Skip to main content

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी अँखियाँ प्यासी है....राग केदार पर आधारित था ये भजन

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 229

भारतीय शास्त्रीय संगीत इतना पौराणिक है कि इसके विकास के साथ साथ कई देवी देवताओं के नाम भी इसके साथ जुड़ते चले गए हैं। शिवरंजनी और शंकरा की तरह राग केदार भी भगवान शिव को समर्पित है। जी हाँ, आज हम इसी राग केदार की बात करेंगे। केदार एक महत्वपूर्ण राग है। भारतीय शास्त्रीय संगीत की रागदारी में जितने भी मौलिक स्तंभ हैं, राग केदार के अलावा शायद ही कोई राग होगा जिसमें ये सारी मौलिकताएँ समा सके। राग केदार की खासियत है कि यह हर तरह के जौनर में आसानी से घुलमिल जाता है जैसे कि ध्रुपद, धमार, ख़याल, ठुमरी वगेरह। पारंपरिक तौर पर राग केदार के प्रकार हैं शुद्ध केदार, मलुहा केदार और जलधर केदार। इनके अलावा केदार के कई वेरियशन्स् हैं जैसे कि बसंती केदार, केदार बहार, दीपक केदार, तिलक केदार, श्याम केदार, आनंदी केदार, आदम्बरी केदार, और नट केदार। केदार राग केवल उत्तर भारत तक ही सीमीत नहीं रहा, बल्कि इसका प्रसार दक्षिण में भी हुआ, कर्नाटक शैली में यह जाना गया हमीर कल्याणी के नाम से। फ़िल्म संगीत में इस राग का प्रयोग बहुत सारे संगीतकारों ने किया है। १९७१ की फ़िल्म 'गुड्डी' में वाणी जयराम की आवाज़ में वसंत देसाई ने कॊम्पोज़ किया था "हमको मन की शक्ति देना"। अनोखे संगीतकार ओ. पी. नय्यर ने १९६१ की फ़िल्म 'एक मुसाफ़िर एक हसीना' में "आप युंही अगर हम से मिलते रहे देखिए एक दिन प्यार हो जाएगा" को इसी राग पर स्वरबद्ध कर एक कालजयी रचना का निर्माण किया था। नय्यर साहब की आदत थी कि कहीं से अमूमन किसी शास्त्रीय गायक को कोई राग गाते हुए सुन लिया तो झट से उसका इस्तेमाल अपने गीत में कर देते थे। उनके इस अदा का मिसाल उस्ताद अमीर ख़ान साहब भी दे चुके हैं। ख़ैर, आगे बढ़ते हैं, बर्मन दादा ने फ़िल्म 'मुनीमजी' में लता से गवाया था "साजन बिना नींद ना आए", और छोटे नवाब पंचम ने फ़िल्म 'घर' के लिए कॊम्पोज़ किया "आपकी आँखों में कुछ महके हुए से राज़ हैं"। नौशाद साहब ने १९४९ की फ़िल्म 'अंदाज़' में लता से गवाया था "उठाए जा उनके सितम", यह गीत भी राग केदार पर ही अधारित है।

राग केदार पर आधारित आज जिस गीत को हम आप तक पहुँचा रहे हैं वह है फ़िल्म 'नरसी भगत' का। हेमंत कुमार, सुधा मल्होत्रा और मन्ना डे के गाए इस भजन को संगीतकार रवि ने स्वरबद्ध किया था गीतकार गोपाल सिंह नेपाली के बोलों पर - "दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी अखियाँ प्यासी रे"। दोस्तो, रवि द्वारा स्वरबद्ध घनश्याम की इस भजन से मुझे याद आया कि रवि ने विविध भारती के 'उजाले उनकी यादों के' कार्यक्रम में अपने बचपन के दिनों को याद करते हुए एक घटना का उल्लेख लिया था जिसका ताल्लुख़ 'घनश्याम' के एक भजन से ही था। "मैं केवल अपने घर पर ही गाता था। एक दिन मेरे पिताजी ने मुझे डाँटा कि घर में ही आँय आँय करता रहता है, बाहर क्यों नहीं गाता? उन दिनों मैं एक ही भजन गाता था "तुम बिन हमरी कौन ख़बर ले गोवरधन गिरिधारी"। मैं स्कूल में भी गाता था इसे। मेरे क्लासमेट्स् मेरा मज़ाक उड़ाते थे, मेरा नाम 'गोवरधन गिरिधारी' रख दिया था लड़कों ने। फिर एक दिन मेरे पिताजी मुझे सत्संग ले गए और मैनें यह भजन सुनाया। जो लोग वहाँ बैठे थे, सब ने मेरे पिताजी से पूछा कि इस हीरे को अब तक कहाँ छुपा रखा था? उस दिन के बाद से मैं पिताजी के साथ हर बुधवार को सत्संग जाने लगा। तो जब मैं वहाँ गाने लगा तो वहाँ के हारमोनियम बजाने वाले को अच्छा नहीं लगा क्योंकि उसका इम्पोर्टैन्स कम हो गया। मुझे सबक सीखाने के लिए उसने क्या किया कि कुछ ऊँचे सुर लगाने लगा हारमोनियम पर, जिसके ताल से ताल मिलाने के लिए मैं भी ऊँचे स्केल पर गाने लगा और बुरी तरह नाकामयाब रहा। उस समय तो मैं नहीं समझ पाया कि यह क्या हुआ। घर वापस आने के बाद पिताजी ने मुझे डाँटते हुए कहा कि अचार खाता रहता है दिन भर। मुझे अहसास हुआ कि यह सब उस हारमोनियम वादक की वजह से हो रहा है। मैने यह निर्णय लिया कि अब मैं वहाँ तभी जाउँगा जब मेरा अपना हारमोनियम होगा और मैं ख़ुद उसे बजाउँगा। जब पिताजी से हारमोनियम की बात की तो उन्होने ख़ुश हो कर मुझे हारमोनियम ख़रीद कर दिया और एक टीचर के पास भेजा उसे सीखाने के लिए। टीचर तो सा रे गा मा से शुरू करना चाहते थे लेकिन मैने उनसे कहा कि आप मुझे बस "तुम बिन हमरी कौन ख़बर ले गोवरधन गिरिधारी" सीखा दीजिए। उसके बाद मैं एक महीने तक प्रैक्टिस करता रहा और फिर सत्संग गया। सब ने मेरी तारीफ़ की कि मैं ख़ुद हारमोनियम भी बजा रहा था और गा भी रहा था।" दोस्तों, रवि जी के इस भजन से जो लगाव रहा, शायद वही वजह रही होगी कि घन्श्याम का आशिर्वाद उन पर रहा और उन्होने आगे चलकर फ़िल्म 'नरसी भगत' के लिए इस कालजयी भजन की रचना की - "दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी अखियाँ प्यासी रे, मनमंदिर की ज्योति जगा दो घट घट बाती रे"। हाल ही में यह भजन चर्चा में आ गई थी फ़िल्म 'स्लम्डॊग करोड़पति' के ज़रिए। इस फ़िल्म में इस गीत को एक सूरदास भजन बताया गया, लेकिन हक़ीक़त यही है कि यह नेपाली जी की रचना है। इस फ़िल्म के मुख्य कलाकार थे शाहू मोडक और निरुपा राय। तो सुनवाते हैं आपको हेमंत दा, मन्ना दा और सुधा मल्होत्रा का एकसाथ गाया हुआ यह एकमात्र भजन यह बताते हुए कि इस शीर्षक से १९४० में भी एक फ़िल्म बनी थी जिसका निर्माण विजय भट्ट और शंकर भट्ट ने किया था अपने 'प्रकाश पिक्चर्स' के बैनर तले और जिसमें संगीतकार थे शंकर राव व्यास।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. भारत रत्न से सम्मानित इस महान संगीतकार ने जीते हैं एक से अधिक बार ग्रैमी सम्मान भी.
२. राग है जग सम्मोहिनी (शुभ कल्याण) जिस पर आधारित है ये गीत.
३. शैलेन्द्र है गीतकार यहाँ.

पिछली पहेली का परिणाम -

शरद जी बधाई १४ अंकों के साथ आप तेजी से आगे बढ़ रहे हैं....दूसरी बार विजेता बनने की डगर पर. दिलीप जी मेल अवश्य मिली होगी कृपया दुबारा देखें

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

Parag said…
फिल्म अनुराधा के इस गीत को गाया है लता जी ने
हाए रे वोह दिन क्यों ना आये
Parag said…
Haaye ro woh din kyon naa aaye
मेरे विचार से अनुराधा फ़िल्म का ही गीत ’सांवरे सांवरे काहे मोसे करो जोरा जोरी है : संगीत : पं. रविशंकर
परागजी ने ठीक कहा है । फिल्म अनुराधा का गीत हाय रे वो दिन क्यों न आये, जो पंडित रवि शंकर द्वारा संगीतबद्ध किया गया था तथा शैलेन्द्र द्वारा लिखा गया था, राग शुभ कल्याण पर आधारित है ।
हेमंत दा, और मन्ना दा के साथ स्वयं लताजी. एक कालजयी गीत जो बरसों से भारत के जनमानस में श्रेष्ठतम भजनों में से एक.

आपका मेल मिला. आपकी जर्रः नवाज़ी. ज़रूर ....
मना दा के गले का जोनर हेमंत दा से एकदम अलग था. इसीलिये, ये भजन जब दोनों ने अलग अलग गाया, आप को अलग अलग अनुभूतियां होती हैं. जहां मना दा के स्वर की मींड और तरलता आपको मोहती हैं, वहीं हेमंतदा की धीर गंभीर हृदय के अंतरंग से निकलती आवाज़ से आप भक्तोरस में डूब जाते हो. साथ में अमृतमयी लता का सात्विक,शैशव सुर बोनस में आपको पुष्य नक्षत्र की चांदनी बिखेर जाती है.

आपका भी जवाब नहीं.
Shamikh Faraz said…
पराग जी को मुबारकबाद.

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया