Skip to main content

"वो काग़ज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी" - हर कोई अपना बचपन देखता है इस नज़्म में


कुछ गीत, कुछ ग़ज़लें, कुछ नज़्में ऐसी होती हैं जो हमारी ज़िन्दगियों से, हमारी बचपन की यादों से इस तरह से जुड़ी होती हैं कि उन्हें सुनते ही वह गुज़रा ज़माना आँखों के सामने आ जाता है। जगजीत सिंह के जन्मदिवस पर उनकी गाई सुदर्शन फ़ाकिर की इस नज़्म की चर्चा आज 'एक गीत सौ कहानियाँ' में सुजॉय चटर्जी के साथ...

एक गीत सौ कहानियाँ # 6

बचपन एक ऐसा समय है जिसकी अहमियत उसके गुज़र जाने के बाद ही समझ आती है। बचपन में ऐसा लगता है कि न जाने कब बड़े होंगे, कब इस पढ़ाई-लिखाई से छुटकारा मिलेगा? पर बड़े होने पर यह अहसास होता है कि टूटे दिल से कहीं बेहतर हुआ करते थे टूटे घुटने, इस तनाव भरी ज़िन्दगी से कई गुणा अच्छा था वह बेफ़िक्री का ज़माना। पर अब पछताने से क्या फ़ायदा, गुज़रा वक़्त तो वापस नहीं आ सकता, बस यादें शेष हैं उस हसीन ज़िन्दगी की, उन बेहतरीन लम्हों की। बस एक फ़रियाद ही कर सकते हैं उपरवाले से कि ये दौलत भी ले लो, ये शोहरत भी ले लो, भले छीन लो मुझसे मेरी जवानी, मगर मुझको लौटा दो बचपन का सावन, वो काग़ज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी। और यही इल्तिजा शायर सुदर्शन फ़ाकिर नें भी की थी अपने इस मशहूर नज़्म में। ऐसा बहुत कम होता है जब दिल की बात ज़ुबां पे आए और वह बात सबके दिल को छू जाये। जगजीत सिंह के गाये फ़ाकिर के इस नज़्म नें यह करिश्मा कर दिखाया है।

उर्दू में फ़ाकिर शब्द का अर्थ है फ़िक्र करने वाला। दक्किनी उर्दू में फ़ाकिर को फ़ाक़िर कहा जाता है जिसका अर्थ होता है फ़क्र करने वाला। चाहे उनका नाम जो भी हो, सच यही है कि उन्हें ज़माने की फ़िक्र है और ज़माने को उन पर फ़क्र है। मोहब्बत और दर्द को गले लगाने वाला यह शायर हम सब से बहुत जुदा है। लेकिन जब उन्हें अपना वतन, अपना बीता बचपन, और गुज़रा हुआ वह ज़माना याद आता है तो यकीन मानिये वो बिल्कुल हमारी तरह हो जाते हैं। "शायद मैं ज़िन्दगी की सहर लेके आ गया, क़ातिल को आज अपने घर लेके आ गया", कहा था सुदर्शन फ़ाकिर नें। ज़िन्दगी की सहर, यानी जीवन की शुरुआत होती है वहाँ से जहाँ पर आत्मा शरीर का लिबास धारण कर लेती है, और सुदर्शन फ़ाकिर के लिए यह काम हुआ था फ़िरोज़पुर के एक छोटे से गाँव रेतपुर में जो आज भारत-पाकिस्तान के सरहद पर स्थित सेना की एक छावनी है। उनका जन्म सन् १९३४ में हुआ था। अपने छोटे से गाँव में हँसते-खेलते उनका बचपन बीत रहा था। वो १३ वर्ष की आयु तक ही पहुँचे थे कि देश के बँटवारे की दहशत नें उन सीमावर्ती इलाकों को अपनी जकड़ में ले लिया। दुर्भाग्यवश सुदर्शन फ़ाकिर के गाँव रेतपुर के सीने से होती हुई सरहद खींच दी गई और सबकुछ तहस-नहस हो गया। दोनों तरफ़ लाशें गिरीं, लूट-मार हुईं, और बचपन के वो सुनहरे दिन न जाने पलक झपकते कहाँ खो गए! वह सुन्दर शान्त गाँव सेना की छावनी बनकर रह गई। इस बात का, इस सदमे का सुदर्शन फ़ाकिर के दिल पर जो असर हुआ था, उसे उन्होंने बरसों बरस बाद अपने बचपन के नाम इस नज़्म में किया। दौलत, शोहरत, यहाँ तक कि जवानी के भी बदले अगर कोई उन्हें उनका वो खोया हुआ बचपन वापस कर दे तो अच्छा है! यह उस ज़मीन का कमाल कह लीजिए या नसीब का जिसने सुदर्शन फ़ाकिर को बनाया एक अज़ीम शायर। फ़िरोज़पुर से पॉलिटिकल साइन्स में मास्टर डिग्री प्राप्त करने के बाद वो जलन्धर आ कर रेडियो से जुड़ गए।

रेतपुर का नाम कैसे रेतपुर पड़ा होगा यह तो नहीं कह सकते लेकिन रेत के टीलों का ज़िक्र फ़ाकिर नें इस नज़्म में ज़रूर किया है जब वो कहते हैं - "कभी रेत के ऊँचे टीलों पे जाना, घरौन्दे बनाना, बनाके मिटाना, वो मासूम चाहत की तसवीर अपनी, वो ख़्वाबों खिलौनों की जागीर अपनी, न दुनिया का ग़म था न रिश्तों के बंधन, बड़ी ख़ूबसूरत थी वो ज़िन्दगानी"। बहुत आम बातें ये सब जो हम सभी नें अपने अपने बचपन में महसूस किए होंगे, पर इतनी मासूमीयत और सीधे सरल शब्दों में किसी नज़्म में पिरोना हर किसी के बस की बात नहीं। एक अच्छे शायर या गीतकार की यही निशानी होती है। उधर जगजीत सिंह के बचपन की अगर हम बात करें तो उनका जन्म राजस्थान के श्रीगंगानगर में अमर सिंह धीमान और बचन कौर के घर हुआ। धर्म से सिख और मूलत: पंजाब के रहने वाले अमर सिंह धीमान एक सरकारी कर्मचारी थे। चार बहनों और तीन भाइयों वाले परिवार में जगजीत को घर में जीत कह कर बुलाते थे। जगजीत को पढ़ाई के लिए श्रीगंगानगर के खालसा हाइ स्कूल में भेजा गया और मैट्रिक के बाद वहीं पर 'गवर्णमेण्ट कॉलेज' में साइन्स स्ट्रीम में पढ़ाई की। उसके बाद उन्होंने आर्ट्स में बी.ए. किया जलंधर के डी.ए.वी. कॉलेज से। और उसके बाद हरियाणा के कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी से इतिहास में एम.ए. किया। इस तरह से जगजीत सिंह नें अपनी पढ़ाई पूरी की। आपको पता है जगजीत का नाम शुरु शुरु में जगमोहन सिंह रखा गया था। फिर एक दिन वो अपनी बहन से मिलने चुरू ज़िले के सहवा में गए थे जहाँ नामधारी सम्प्रदाय के एक संत नें उनके गाये श्लोकों को सुन कर उनके बहनोई रतन सिंह को यह सुझाव दिया कि इस लड़के का नाम जगजीत कर दिया जाए क्योंकि इसमें क्षमता है अपनी सुनहरी आवाज़ से पूरे जग को जीतने की। बस फिर क्या था, जगमोहन सिंह बन गए जगजीत सिंह, और उन्होंने वाक़ई इस नाम का नाम रखा और उस संत की भविष्यवाणी सच हुई।


जगजीत सिंह के पिता नें उन्हें संगीत की ए-बी-सी-डी सीखने के लिए श्रीगंगानगर के स्थानीय संगीतज्ञ श्री छ्गनलाल शर्मा के पास भेजा। वह जगजीत के स्कूल के दिनों का ज़माना था। स्कूल सुबह ७ से ११ बजे तक हुआ करता था। इस तरह से स्कूल से घर वापस आकर दोपहर में खाना खाने के बाद मास्टरजी के घर चले जाया करते थे। जगजीत सिंह नें एक साक्षात्कार में बताया कि छगनलाल जी अंधे थे पर एक बहुत अच्छे शिक्षक थे जिन्होंने सा-रे-गा-मा से शुरु करते हुए संगीत की प्राथमिक शिक्षा उन्हें दी। दो साल बाद जगजीत के पिता नें उन्हें उस्ताद जमाल ख़ाँ के पास भेजा जिनसे उन्होंने राग, ख़याल और तराना सीखा। ख़ाँ साहब तानसेन के वंशज थे। बंदिशें, ख़ास कर मालकौन्स और बिलासखानी तोड़ी की बंदिशें ख़ाँ साहब ने ही जगजीत सिंह को सिखाई थी। उसी साक्षात्कार में जब जगजीत सिंह से उनकी पसन्दीदा ग़ज़लों के बारे में पूछा गया तो जिन जिन का उन्होंने नाम लिया उनमें पहला नाम इसी नज़्म "ये दौलत भी ले लो" का था। इसके अलावा "आहिस्ता आहिस्ता", "तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो", "होठों से छू लो तुम" का भी उन्होंने नाम लिया था। इस तरह से यह नज़्म केवल मेरे और आपके ही नहीं, बल्कि इसके गायक की भी ख़ास पसन्द रही है। जिस तरह से फ़िल्मों में शकील-नौशाद, शैलेन्द्र-शंकर-जयकिशन, गुलज़ार-पंचम जैसी गीतकार-संगीतकार जोड़ियाँ बनी हैं, उसी तरह से ग़ज़लों की दुनिया में सुदर्शन फ़ाकिर और जगजीत सिंह की जोड़ी भी ख़ूब जमी। फ़ाकिर की तमाम रचनाओं में यह नज़्म जगजीत सिंह का फ़ेवरीट नज़्म है, यह उन्होंने कई कई साक्षात्कारों में कहा है। आज न सुदर्शन फ़ाकिर इस दुनिया मे हैं और न ही जगजीत सिंह, पर बचपन को याद करने का जो तरीका दोनों हमें सिखा गए हैं इस नज़्म के ज़रिए, जब तक बचपन रहेगा, जब तक जवानी रहेगी, जब तक बुढ़ापा रहेगा, हर पड़ाव के लोग इस नज़्म को दिल से महसूस करते रहेंगे, इस नज़्म को सुनते हुए अपने बचपन को बार-बार जीते रहेंगे।

जगजीत सिंह की आवाज़ में इस नज़्म को सुनने के लिए नीचे प्लेयर पर क्लिक करें...


तो दोस्तों, यह था आज का 'एक गीत सौ कहानियाँ'। आज बस इतना ही, अगले बुधवार फिर किसी गीत से जुड़ी बातें लेकर मैं फिर हाज़िर हो‍ऊंगा, तब तक के लिए अपने इस ई-दोस्त सुजॉय चटर्जी को इजाज़त दीजिए, नमस्कार!

Comments

बिलकुल सही कहा. सभी को ऐसा ही अहसास होता है.
Kshiti said…
jagjeet singh ki awaz me sudarshan faqir ki yah nazm mera sabse pasandida gana hai. sun kar bahut achha laga.
Smart Indian said…
बहुत सुन्दर आलेख!

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया