Skip to main content

ज़रा सामने तो आओ छलिये...एक ऐसा गीत जो ख़तम होने के बाद भी देर तक गूंजता रहेगा आपके जेहन में

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 237

मारी फ़िल्म इंडस्ट्री में शुरु से ही कुछ प्रथाएँ चली आ रही हैं। फ़िल्मों को ए-ग्रेड, बी-ग्रेड और सी-ग्रेड करार दिया जाता है, लेकिन जिन मापदंडों को आधार बनाकर ये ग्रेड दिए गए हैं, उनसे शायद बहुत लोग सहमत न हों। आम तौर पर क्या होता है कि बिग बजट फ़िल्मों, बड़े निर्माताओं और निर्देशकों के फ़िल्मों को ए-ग्रेड कहा जाता है, जिनका वितरण और पब्लिसिटी भी जम कर होती है, और ये फ़िल्में चलती भी हैं और इनका संगीत भी हिट होता है। दूसरी तरफ़ पौराणिक और स्टंट फ़िल्मों का भी एक जौनर शुरु से रहा है। फ़िल्में अच्छी होने के बावजूद भी इनकी तरफ़ लोग कम ही ध्यान देते हैं और इन्हे सी-ग्रेड करर दिया जाता है। यहाँ तक कि बड़े संगीतकार डरते रहे हैं ऐसी फ़िल्मों में संगीत देने से, क्योंकि उनका विचार है कि एक बार माइथोलोजी में चले गए तो वहाँ से बाहर निकलना नामुम्किन है। आनंदजी भाई ने भी यही बात कही थी जब उन्हे शुरु शुरु में पौराणिक फ़िल्मों के ऑफर मिले थे। बात चाहे बुरी लगे सुनने में लेकिन बात है तो सच्ची! पौराणिक फ़िल्मों के ना चलने से इन फ़िल्मों के गीत संगीत भी पीछे ही रह जाते रहे हैं। लेकिन समय समय पर कुछ ऐसी धार्मिक फ़िल्में भी बनी हैं जिन्होने दूसरी सामाजिक फ़िल्मों की तरह ही ख्याति अर्जित की है। ऐसी ही एक फ़िल्म थी 'जनम जनम के फेरे' और इस फ़िल्म का एक गीत "ज़रा सामने तो आओ छलिए" ने वो सारे रिकार्ड बनाए जो कि किसी 'सो-कॊल्ड' ए-ग्रेड फ़िल्म के गीत बनाया करते हैं। यह गीत सब से बड़ा उदाहरण है कि जब किसी सी-ग्रेड फ़िल्म का गीत लोकप्रिय फ़िल्मी गीतों की मुख्य धारा में जा कर मिल जाता है और उनसे भी ज़्यादा लोकप्रिय हो जाता है। १९५७ की फ़िल्म का यह गीत उस साल की दूसरी -ए-ग्रेड फ़िल्मों जैसे कि 'प्यासा', 'पेयिंग् गेस्ट', 'देख कबीरा रोया', 'दो आँखें बारह हाथ', 'मदर इंडिया', 'नौ दो ग्यारह', 'चोरी चोरी', 'बसंत बहार' और 'तुमसा नहीं देखा' जैसी म्युज़िकल फ़िल्मों के गीतों को पछाड़ते हुए उस साल के अमीन सायानी द्वारा प्रस्तुत बिनाका गीतमाला के सरताज गीत के रूप में चुना गया था। यानी कि १९५७ का सब से लोकप्रिय गीत! यह वाक़ई अचरज की बात थी। और आगे चलकर 'जय संतोषी माँ' एक फ़िल्म और ऐसी रही जिसे ख़ूब ख़ूब कामयाबी नसीब हुई। तो आइए आज सुनते हैं 'जनम जनम के फेरे' फ़िल्म का यह सुपरहिट गीत। हाल ही में गायक शब्बीर कुमार विविध भारती पर तशरीफ़ लाए थे। जब उनसे उनके बचपन के दिनों के बारे में पूछा गया तो उन्होने बताया कि गुजरात के बड़ोदा के किसी गाँव में रहते वक़्त किस तरह से गाँव वालों के अनुरोध पर वे और उनकी बड़ी बहन यही गीत गाया करते थे और इनाम के रूप में उन्हे मिलते थे स्वादिष्ट रसीले आम।

सुभाष देसाई निर्मित फ़िल्म 'जनम जनम के फेरे' का निर्देशन किया था मनमोहन देसाई ने और मुख्य भूमिकाओं में थे निरुपा राय, मन्हर देसाई, बी. एम. व्यास और एस. एन त्रिपाठी। ये सारे कलाकार उस ज़माने के माइथोलोजी जौनर के फ़िल्मों के अग्रणी कलाकार हुआ करते थे। एस. एन. त्रिपाठी जहाँ एक तरफ़ इस जौनर के फ़िल्मों में संगीत दिया करते थे, वहीं दूसरी तरफ़ ऐसी फ़िल्मों में वे छोटे मोटे किरदार भी निभाया करते थे। इस फ़िल्म में उन्ही का संगीत है और उनके जोड़ीदार गीतकार भरत व्यास ने फ़िल्म के गानें लिखे हैं। निरुपा राय ने इस फ़िल्म में सती अन्नपूर्णा का किरदार निभाया था। शुरु शुरु में फ़िल्म का शीर्षक 'सती अन्नपूर्णा' ही रखा गया था, लेकिन इस डर से कि इस शीर्षक से फ़िल्म नहीं चलेगी, इसलिए फ़िल्म का नाम बदल कर रख दिया गया 'जनम जनम के फेरे', जिससे कि माइथोलोजिकल होते हुए भी एक सामाजिक छुअन सी आ गई फ़िल्म में, और फ़िल्म उस समय के दूसरे पौराणिक फ़िल्मों से बेहतर चली। तो चलिए सुनते हैं लता मंगेशकर और रफ़ी साहब की आवाज़ों में "ज़रा सामने तो आओ छलिए"।



ज़रा सामने तो आओ छलिये
छुप छुप छलने में क्या राज़ है
यूँ छुप ना सकेगा परमात्मा
मेरी आत्मा की ये आवाज़ है
ज़रा सामने ...

हम तुम्हें चाहे तुम नहीं चाहो
ऐसा कभी नहीं हो सकता
पिता अपने बालक से बिछुड़ से
सुख से कभी नहीं सो सकता
हमें डरने की जग में क्या बात है
जब हाथ में तिहारे मेरी लाज है
यूँ छुप ना सकेगा परमात्मा
मेरी आत्मा की ये आवाज़ है
ज़रा सामने ...

प्रेम की है ये आग सजन जो
इधर उठे और उधर लगे
प्यार का है ये क़रार जिया अब
इधर सजे और उधर सजे
तेरी प्रीत पे बड़ा हमें नाज़ है
मेरे सर का तू ही सरताज है
यूँ छुप ना सकेगा परमात्मा
मेरी आत्मा की ये आवाज़ है
ज़रा सामने ...


और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. गीतांजली पिक्चर्स के बैनर टेल बनी सबसे उल्लेखनीय फिल्म जिसके सभी गीत एक से बढ़कर एक थे.
२. इस संजीदा फिल्म में हलके फुल्के कुछ पल दे जाता है ये गीत.
३. डॉक्टर्स की भूमिका के इतर अक्सर अनदेखी रह जाती है नर्सों के काम की अहमियत. सेवा के इसी पहलू को समर्पित शायद एकलौता गीत है ये.

पिछली पहेली का परिणाम -

आखिर लम्बे इंतज़ार के बाद हमें हमारा ३ तीसरा विजेता मिल ही गया, या कहें मिल गयी....भाई ढोल नगाडे बजाओ.....पूर्वी जी, बहुत बहुत बधाई.....अब जल्दी से भेजिए अपनी पसदं हमें....ताकि हम सब भी आनंद लें आपके चुने हुए गीतों का :)

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

फ़िल्म " खामोशी
गीत : दोस्त कहाँ कोई तुम सा
गायक : मन्ना डे
purvi said…
बहुत शुक्रिया, बड़ी मेहरबानी.... ढोल नगाडे बजवाने के लिए :) और यह यादगार गीत सुनवाने के लिए .

बधाई शरद जी.

सजीव जी,
आपको आज सुबह hindyugm@gmail.com par मेल भेज दी थी, अब तक आपको हमारी लिस्ट मिल चुकी होगी??
सजीव जी, इस गीत से जुदा एक पक्ष शायद आपको पता हो... या न पता हो. इसके लेखक भरत व्यास का आठ-नौ साल का बालक कहीं खो गया और फिर कभी नहीं मिला. इस गीत में भरत व्यास ने अपना सारा दुःख उडेल दिया.

शरद जी का जवाब सही है? लगता तो है.
Parag said…
निशांत जी आपने यह बात बताकर फिर जब मैंने यह गाना सुना तो दिल को छू गया. बस आगे कुछ लिखने को नहीं है.
पराग
बहुत सुंदर गीत सुनाया आप ने, धन्यवाद
AVADH said…
निशांत जी की टिप्पणी श्री भरत व्यास जी ने विविध भारती पर अपने इंटरव्यू/ रेडियो प्रोग्राम पर स्वयं स्वीकार की थी. वास्तव में पुत्र से बिछुड़ने का पूरा दुःख श्रोता गाना सुनते समय महसूस कर सकता है.
आभार सहित
अवध लाल
Shamikh Faraz said…
बहुत ही सुन्दर गीत

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया