Skip to main content

न जाने क्यों होता है ये जिंदगी के साथ...कि कुछ गीत कभी दिलो-जेहन से उतरते ही नहीं

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 372/2010/72

लीग से हट के फ़िल्मों की बात करें तो ऐसी फ़िल्मों में बासु चटर्जी का योगदान उल्लेखनीय रहा है। मध्यम वर्गीय परिवारों की छोटी छोटी ख़ुशियों, तक़लीफ़ों और उनकी ज़िंदगियों को असरदार तरीके से प्रस्तुत करने में बासु चटर्जी और ऋषिकेश मुखर्जी का अच्छा ख़ासा नाम रहा है। आज हम '१० गीत समानांतर सिनेमा के' शृंखला में जिस फ़िल्म क गीत सुनेंगे, उसे बी. आर. चोपड़ा ने बनायी थी और बासु दा का निर्देशन था। यह फ़िल्म थी १९७५ की 'छोटी सी बात'। याद है ना आपको अमोल पालेकर की वो भोली अदाएँ, और साथ में विद्या सिंहा और अशोक कुमार। क्या कहा, याद नहीं? चलिए हम आपको इस फ़िल्म की थोड़ी भूमिका बता देते हैं। अरुण (अमोल पालेकर) एक शर्मीला क़िस्म का लड़का, जो बम्बई में अकाउंटैण्ट का काम करता है, प्रभा (विद्या सिंहा) नाम की लड़की से इश्क़ लड़ाने के सपने देखा करता है। लेकिन वह कभी प्रभा से अपनी दिल की बात नहीं कह पाता। उधर नागेश (असरानी) अरुण को उकसाता है कि वह 'रोमांस स्पेशियलिस्ट' जुलियस नागेन्द्रनाथ (अशोक कुमार) से प्रेम शास्त्र की तालीम ले प्रभा को हासिल करने के लिए। इस तरह से हास्यप्रद मोड़ों से गुज़रती हुई कहानी आगे बढ़ती है। इस तरह के भोले भाले हास्य किरदर अमोल पालेकर बख़ूबी निभाते थे। 'गोलमाल' एक और ऐसी फ़िल्म थी। ख़ैर, आज तो 'छोटी सी बात' की बारी है। तो आइए आज इस फ़िल्म से सुना जाए लता मंगेशकर की आवाज़ में फ़िल्म का शीर्षक गीत, "न जाने क्यो होता है यह ज़िंदगी के साथ, अचानक यह मन किसी के जाने के बाद, करे फिर उसकी याद छोटी छोटी सी बात"। हमें उम्मीद ही नहीं, पूरा यक़ीन है कि आपको भी यह गीत उतना ही पसंद होगा जितना कि मुझे और सजीव जी को है। सलिल चौधरी का संगीत और योगेश की गीत रचना। दोस्तों, फ़िल्म 'आनंद' का गीत सुनवाते हुए हमने यह ज़िक्र किया था कि योगेश ऐसे गीतकार रहे हैं जिन्होने अपने गीतों में शुद्ध हिंदी भाषा का बहुत ही सुंदरता से प्रयोग किया, जो सुनने में अत्यंत कर्णप्रिय बन पड़े। और आज का गीत भी उन्ही में से एक है। युं तो योगेश जी ने कई संगीतकारों के साथ काम किया पर सब से ज़्यादा काम उन्होने संगीतकार सलिल चौधरी के साथ किया, और ऐसा किया कि हर गीत अमर हो गया।

दोस्तों, बात जब योगेश साहब की छिड़ ही चुकी है तो क्यों ना उन्ही के बारे में कुछ और बातें की जाए। विविध भारती के एक मुलाक़ात में योगेश जी ने अपने जीवन का हाल सुनाया था, तो चलिए उन्ही की ज़ुबानी जान लें उनके शुरुआती दिनों का हाल। "मेरे पिताजी की मृत्यु के बाद मुझे लखनऊ छोड़ना पड़ा। हमारे एक आत्मीय संबम्धी बम्बई में फ़िल्म लाइन में थे, सोचा कि कहीं ना कहीं लगा देंगे, पर ऐसा बिल्कुल नहीं हुआ। बल्कि मेरा एक दोस्त जो मेरे साथ क्लास-५ से साथ में है, वह मेरे साथ बम्बई आ गया। उसी ने मुझसे कहा कि तुम्हे फ़िल्म-लाइन में ही जाना है। यहाँ आकर पहले ३ सालों तक तो भटकते रहे। ३ सालों तक कई संगीतकारों से 'कल आइए परसों आइए' ही सुनता रहा। ऐसे करते करते एक दिन रोबिन बनर्जी ने मुझे बुलाया और कहा कि एक लो बजट फ़िल्म है, जिसके लिए मैं गानें बना रहा हूँ। एक साल तक हम गानें बनाते रहे और गानें स्टॊक होते गए। तो जब 'सखी रॊबिन' फ़िल्म के लिए निर्माता ने गानें मँगवाए, एक ही दिन में ६ गानें उन्हे पसंद आ गए क्योंकि गानें हमारे पास स्टॊक में ही थे, और हर गाने के लिए २५ रुपय मिले।" तो इस तरह से शुरु हुई थी योगेश जी की फ़िल्मी यात्रा। आज के प्रस्तुत गीत के संगीत के बारे में यही कह सकते हैं कि सलिल दा ने इस तरह का वेस्टर्ण रीदम कई गीतों में इस्तेमाल किया है, एक तरफ़ गीत के बोल भारतीय शास्त्रीय संगीत के आधार पर खड़े हैं, लेकिन जो रीदम है, या ऒर्केस्ट्रेशन है उसमें लाइट वेस्टर्ण म्युज़िक सुनाई देता है। भारतीय और पाश्चात्य शास्त्रीय संगीत, दोनों में ही माहिर थे सलिल दा। तो दोस्तों, आइए अब गीत का आनंद उठाया जाए योगेश जी कहे इन शब्दों के साथ कि "मेरे गीत गाते रहना, मेरे गीत गुनगुनाते रहना, मैं अगर भूल भी जाऊँ गीतों का सफ़र, तुम मुझे याद दिलाते रहना"!



क्या आप जानते हैं...
कि श्याम सागर के संगीत निर्देशन में मन्ना डे के ग़ैर फ़िल्मी ऐल्बम 'मयूरपंखी सपने' में योगेश ने दो गीत लिखे थे। श्याम सागर द्वारा स्वरबद्ध सुमन कल्याणपुर की ग़ैर फ़िल्मी ऐल्बम 'स्वर बहार' के लिए योगेश ने ३ गीत लिखे थे।

चलिए अब बूझिये ये पहेली, और हमें बताईये कि कौन सा है ओल्ड इस गोल्ड का अगला गीत. हम आपसे पूछेंगें ४ सवाल जिनमें कहीं कुछ ऐसे सूत्र भी होंगें जिनसे आप उस गीत तक पहुँच सकते हैं. हर सही जवाब के आपको कितने अंक मिलेंगें तो सवाल के आगे लिखा होगा. मगर याद रखिये एक व्यक्ति केवल एक ही सवाल का जवाब दे सकता है, यदि आपने एक से अधिक जवाब दिए तो आपको कोई अंक नहीं मिलेगा. तो लीजिए ये रहे आज के सवाल-

1. मुखडा शुरू होता है इस शब्द से -"तुम्हें", गीत पहचानें -३ अंक.
2. गुलज़ार साहब का ही लिखा हुआ है ये गीत भी, गायिका का नाम बताएं- २ अंक.
3. संगीतकार कौन हैं -२ अंक.
4. जरीना वहाब पर फिल्माए इस गीत की फिल्म का नाम बताएं -२ अंक.

विशेष सूचना -'ओल्ड इज़ गोल्ड' शृंखला के बारे में आप अपने विचार, अपने सुझाव, अपनी फ़रमाइशें, अपनी शिकायतें, टिप्पणी के अलावा 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के नए ई-मेल पते oig@hindyugm.com पर ज़रूर लिख भेजें।

पिछली पहेली का परिणाम-
शरद जी ३ अंक मिले आपको, इंदु जी और अवध जी जवाब लेकर आये, चौथा जवाब सुबह ९.३० तक नहीं मिला मुझे क्यों ?
खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी
पहेली रचना -सजीव सारथी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

indu puri said…
तुम्हे हो न हो मुझ को तो इतना यकीन है
मुझे प्यार तुमसे नही है नही है




गाना तो यही है ,अब प्यार' उनसे' नही है तो इसमें इतनी चीखने चिल्लाने की क्या बात है ?
वो भी बस में ,सड़क पर मदारी के सामने
छी इतनी अमोल घड़ियों को प्यार से तो ना जिए
पालकर रखा है शिकायतों को पगली !
अपुन तो कुछ नही कहते भाई किसी को भी
,अपना घर औंधा पड़ा है ,काम कर लूं ?
PADMSINGH said…
थोड़ा सा पिछड़ गया इंदु जी से ,,, एक अंक का नुक्सान हो गया पर... कोई बात नहीं बड़ों को भी मौका देना चाहिए कभी कभी ...
गीत की गाइका हैं "रुना लैला जी" जिनकी मखमली और दिलकश आवाज़ में है ये गीत.
और कुछ बताऊँ ?? ... छोडिये नहीं बताता

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया