Monday, August 2, 2010

ये क्या जगह है दोस्तों.....शहरयार, खय्याम और आशा की तिकड़ी और उस पर रेखा की अदाकारी - बेमिसाल

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 452/2010/152

'सेहरा में रात फूलों की' - ८० के दशक की कुछ यादगार ग़ज़लों की इस लघु शृंखला की दूसरी कड़ी में आप सभी का स्वागत है। जैसा कि कल हमने कहा था कि इस शृंखला में हम दस अलग अलग शायरों के क़लाम पेश करेंगे। कल हसरत साहब की लिखी ग़ज़ल आपने सुनी, आज हम एक बार फिर से सन् १९८१ की ही एक बेहद मक़बूल और कालजयी फ़िल्म की ग़ज़ल सुनने जा रहे हैं। यह वह फ़िल्म है दोस्तों जो अभिनेत्री रेखा के करीयर की सब से महत्वपूर्ण फ़िल्म साबित हुई। और सिर्फ़ रेखा ही क्यों, इस फ़िल्म से जुड़े सभी कलाकारों के लिए यह एक माइलस्टोन फ़िल्म रही। अब आपको फ़िल्म 'उमरावजान' के बारे में नई बात और क्या बताएँ! इस फ़िल्म के सभी पक्षों से आप भली भाँति वाक़ीफ़ हैं। और इस फ़िल्म में शामिल होने वाले मुजरों और ग़ज़लों के तो कहने ही क्या! आशा भोसले की गाई हुई ग़ज़लों में किसे किससे उपर रखें समझ नहीं आता। "दिल चीज़ क्या है आप मेरी जान लीजिए" या फिर "इन आँखों की मस्ती के", या "जुस्तजू जिसकी थी उसको तो ना पाया हमने" या फिर "ये क्या जगह है दोस्तों"। एक से एक लाजवाब! उधर तलत अज़ीज़ के गाए "ज़िंदगी जब भी तेरी बज़्म में लाती है हमें" भी तो हमें एक अलग ही दुनिया में लिए जाते हैं जिसे सुन कर यह ज़मीं चांद से बेहतर हमें भी नज़र आने लगती हैं। मौसीकार ख़य्याम साहब ने इस फ़िल्म के लिए १९८२ का फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार जीता था और राष्ट्रीय पुरस्कार से भी सम्मानित हुए थे। निर्देशक मुज़फ़्फ़र अली को भी सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार मिला था। आशा भोसले फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार से अपना नाम वापस ले चुकीं थीं, इसलिए उनका नाम नॊमिनेशन में नहीं आया, और इस साल यह पुरस्कार चला गया परवीन सुल्ताना की झोली में फ़िल्म 'कुद्रत' के गीत "हमें तुम से प्यार कितना" के लिए। लेकिन आशा जी को इस फ़िल्म के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार से ज़रूर सम्मानित किया गया। दोस्तों, यह इतनी महत्वपूर्ण फ़िल्म रही ग़ज़लों की दृष्टि से कि इस शृंखला में इस फ़िल्म को नज़रंदाज़ करना बेहद ग़लत बात होती। तभी तो आज के लिए हमने चुना है "ये क्या जगह है दोस्तों"।

फ़िल्म 'उमरावजान' की कहानी और इस फ़िल्म के बारे में तो लगभग सभी कुछ आपको मालूम होगा, तो आइए आज ख़ास इस ग़ज़ल की ही चर्चा की जाए। चर्चा क्या साहब, ख़ुद ख़य्याम साहब से ही पूछ लेते हैं इसके बारे में, क्या ख़याल है? विविध भारती के 'संगीत सरिता' कार्यक्रम के सौजन्य से ये अंश हम यहाँ प्रस्तुत कर रहे हैं - "एक और नग़मा आपने सुना होगा, फ़िल्म में ऒलमोस्ट क्लाइमैक्स है, लड़की, शरीफ़ज़ादी अपने घर में, अपने मोहल्ले में, अपने शहर में, किस तरह से एडुकेशन लेती थी, रहते थे सब, उसके माँ-बाप, और वो लड़की किसी कारण बहुत बड़ी तवायफ़ बन गई। उस मकाम पर, अपने ही घर के सामने उसे मुजरा करना है। और मुजरे का मतलब है लोगों की दिलजोयी। जो तवायफ़ है वो लोगों का दिल लुभाए, दिलजोयी करे, और अब यह सिचुएशन है कि जब मुजरा शुरु हुआ, उसने देखा कि मैं तो वहीं हूँ, घर सामने है, और मेरी बूढ़ी माँ, उस चिलमन के पीछे, इसका डबल मीनिंग् हो गया कि लोगों को, जिनके सामने मुजरा कर रही है वो, उनका दिल लुभा रही है, और उसके इनर में एक तूफ़ान चल रहा है, जो उसकी माँ, कि मैं अपनी माँ को मिल सकूँगी या नहीं, और मैं मुजरा कर रही हूँ। मुजरे वाली वो थी नहीं, लेकिन हालात ने बना दिया। तो वो इस नग़मे में, 'ये क्या जगह है दोस्तों, ये कौन सा दयार है", तो इसमें देखिए आशा जी ने किस अंदाज़ में, उसी अंदाज़ को पकड़ा, जो मैंने कहा, उसी तरह से गाया है, और शहरयार साहब ने उम्दा, बहुत अच्छा लिखा है। मुज़फ़्फ़र अली साहब ने भी हक़ अदा किया। उसका पिक्चराइज़ेशन इतना अच्छा किया है कि लोगों को बाक़ायदा रोते हुए सुना है।" सचमुच दोस्तों, यह ग़ज़ल इतना दिल को छू जाती है कि जितनी भी बार सुनी जाए, जैसे दिल ही नहीं भरता। आज 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर पहली बार 'उमरावजान' की ग़ज़ल, सुनिए, लेकिन उससे पहले ये रहे इस ग़ज़ल के तमाम शेर...

ये क्या जगह है दोस्तों, ये कौन सा दयार है,
हद-ए-निगाह तक जहाँ ग़ुबार ही ग़ुबार है।

ये किस मक़ाम पर हयात मुझको लेके आ गई,
ना बस ख़ुशी पे है जहाँ, ना ग़म पे इख़्तियार है।

तमाम उम्र का हिसाब माँगती है ज़िंदगी,
ये मेरा दिल कहे तो क्या, के ख़ुद से शर्मसार है।

बुला रहा है कौन मुझको चिलमनों के उस तरफ़,
मेरे लिए भी क्या कोई उदासो बेक़रार है।

दोस्तों, यह जो अंतिम शेर है, उसमें उमरावजान की माँ को चिलमन की ओट से अपनी बेटी को देखती हुई दिखाई जाती है। इतना मर्मस्पर्शी सीन था कि शायद ही ऐसा कोई होगा जिसकी आँखें नम ना हुईं होंगी। जैसे अल्फ़ाज़, वैसा संगीत, वैसी ही गायकी, और रेखा की वैसी ही अदायगी। अभी हाल में ख़य्याम साहब को जब 'लाइफ़टाइम अचीवमेण्ट अवार्ड' से नवाज़ा गया था और उन्हे पुरस्कार प्रदान किया था आशा जी ने, और सामने की पंक्ति पर रेखा बैठी हुईं थीं। ख़य्याम साहब ने तब कहा था कि 'उमरावजान' के लिए सब से ज़्यादा श्रेय आशा जी और रेखा को ही जाता है। अकस्मात इतनी बड़ी ऒडिएन्स में इस तरह से ख़य्याम साहब की ज़ुबान से अपनी तारीफ़ सुन कर रेखा अपने जज्बात पर क़ाबू न रख सकीं और उनकी आँखों से टप टप आँसू बहने लग पड़े। ठीक वैसे ही जैसे इस ग़ज़ल को सुनते हुए हम सब के बहते हैं। तो आइए फिर एक बार इस क्लासिक ग़ज़ल को सुने और फिर एक बार अपनी आँखें नम करें। पता नहीं क्यों इस ग़ज़ल के बहाने आँखें नम करने को जी चाहता है!



क्या आप जानते हैं...
'उमरावजान' में ख़य्याम साहब ने लता जी के बजाय आशा जी से गानें इसलिए गवाए क्योंकि वो नहीं चाहते थे कि 'पाक़ीज़ा' के हैंग्-ओवर से 'उमरावजान' ज़रा सा भी प्रभावित हो। उस पर उन्हे यह भी लगा कि रेखा के लिए आशा जी की कशिश भरी आवाज़ ही ज़्यादा मेल खाती है।

पहेली प्रतियोगिता- अंदाज़ा लगाइए कि कल 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर कौन सा गीत बजेगा निम्नलिखित चार सूत्रों के ज़रिए। लेकिन याद रहे एक आई डी से आप केवल एक ही प्रश्न का उत्तर दे सकते हैं। जिस श्रोता के सबसे पहले १०० अंक पूरे होंगें उस के लिए होगा एक खास तोहफा :)

१. ग़ज़ल के मतले में फिल्म का शीर्षक है, शायर बताएं - ३ अंक.
२. खय्याम साहब का है संगीत, गायिका बताएं - २ अंक.
३. इस गज़ल का एक पुरुष संस्करण भी है उसमें किसकी आवाज़ है बताएं - २ अंक.
४. अम्ब्रीश संगल निर्देशित फिल्म का नाम बताएं - १ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
पवन जी ने ३ अंकों के सवाल का सही जवाब दिया, तो शरद जी, अवध जी और इंदु जी भी कमर कसे मिले, बधाई

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

4 comments:

singhSDM said...

lyricist----Naqsh Lyallpuri

*****
PAWAN KUMAR

शरद तैलंग said...

Male Singer : Bhupender

indu puri said...

अहल-ए-दिल यूँ भी निभा लेते हैं दर्द सीने में छुपा लेते हैं
लता मंगेशकर ने भी इस गज़ल को गाया था,इसके ही एक सस्करण को भूपेंदर जी ने गया था.
एक वाक्य याद आ गया तब हमारे शहर में फिल्म का प्रचार टाँगे पर पोस्टर्स लगा कर किया जाता था.माइक ले के एक व्यक्ति बुलंद आवाज में फिल्म के नायक नायिका,फिल्म का माँ बोलता जाता था.
इस फिल्म का प्रचार कुछ यूँ हो रहा था.' आइये..आइये..देखिये आपके शहर के विष्णु टाकीज में फिलिम 'दरद', 'दरद' जिस में हीरो है 'राजेस' खन्ना और हिरोइन है हेमा मालन...
उसका दर्द को दरद बोलना और हेमा मालिनी को मालन बना देना मुझे आज भि याद है.हम हँस हँस कर लोट पोत हो गए थे. फिलिम दरद ....

AVADH said...

चरों प्रश्नों का उत्तर तो मिल ही गया है.
फिल्म: दर्द के इस दो पहलू वाले गीत और संगीत में कुछ खास बात है.
अवध लाल

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ