Skip to main content

रंग बसंती, अंग बसंती, संग बसंती छा गया, मस्ताना मौसम आ गया...और क्या कहें इसके बाद

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 364/2010/64

मानव मन पर नवचेतना और नई ताज़गी का संचार करने हर वर्ष आता है ऋतुराज बसंत। प्रकृति मानो नींद से जाग उठती है और चारों तरफ़ बहार ही बहार छा जाती है। पीले सरसों के लहलहाते खेत अपने पूरे शबाब पर होते हैं जैसे किसी ने पीले रंग की चादर चढ़ा दिया हो दूर दूर तक। तभी तो बसंत ऋतु के पहले दिन, जिसे हम बसंत पंचमी के रूप में मनाते हैं, लोग पीले कपड़े पहनते हैं और ऋतुराज का स्वागत करते हैं। सर्दियों की वजह से जो पशु, पक्षी, कीट, पतंगे हमारी नज़रों से ओझल हो गये थे, वो भी जैसे ख़ुश होकर एक साथ बाहर निकल पड़ते हैं, चारों तरफ़ कलरव, चहचहाहट की मधुर ध्वनियाँ गूंजने लगती है। और इंसान भी जैसे झूम उठते हैं, नाच उठते हैं, गा उठते हैं। आज मुझे रतलाम निवासी शिव चौहान 'शिव' की लिखी हुई कविता का ज़िक्र करने का मन हो रहा है, जिसमें उन्होने कहा है -

बसंत मदमस्त हुई, बयार खिल आए,
टेंसुओं के फूल सेमल सुधा की,
बूंदें टपकें, अमलतस के फूल लहरें,
सरसों के खेतों ने पीली चादर ओढ़ी।
महुआ ने मादकता छोड़ी,
अमुआँ गाए, बौराए,
कूक उठी कोयल भी
पिया मिलन को दिल आकुले।

इस बसंती मौसम को और भी ज़्यादा रंगीन बनाता है गीत संगीत। और आज हमने अपनी इस 'गीत रंगीले' शृंखला के लिए जिस गीत को चुना है वह है एक बेहद मस्ती भरा, छेड़ छाड़ वाला समूह गीत। इस तरह के गीत गाँव के खेतों खलिहानों में ग्रामवासी गाया करते हैं। कम से कम हमारी फ़िल्मों में ऐसा ही कुछ दिखाया जाता है। फ़िल्म 'राजा और रंक' का यह गीत है मोहम्मद रफ़ी, लता मंगेशकर और साथियों की आवाज़ों में, "संग बसंती, अंग बसंती, रंग बसंती छा गया, मस्ताना मौसम आ गया"।

'राजा और रंक' १९६८ की फ़िल्म थी, जिसका निर्माण प्रसाद प्रोडक्शन्स के बैनर तले हुआ था। के. पी. आत्मा निर्देशित इस फ़िल्म के मुख्य कलाकार थे संजीव कुमार, कुमकुम, नज़ीमा, निरुपा रॊय, अजीत प्रमुख। आनंद बक्शी के गीत और लक्ष्मीकांत प्यारेलाल का संगीत था इस फ़िल्म में। इस फ़िल्म के गानें बेहद मक़बूल हुए थे जिनमें शामिल हैं रफ़ी साहब का गाया "ओ फिरकी वाली तू कल फिर आना", लता जी के गाए "मेरा नाम है चमेली", "तू कितनी अच्छी है ओ माँ", तथा लता-रफ़ी का गाया आज का यह झूमता हुआ गीत। दोस्तों, इस गीत को सुनते हुए बसंत ऋतु का पूरा नज़ारा हमारी आँखों के सामने आ जाता है। शब्दों में और संगीत में वह शक्ति होती है कि किसी भी तरह के जज़्बात और वातावरण को जीवन्त किया जा सकता है, जैसा कि इस गीत ने किया है। इस गीत के कई पहलू हैं। पहला तो यही कि बसन्त के आ जाने से जो ख़ुशी की लहर पूरे गाँव में दौड़ गई है, उसका वर्णन है। अब देखिए, बात हो रही है बसन्त की, लेकिन उसी में नायक नायिका के आँचल की तुलना सावन के झूलों के साथ कर रहा है। आगे वह यह भी कहता है कि नायिका उसका दिल कुछ उसी तरह से चुरा ले गई है जिस तरह से बसन्त में सरसों के पीले फूल हमारा मन मोह लेती है। इस तरह की छेड़ छाड़ के बाद, गीत के आख़िरी अंतरे में गीत में एक देश भक्ति का रंग भी समा जाता है जब देश में हर तरफ़ ख़ुशियों की लहर दौड़ाने की बातें होती है। चलिए अब आप ख़ुद ही मज़ा लीजिए इस थिरकते हुए गीत का। ज़बरदस्त ऒर्केस्ट्रेशन है इस गीत में, जिसके लिए लक्ष्मी-प्यारे हमेशा से जाने जाते हैं, इस गीत में भी उनके उसी अंदाज़ का नज़ारा मिलता है। आइए सुनें।



क्या आप जानते हैं...
कि लता मंगेशकर ने सब से ज़्यादा गानें संगीतकार जोड़ी लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के लिए गाए हैं।

चलिए अब बूझिये ये पहेली, और हमें बताईये कि कौन सा है ओल्ड इस गोल्ड का अगला गीत. हम आपसे पूछेंगें ४ सवाल जिनमें कहीं कुछ ऐसे सूत्र भी होंगें जिनसे आप उस गीत तक पहुँच सकते हैं. हर सही जवाब के आपको कितने अंक मिलेंगें तो सवाल के आगे लिखा होगा. मगर याद रखिये एक व्यक्ति केवल एक ही सवाल का जवाब दे सकता है, यदि आपने एक से अधिक जवाब दिए तो आपको कोई अंक नहीं मिलेगा. तो लीजिए ये रहे आज के सवाल-

1. शास्त्रीय रंग में रंगे इस गीत के पहली चार पंक्तियों में ये शब्द है -"संग" -३ अंक.
2. दो गायकों के गाये इस युगल गीत में कौन कौन हैं गायक-२ अंक.
3. शंकर जयकिशन के संगीतबद्ध इस गीत के गीतकार कौन हैं- २ अंक.
4. फिल्म के नाम में इस ऋतू का भी नाम है जिस पर ये शृंखला आधारित है, नाम बताएं-२ अंक.

विशेष सूचना -'ओल्ड इज़ गोल्ड' शृंखला के बारे में आप अपने विचार, अपने सुझाव, अपनी फ़रमाइशें, अपनी शिकायतें, टिप्पणी के अलावा 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के नए ई-मेल पते oig@hindyugm.com पर ज़रूर लिख भेजें।

पिछली पहेली का परिणाम-
शरद जी के ३ और अवध जी के २ अंक जुड़े, इन्द्रनील जी एकदम सही कहा आपने, इंदु जी क्या बात है, आपने तो दिल जीत लिया. दिलीप जी आपने नियमों की उल्लंगना की आपको अंक नहीं दिए जा सकते :)
खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी
पहेली रचना -सजीव सारथी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

AVADH said…
Film: Basant bahar
indu puri said…
jaa, jaa re jaa, baalamawaa
sautan ksautan ke sang raat beetaaeee kahe karat ab jhoothi btiya
गीत के बोल : केतकी गुलाब जुही चंपक वन फूले
indu puri said…
बिलकुल सही जवाब शरद जी
इस गीत को भीमसेन जोशीजी और मन्ना डे जी ऩे गया था
लिखा किसने ? छोडिये भी ,किसी पर्वतराज ऩे लिखा हो हमे क्या ?
नम्बर थोड़े ही कटवाने हैं गुरुजीओं से
पोते की-बोर्ड को तबला बनाये रखते हैं ,सो फैंक मारी अपन ऩे भी
ये दोनों उस्ताद है ना अपने प्रश्नों में गडबड करते ही रहते हैं सो हमने सोचा ...........
हा हा हा
AVADH said…
वाह इंदुजी
सच में आपका कोई सानी नहीं है.
हिंट देने की कितनी अच्छी शैली है आपकी.
पर अभी भी किसी और की हाजिरी नहीं लग पाई है.
अवध लाल
PadmSingh said…
इस गीत के गीतकार शैलेन्द्र जी हैं ...

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया