Skip to main content

दीवाना मस्ताना हुआ दिल, जाने कहाँ होके बहार आई...ओल्ड इस गोल्ड की ऐतिहासिक 200वीं कड़ी पर सभी श्रोताओं का आभार

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 200

र दोस्तों, देखते ही देखते आ गयी 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की दूसरी हीरक जयंती, यानी कि 'डबल डायमंड जुबिली'। जी हाँ, आज है 'ओल्ड इज़ गोल्ड' का कड़ी नंबर २००। भगवान के आशिर्वाद से, आप सभी की दुआओं से हम इस पड़ाव तक आ पहुँचे हैं। लेकिन ये अभी हमारी मंज़िल नहीं है। अगर इसी तरह से आप का साथ रहा और उपरवाले की मेहरबानी बनी रही, तो हम ऐसे कई और शतक लगाने की कोशिश करते रहेंगे। जब तक आप सुनते व पढ़ते रहेंगे, हम भी सुनाते व लिखते रहेंगे। और हाँ, अगर आप में से कोई 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के लिए पुराने गीतों पर आलेख लिखने के शौकीन हों तो हमें ज़रूर बताएँ। हमें बेहद ख़ुशी हो रही है कि आशा जी पर केन्द्रित शृंखला को हम अपनी २००-वीं कड़ी के साथ सम्पन्न कर रहे हैं। क्योंकि आज का एपिसोड बहुत महत्व रखता है 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के इस सफ़र के लिए, तो हमने सोचा कि क्यों न उस गायक के साथ आशा जी का गाया हुआ कोई गीत सुनवाया जाए जिनके साथ आशा जी के करीयर के सब से ज़्यादा युगल गीत हैं। जी हाँ, बिल्कुल ठीक समझे आप! मोहम्मद रफ़ी के साथ आशा जी के सब से ज़्यादा गानें हैं। '१० गायक और एक आपकी आशा' की इस अंतिम कड़ी में आशा-रफ़ी डुएट की बारी। इन दोनों के गाए इतने सारे मशहूर युगल गीत हैं कि उनमें से किसी एक गीत को छाँटना बहुत ज़्यादा मुश्किल काम हो जाता है। तभी हमें याद आया कि जब हम ने फ़िल्म 'बंबई का बाबू' से मुकेश का गाया "चल री सजनी अब क्या सोचे" सुनवाया था तो टिप्पणी में कई श्रोताओं ने इस फ़िल्म से "दीवाना मस्ताना हुआ दिल" सुनवाने का अनुरोध किया था। तो चलिए, आज वह दिन आ गया, पूरी हो रही है आप की पसंद इस ख़ास मौके पर, यानी कि 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के २०० वे दिन की पूर्ती के अवसर पर।

'बंबई का बाबू' फ़िल्म के बारे में तो हम आप को उसी मुकेश के गाए गीत के दौरान बता चुके थे, आज बस इतना याद दिला दें कि इस फ़िल्म के गीतों को लिखा था मजरूह सुल्तानपुरी ने और संगीतकार थे सचिन देव बर्मन। आशा जी के लिए सचिन देव बर्मन के उद्‍गार आप ने पढ़े होंगे 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की ४२-वीं कड़ी में जिसमें हमने फ़िल्म 'तलाश' से "कर ले प्यार करने के दिन है ये ही" सुनवाया था। तो आज आशा जी हमें बता रहीं हैं अपने पिता समान सचिन देव बर्मन के बारे में, "उनकी ख़ास बात यह थी कि रिहर्सल में बुलाते थे, और गाना बनाते थे। जैसे एक मुखड़ा बन गया, तो उस मुखड़े को वो दो तीन तरीके से गाते थे। फिर मुझे कहते थे कि 'तुम्हे कुछ सूझता है तो तुम अपने तरीके से गाओ'। तो हम अपने तरीके से गाते थे, या कुछ हरकत लगाते थे, या कुछ 'एक्स्प्रेशन' देते थे। उनको अच्छा लगता था, उमर में बड़े थे, तो अच्छा नहीं लगता तो कहते 'धत, ये क्या गा रही है तू!' और अगर अच्छा लगता तो 'वाह! ये इसको लिख के रखो आशा'। इस तरह अगर उनके साथ ४/५ दिन हम निकालते थे तो बहुत कुछ सीखने को मिलता था। और मेरे गाने में हर गाना आप सुनिए तो आप को लगेगा कि जब मैने कोई लाइन खतम करती हूँ, तो हमेशा उसमें अलग तरीके से हरकत देके ख़तम करती हूँ। कोई एक ऐसा मैने गाना छोड़ा नहीं है। ये उन्ही की देन है कि उन्होने कहा कि 'सोचो, तुम क्या कर सकती हो', तो वही आदत कि हम कोई हरकत सोचें तो 'म्युज़िक डिरेक्टर्स' लेंगे, 'ऐक्सेप्ट' करेंगे, ये जब पता लगा तो हम ने वो शुरु किया।" तो दोस्तों, अब बारी आती है गीत सुनने की, सुनिए आशा जी और रफ़ी साहब की आवाज़, और साथ ही हमें यह ज़रूर लिख भेजिए कि आशा जी के युगल गीतों पर केन्द्रित यह शृंखला आप को कैसी लगी। 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की दूसरी शतक पर सभी श्रोताओं को हमारा अशेष धन्यवाद!



गीत के बोल:
आशा: आआ आ आ ...
प म ग म रे ग प म ग म, आआ आ ...
सा नी ध प म ग रे सा नी नी नी ...
दीवाना, मस्ताना, हुआ दिल,
जाने कहाँ होके बहार आई

तन को छुए, छुए घटा काली
छेड़े लहर, लहर मतवाली
तन को छुए ...
ओ हो तन को छुए, छुए घटा काली
छेड़े लहर, लहर मतवाली
बात कोई अन्जाना
दीवाना, मस्ताना, हुआ दिल,
जाने कहाँ होके बहार आई

ओ हो हो कुछ अनकही, कहे, मेरी चितवन
बोले जिया, लिखे मेरी धड़कन, कुछ अनकही ...
ओ हो हो कुछ अनकही, कहे, मेरे चितवन
बोले जिया, लिखे मेरी धड़कन
एक नया अफ़साना ...
रफ़ी: दीवाना, मस्ताना, हुआ दिल,
जाने कहाँ होके बहार आई
ओ ओ ओओ
जाने कहाँ होके बहार आई

रफ़ी: ओ हो ओ सावन लगा, मचल गए बादल
आशा: देखूँ जिसे, हुआ वही पागल
रफ़ी: सावन लगा, मचल गए बादल
आशा: देखूँ जिसे, हुआ वही पागल
रफ़ी: कौन हुआ दीवाना ...
आशा: दीवाना, मस्ताना हुआ दिल
रफ़ी: दीवाना मस्ताना हुआ दिल
आशा: जाने कहाँ होके बहार आई आ आ आ ...
रफ़ी: जाने कहाँ होके बहार आई
हो ओओ, जाने कहाँ होके बहार आई
आशा: आ आ आ, जाने कहाँ होके बहार आई


और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. इस फिल्म के लिए संगीतकार को राष्ट्रीय पुरस्कार से नवाजा गया था.
२. इस फिल्म का एक अन्य गीत ओल्ड इस गोल्ड के शुरूआती एपिसोडों में खुद संगीतकार की आवाज़ में बजा था.
३. मुखड़े में शब्द है -"निगाह".

पिछली पहेली का परिणाम -
पूर्वी जी इस एतिहासिक मौके पर आपको बधाई देते हुए बहुत अच्छा लग रहा है. २६ अंक हुए आपके. मनु जी, पराग जी, शरद जी, स्वप्न जी, तनहा जी, तपन जी, नीरज जी, राज भाटिया जी, राज सिंह जी, सागर नाहर जी, मंजू गुप्ता जी, पाबला जी, नीलम जी, रोहित राजपूत जी, सुमित जी, दिलीप जी, दिशा जी, जैसे ढेरों ढेरों श्रोताओं को जिन्होंने हमें इतना प्रोत्साहन दिया उन सब का आज विशेष आभार.....ख़ुशी होगी यदि आप सब की हाजरी आज लगे यहाँ तो...:)

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

बहुत खूबसूरत ग़ज़ल है । हम भी अपनी हाजिरी लगाने के लिए यहीं पर खडे़ है । २०० वीं कडी़ के लिए बधाई ।
'अदा' said…
शरद जी,
अरे !! आप भी आस-पास ही थे,
एक मुद्दत के बाद आपको देखा हैं, बता नहीं सकते कितने खुश हुए हैं हम.
सुजोय जी, हमारा भी 'preset please' लगा लीजियेगा और २०० वीं कड़ी केलिए जम कर बधाई लीजियेगा...
manu said…
ham hain mataaye-kuchaa-o-baazaar ki tarah...

aasaan sawaal..

maahee ri..main kaase kahoon peer..

madan mohan ki awaaz mein bajaa thaa....

khoob yaad hai..
:)
DC said…
badhayi meri or se
शायदा said…
bahut-bahut badhai.
yahan aakar kitna kuchh aisa milta hai jo kahin dhoondh kar thak gaye hote hain.
jaise lata ka ek geet kafi dino se khoj rahi hoon-
bahare humko dhoondhegi na jane hum kahan honge...kabhee ho sake to ise paane me meri madad karein.
ek baar phir se badhai.
Bahut Bahiya ...

Shayda ki baat se ittefaaq ,,
'अदा' said…
manu ji ka jawaab sahi lag raha hai agar aisa hai to badhai manu ji.
neelam said…
lijiye hm bhi aa hi gaye,bahut bahut
badhaai sajeev ji aur sujoy ji ko.dil se badhaai
Manju Gupta said…
ऐतिहासिक शानदार -सदाबहार २०० वीं कड़ी के लिए हमारी कोटि -कोटि बधाई .
बधाइयाँ
बी एस पाबला said…
हमने कल ही कह दिया था कि समय पर आना नहीं हो पायेगा, इसलिए देर से हाज़िरी लगाने पहुँचे हैं। हमारी हाज़िरी, 200वीं कड़ी की बधाई के साथ लगाई जाए।

वैसे, ऐसे मौके पर कुछ लड्डू-शड्डू का इंतज़ाम होना चाहिए था :-)

बी एस पाबला
Parag said…
ओल्ड इज गोल्ड की २०० कडीयोंकी पूर्ती के लिए सजीव जी और सुजॉय जी को हार्दीक शुभेच्छाएं. मनु जी जवाब सही लग रहा है. वैसे ओल्ड इज गोल्ड की पुरानी आलेख देखने के लिए कोई एक लिंक होना चाहिए जहांपर जाकर संगीतप्रेमी पुराने आलेख पढ़ सकें और सूत्र के हिसाबसे गीतोंकी खोज कर सके.

आभार
पराग
बी एस पाबला said…
पराग जी की बात से मैं भी इत्तेफ़ाक रखता हूँ। एक बार टिप्पणी में ही लिखा गया था कि ओल्ड इज़ गोल्ड की सूची के लिए ऊपर की ओर दिए लिंक पर क्लिक करें। मैंने ऊपर-दायीं ओर दी गयी लिंक लिस्ट से ओल्ड इज़ गोल्ड पर क्लिक किया, जो गीत सूचना सामने आई उससे मेरा मकसद पूरा नहीं हुया। काफी देर तक भटकता रहा। :-)

फिर एक दिन यूँ ही निगाह पड़ी तो दिखी ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला । वहाँ (चार पृष्ठों में विभाजित) सम्पूर्ण सूची मिल गई! वह लिंक दी गई है सबसे नीचे चार कॉलमिया स्थान के तीसरे कॉलम में सबसे ऊपर!! इसी सूची को एक ही पृष्ठ पर देखना हो तो (URL में मानवीय परिवर्तन के बाद) यहाँ क्लिक करें

किसी तकनीकी बाध्यता के चलते शृंखला लिखा जा रहा है, जबकि होना चाहिए श्रंखला

फिर भी, यहाँ हमारे जैसों के लिए बहुमूल्य खजाना ही है, बड़ी मेहनत से तैयार किया हुया। इस परिकल्पना के पीछे चल रहे सजीव जी और सुजॉय जी सहित तमाम सुधीजनों को इसके लिए बधाई व आभार

मैं तो यूँ ही एक दिन 'अदा' को तलाशते, भटकते यहाँ आ पहुँचा था, तब गंभीरतापूर्वक देखी थी साईट :-)

बी एस पाबला
manu said…
मैं तो यूँ ही एक दिन 'अदा' को तलाशते, भटकते यहाँ आ पहुँचा था, तब गंभीरतापूर्वक देखी थी साईट


आदरणीय पाबला जी,
कहीं आप सुश्री स्वपन मंजूषा शैल 'अदा' जी की बात तो नहीं कर रहे हैं....?
बावला जी,

हम तो हर पोस्ट के फूटर में 1-100 एपीसोड का लिंक रखते हैं। उसपर क्लिक करते ही शुरू के 100 गीतों की सूची के साथ उनके लिंक होते हैं, और प्लेयर में गाने भी सुने जा सकते हैं। 101-200 वाला पृष्ठ भी जल्द ही बना लिया जायेगा।

शृंखला हम क्यों लिखते हैं, इसका उत्तर हम आपको ईमेल से लिख भेज रहे हैं।
बी एस पाबला said…
manu जी को बधाई

फिल्म: दस्तक
संगीतकार: मदन मोहन
गीतकार: मज़रूह सुल्तानपुरी
गायक: लता मंगेशकर
इस फिल्म का अन्य गीत ओल्ड इज़ गोल्ड के शुरूआती एपिसोडों में बजा था माई री मैं कासे कहूँ...मदन मोहन की दुर्लभ आवाज़ में


गीत के बोल:
हम हैं मता\-ए\-कूचा\-ओ\-बाज़ार की तरह
उठती है हर निगाह खरीदार की तरह

वो तो कहीं हैं और मगर दिल के आस पास
मगर दिल के आस पास
फिरती है कोई शह निगाह\-ए\-यार की तरह
हम हैं ...

मजरूह लिख रहे हैं वो अहल\-ए\-वफ़ा का नाम
अहल\-ए\-वफ़ा का नाम
हम भी खड़े हुए हैं गुनहगार की तरह
हम हैं ...

इस कू\-ए\-तिश्नगी में बहुत है के एक जाम
हाथ आ गया है दौलत\-ए\-बेदार की तरह

सीधी है राह\-ए\-शौक़ पर यूँ ही कभी कभी
ख़म हो गई है गेसू\-ए\-दिलदार की तरह

अब जा के कुछ खुला हुनर\-ए\-नाखून\-ए\-जुनून
ज़ख़्म\-ए\-जिगर हुए लब\-ओ\-रुख़्सार की तरह
----------------------------------------------
वैसे मुखड़े में निगाह वाले कई गीत मिले
इक हसीं निगाह का दिल पे साया है- माया मेमसाब
मेरी निगाह ने क्या काम लाजवाब किया -मोहब्बत इसको कहते हैं
लाखों हैं निगाह में ज़िंदगी की राह में - फिर वही दिल लाया हूँ
निगाह\-ए\-मेहर हमसे ... सितम भी तुम्हारे - मुक्ति
मेरी निगाह ने क्या काम ... झूठे ज़माने भर के - मुसाफ़िरखाना

कुल मिला कर, मुझे तो बहुत मज़ा आ रहा है।
आप सभी के साथ नई जानकारियाँ मिल रही हैं, नई बातें भी सीख रहा हूँ
आप सभी का आभार

@ manu
आप ठीक समझे। तलाशने का मकसद यह था

@ नियंत्रक । Admin महोदय
मैं अभी तक बावला नहीं हो पाया हूँ, पाबला ही हूँ :-)
हा हा

बी एस पाबला
Shamikh Faraz said…
आवाज़ की टीम को २०० वीं कड़ी के लिए मुबारकबाद.
200 वीं कडी के लिये बहुत बहुत बधाई आज का गीत बहुत खूबसूरत है
purvi said…
सुजोय जी, सजीव जी,

२०० वें एपिसोड के लिए हार्दिक बधाई. ओल्ड इस गोल्ड का काफिला यूँ ही चलता जाए, निरंतर प्रगति करता हुआ. हमारी शुभकामनाएं.... :)

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया