शुक्रवार, 10 फ़रवरी 2012

बोलती कहानियाँ - शत्रु - सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन 'अज्ञेय' - अनुभव प्रिय

'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में दीपक बाबा की कहानी "ईमानदार प्रधान" का पॉडकास्ट सुना था। आवाज़ की ओर से आज हम लेकर आये हैं प्रसिद्ध हिंदी साहित्यकार 'अज्ञेय' द्वारा लिखित लघु कथा "शत्रु", जिसको स्वर दिया है, दिल्ली पब्लिक स्कूल, पटना में नवीं कक्षा के छात्र अनुभव प्रिय ने।

कहानी का कुल प्रसारण समय 8 मिनट 16 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

"अज्ञेय" को मरणोपरांत भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन 'अज्ञेय'(1911-1987)
हर शनिवार को आवाज़ पर सुनें एक नयी कहानी
"उसने देखा, एक स्त्री भूमि पर लेटी हुई थी।”
('अज्ञेय' की "शत्रु" से एक अंश)

नीचे के प्लेयर से सुनें.


यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
VBR MP3

Fifth story, Shatru, Hindi Stories, Audio Book, 2012/5. Author: Agyeya. Voice: Anubhav Priya

10 टिप्‍पणियां:

विश्व दीपक ने कहा…

शानदार प्रस्तुति...

बधाईयाँ!!

Amit ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

बहुत अच्छे वत्स!! स्वर का उतार चढ़ाव कमाल का है और उच्चारण स्पष्ट!!

Smart Indian ने कहा…

अनुभव,

रेडियो प्लेबैकइंडिया परिवार द्वारा "बोलती कहानियाँ" कार्यक्रम में स्वागत है। स्पष्ट शब्द, साफ़ उच्चारण, शानदार उतार चढ़ाव; कुल मिलाकर वाचन कमाल का है।

शुभकामनायें!

Archana Chaoji ने कहा…

आभार छोटू उस्ताद का ....

यशवन्त माथुर (Yashwant Raj Bali Mathur) ने कहा…

अनुभव की प्रस्तुति कमाल की है।
keep it up!

उपेन्द्र नाथ ने कहा…

anubav ne bahut achchhe swar men prastuti ki hai ye kahani... shubhkamnyen.

गिरिजा कुलश्रेष्ठ ने कहा…

अज्ञेय जी की यह कहानी मैंने पहले भी पढी है लेकिन इतने सुन्दर वाचन ने कहानी को और भी रोचक बना दिया है । कुछ उपेक्षा तथा कुछ अंग्रेजी के आकर्षणवश हिन्दी में शुद्ध वाचन अब दुर्लभ सा प्रतीत होने लगा है लेकिन नवमीं कक्षा के अनुभव ने कहानी के रोचक वाचन के साथ हिन्दी में अपनी योग्यता भी दर्ज करदी है । हार्दिक शुभ-कामनाएं ।

anubhav ने कहा…

आप सभी का आभारी हूँ!
इन गुणी-जनों के बीच मुझे भी एक स्थान देने के लिए धन्यवाद!

सदा ने कहा…

बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ