बुधवार, 22 फ़रवरी 2012

२२ फरवरी - आज का गाना


गाना: आज मेरे मन में सखी बाँसुरी बजाए कोई




चित्रपट:आन
संगीतकार:नौशाद अली
गीतकार:शकील
गायिका:लता




ल: आ हा हा...
आज मेरे मन में सखी बाँसुरी बजाए कोई
आज मेरे मन में...
आज मेरे मन में सखी बाँसुरी बजाए कोई
प्यार भरे गीत सखी बार\-बार गाए कोई
बाँसुरी बजाए...
बाँसुरी बजाए, सखी गाए सखी रे, कोई छैलवा हो
को: कोई अलबेलवा हो, कोई छैलवा हो
ल: रँग मेरी जवानी का किए झूमता घर आया है सावन
को: रँग मेरी जवानी का किए झूमता घर आया है सावन
ल: आ हा हा...
हो सखी, हो रे सखी, आया है सावन
को: मेरे नैनों में है साजन

ल: इन ऊँदी घटाओं में, हवाओं में सखी, नाचे मेरा मन
हो सखी, नाचे मेरा मन
को: हो आँगन में सावन मन\-भावन हो जी
ल: हो, इन ऊँदी घटाओं में, हवाओं में सखी, नाचे मेरा मन
को: लल्ला लाला ला लाला
ल: दिल के हिंडोले पे मोहे झूले न झुलाए कोई
को: प्यार भरे गीत सखी, बार\-बार गाए कोई
ल: बाँसुरी बजाए सखी गाए सखी रे
कोई छैलवा हो
को: कोई अलबेलवा हो, कोई छैलवा हो

ल: कहता है इशारों में कोई
आ मोहे अम्बुआ के तले मिल
को: भला वो कौन है घायल
कहता है इशारों में कोई
आ मोहे अम्बुआ के तले मिल
ल: मैं नाम न लूँ
आज लगे लाज सखी धड़के मेरा दिल हो सखी धड़के मेरा दिल
को: हो आँगन में सावन मन\-भावन हो जी
ल: हो, मैं नाम न लूँ
आज लगे लाज सखी धड़के मेरा दिल हो सखी धड़के मेरा दिल
को: लल्ला लाला ला लाला
ल: तार पे जीवन के मधुर रागिनी सुनाए कोई
को: प्यार भरे गीत सखी बार\-बार गाए कोई
ल: बाँसुरी बजाए सखी गाए सखी रे
ल: कोई छैलवा हो
को: कोई अलबेलवा हो, कोई छैलवा हो




कोई टिप्पणी नहीं:

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ