Skip to main content

टिप टिप टिप... देख के अकेली मोहे बरखा सताए...गीता दत्त का चुलबुला अंदाज़ खिला साहिर-सचिन दा की जोड़ी संग

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 243

साहिर लुधियानवी और सचिन देव बर्मन की जोड़ी को सलाम करते हुए हमने शुरु की है यह विशेष शृंखला 'जिन पर नाज़ है हिंद को'। पहली कड़ी में आप ने इस जोड़ी की पहली फ़िल्म 'नौजवान' का गीत सुना था जो बनी थी सन् '५१ में; फिर दूसरी कड़ी में १९५५ की फ़िल्म 'मुनीमजी' का एक गीत सुना। आज इसकी तीसरी कड़ी में एक बार फिर से हम चलेंगे सन् १९५१ की ही तरफ़ और सुनेंगे फ़िल्म 'बाज़ी' का एक बड़ा ही चुलबुला सा गीत गीता रॉय और सखियों की आवाज़ों में। फ़िल्म संगीत के हर युग में बरसात पर, सावन पर असंख्य गानें लिखे गए हैं, जिनमें से अधिकतर काफ़ी लोकप्रिय भी हुए हैं। आज का गीत भी बरखा रानी को ही समर्पित है। लेकिन यह गीत दूसरे गीतों से बहुत अलग है। "देख के अकेली मोहे बरखा सताए, गालों को चूमे कभी छींटें उड़ाए रे, टिप टिप टिप टिप टिप"। टिप टिप बरसते हुए पानी को शरारती क़रार दिया है साहिर साहब ने इस गीत में। किसी सुंदर कमसिन लड़की को देख कर किस तरह से बरखा रानी उसे छेड़ती है, यही भाव है इस गीत का। सचिन दा ने इस शरारती और चुलबुली अंदाज़ वाले इस गीत का संगीत कुछ इस तरह से तैयार किया है, इसका संयोजन ऐसा किया है कि गीत सुनने के बाद बहुत देर तक गीत ज़हन में रहता है, और मन ही मन हम इसे गुनगुनाते रहते हैं। और गीता जी की आवाज़ में जो शोख़ी, जो चुलबुलापन था, उसके तो क्या कहने! जिस तरह से वो गीत में बार बार "उई" कहती हैं, बड़ा ही चंचल और शोख़ अंदाज़ है, जिसे सुनकर हमारे होठों पर मुस्कान आ ही जाती है। और जो न्याय गीता जी ने इस गीत के साथ किया है, उनके गाने के बाद फिर किसी और गायिका की आवाज़ में इस गीत की कल्पना करना भी निरर्थक है। गीत के शुरुआती संगीत में जिस तरह से बरसात की बरसती बूंदों को "टिप टिप" शब्दों और उससे मेल खाती ध्वनिओं से साकार किया है, उससे गीत बेहद आकर्षक और मनमोहक बन पड़ा है। साहिर जैसे संजीदे शायर के कलम से इस तरह का नटखट गीत हमें हैरत में डाल देती है कि क्या ये उसी मोहब्बत में नाक़ाम, ज़िंदगी से परेशान, बाग़ी शायर ने लिखा है!

आइए अब इस फ़िल्म 'बाज़ी' से जुड़ी कुछ बातें आपको बताई जाए। १९४९ में नवकेतन की पहली प्रस्तुति 'अफ़सर' पिट गई थी, हालाँकि उसका गीत संगीत अच्छा चला था। गुरु दत्त, जो उस समय प्रभात स्टुडियो से जुड़े हुए थे, वो देव आनंद साहब के भी अच्छे मित्र थे। गुरु दत्त तब तक अमिय चक्रबर्ती को 'गर्ल स्कूल' (१९४९) और ज्ञान मुखर्जी को 'संग्राम' (१९५०) में ऐसिस्ट कर चुके थे। १९५१ में देव साहब ने उन्हे नवकेतन की फ़िल्म 'बाज़ी' को स्वाधीन रूप से निर्देशित करने का मौका दिया और इस तरह से गुरु दत्त ने अपनी पहली फ़िल्म निर्देशित की। देव आनंद, गीता बाली, कल्पना कार्तिक, के. एन. सिंह व जॉनी वाकर अभिनीत इस हिट फ़िल्म में साहिर और बर्मन दादा ने एक से एक हिट गीत दिए जो आज सदाबहार नग़मों में अपना नाम दर्ज कर चुके हैं। फ़िल्म 'बाज़ी' इसलिए भी यादगार है क्योंकि इस फ़िल्म की शूटिंग् के दौरान दो प्रेम कहानियों का जन्म हुआ था। एक गुरु दत्त और गीता राय के बीच, और दूसरा देव आनंद और कल्पना कार्तिक के बीच। गीता रॊय ने इस फ़िल्म में अपने करीयर के कुछ बेहद मक़बूल गीत गाए हैं, जैसे कि "सुनो गजर क्या गाए", "तदबीर से बिगड़ी हुई तक़दीर बना ले", "ये कौन आया के मेरे दिल की दुनिया में बहार आई", और "आज की रात पिया दिल ना तोड़ो"। आज का प्रस्तुत गीत भी उतना ही प्यारा है जितना कि ये तमाम गीत, लेकिन इस गीत को आज उतना नहीं सुना जाता जितना कि दूसरे गीतों को सुना जाता है। एक और कमचर्चित गीत है "लाख ज़माने वाले डाले दिलों पे ताले"। गीता जी को उन दिनों ज़्यादातर धार्मिक और उदास गानें ही मिला करते थे। ऐसा लग रहा था लोगों को कि उनकी आवाज़ को इसी खांचे में कैद कर ली जाएगी। लेकिन बर्मन दादा ने इसको ग़लत साबित करते हुए उनसे कुछ ऐसे सेन्सुयस और नशीले गीत गवाए कि सब दंग रह गए। कहाँ एक तरफ़ वेदना भरी आवाज़ लिए भक्ति रचनाएँ और कहाँ क्लब सॊंग्स् गाती हुई मदमस्त आवाज़-ओ-अंदाज़ की धनी एक चुलबुली शोख़ गायिका। यहाँ पर अगर हम नय्यर साहब का नाम नहीं लेंगे तो ग़लत बात होगी क्योंकि उन्होने भी गीता जी की इसी अंदाज़ को बाहर निकालने में मुख्य भूमिका निभाई थी। तो दोस्तों, पेश है साहिर साहब, बर्मन दादा और गीता रॉय के नाम आज का यह मस्ती भरा नग़मा। सावन का महीना तो निकल गया, लेकिन हमें पूरा यक़ीन है कि इस गीत में टिप टिप बरसते हुए पानी को आप दिल से महसूस करेंगे क्योंकि इन तीनों कलाकारों ने बरसते हुए पानी के नज़ारे को एकदम जीवंत कर दिया है इस गीत में, सुनिए...



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा अगला (पहले तीन गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी, स्वप्न मंजूषा जी और पूर्वी एस जी)"गेस्ट होस्ट".अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. इस फिल्म में ये इकलौता गीत था जो साहिर ने लिखा.
२. संगीत बर्मन दा का है.
३. मुखड़े में शब्द है -"तन्हा".

पिछली पहेली का परिणाम -

शरद जी अब तो रोके रुकते नज़र नहीं आते, लगता है पराग जी को अपने ४ अंक लेने भी भारी पड़ जायेंगें, अवध जी हम भी आपकी तरह शरद जी के कायल हैं, सुब्रमनियन जी आपकी यादें ताजा हुई, हमें भी आनंद आया :)

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

Anonymous said…
jis din der se aata hoon us din sawaal aasan rehta hai, jis din jaldi aata hoon us din sawaal mushkil hota hai. ab 50 ank tak pahuchu to pahuchu kaise?

ROHIT RAJPUT
तुम न जाने किस जहाँ में खो गए
हम भरी दुनिया में तन्हा हो गए ।
फ़िल्म : सज़ा
गायिका : लता जी
तुम न जाने किस जहाँ में खो गए
हम भरी दुनिया में तन्हा हो गए ।

मौत भी आती नहीं , आस भी जाती नही
दिल को ये क्या हो गया ,कोई शै भाती नहीं
लूट कर मेरा जहाँ , छुप गए हो तुम कहाँ
तुम कहाँ, तुम कहाँ ,तुम कहाँ ।

एक जाँ और लाख गम , घुट के रह जाए न दम
आओ तुम को देख ले , डूबती नज़रों से हम
लूट कर मेरा जहाँ , छुप गए हो तुम कहाँ
तुम कहाँ, तुम कहाँ ,तुम कहाँ ।
neelam said…
bahut hi umda geet hai ,hume bhi intjaar hai sunne ka .......tum n jaane kis jahaan me kho gaye
Parag said…
आज का गीत "देख के अकेली मोहे " की धुन आधारीत है एक सुपरहिट गुजराती गाने से "तालियों ना ताले" जिसे बनाया था अविनाश व्यास साहब ने फिल्म मंगल फेरा के लिए.
शरद जी को हार्दिक बधाईया

पराग

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया