मंगलवार, 7 फ़रवरी 2012

ब्लोग्गर्स चोईस में हैं रश्मि प्रभा के साथ "भला बुरा" समझने वाले शिवम मिश्रा

आज की महफ़िल में अपरोक्ष गुनगुनाते शिवम् मिश्रा जी हैं. इन ५ गानों की सौगात लेने शिवम् जी के पास पहुंची तो पहले एक सवाल का तीर चला, "ये क्यूँ ?" मैंने भी शरारत से कहा - "क्यूँ बताऊँ !" दीदी कहते हैं तो मुस्कान में मायूसी के भाव लाते हुए बोले, "अपनी पसंद को ५ सिर्फ ५ गाने कैसे बताऊँ ???" बताना था ही हर हाल में तो थमा दी लिस्ट ये कहते हुए कि इनको सुनना मेरा सुकून है, बस - तो इनके सुकून के लिए सुनते हैं इनके साथ हम भी इनकी पसंद ...



तू मेरे रूबरू है - फिल्म मकबूल ; संगीत - विशाल ; गायक - दलेर महेंदी, राम शंकर और साथी


छोड़ आये हम वो गलियां - फिल्म माचिस ; संगीत - विशाल ; गायक - सुरेश वाडेकर , के के, हरीहरण और साथी


साँसों की माला पर सिमरु मैं पी का नाम - सूफी ; गायक - उस्ताद नुसरत फ़तेह अली खान और साथी


उम्र जलवो में बसर हो यह जरुरी तो नहीं - ग़ज़ल ; गायक :- जगजीत सिंह साहब


न ले के जाओ ... मेरे दोस्त का जनाजा है - फिल्म - फिजा ; संगीत :- अनु मालिक ; गायिका - जसपिंदर नरूला

3 टिप्‍पणियां:

vandan gupta ने कहा…

शिवम जी की पसन्द बहुत सुन्दर है। इसमे कुछ मेरी पसन्द के गाने भी शामिल हैं।

यशवन्त माथुर (Yashwant Raj Bali Mathur) ने कहा…

शिवम जी की पसंद के सभी गाने बहुत अच्छे हैं।

सादर

इन्दु पुरी ने कहा…

चलो एक बार फिर गीतों की गलियों में चलें.फिर प्रश्नोत्तरी रखे.फिर सबसे पहले जवाब देने की होड़ करें. बहुत अच्छा लग रहा है आज मुझे. :)
शिवम् की पसंद के गीत और ग़ज़ल बहुत अच्छे लगे. ले जा रही हूँ :) क्या करूं?ऐसीच हूँ मैं तो :P

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ