Skip to main content

जूडे में गजरा मत बाँधो मेरा गीत महक जायेगा....जब पंडित वीरेंद्र मिश्रा की सुन्दर कल्पना को सुर मिले

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 522/2010/222

'दिल की कलम से', 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में कल से हमने शुरु की है यह लघु शृंखला जिसके अन्तर्गत हम कुछ ऐसी फ़िल्मी रचनाएँ सुनवा रहे हैं जिनके रचनाकार हैं हिंदी साहित्य और काव्य जगत के कुछ नामचीन साहित्यकार व कवि। ये वो प्रतिभाएँ हैं जिन्होंने हिंदी साहित्य और काव्य में अपना महत्वपूर्ण योगदान देकर उन्हें समृद्ध किया है, और जब फ़िल्मी गीत लेखन की बात आई तो यहाँ भी, कम ही सही, लेकिन कुछ ऐसे स्तरीय और अर्थपूर्ण गीत लिखे कि फ़िल्म संगीत जगत धन्य हो गया। पंडित नरेन्द्र शर्मा के बाद आज हम जिस साहित्यकार की बात कर रहे हैं वो हैं वीरेन्द्र मिश्र। कवि वीरेन्द्र मिश्र और पंडित नरेन्द्र शर्मा को जो एक बात आपस में जोड़े रखती है, वह यह कि ये दोनों ही भारत के सब से लोकप्रिय रेडियो चैनल विविध भारती से जुड़े रहे। अगर शर्मा जी विविध भारती के जन्मदाता थे तो मिश्र जी भी इसके एक मानक प्रस्तुतकर्ता, यानी कि 'प्रोड्युसर एमेरिटस' रहे हैं। वीरेन्द्र मिश्र का जन्म मध्यप्रदेश के मोरैना में हुआ था। साहित्य में उनके योगदान के लिए उन्हें देव पुरस्कार और निराला पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। साहित्यिक कृतियों के अलावा वीरेन्द्र जी ने फ़िल्मों के लिए भी कुछ गीत लिखे हैं। जितने भी लिखे हैं, वो हमारे लिए किसी अनमोल धरोहर से कम नहीं हैं। वो आज हमारे बीच तो नहीं हैं, पर उनके कोमल भावपूर्ण गीत और कविताएँ हमेशा हमारे साथ रहेंगे और याद दिलाते रहेंगे उनकी अद्भुत प्रतिभा की। वीरेन्द्र मिश्र के लिखे फ़िल्मी रचनाओं में उल्लेखनीय है फ़िल्म 'धूप छाँव' का गीत "जूड़े में गजरा मत बांधो, मेरा गीत महक जाएगा, तेरी प्रीत सुलग जाएगी, मेरा प्यार छलक जाएगा"। शास्त्रीय संगीत पर आधारित शृंगार रस का यह गीत एक बेशकीमती नगीना है फ़िल्म संगीत की धरोहर का। आज के इस अंक के लिए हमने चुना है मोहम्मद रफ़ी की आवाज़ में फ़िल्म 'धूप छाँव' का यही काव्यात्मक गीत ।

'धूप छाँव' साल १९७७ की फ़िल्म थी जिसके संगीतकार थे शंकर जयकिशन। उस समय जयकिशन जीवित तो नहीं थे, लेकिन शंकर ने कभी जयकिशन का नाम अपने से जुदा होने नहीं दिया। वैसे शंकर के सहायक के रूप में दत्ताराम ने सहायक संगीतकार की भूमिका निभाई, जो ख़ुद भी एक स्वतंत्र संगीतकार बन चुके थे। रफ़ी साहब के अलावा तीनों मंगेशकर बहनों (लता, आशा और उषा) ने इस फ़िल्म में गीत गाए। वीरेन्द्र मिश्र के लिखे इस गीत के अलवा इस फ़िल्म में विश्वेश्वर शर्मा, विट्ठलभाई पटेल और कैफ़ी आज़्मी ने भी गीत लिखे हैं। प्रह्लाद शर्मा निर्देशित इस फ़िल्म को लिखा भी प्रह्लाद जी ने ही था। फ़िल्म के मुख्य कलाकार थे संजीव कुमार, हेमा मालिनी, योगिता बाली, ओम शिवपुरी, नज़ीर हुसैन प्रमुख। ऐसे मंझे हुए कलाकारों के होते हुए भी यह फ़िल्म बॊक्स ऒफ़िस पर मुंह के बल गिरी। आज अगर इस फ़िल्म को लोग याद करते हैं तो बस वीरेन्द्र मिश्र के लिखे प्रस्तुत गीत की वजह से। तो आइए निर्माता एस. एन. जैन द्वारा निर्मित 'धूप छाँव' फ़िल्म का यह गीत सुना जाए जो सराबोर है शृंगार रस के रंग से। क्योंकि यह गीत शास्त्रीय नृत्य पर आधारित है, इसलिए यहाँ पर यह बताना ज़रूरी है कि इस फ़िल्म के नृत्य निर्देशक थे गोपी कृष्ण, सत्यनारायण, ऒस्कर, और विजय। हम पूरी यकीन के साथ तो नहीं कह सकते लेकिन ऐसा प्रतीत होता है कि इस गीत का नृत्य गोपी कृष्ण जी ने ही तैयार किया होगा। आपको यह भी बताते चलें कि इस फ़िल्म में सरोज ख़ान सहायक नृत्य निर्देशिका थीं।



क्या आप जानते हैं...
कि 'धूप छाँव' शीर्षक से १९३५ में एक फ़िल्म बनी थी जिसमें के. सी. डे के गाये "मन की आँखें खोल बाबा" और "तेरी गठरी में लागा चोर" जैसे गीत हिंदी सिनेमा के पहले पहले 'प्री-रेकॊर्डेड' गीत माने जाते हैं।

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. हर १० अंकों की शृंखला का एक विजेता होगा, और जो १००० वें एपिसोड तक सबसे अधिक श्रृंखलाओं में विजय हासिल करेगा वो ही अंतिम महा विजेता माना जायेगा. और हाँ इस बार इस महाविजेता का पुरस्कार नकद राशि में होगा ....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली ०३ /शृंखला ०३
ये है गीत का प्रिल्यूड -


अतिरिक्त सूत्र - मुखड़े में शब्द है "पपीहा".

सवाल १ - इस गीत के कवि गीतकार का नाम बताएं - २ अंक
सवाल २ - १९४८ में आई इस फिल्म के संगीतकार बताएं - १ अंक
सवाल ३ - प्रमुख नायिका ने जो कि एक मशहूर गायिका भी है, अपने लिए पार्श्वगायन किया था इस गीत में, नाम बताएं - १ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
वाह श्याम कान्त जी ने दमदार वापसी की है दो अंकों के जवाब के साथ. शरद जी ने भी १ अंक चुरा लिया है. दूसरी शृंखला के विजेता अमित जी ने भी खाता खोल लिया है, बधाई

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Comments

ShyamKant said…
Lyricist:- GS Nepali
chintoo said…
Anil Biswas
song : door papiha bola raat aadhi raha gai
मेरे एक मित्र जो गैर सरकारी संगठनो में कार्यरत हैं के कहने पर एक नया ब्लॉग सुरु किया है जिसमें सामाजिक समस्याओं जैसे वेश्यावृत्ति , मानव तस्करी, बाल मजदूरी जैसे मुद्दों को उठाया जायेगा | आप लोगों का सहयोग और सुझाव अपेक्षित है |
http://samajik2010.blogspot.com/2010/11/blog-post.html

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया