Skip to main content

अब के सजन सावन में....बरसेंगे गीत ऐसे सुहाने, बख्शी साहब की कलम के

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 388/2010/88

नंद बक्शी साहब की बस यही सब से बड़ी खासियत रही कि जब जिस सिचुयशन के लिए उनसे गीत लिखने को कहा गया, उस पर पूरा पूरा न्याय करते हुए ना केवल उन्होने गीत लिखे बल्कि गीत को मक़बूल कर के भी दिखाया। आम सिचुयशनों से हट के जब भी कोई इस तरह की सिचुयशन आई, बक्शी साहब ने हर बार कमाल कर दिखाया। अब फ़िल्म 'चुपके चुपके' का ही वह गीत ले लीजिए, "अब के सजन सावन में, आग लगेगी बदन में"। इस फ़िल्म की कहानी से तो आप सभी वाकीफ़ हैं, और आए दिन टी.वी पे यह फ़िल्म दिखाई जाती रहती है। तो इस गाने के सिचुयशन से भी आप वाकीफ़ होंगे। एक तरफ़ नायिका (शर्मीला) के परिवार वाले उनसे एक पारिवारिक पार्टी में गीत गानें का अनुरोध करते हैं। दूसरी तरफ़ कमरे के बाहर, दरवाज़े के पीछे छुप कर ड्राइवर बने शर्मीला के पति (धर्मेन्द्र) भी इंतज़ार में है अपनी पत्नी से गीत सुनने के लिए। सिर्फ़ शर्मीला को ही पता है कि कमरे के बाहर धर्मेन्द्र खड़े हैं। तो इस सिचुयशन पर एक ऐसे गीत की ज़रूरत है कि जिसमें पार्टी में मौजूद लोगों का भी मनोरंजन हो जाए और शर्मीला अपने दिल की बात धर्मेन्द्र तक पहुँचा भी सके। यह एक हास्य रस से भरी फ़िल्म थी, इसलिए इस गीत में भी चुलबुलापन और नटखटपन की आवश्यक्ता थी। ऐसे में गीतकार आनंद बक्शी साहब की कलम चल पड़ी और देखिये क्या ख़ूब गीत लेकर आए। क्योंकि कहानी में नायक और नायिका का मिलन संभव नहीं हो पा रहा (नायक के ड्राइवर रूप धारण करने की वजह से), ऐसे में सावन के महीने में जो व्याकुलता दिल में जागने वाली है, उसी तरफ़ इशारा किया गया है। "तेरे मेरे प्यार का यह साल बुरा होगा, जब बहार आएगी तो हाल बुरा होगा, रात भर जलाएगी ये मस्त मस्त पवन, सजन मिल ना सकेंगे दो मन एक ही आंगन में"। लता मंगेशकर की आवाज़ ने जुदाई के दर्द को बड़े ही शरारत भरे अंदाज़ में क्या ख़ूब उभारा है और सचिन देव बर्मन के संगीत के तो क्या कहने। बंगाल के लोक धुन पर आधारित यह गीत दिल को जहाँ एक तरफ़ गुदगुदा जाती है, उतना ही सुकून भी देती है। वैसे इस फ़िल्म के दूसरे सभी गानें भी बेहद ख़ूबसूरत हैं, जैसे कि लता जी का ही गाया "चुपके चुपके चल री पुरवईया", लता-मुकेश का गाया "बाग़ों में कैसे ये फूल खिलते हैं" और रफ़ी-किशोर का गाया "सा रे गा मा"। तो आज 'मैं शायर तो नहीं' शृंखला में बक्शी साहब के लिखे "अब के सजन सावन में" की बारी।

क्योंकि आज आनंद बक्शी साहब के बोल सज रहे हैं लता जी के होठों पर, तो चलिए आज जान लेते हैं कि बक्शी साहब का क्या कहना है सुरों की मलिका के बारे में- "लता मंगेशकर का नाम किसी तारुफ़ का मोहताज नहीं, लेकिन जी चाहता है कि कुछ कहूँ। इतना ही कहूँगा कि हम सब ख़ुशक़िस्मत हैं कि हमारे बीच लता मंगेशकर जैसी आर्टिस्ट मौजूद हैं। उनकी आवाज़ को सुनकर जी करता है कि अच्छे अच्छे गीत लिखें और धुनें बनाएँ। वो कभी कभी पूछती हैं कि ये लफ़्ज़ कैसे कहना है, तो मैं उनसे कहता हूँ कि आप जैसे कहेंगी, वैसा ही ये कहा जाएगा! पंजाबी लफ़्ज़ भी वो इतना ख़ूबसूरत बोलती हैं कि ऐसा लगता है जैसे कोई पंजाबी लड़की हों।" देखा दोस्तों आपने कि लता जी की आवाज़ भी गीतकारों और संगीतकारों के लिए प्रेरणा स्त्रोत बनी हैं। और आनंद बक्शी साहब का यह बड़प्पन ही कहना पड़ेगा कि ख़ुद इतने बड़े गीतकार होते हुए भी यह श्रेय उन्होने लता जी को दिया। यही बड़प्पन और विनम्रता तो इंसान को सफलता की बुलंदी तक पहुँचाता है, ठीक वैसे ही जैसे बक्शी साहब पहुँचे हैं। तो आइए सुनते हैं लता जी, सचिन दा और बक्शी साहब की तिकड़ी का यह सदाबहार गीत।



क्या आप जानते हैं...
कि आनंद बक्शी ने अंत तक सुभाष घई निर्देशित सभी १३ फ़िल्मों के गीत लिखे। पहली फ़िल्म थी 'गौतम गोविंदा' (१०७९) और अंतिम फ़िल्म थी 'यादें' (२००१)

चलिए अब बूझिये ये पहेली, और हमें बताईये कि कौन सा है ओल्ड इस गोल्ड का अगला गीत. हम आपसे पूछेंगें ४ सवाल जिनमें कहीं कुछ ऐसे सूत्र भी होंगें जिनसे आप उस गीत तक पहुँच सकते हैं. हर सही जवाब के आपको कितने अंक मिलेंगें तो सवाल के आगे लिखा होगा. मगर याद रखिये एक व्यक्ति केवल एक ही सवाल का जवाब दे सकता है, यदि आपने एक से अधिक जवाब दिए तो आपको कोई अंक नहीं मिलेगा. तो लीजिए ये रहे आज के सवाल-

1. गीत के शुरूआती दो मिसरों में कहीं ये शब्द आता है -"चिंगारी", गीत बताएं -३ अंक.
2. इस गीत में लता का साथ दिया है एक ऐसे गायक ने जो भजन गायन के लिए अधिक जाने जाते हैं, कौन हैं ये- २ अंक.
3. इस फिल्म के अन्य गीत के लिए बख्शी साहब को फिल्म फेयर मिला था, फिल्म बताएं-२ अंक.
4. इस प्रेम कहानी के नायक नायिका कौन थे -२ अंक.

विशेष सूचना -'ओल्ड इज़ गोल्ड' शृंखला के बारे में आप अपने विचार, अपने सुझाव, अपनी फ़रमाइशें, अपनी शिकायतें, टिप्पणी के अलावा 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के नए ई-मेल पते oig@hindyugm.com पर ज़रूर लिख भेजें।

पिछली पहेली का परिणाम-
इंदु जी आपकी चोरी पकड़ी गयी....खैर ३ अंक हम आपको अवश्य देंगें, साथ में अनीता जी और पाबला जी को भी बधाई

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

सोलह बरस की बाली उमर को सलाम
indu puri said…
lata mangeshkar + anup jalota
kshama said…
Paheli to nahi bhoojh payi lekin aapka aalekh behad achha laga...Lataji meri poojneey daivat hain!Kya kahne us daivi aawazke..na bhooto na bhavishyati....Anand Bakshibhi behad achhe suljhe hue geetkaar rahe...!
anita singh said…
ek dooje ke liye
padm singh said…
kamal haasan aue rati agnihotri

induji mujhe shrimatiji ne bata diya tha ki aap unki orkut frnd hai,aapki sharart achchhi lgi .

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट 'तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर बनेगी प्रीत...'   ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस लघु श्रृंखला में हम आपसे भारतीय संगीत के रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था पर चर्चा कर रहे हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। व

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक