Skip to main content

भोर भये पनघट पे, मोहे नटखट श्याम सताए...ताल सुनिए इस गीत की जिसका ओर्केस्ट्रशन आज के किसी भी गीत को टक्कर दे सकता है

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 501/2010/201

'ओल्ड इज़ गोल्ड' के दोस्तों, नमस्कार और बहुत बहुत स्वागत है आप सभी का फिर एक बार इस सुरीले सफ़र में। 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के ५०० अंक के पूर्ति पर आपने हमारी ख़ास प्रस्तुति का आनंद लिया होगा, और आज से हम फिर एक बार अपने सुरीले कारवाँ को आगे बढ़ाने के लिए कमर कस कर मैदान में उतर चुके हैं। गुज़रे ज़माने के इन सुरीले मीठे गानों से हमारा दिल कभी नहीं भरेगा, इसलिए यह कारवाँ भी चलता ही रहेगा जब तक उपरवाले को मंज़ूर होगा और जब तक आपका युंही हमें साथ मिलता रहेगा। सरगमी यादों के इस सुहाने सफ़र में आज से हम जो लघु शृंखला शुरु करने जा रहे हैं, वह केन्द्रित है एक संगीतकार जोड़ी पर। यह वो संगीतकार जोड़ी है दोस्तों जिनके गानें कोई रेडियो चैनल, कोई टीवी चैनल, कोई कैसेट - सीडी की दुकान नहीं होगी जहाँ इस जोड़ी के सैंकड़ों गीत मौजूद ना हों। इनके रचे सुरीले गानें गली गली ना केवल उस ज़माने में गूँजा करते थे, बल्कि आज भी हर रोज़ सुनाई देते हैं कहीं ना कहीं से। वक़्त के ग्रामोफ़ोन पर यह सुरीला एल.पी बरसों बरस घूम रहा है और हमारे तन मन के तारों को झंकारित कर रहा है। जी हाँ, जिस सुरीले एल.पी की हम बात कर रहे हैं वह और कोई नहीं बल्कि एल.पी ही हैं, लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल। लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के असंख्य लोकप्रिय गीतों में से १० गीतों को छाँटना कितना मुश्किल काम है यह तो आप भी ज़रूर मानेंगे। फिर भी हमने कोशिश की है कि एल.पी के इस सुरीले अथाह समुंदर से दस मोतियों को चुनने की। तो लीजिए प्रस्तुत है लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के धुनों से सजी 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की नई लघु शृंखला 'एक प्यार का नग़मा है'।

दोस्तों, आज से हम 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के सफ़र में निकल पड़े हैं अपनी १०००-वे पड़ाव की ओर। भले ही 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की यह महफ़िल शाम के वक़्त सजती है भारत में, लेकिन एक तरह से यह एक सुबह ही तो है। यह वह सुबह है कि जब हम अपने इस सुरी्ले कारवाँ को लेकर फिर एक बार चल पड़े हैं इन सुरीली राहों पर। इसीलिए हम इस शृंखला की शुरुआत भी भोर के एक गीत से कर रहे हैं। राज कपूर की फ़िल्म 'सत्यम शिवम सुंदरम' का एक बड़ा ही ख़ूबसूरत गीत जो कि आधारित है राज साहब के पसंदीदा राग भैरवी पर। लता जी के दैवीय आवाज़ में "भोर भये पनघट पे मोहे नटखट श्याम सताये" जो फ़िल्माया गया है ज़ीनत अमान पर। 'सत्यम शिवम सुंदरम' में तीन गीतकारों ने गीत लिखे हैं - पंडित नरेन्द्र शर्मा, विट्ठल भाई पटेल और आनंद बक्शी। बक्शी जी ने इस गीत को जितनी ख़ूबसूरती से लिखा है, उतना ही आकर्षक और सुमधुर संगीत से सजाया है लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल ने। यहाँ तक कि इस गीत का जो रीदम है, जो ताल है, वह इतना संक्रामक है कि सुननेवालों को अपनी ओर खींचे रखता है। दोस्तों, क्योंकि यह शृंखला है एल.पी के गीतों की है तो ज़ाहिर है कि हम उन्ही से जुड़ी ज़्यादा बातें इसमें करेंगे। कुछ वर्ष पहले विविध भारती ने प्यारेलाल जी को आमंत्रित कर एक लंबा इंटरव्यू रेकॊर्ड किया था, उस लम्बे इंटरव्यू को जिन लोगों ने सुना होगा, उन्हें एल.पी के तमाम पहलुओं के बारे में जानकारी हासिल हुई होगी। इस शृंखला में हम उसी इंटरव्यू की तरफ़ बार बार रुख़ करेंगे। तो ये रहा आज का अंश...

कमल शर्मा: अच्छा प्यारे जी, अगर हम आप के म्युज़िक की बात करें, हर एक के म्युज़िक की ख़ास पहचान होती है, इन्स्ट्रुमेण्ट्स-वाइज़ होती है, रागों के हिसाब से, या कुछ अलग एक स्टाइल होता है। आप अपने म्युज़िक की पहचान क्या कहेंगे? किस तरह से उसको पहचाना जाए कि यह एल.पी का म्युज़िक है? उसकी सब से क्या ख़ास बात है?

प्यारेलाल: मैं बताऊँ आपको, बहुत ईज़ी है, मैं बहुत डायरेक्टली बोल रहा हूँ, हमारी ख़ास बात यह है कि आपको रीदम पैटर्ण से मालूम पड़ेगा कि यह एल.पी है। लेकिन हर एक गाना, हर एक पिक्चर का म्युज़िक आपको अलग मिलेगा। मनोज कुमार हों, सुभाष घई हों, राज कपूर साहब हों, आप समझे ना, कोई भी साउथ के हों, कोई भी एक पिक्चर का म्युज़िक आपको दूसरे पिक्चर में नहीं मिलेगा। अगर 'पारसमणि' की तो मतलब ख़तम कर दिया हमने। फिर जे. ओमप्रकाश जी के लिए काम किया, 'आया सावन झूम के', फिर राज खोसला जी हैं, आप देखिए, तो ज़्यादा कोशिश हम यह करते हैं कि भई जिसका म्युज़िक करें, वो लगे ऐसे कि जैसे आपने शायद ग़ौर किया कि नहीं, हमने एक पिक्चर की थी शक्ति सामंत जी की, 'अनुरोध', "आपके अनुरोध पे मैं यह गीत सुनाता हूँ", बिल्कुल अलग तरह का गाना था यह।

तो दोस्तों, इस इंटरव्यु के चुनिंदे अंश हम आगे भी आप तक पहुँचाते रहेंगे, लीजिए अब सुनिए लता जी की आवाज़ में "भोर भये पनघट पे"।



क्या आप जानते हैं...
कि 'सत्यम शिवम सुंदरम' से पहले इस फ़िल्म के लिए राज कपूर ने 'सूरत और सीरत' का शीर्षक चुना था, लेकिन बाद में उन्हें 'सत्यम शिवम सुंदरम' ही बेहतर लगा।

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, जी हाँ अब गूगल बाबा आपकी मदद को नहीं आ पायेंगें, अब तो बस आप को खुद ही खोलने पड़ेंगें इस पहेली के उलझे तार, हमें यकीं है कि पहेली का ये नया रूप आपके जेहन की खासी कसरत करवाएगा, और आप इसका भरपूर मज़ा भी ले पायेंगें... ठीक, तो आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. इस बार आपकी मंजिल ५०० अंकों की होगी, और जितनी बार चाहें आप इस आंकडे को छू सकते हैं हमारे १००० वें एपिसोड तक. और हाँ इस बार पुरस्कार नकद राशि होंगीं....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली ०१
ये धुन उस गीत के पहले इंटरल्यूड की है, सुनिए -


अतिरिक्त सूत्र - अभी हाल ही में लता जी ने ट्विट्टर पर लिखा कि ये इस गीत के गायक का गाया उनका सबसे पसंदीदा गीत है-

सवाल १ - गीतकार बताएं - १ अंक
सवाल २ - गायक बताएं - २ अंक
सवाल ३ - फिल्म का नाम बताएं - १ अंक

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Comments

हे भगवान ! अब मैं क्या करूं? मैंने बताया तो था न दोनों चूहे यानि मेरे पोते स्कीकर का बेंड बजा चुके हैं.
अब तक सही नही करवाया ना न्य ही किसी ने ला कर दिया.मैं तो अटक गई न? चलिए सबको शुभकामनाएं.जीतिए अपना क्या है आर्टिकल पढ़ ही लिया है अब कमेंट्स पढ़ कर मन को खुश कर लेंगे.हा हा हा
मुस्कराने का बहाना ढूंढ ही लेती हूँ.क्या करूं?
ऐसिच हूँ मैं तो
गायक > मुहम्मद रफ़ी
ShyamKant said…
This post has been removed by the author.
chintoo said…
Q2- Hemant Kumar
psingh said…
This post has been removed by the author.
Rohit Kumar said…
This post has been removed by the author.
bittu said…
2: Noor Jahan
Anshuman said…
2< Shankar Jaikishan
ShyamKant said…
Q3:- Inteqaam
manu said…
rafi saahib...
manu said…
inteqaam....


shaayad shankar jaykishan...

naa unkaa tabassum tere waaste hai...

:(
Shankar Laal ;-) said…
Jahan tak mera dimaag jaata hai ye gaana Shri Altaf raja ji ne gaaya hai likha bhi unhone hi hai .
psingh said…
Q1-----Rajinder Krishna
Anonymous said…
ऐसी कॉम्पटीशन से कोई फायदा नहीं जिसमे हर कोई PARTICIPATE ना कर सके .
और अगर कोई हर पहेली में अगर ४ अंक वाला आंसर भी दे तो १००वे एपिसोड तक ४०० ही अंक हुए.
दोस्तों, जब भी कोई नया बदलाव होता है, तो कुछ अजीब अवश्य लगता है, पर बदलाव तो नियम है, और केवल बदलाव ही शाश्वत है, हम समझते हैं कि आप में से बहुत से लोग अपने कम्पूटर पर सुन नहीं पाते हैं और अधिकतर हिंदी ब्लॉगर पढकर ही संतुष्ट हो जाते हैं, पर आवाज़ जैसा मंच तो सुनने सुनाने का ही है, तो यही समझिए कि पहेली की रूप रेखा में ये बदलाव सुनने की प्रथा को बढ़ावा देने के उद्देश्य से भी है, तो इंदु जी जल्दी से अपने स्पीकर को ठीक करवा लें, आप पढ़ने के साथ साथ श्रवण और दृश्य माध्यमों से भी जुड़ें, यही हमारे इस मंच की सफलता मानी जायेगी....खैर, हमें जवाब मिले हैं, सही जवाब....तो पहेली के ढांचा ठीक ही प्रतीत हो रहा है, अनाम जी ने लिखा है कि ऐसी कॉम्पटीशन से कोई फायदा नहीं जिसमे हर कोई PARTICIPATE ना कर सके. पर पार्टिसिपेट सभी कर सकते हैं, हाँ अगर आपकी समस्या इंदु जी जैसी कुछ है तो इसका समाधान तो फिलहाल आपको ही निकालना पड़ेगा...आपने दूसरी बात लिखी कि
और अगर कोई हर पहेली में अगर ४ अंक वाला आंसर भी दे तो १००वे एपिसोड तक ४०० ही अंक हुए, तो हम माफ़ी चाहेंगें कि ये लिखने में हुई भूल थी, जिससे आप शंकित हो गए, दरअसल पहेली अब ५०१ वें से १००० वें एपिसोड तक खुली है और इसमें जितनी मर्जी बार चाहें आप ५०० का आंकड़ा छू सकते हैं. भूल सुधार ली गयी है. और कोई श्रोता यदि इस विषय में अपनी राय देना चाहें तो जरूर दें.
This post has been removed by the author.
This post has been removed by the author.
This post has been removed by the author.
psingh said…
सजीव जी
१-इतनी लम्बी पहेली का कोई औचित्य नहीं बनता
इससे लोगों को बोरियत महसूस होती है |भले ही आप
पुरुस्कार में नकद राशी न रख कर एक पेन रख दें |
पर परिणाम महीने बार ही आना चाहिए |
२- आप की पहेली कब आयेगी किस दिन नहीं
आयेगी ये जानकारी आपको ब्लॉग पर देनी चाहिए
धन्यवाद
p singh ji, aapka sujhaav sar aankhon par, theek hai to aisa kar lete hain, har mahine ka ek vijeta hoga. aur 1000 ven episod tak ye silsila chalta rahega. jo sabse adhik maahon men vijeta rahega use hi antim vijeta maana jaayega ...ye theek hai ?
p singh ji, aapka sujhaav sar aankhon par, theek hai to aisa kar lete hain, har mahine ka ek vijeta hoga. aur 1000 ven episod tak ye silsila chalta rahega. jo sabse adhik maahon men vijeta rahega use hi antim vijeta maana jaayega ...ye theek hai ?
This post has been removed by the author.
waise ise har shrikhla ke liye bhi kar sakte hain, yaani ki har shrinkhla ka ek vijeta.....

aur haan aapke dusare sawaal ka javaab - old is gold har shaam ravivaar se guruvaar tak prakashit hota hai. har 10 ankon kii ek shrinkhla hoti hai, yaani har do hafte ke darmiyan ek shrinkhla hoti hai, 5-5 epeisode each weak.....any more doubt ?

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया