Skip to main content

बोल मेरे मालिक क्या यही तेरा इन्साफ है....जब लता जी की इस छोटी सी गलती को नज़रंदाज़ कर दिया गया

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 513/2010/213

'गीत गड़बड़ी वाले', दोस्तों, 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर इन दिनों आप सुन रहे हैं यह शृंखला, जिसके अंतर्गत वो गानें शामिल हो रहे हैं जिनमें कोई कोई न कोई गड़बड़ी हुई है। अब तक हमने दो युगल गीत सुनें हैं जिनमें एक गायक ने ग़लती से दूसरे गायक की लाइन पर गा उठे हैं। सहगल साहब और आशा जी की ग़लतियों के बाद आज बारी स्वर कोकिला लता मंगेशकर की। जी नहीं, लता जी के किसी अन्य गायक की लाइन पर नहीं गाया, बल्कि उन्होंने एक शब्द का ग़लत उच्चारण किया है। छोटी "इ" के स्थान पर बड़ी "ई" गा बैठीं हैं लाता जी इस गीत में। यह है फ़िल्म 'हलाकू' का गीत "बोल मेरे मालिक तेरा क्या यही है इंसाफ़, जो करते हैं लाख सितम उनको तू करता माफ़"। इस गीत में लता ने यूंही "मालिक" की जगह "मलीक" गाया है। इस गीत को ध्यान से सुनने पर इस ग़लती को आप पकड़ सकते हैं। लेकिन यह गीत इतना सुंदर है, इतना कर्णप्रिय है कि इस ग़लती को नज़रंदाज़ करने को जी चाहता है। हसरत जयपुरी का लिखा गीत है और संगीत है शंकर जयकिशन का। क्योंकि यह ईरान की कहानी पर बनी फ़िल्म है, इसलिए संगीत संयोजन भी उसी शैली का किया है एस. जे ने और इस गीत में कोरस का भी क्या ख़ूब प्रयोग हुआ है प्रील्युड और इंटरल्युड्स में। डी. डी, कश्यप निर्देशित इस फ़िल्म के मुख्य कलाकार थे अजीत, मीना कुमारी, प्राण, राज मेहरा, हेलेन, मिनू मुमताज़, सुंदर, वीणा और निरंजन शर्मा। लता मंगेशकर के अलावा मोहम्मद रफ़ी और आशा भोसले ने फ़िल्म में गीत गाए।

'हलाकू' एक पीरियड फ़िल्म थी, इसलिए आइए आपको इसकी कहानी से थोड़ा सा अवगत करवाया जाए। हलाकू (प्राण) ईरान का राजा है जो पूरे देश का शासन कर रहा है और पूरी सख़्ती के साथ। ऐसे ही एक बार उनकी मुलाक़ात होती है निलोफ़र (मीना कुमारी) से और उन पर फ़िदा होते हैं और उनसे शादी करने की सोचते हैं। लेकिन उधर उनकी पत्नी भी है (मिनू मुमताज़), जो उनके इस द्वितीय विवाह के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाती है। उधर निलोफ़र हलाकू से प्यार ही नहीं करती, बल्कि वो तो परवेज़ (अजीत) से प्यार करती है। निलोफ़र हलाकू के मनसूबे को पूरा नहीं होने दे सकती। क्या निलोफ़र और परवेज़ अत्याचारी हलाकू से बच कर अपनी प्यार की दुनिया बसा पाएँगे? यही है हलाकू की कहानी। आज का जो प्रस्तुत गीत है उसके बोलों से यह साफ़ ज़ाहिर है कि निलोफ़र हलाकू के अत्याचार से तंग आकर उपरवाले से यह शिकायत कर रही है कि "बोल मेरे मालिक तेरा क्या यही है इंसाफ़, जो करते हैं लाख सितम उनको तू करता माफ़"। 'हलाकू' फ़िल्म को आज तक लोगों ने याद रखा है इसके गीतों की वजह से। प्रस्तुत गीत के अलावा दो और मशहूर गीत हैं रफ़ी साहब और लता जी के गाये - "आजा के इंतज़ार में जाने को है बहार भी, तेरे बग़ैर ज़िंदगी दर्द बन के रह गई", तथा "दिल का करना ऐतबार कोई, भूले से भी ना करना ऐतबार कोई"। इस फ़िल्म के सभी गानें अरब-मंगोल शैली के थे, संयोजन की दृष्टि से भी और गायकी की दृष्टि से भी। ये गानें आगे चलकर आप 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर ज़रूर सुन पाएँगे, फिलहाल सुना जाए "बोल मेरे मालिक"।



क्या आप जानते हैं...
कि साल १९५६ शंकर जयकिशन के लिए एक बेहद सफल साल था। 'हलाकू' के अलावा इस साल इस जोड़ी ने जिन फ़िल्मों में संगीत दिया, वो हैं 'बसंत बहार', 'चोरी चोरी', 'क़िस्मत का खेल', 'नई दिल्ली', 'पटरानी', और 'राज हठ'। लेकिन इनमें से कोई भी आर. के. बैनर के नहीं थे।

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. हर १० अंकों की शृंखला का एक विजेता होगा, और जो १००० वें एपिसोड तक सबसे अधिक श्रृंखलाओं में विजय हासिल करेगा वो ही अंतिम महा विजेता माना जायेगा. और हाँ इस बार इस महाविजेता का पुरस्कार नकद राशि में होगा ....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली ०३ /शृंखला ०२
ये धुन है गीत के पहले इंटर ल्यूड की -


अतिरिक्त सूत्र - ये एक युगल गीत है जिसमें पुरुष आवाज़ रफ़ी साहब की है

सवाल १ - राज खोसला निर्देशित इस फिल्म के संगीतकार बताएं - १ अंक
सवाल २ - फिल्म का नाम बताएं, जिसके सभी गीत दमदार थे - १ अंक
सवाल ३ - गीतकार कौन हैं - २ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
एक बार फिर श्याम कान्त जी ने २ अंकों के सवाल का सही जवाब देकर अधिकतम अंक लूट लिए, पर कल का दिन रहा दो ऐसे प्रतिभागियों के नाम जिनका कल खाता खुला. शंकर लाल जी बहुत दिनों से कोशिश में थे और देखिये क्या खूब शुरूआत की है, अवध जी तो कहने को पुराने खिलाडी हैं पर इस नयी प्रतियोगिता में पहली बार खाता खोल पाए हैं, बढिए स्वीकार करें.

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Comments

ShyamKant said…
3- Anand Bakshi
bittu said…
3- Majrooh Sultanpuri
chintoo said…
3- raja mehndi ali khan
Sujoy Chatterjee said…
Shyamkant, Bittu, Amit.... agar aap teeno ek hi vyakti hain, to please aisa mat keejiye. doosron ko bhi mauka deejiye. agar chori pakdi gayi to jurmana bhi bharna padegaaa :-)
ShyamKant said…
हम तीनो एक नहीं हैं पर ये जरुर है कि मै और psingh भाई हैं, अगर जैसा कि आप कह रहे हैं तो फिर मैं psingh के साथ हर बार सही answer देता, लेकिन ऐसा नहीं किया गया, क्योंकि प्रतियोगिता में प्रतिस्पर्धा बनी रहनी जरूरी है .
मै तो यह कहता हूँ अगर अमित या मै या कोई भी जीते तो आप ID प्रूफ के बाद ही विजेता घोषित करना, अन्यथा जुर्माना घोषित कर देना .
सुजोय जी ये चर्चा करने और जाने - अनजाने में इन लोगो के साथ भी सम्बन्ध जोड़ने के लिए बहुत- बहुत धन्यवाद !
और फिर आप मेरे ब्लॉग पर आ सकते हैं .
अगर आपने मेरा कमेन्ट पढ़ लिया है तो कृपया शीघ्र इस सन्दर्भ में पूरक उत्तर भेजने कि कृपा करें
आपकी प्रतीक्षा में .
AVADH said…
पक्का नहीं पर भाई, अब चाहे जो कुछ हो मुझे तो गीतकार जाँ निसार अख्तर साहेब लग रहे हैं.
अवध लाल
AVADH said…
एक ख्याल मेरे मन में अभी आया ऊपर के चरों उत्तर देख कर जो सभी अलग अलग गीतकार घोषित कर रहे हैं.
क्या इस बार धीरे धीरे सब गीतकार के नाम आ जायेंगे?
अवध लाल
This post has been removed by the author.
संगीतकार : ओ.पी.नैयर
कुछ दिनों कि व्यस्तता के कारण उपस्थित नही हो पाया । फ़िर कम्प्यूटर जी ने हड़्ताल कर दी । ठीक हो के आए तो आज समय पर आ गया था किन्तु नेट कनेक्टीविटी सवा छ: बजे से ही नहीं हो पारही थी अब जाके लाइन मिली है ।
Sujoy Chatterjee said…
Thank you Shyamkant ji. aapke blog par bhi jald hi aayenge.
Triyambak Nath Vaachaspati (Batuknath) said…
kabhii kabhii mere dil me.n Khayaal aataa hai…

ke zindagii terii zulfo.n kii narm chaao.n me.n
guzarane paatii to shaadaab ho bhii sakatii thii
ye tiirgii jo merii ziist kaa muqaddar hai
terii nazar kii shuaao.n me.n kho bhii sakatii thii

magar ye ho na sakaa aur ab ye aalam hai
ke tuu nahii.n, teraa Gam, terii justajuu bhii nahii.n
guzar rahii hai kuchh is tarah zi.ndahii jaise
ise kisii ke sahaare kii aarazuu bhii nahii.n

kabhii kabhii mere dil me.n Khayaal aataa hai

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया