Skip to main content

तुझे जीवन की डोर से बाँध लिया है....संगीतकार शंकर को याद किया जा रहा है आज ओल्ड इस गोल्ड पर

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 233

ज है १५ अक्तुबर, सदाबहार संगीतकार जोड़ी शंकर जयकिशन के शंकर साहब का जन्म दिवस। आज वो इस दुनिया में मौजूद तो नहीं हैं कि हम उन्हे जनमदिन की शुभकामनाएँ दे सके, लेकिन उनके रचे सदाबहार नग़मों के ज़रिए हम उनकी सुरीली यादों को ताज़ा ज़रूर कर सकते हैं। तो क्यों ना आज से अगले तीन दिनों तक सुना जाए शंकर जयकिशन की जोड़ी के तीन हिट गीत! शुरुआत करते हैं लता जी और रफ़ी साहब के गाए फ़िल्म 'असली नक़ली' के एक युगल गीत से। गीत फ़िल्माया गया था देव आनंद और साधना पर। आइए आज एक साथ बात करें शंकर जयकिशन और देव आनंद की। जब देव आनंद फ़िल्म जगत में आए थे, तब अपने पारिवारिक बैनर नवकेतन के तले बनी फ़िल्मों में सचिन देव बर्मन का संगीत हुआ करता था। देव आनंद, बर्मन दादा, मजरूह साहब, रफ़ी साहब, किशोर दा, हेमन्त दा और तलत साहब की टीम दिलीप कुमार, नौशाद, शक़ील, और तलत की टीम से बहुत अलग थी, और राज कपूर, शंकर जयकिशन, शैलेन्द्र-हसरत, मुकेश की टीम से भी जुदा थी। जब देव आनंद और शंकर जयकिशन एक साथ आए 'पतिता' जैसी फ़िल्म में, उसमें हेमन्त कुमार और तलत महमूद ने देव साहब के लिए पार्श्वगायन किए। 'पतिता' के गाने बेशक़ ज़बरदस्त हिट हुए थे, लेकिन सही मायने में देव आनंद और शंकर जयकिशन की तिकड़ी ने धमाका किया १९५९ की फ़िल्म 'लव मैरेज' से। देव साहब के गीतों का जो प्रचलित अंदाज़ चला आ रहा था, उससे अलग हटकर 'एस. जे' ने नया संगीत रचा और सुनने वालों ने ना केवल गीतों को पसंद किया, देव आनंद को भी ज़बरदस्त कामयाबी मिली। देव-रफ़ी-शंकर-जयकिशन की एक साथ बात करें तो 'लव मैरेज' के बाद ६० के दशक के शुरुआत में 'जब प्यार किसी से होता है' ने भी वही धमाका किया, फ़िल्म सुपर डुपर हिट और संगीत भी। और फिर १९६२ में ऋषिकेश मुखर्जी ने बनाई 'असली नक़ली', जिसमें देव आनंद की नायिका बनीं साधना। इस फ़िल्म में इन दोनों पर फ़िल्माया हुआ आज का प्रस्तुत गीत है "तुझे जीवन की डोर से बाँध लिया है, तेरे ज़ुल्म-ओ-सितम सर आँखों पर"।

यह गीत एक बस में फ़िल्माया गया था। बस ड्राइवर बने देव आनंद और बस की एकमात्र सवारी साधना। देव साहब बस को एक सुनसान जगह पर ले जाते हैं और दोनो बस से उतरकर हरियाली में हँसते खेलते गीत गाते चलते हैं। ब्लैक ऐंड व्हाइट फ़िल्म होने के बावजूद इस गीत का फ़िल्मांकन बहुत ही सुंदर है। और देव साहब के मैनरिज़्म्स और साधना की ख़ूबसूरती के तो क्या कहने! इस गीत को लिखा है रोमांटिक गीतों के बादशाह हसरत जयपुरी साहब ने, जिनमें से ज़्यादातर गीत उन्होने शंकर जयकिशन के लिए ही लिखे। आज हसरत साहब का गीत बज रहा है और मौका भी है शंकर के जन्मदिन का, तो क्यों ना हसरत साहब के उद्‍गार जान लिए जाएँ जो उन्होने अमीन सायानी को किसी ज़माने में बताया था! "मैं आप से क्या बताऊँ, १००-१०० पिक्चरें रहती थीं, मगर ये जनाब (शंकर) पिक्चर कभी करते ही नहीं थे, कितने भी चाहें आप पैसे दे दीजिए। और उन्होने सब से ज़्यादा प्राइज़ भी जीते। आज तक किसी और संगीतकार ने इतनी प्राइज़ नहीं ली जितनी हमारे शंकर जयकिशन ने ली, और हमारे लिए वो लड़े भी। भ‍इ ऐसा है कि हमारे अलावा उन्होने किसी भी और शायर को मंज़ूर नहीं किया। उन्होने कहा कि हमारे साथ ये दो रहेंगे, शैलेन्द्र रहेंगे और हसरत रहेंगे। हमारे लिए उन्होने लाखों रुपय का नुकसान किया। ऐसे ही कह रहा हूँ, इतना प्यार था, इतने प्यार करते थे। वो क्या है कि मेरा एक टुकड़ा है, "उनसे मेरा मिज़ाज मिलता है, दर्द-ए-दिल का इलाज मिलता है"। तो भ‍इ, हम एक दूसरे में इस क़दर समा गए थे कि ना हमें कोई अच्छा लगता था, ना उन्हे कोई अच्छा लगता था।" दोस्तों, पढ़ा आपने कि किस तरह का दोस्ताना रहा इनका! तो इनके दोस्ताने को सलाम करने का इससे बेहतर कौन सा गीत होगा कि "तुझे जीवन की डोर से बाँध लिया है, तेरे ज़ुल्म-ओ-सितम सर आँखों पर"। शंकर जी के जनम दिवस पर उन्हे हम याद कर रहे हैं आज उनके इसी गीत के ज़रिए, आइए सुनते हैं।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. अमीय चक्रबर्ती की इस फिल्म में नायिका थी उषा किरण.
२. शैलेन्द्र की कलम का अनोखा जादू है इस दर्द से भरे गीत में.
३. मुखड़े में शब्द है -"पराया".

पिछली पहेली का परिणाम -

पूर्वी जी अब बस आप मात्र एक जवाब दूर हैं लक्ष्य से...बधाई....दिलीप जी, शरद जी ने आपको पुष्टि कर ही दी है, रोहित जी तो कल सर खपाते रह गए :) हमें मज़ा आया, अनुराग जी ओल्ड इस गोल्ड में स्वागत है...

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

andhe jahaan ke andhe raaste | Patita
purvi said…
andhe jahaan ke andhe raasate, jaaye to jaaye kahaa
duniyaa to duniyaa, too bhee paraayaa, hum yahaa naa wahaa
purvi said…
badhai sharad ji :)
अन्धे जहान के अन्धे रास्ते जाए तो जाए कहाँ
दुनिया तो दुनिया तू भी पराया हम यहाँ न वहाँ ।
जीने की चाहत नहीं, मर के भी राहत नहीं
इस पार आँसू उस पार आहें , दिल मेरा बे ज़ुबां ।

हम को न कोई बुलाए, न कोई पलकें बिछाए
ए गम के मालिक , मन्ज़िल वहीं है दम ये टूटे जहाँ ।

आगाज़ के दिन तेरा , अंजाम तय हो चुका
जलते रहे हैं जलते रहेंगे, ये ज़मीं आस्मां ।

तलत मेहमूद
पूर्वी जी
बस एक मिनट लेट हो गईं आप ।
purvi said…
सुजोय जी,
जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ. दो दिन पहले हमने अपना जन्मदिन मनाया था, आज आपके नाम से मनायेंगे. संगीतमयी दुआ है-

" बार बार दिन यह आये, बार बार दिल यह गाये, तू जिये हजारों साल, साल के दिन हो तीस लाख.... :) :) happy birthday to you,....... "
Parag said…
सुजॉय जी को जन्मदिन की हार्दीक शुभकामनाएं
बी एस पाबला said…
पिछली बार भी यहाँ संयोग से पहुँचा था, जनमदिन के मौके पर!

आज भी अचानक आ गया तो पता चल रहा सुजॉय और पूर्वी के जनमदिन का!!

आप दोनों को हार्दिक बधाई व शुभकामनाएँ।

सुजॉय जी को तो हमने यहाँ शामिल कर लिया belated की सूची में। पूर्वी जी का पता, प्रोफाईल मिल जाए तो उन्हें भी शामिल करें :-)

बी एस पाबला
Udan Tashtari said…
आपको शुभकामना देने आया था सजीव भाई:

सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

-समीर लाल ’समीर’
सुजॊय जी को इस मेलोडी के बादशाह संगीतकार के जन्म दिन को साझा करने के लिये बधाईयां.पूर्वी जी को भी. तभी आप दोनों भी सुरीले है>

सजीव जी, सुजॊय जी, पूर्वीजी, शरदजी(क्या गाना गाया था आपने), अदाजी( आप भी बढिया गाती हैं)) , पाबला जी और अन्य सभी को हमारी ओर से संगीतमयी, सुरमई दिवाली की शुभकामनायें!!
Manju Gupta said…
सुजॉय जी को जन्मदिन की और दिवाली की हार्दिक शुभ कामनाएं .
आप को ओर आप के परिवार को दिपावली की शुभकामनाये
Sujoy Chatterjee said…
aap sabhi ka bahut dhanyavaad janamdin aur deepavali ki shubhkamnaon ke liye. aap sabhi ko meri taraf se HAPPY DIWALI!
Shamikh Faraz said…
सुजोय जी को जन्मदिन की बधाई.

sujoy= so + joy.
purvi said…
धन्यवाद पाबला जी और दिलीप जी .

पाबला जी,
अगर कभी अपना प्रोफाइल बनाया तो सबसे पहले आपको सूचित करुँगी :)

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया