Skip to main content

काव्यनाद की AIR FM Rainbow पर घंटे भर हुई चर्चा

होली के अवसर पर एआईआर एफ रेन्बो पर पूरा 1 घंटा काव्यनाद की चर्चा हुई। सजीव सारथी की लाइव बातचीत और इन्हीं के पसंद के गाने, साथ में काव्यनाद का एक गीत भी बजाया गया जिसे DTH और FM रेडियो के माध्यम से पूरे हिन्दुस्तान ने सुना।

यह काव्यनाद की सफलता ही कही जायेगी कि इसे दुनिया भर में एक विशेष तरह का प्रयास माना जा रहा है। AIR FM Rainbow के कलाकार कैसे-कैसे कार्यक्रम में सजीव से इसी विषय पर बातचीत की गई। इससे पहले भी AIR FM Rainbow पर निखिल आनंद गिरि और सजीव सारथी का इंटरव्यू प्रसारित हो चुका है। 'पहला सुर' के विमोचन के बाद दिल्ली विश्वविद्यालय के कम्यूनिटी रेडियो DU-FM पर सजीव सारथी से प्रदीप शर्मा की लम्बी बातचीत प्रसारित हुई थी। लेकिन बहुत कम मौकों पर हम इस तरह के प्रसारणों को रिकॉर्ड कर पाते हैं, लेकिन इस बार विनीत भाई ने इसे रिकॉर्ड कर दिया हम आपको सुनवा पा रहे हैं।

ग़ौरतलब है कि 'काव्यनाद' में प्रसाद, पंत, निराला, महादेवी, दिनकर और गुप्त की प्रतिनिधि कविताओं को संगीतबद्ध करके संकलित किया गया है, जिसका विमोचन 1 फरवरी 2010 को ‍19वें विश्व पुस्तक मेला में अशोक बाजपेयी, विभूतिनारायण राय और डॉ॰ मुकेश गर्ग ने किया था। मेले के दौरान यह एल्बम सबसे अधिक बिकने वाले उत्पादों में से एक में रहा था।

सुनिए रेडियो कार्यक्रम 'कलाकार कैसे-कैसे'---



यदि प्लेयर से सुनने में परेशानी आ रही हो तो मूल इंटरव्यू को यहाँ से डाउनलोड कर लें।

Comments

यहाँ तो चल नही रहा डाउनलोड कर के देखती हूँ। संजीव जी को बहुत बहुत बधाई। कामना करती हूँ कि पूरी दुनिया मे उनका नाम इसी तरह गूँजे। शुभकामनायें और धन्यवाद
sumita said…
बहुत-बहुत बधाई सजीव जी आपकी मेहनत का फ़ल है जो काव्यनाद ने अपने सुरों से विभोर कर दिया.मैने भी इसे पूरा सुना है बहुत सुन्दर है. आपकी संगीत के प्रति लगन और प्रतिभा एक दिन जरुर रंग लाएगी. आपके इस प्रोग्राम को हम एफ़ एम में नही सुन पाए लेकिन यहां आपने इसे प्रसारित करके हमे इस सफ़ल चर्चा से अवगत कराया.आभार हमारी शुभकामनाएं हमेशा आपके साथ हैं.
Anonymous said…
Hindyugm ke saaj-o-aawaajke aap (Sajeev Sarathi) ka antarwarta suna Kavyanaad ki Air FM Radio ke madhyamse. Sajeevji, bahut bahut badhai ho aapko, isi tarah aapka antarwarta sun ne ko mile agli baar bhi kahin kisi doosari FM se, TV mein bhi aapko dekhne aur sunne ko mile. Aapse kabhi mila nahin hoon lekin aapka photo dekhane bharse pata hota hai ke aap saral, shanta swabhavke lagte hain, aaj aapki aawaaj sunne ke baad mera anumaan sahi nikala. Sahi mayenemein aap Hindyugmke Saj-o- aawaajke REAL HERO hai!

Thanks !

Gyani Raja Manandhar
Kathmandu, Nepal
Anonymous said…
Hindyugm ke saaj-o-aawaajke aap (Sajeev Sarathi) ka antarwarta suna Kavyanaad ki Air FM Radio ke madhyamse. Sajeevji, bahut bahut badhai ho aapko, isi tarah aapka antarwarta sun ne ko mile agli baar bhi kahin kisi doosari FM se, TV mein bhi aapko dekhne aur sunne ko mile. Aapse kabhi mila nahin hoon lekin aapka photo dekhane bharse pata hota hai ke aap saral, shanta swabhavke lagte hain, aaj aapki aawaaj sunne ke baad mera anumaan sahi nikala. Sahi mayenemein aap Hindyugmke Saj-o- aawaajke REAL HERO hai!

Thanks !

Gyani Raja Manandhar
Kathmandu, Nepal
rachana said…
bahut khub aanandit huaa man jhuma mehnat ka parcham .sarthi ki ko bahut bahut badhai
rachana

Popular posts from this blog

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट 'तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर बनेगी प्रीत...'   ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस लघु श्रृंखला में हम आपसे भारतीय संगीत के रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था पर चर्चा कर रहे हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। व

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया

राग कलिंगड़ा : SWARGOSHTHI – 439 : RAG KALINGADA

स्वरगोष्ठी – 439 में आज भैरव थाट के राग – 5 : राग कलिंगड़ा कौशिकी चक्रवर्ती से राग कलिंगड़ा में एक दादरा और लता मंगेशकर से फिल्मी गीत सुनिए लता मंगेशकर विदुषी कौशिकी चक्रवर्ती “रेडियो प्लेबैक इण्डिया” के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी हमारी श्रृंखला “भैरव थाट के राग” की पाँचवीं कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट-व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट, रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्र