Skip to main content

बज उठेंगीं हरे कांच की चूडियाँ....आशा की आवाज़ में एक चहकता नग्मा...

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 203

'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर इन दिनों आप सुन रहे हैं स्वप्न मंजूषा शैल 'अदा' जी के फ़रमाइशी नग़में। आज बारी है उनके पसंद का तीसरा गीत सुनने की। आशा भोंसले की आवाज़ में यह गीत है फ़िल्म 'हरे कांच की चूड़ियाँ' का शीर्षक गीत "बज उठेंगी हरे कांच की चूड़ियाँ"। यह गीत बहुत ज़्यादा प्रचलित गीतों में नहीं गिना जाता है, और शायद हम में से बहुत लोगों को यह गीत कभी कभार ही याद आता होगा। ऐसे में इस सुंदर गीत का ध्यान हम सब की ओर आकृष्ट करने के लिए हम अदा जी का शुक्रिया अदा किए बग़ैर नहीं रह सकते। 'हरे कांच की चूड़ियाँ' १९६७ की फ़िल्म थी। नायिका प्रधान इस फ़िल्म में नैना साहू ने मुख्य भूमिका निभायी और उनके साथ में थे विश्वजीत, नासिर हुसैन, सप्रू, और राजेन्द्र नाथ प्रमुख। फ़िल्म की मूल कहानी कुछ इस तरह की थी कि मोहिनी (नैना साहू) प्रोफ़ेसर किशनलाल (नासिर हुसैन) की बेटी है। मोहिनी मेडिकल की छात्रा है जो सभी के साथ खुले दिल से मिलती जुलती है। एक बार वो बेहोश हो जाने के बाद जब डाक्टरी जाँच करायी जाती है तो डाक्टर उसे गर्भवती करार देता है। किशनलाल की जैसे दुनिया की उलट जाती है। कहानी उस ज़माने के लिहाज़ से थोड़ी प्राप्त वयस्क थी, जिसकी वजह से शायद यह उतनी कामयाब नहीं रही। लेकिन हमें यहाँ तो मतलब है बस अच्छे अच्छे गानें सुनने से, जो कि इस फ़िल्म में भी थे। किशोर साहू ने इस फ़िल्म का निर्माण व निर्देशन किया था। अब नैना साहू उनके क्या लगते हैं, यह मैं आप पर छोड़ता हूँ, पता कर के मुझे भी ज़रूर बताइएगा, मैं इंतज़ार करूँगा! शंकर जयकिशन का इस फ़िल्म में संगीत था और इस गीत को लिखा शैलेन्द्र ने।

दोस्तों, यह गीत उन गीतों में से हैं जिनमें मुखड़ा और अंतरा एक जैसा ही होता है। चलिए कुछ उदाहरण दिया जाए। महेन्द्र कपूर की आवाज़ मे फ़िल्म 'हमराज़' का गीत "नीले गगन के तले धरती का प्यार पले", और 'फिर सुबह होगी' का शीर्षक गीत "वो सुबह कभी तो आएगी" में मुखड़ा और अंतरे एक ही मीटर पर, एक ही धुन पर लिखा गया है। ठीक वैसे ही 'हरे कांच की चूड़ियाँ' फ़िल्म के इस गीत में भी वही बात है। "धानी चुनरी पहन, सज के बन के दुल्हन, जाउँगी उनके घर, जिन से लागी लगन, आयेंगे जब सजन, जीतने मेरा मन, कुछ न बोलूँगी मैं, मुख न खोलूँगी मैं, बज उठेंगी हरे कांच की चूड़ियाँ, ये कहेंगी हरे कांच की चूड़ियाँ"। कुछ कुछ श्रृंगार रस पर आधारित इस गीत में एक लड़की के नये नये ससुराल में प्रवेश के समय का वर्णन हुआ है, कि किस तरह से वो अपने पति और नये परिवार के लोगों के दिलों को जीत लेंगी। क्योंकि ज़ाहिर सी बात है कि नयी दुल्हन ससुराल के पहले पहले दिनों में शर्म-ओ-हया के चलते अपने मुख से कुछ नहीं बोलती, इसलिए वो अपने जज़्बातों और तमन्नाओं को अपने नये परिवार वालों तक पहुँचाने का दायित्व अपने हरे कांच की चूड़ियों पर छोड़ती है। बहुत ही सुंदर शब्दों में पिरो कर शैलेन्द्र ने चूड़ियों का मानवीकरण किया है। तो लीजिए पेश है हरे कांच की चूड़ियों की कहानी आशा जी की ज़बानी।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. गीतकार इन्दीवर का लिखा एक शानदार गीत.
२. फिल्म में राजेश खन्ना और शर्मीला टैगोर की प्रमुख भूमिकाएं थी.
३. अंतरे में ये शब्द आता है -"कविता".

पिछली पहेली का परिणाम -
पूर्वी जी २८ अंकों पर आने की बधाई....लगता है आप ही सबसे पहले मंजिल पर पहुंचेंगीं...पराग जी, सबसे पहली बात, आवाज़ मंच किसी एक कलाकार या किसी ख़ास युग को समर्पित नहीं है, यहाँ संगीत विशेषकर हिंदी फ़िल्मी और गैर फ़िल्मी संगीत पर चर्चा होती है. आनंद बक्शी पहले गीतकार नहीं है आवाज़ पर जिनकी तारीफ़ हुई हो, शायद ही आपने ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय जी के आलेख में कभी किसी कलाकार की बुराई पायी हो, किसी की भी तारीफ करने का अर्थ दूसरे को बुरा कहना हरगिज़ नहीं है, फिल्म संगीत में आप आनंद बक्शी साहब के योगदान को कहीं से भी कमतर नहीं आंक सकते, यकीनन वो सबसे अधिक सफल गीतों को लिखने वाले गीतकार हैं, यो तो तथ्य है जिससे न आप इनकार कर सकते हैं न हम मुकर सकते हैं. आपने जिन महान गीतकारों की चर्चा की उन पर आलेख लिखेंगें तो हमें यकीनन बहुत ख़ुशी होगी, पर कृपया ये निवेदन हमारा सभी संगीत प्रेमियों से है कि यदि हम ए आर रहमान की तारीफ़ करें तो उसे नौशाद साहब की बुराई न समझा जाए....दोनों का अपना महत्त्व है...अपना क्लास है....ये सभी संगीत के विविध रूप हैं और ये अच्छा ही है कि हमारे पास ऐसी विविधता है.

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

'अदा' said…
सुजोय जी और सजीव जी,
आप नहीं जानते मुझे इस गीत से कितना प्रेम है बस मैं कह नहीं पाऊँगी...
शायद बिना लाग-लपेट मैं कह सकती हूँ ये गीत मेरे दिल के सबसे करीब...
इसको सुनते हुए मेरी आँखें भर आई हैं ..और जो मुझे आज महसूस हुआ है नहीं कह पाऊँगी...
शायद अपनों से दूर और अपने देश से दूर होने का भी असर हो....
बस रो ही रही हूँ मैं...
आपका बहुत बहुत धन्यवाद..
Anonymous said…
tasveer banaye kya koi, kya koi likhe tujhpe kavita...

ROHIT RAJPUT
Disha said…
jeevan se bhari teri aankhe mazboor karein jeene ke liye
Manju Gupta said…
बोल शायद ये हैं -तुम मेरी कविता बन जाओ .......
purvi said…
आज तो हमें आते आते बड़ी देर हो गयी :(
अब बधाई किसे दी जाये.....!!!! रोहित जी को या फिर दिशा जी को ????

अदा जी,
क्या आप भी...!!! इतना मस्त गाना है और आप की आँखों में आँसू....!!!!! आप सात समुन्दर पार हैं तो क्या हुआ, दिल तो हिंदुस्तान से जुडा हुआ है ना... यही क्या कम है!!!! देखिये......., आप की बदौलत हमें भी यह गाना सुनने को मिला :) , अरे हम तो भारत में रह कर भी कभी यह गाना नहीं सुन पाए, और आप भारत से बाहर होते हुए भी अपनी मिटटी की खुशबू को बिखरा रही हैं. चलिए, अब मुस्कुराइए :) :)
'अदा' said…
पूर्वी,
बहुत अच्छा लगा तुम्हारी बातों से ..
सच आज तो हम रो ही पड़े ..
लेकिन अब मुस्कुरा रहे हैं हाँ.....
सुजोयजी और संजीव जी की कर्मनिष्ठा काबिले तारीफ है हमेशा की तरह लाजवाब गीत बधाई और हाज़िरी कबूल हो
purvi said…
:) आहा...
यह हुई ना बात
अब ऐसे ही मुस्कुराते रहिये :)
और जब भी हमारी याद आये ( मतलब रोना आये ) तो फिर से मुस्कुरा देना :), हमको अपने आस पास ही समझिये..... बहुत दूर नहीं हैं जी.....
manu said…
jeewan se bhari teri aaankhe..majboor karin jeene ke luye...

ik dhadkanhai tu dil ke liye ..
ik jaan hai tu jeene ke liye...
मन्जु गुप्ता जी हमेशा ही कोई नई बात ले कर आतीं है । मज़ा आ जाता है ।
Manju Gupta said…
गज़ल -गीत सम्राट शरद जी मुझे आप का कमेन्ट अच्छा लगा और हंसा दिया . सच में गानों की ज्यादा जानकारी नहीं है .
'अदा' said…
Sharad ji,
kahan hain aap aaj kal nazar hi nahi aate hain ?
Playback said…
lagta hai Parag ji hamse naaraaz ho gaye
Avadh Lal said…
Naina Sahu Kishore Sahu ki suputri thin aur yeh unki pahli film thi. Durbhagyavash yeh film box office par nahin chali aur Naina Sahu ka career bhi asaphal raha.
अर्चना said…
आज ही 'हिंदी युग्म' से परिचय हुआ....मानो कोई खजाना ही मिल गया हो....और यह गीत तो भूली-बिसरी यादों में था....सुबह से कितनी बार सुन चुकी हूँ...इसकी कोई गिनती नहीं....बहुत-बहुत धन्यवाद..और शुभकामनाएँ..
Shamikh Faraz said…
रोहित जी बहुत खूब.

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया