना शुरु कर दिया और कहने लगीं कि 'अब मुझसे और रिहर्सल नहीं हो सकेगी'। यह एक बहुत ही अजीब फ़नकार की निशानी है। और अगर ग़ौर से देखा जाए तो गुज़रे कई बरसों से आशा के गाने का निखार बढ़ता ही जाता है। दुआ है कि यह निखार युंही बढ़ता रहे और मेरी छोटी बहन हमेशा शोख़ और चुलबुली बनी रहे क्योंकि शोख़ी और चुलबुलापन इसके गाने की ख़ूबी है, और (हँसते हुए) मुझसे ज़रा कम लड़ा करे।"

फ़िल्म 'अदा' में लता जी के गाए "प्रीतम मेरी दुनिया में दो दिन तो रहे होते" और "साँवरी सूरत मन भायी रे पिया तोरी" जैसे गीत बेहद मशहूर हुए थे। आशा जी और एस. डी. बतीश ने 'अदा' में एक युगल गीत गाया था "सब कुछ करना इस दुनिया में प्यार न करना भूल के"। युं तो इस फ़िल्म में कई गीतकारों ने गीत लिखे जैसे कि राजा मेहंदी अली ख़ान, प्रेम धवन, बेहज़ाद लखनवी, लेकिन आशा-बतीश के गाए इस प्रस्तुत गीत को लिखा था सरस्वती कुमार 'दीपक' ने। दीपक जी ने इस फ़िल्म में गीता राय का गाया एक और गीत भी लिखा था "सच्ची बातें बताने में कैसी शर्म, हुए मेरे बलम हुए मेरे बलम"। दोस्तों, आइए आज शिव दयाल बतीश जी के फ़िल्म संगीत की थोड़ी से चर्चा की जाए। बतौर गायक उनके जो गीत लोकप्रिय हुए थे वे कुछ इस प्रकार हैं - "पगड़ी सम्भाल जट्टा" (गवाण्डी, १९४२), "ख़ामोश निगाहें ये सुनाती हैं कहानी" (दासी, १९४४), "मेरी मिट्टी की दुनिया निराली" (शाम सवेरा, १९४६), "क्या हमसे पूछते हो किधर जा रहे हैं हम" (आरसी, १९४७), "आँखें कह गईं दिल की बात" (लाडली, १९४९), "देख लिया तूने ग़म का तमाशा" (बेताब, १९५२), "जलाकर आग दिल में ज़िंदगी बरबाद करते हैं" (तूफ़ान, १९५४), इत्यादि। जुलाई १९४७ में पार्श्वगायक के रूप में प्रतिष्ठित हो चुके बतीश जी ने संगीतकार के रूप में कार्य शुरु किया और उनके संगीत से सज कर जो फ़िल्में आईं उनकी सूची इस प्रकार हैं। १९४८ - चुपके चुपके, बलमा, पतझड़ (ग़ुलाम हैदर के साथ); १९४९ - ख़ुश रहो; १९५२ - बहू बेटी, बेताब; १९५४ - अमर कीर्तन, हार जीत, तूफ़ान; १९५५ - दीवार; १९५८ - हम भी कुछ कम नहीं; १९५९ - एक अरमान मेरा, साज़िश, टीपू सुल्तान; १९६० - ज़ालिम तेरा जवाब नहीं। यह आशा जी पर केन्द्रित शृंखला है, इसलिए मुझे बतीश जी के संगीत निर्देशन में आशा जी का गाया एक गीत याद आ रहा है फ़िल्म 'एक अरमान मेरा' का, "ओ मेरे चांद तुम कहाँ"। राहिल गोरखपुरी के लिखे इस गीत में बड़ी ही वेदना भरी आवाज़ में आशा जी गाती हैं "ये उदास आसमान रात ये धुआँ धुआँ, ओ मेरे चांद तुम हो कहाँ, थक गई मेरी ज़ुबान आ गई लबों पे जान, ओ मेरे चांद तुम हो कहाँ"। वैसे आज का जो प्रस्तुत गीत है वह विरह और वेदना से कोसों दूर, एक हल्का फुल्का गीत है जिसमें नायिका प्यार न करने की बात करती है, जबकि नायक प्यार का वकालत करता है। यह गीत हमें फ़िल्म 'आर पार' के उस गीत की याद दिला देता है कि "मोहब्बत कर लो जी भर लो अजी किसने रोका है, पर बड़े गजब की बात है इसमें भी धोखा है"। सुनिए गीत और ख़ुद ही इस बात को महसूस कीजिए।



गीत के बोल-

सब कुछ करना इस दुनिया में
प्यार न करना भूल के
कभी किसी से अपनी आँखें
चार न करना भूल के
जी प्यार न करना भूल के
बतीश: सब कुछ कहना ये मत कहना
प्यार न करना भूल के
नज़रें मिला के उल्फ़त से
इन्कार न करना भूल के
आशा: जी प्यार न करना भूल के

आशा: प्यार किया था परवाने ने
शमा ने उसको जला दिया
बतीश: जलने का ही नाम है मिलना
प्यार ने उनको मिला दिया
आशा: मिलने की इस रीत को तुम
अख़्त्यार न करना भूल के
कभी किसी से अपनी आँखें
चार न करना भूल के
जी प्यार न करना भूल के
प्यार करोगे पछताओगे
ये दुनिया बदनाम करेगी
बदनाम करेगी
बतीश: लाख करे बदनाम मोहब्बत
अपना ऊँचा नाम करेगी \-2
आशा: ऐसे ऊँचे नाम का तुम
ब्योपार न करना भूल के
कभी किसी से अपनी आँखें
चार न करना भूल के
जी प्यार न करना भूल के
बतीश: प्यार करेंगे नहीं डरेंगे
बिना प्यार के दुनिया क्या है
दुनिया क्या है
आशा: बिना प्यार की दुनिया सच्ची
प्यार की दुनिया में धोखा है
बतीश: प्यार में धोखे की बातें
सरकार न करना भूल से
आशा: कभी किसी से

बतीश: सब कुछ कहना ये मत कहना
प्यार न करना भूल के
आशा: नज़रें मिला के उल्फ़त से
इन्कार न करना भूल के \-2

बतीश+आशा: सब कुछ कहना ये मत कहना
प्यार न करना भूल के
नज़रें मिला के उल्फ़त से
इन्कार न करना भूल के....


और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. कल होंगें मुकेश साहब, आशा के साथ एक और युगल गीत में.
२. गीतकार हैं कमर जलालाबादी.
३. मुखड़े में शब्द है -"काफिला".

पिछली पहेली का परिणाम -
पूर्वी जी २२ अंकों पर पहुँचने के लिए आपको भी बधाई...अब आप भी पराग जी और रोहित के टक्कर में कड़ी हैं, वाह क्या रोचक मुकाबला है...मुझे उम्मीद है शरद जी और स्वप्न जी इसका पूरा आनंद ले रहे होंगे...पाबला जी महफिल की शान हैं इसमें कोई शक नहीं....सभी प्यारे श्रोताओं का आभार.

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

purvi said…
yeh kafila hai pyaar ka, chalta hi jaayega
बी एस पाबला said…
फिल्म: लेख (1949)
संगीतकार: कृष्ण दयाल
गीतकार: कमर ज़लालाबादी
गायक: मुकेश-आशा भोंसले


गीत के बोल:
मुकेश: ये क़ाफ़िला है प्यार का चलता ही जाएगा
जी भर के हँस ले गा ले ये दिन फिर न आएगा
आशा: ये क़ाफ़िला है प्यार ...

मुकेश: इस क़ाफ़िले के साथ हँसी भी है अश्क़ भी
गाएगा कोई और कोई आँसू बहाएगा
आशा: इस क़ाफ़िले के साथ ...
ये क़ाफ़िला है प्यार ...

मुकेश: राही गुज़र न जाएं मुहब्बत के दिन कहीं
आँखें तरस रही हैं कब आँखें मिलाएगा
आशा: राही गुज़र न जाएं ...
ये क़ाफ़िला है प्यार ...

मुकेश: ( इस क़ाफ़िले में ) \-२ वस्ल भी है और जुदाई भी
तू जो भी माँग लेगा तेरे पास आएगा
आशा: ( इस क़ाफ़िले में ) \-२ ...
ये क़ाफ़िला है प्यार ...

ये रहा वीडियो जैसा कुछ-कुछ

मेरा नम्बर कब आएगा!?
बी एस पाबला
Manju Gupta said…
पूर्वी जी ९.९,०९ के खेल में जीत गयी . बधाई .
आपने सुना कि इस गाने में आशाजी के आवाज़ में उन दिनों की गायिकायें नूरजहां, या सुरैया का थोडा थोडा सा प्रभाव है.

बाद में कहीं लताजी की भी छाया है. मगर बाद में इस गुणी कलाकार नें ना केवल अपनी अलग अवाज़ बनाई बल्कि अलग पुख्ता पहचान भी बनाई.

आशाजी अद्वितीय हैं.
Shamikh Faraz said…
पाबला जी ने तो पूरा गाना ही पढ़वा दिया.
Parag said…
दिलीप जी
मेरे ख़याल से आशा जी की आवाज़ पर सबसे ज्यादा प्रभाव गीता दत्त जी का था उनके शुरुआती सालों में. मैंने आजतक कभी महसूस नहीं किया की उनकी आवाज़ पर सुरैया जी या फिर नूर जहां जी का प्रभाव है.
आभारी
पराग

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट 'तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर बनेगी प्रीत...'   ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस लघु श्रृंखला में हम आपसे भारतीय संगीत के रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था पर चर्चा कर रहे हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। व