Skip to main content

४ फरवरी - आज का गाना


गाना: तू हिन्दू बनेगा न मुसलमान बनेगा




चित्रपट:धूल का फूल
संगीतकार:एन. दत्ता
गीतकार:साहिर लुधियानवी
गायक:रफ़ी





तू हिन्दू बनेगा न मुसलमान बनेगा
इन्सान की औलाद है इन्सान बनेगा

अच्छा है अभी तक तेरा कुछ नाम नहीं है
तुझ को किसी मज़हब से कोई काम नहीं है
जिस इल्म ने इन्सानों को तक़सीम किया है
इस इल्म का तुझ पर कोई इल्ज़ाम नहीं है

तू बदले हुए वक़्त की पहचान बनेगा
इन्सान की औलाद है इन्सान बनेगा

मालिक ने हर इन्सान को इन्सान बनाया
हमने उसे हिन्दू या मुसलमान बनाया
क़ुदरत ने तो बख़्शी थी हमें एक ही धरती
हमने कहीं भारत कहीं ईरान बनाया

जो तोड़ दे हर बंद वह तूफ़ान बनेगा
इन्सान की औलाद है इन्सान बनेगा

नफ़रत जो सिखाए वो धरम तेरा नहीं है
इन्साँ को जो रौंदे वो क़दम तेरा नहीं है
क़ुरान न हो जिसमें वह मंदिर नहीं तेरा
गीता न हो जिस में वो हरम तेरा नहीं है

तू अमन का और सुलह का अरमान बनेगा
इन्सान की औलाद है इन्सान बनेगा

यह दीन के ताज़िर, यह वतन बेचनेवाले
इन्सानों की लाशों के कफ़न बेचनेवाले
यह महलों में बैठे हुए क़ातिल, यह लुटेरे
काँटों के एवज़ रूह-ए-चमन बेचनेवाले

तू इन के लिए मौत का ऐलान बनेगा
इन्सान की औलाद है इन्सान बनेगा


Comments

,संगीत,गाने हम पर कितना असर छोड़ते हैं वो हम सार्वजनिक रूप से स्वीकारे ना स्वीकारे पर हम जानते हैं प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष रूप मे ये हम पर अपना असर छोड़ते हैं.इस गाने ने बचपन से मेरी सोच को इतना प्रभावित किया कि..............
अपने जीवन को मैंने इन बच्चो को सौंप दिया.ज्यादा कुछ बताना नही चाहती.आत्मश्लाघा का आरोप लगा देंगे सब मुझ पर.किन्तु ..... मेरे तीन बच्चो मे से एक ऐसा ही एक बच्चा है.यूँ जब भी ज़िक्र भी करती हूँ आत्मा पर एक बोझ सा चदा जाता है पर......शायद फिर कोई आगे आए इसे पढ़ने के बाद...किसी बच्चे के लिए यही सोचे ............

'अच्छा है अभी तक तेरा कुछ नाम नहीं है
तुझ को किसी मज़हब से कोई काम नहीं है
जिस इल्म ने इन्सानों को तक़सीम किया है
इस इल्म का तुझ पर कोई इल्ज़ाम नहीं है'

'नफ़रत जो सिखाए वो धरम तेरा नहीं है
इन्साँ को जो रौंदे वो क़दम तेरा नहीं है
क़ुरान न हो जिसमें वह मंदिर नहीं तेरा
गीता न हो जिस में वो हरम तेरा नहीं है'
क्या बोलू! कहोगे यह कितना रोती है...दुखियारी है बेचारी शायद कोई......पर.......मैं इतनी भावुक हूँ कि........ शायद इसी लिए सबने लिखा,पढ़ा ,गया इन शब्दों को और.....मैं जी गई.एक बार नही कई कई बार और मुझे अपने खूबसूरत दिल और दिमाग से इश्क हो गया.खुद को और अपनी भावुकता को चाहने लगी हूँ.इस गाने ने मुझ से वो सब करवाया जिसे आम लोग सोच भी नही पाते.मेरी सोचको उस मुकाम पर ले गया जहां मैं ईश्वर से नजर मिलाकर बात कर सकती हूँ.गांधी,गौतम,मदर टेरेसा हर कोई नही बन सकता पर.........ऐसे ही गानों ने मुझे इंसान बनकर जीना सिखाया है अमित!
जानती हूँ जिस दिन इस दुनिया से जाऊंगी,ऐसे कई बच्चे मुझे जाते हुए देखेंगे और मैं उनके सपनों मे आ कर उन्हें प्यार करूंगी.अपने कृष्णा से गले लग कर कह सकूंगी 'तुने अपने से दूर कर दिया पर देख कितने कृष्णा की यशोदा बन गई थी मैं वहाँ' तब शायद वो मुझे गले लगा ले. उसी के लिए यह सब करती हूँ.बहुत स्वार्थी औरत हूँ मैं मात्र एक बार मुझे वो गले लगा ले.इसलिए तुम्हारे इस गीत के शब्दों को जी रही हूँ बाबु!
क्या करूं???? ऐसीच हूँ मैं तो

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया