Skip to main content

आ लौट के आजा मेरे मीत तुझे मेरे गीत बुलाते हैं....एस एन त्रिपाठी का अमर संगीत

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 226

'दस राग दस रंग' शृंखला इन दिनों आप सुन रहे हैं 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के तहत, जिसमें हम आप को शास्त्रीय रागों पर आधारित फ़िल्मी गानें सुनवा रहे हैं। युं तो रागों पर आधारित बहुत सारे गानें हैं, उनमें से हमने कुछ ऐसे गीतों को शामिल किया है जिनमें संबंधित राग की झलक बहुत ही साफ़ साफ़ मिले। आज का राग है सारंग। ऐसी मान्यता है कि राग सारंग का नाम १४-वीं शताब्दी के संगीतज्ञ सारंगदेव के नाम से पड़ा था। राग सारंग के भी कई रूप हैं। अगर हम सिर्फ़ सारंग कहें तो उसका अर्थ होता है वृंदावनी सारंग, जो काफ़ी ठाट का एक सदस्य है। दिन के मध्य भाग में गाया जानेवाला यह राग बहुत ही शांत और कर्णप्रिय है। रागमाला में सारंग को सिरि राग का पुत्र माना जाता है। सारंग राग गुरु ग्रंथ साहिब में बेहद महत्वपूर्ण स्थान रखता है और इसका उपयोग गुरु अर्जन में विस्तृत होता है। गुरु नानक, गुरु अमरदास, गुरु रामदास और गुरु तेग बहादुर ने इस राग के साथ शब्दों का भी प्रयोग किया और गुरु अंगद ने श्लोकों के पाठ के लिए इस राग का इस्तेमाल किया। जैसा कि हमने कहा यह राग दोपहर के समय गाया जाने वाला राग है और इसलिए ज़ाहिर है कि यह राग श्रोताओं को एक सुकून और ठंडक प्रदान करता होगा। सपेरे लोग इसी राग का प्रयोग कर ज़हरीले साँपों को वश में किया करते हैं। राग सारंग के कई विविध रूप हैं, जो इस प्रकार हैं।

सध सारंग
मधमात सारंग
वृंदावनी सारंग
लंकादहन सारंग
मिया की सारंग
गौर सारंग
जलधर सारंग
सूरदासी सारंग
नूर सारंग
वधंस सारंग

राग सारंग पर आधारित जिस गीत को आज हमने चुना है वह दरअसल आधारित है राग मधमात सारंग पर, जिसे मधुमाधवी सारंग भी कहा जाता है। संगीतकार एस. एन. त्रिपाठी का शुमार उन प्रतिभाशाली संगीतकारों में होता है जिन्होने राग रागिनियों का व्यापक इस्तेमाल अपने गीत संगीत में किया है। पौराणिक, ऐतिहासिक और धार्मिक फ़िल्मों में असरदार संगीत दे कर ऐसी फ़िल्मों को एक अलग ही मुकाम तक पहुँचाने के लिए त्रिपाठी जी का नाम फ़िल्म जगत में बड़े सम्मान के साथ लिया जाता है। उनकी संगीत यात्रा की एक बेहद महत्वपूर्ण फ़िल्म रही है 'रानी रूपमती'। मुकेश की आवाज़ में "आ लौट के आजा मेरे मीत तुझे मेरे गीत बुलाते हैं" ना केवल इस फ़िल्म का सब से लोकप्रिय गीत रहा है, बल्कि त्रिपाठी जी के करीयर के सब से कामयाब गीतों में से एक है और मुकेश के गाए हुए गीतों में भी इस गीत को एक ऊँची जगह दी जाती है। गीतकार भरत व्यास के लिखे इस गीत में अपने प्रेमिका से दूरी के दर्द का बयान हुआ है। एक तरफ़ मधमात सारंग की छटा, तो दूसरी तरफ़ मुकेश की दर्दभरी पुरसर अंदाज़, कुल मिलाकर फ़िल्म संगीत के ख़ज़ाने का एक अनमोल नगीना है यह गीत। गीत सुनवाने से पहले आपको यह बता दें कि 'रानी रूपमती' फ़िल्म एस. एन त्रिपाठी ने ही बनाई थी जो प्रदर्शित हुई सन् १९५९ में 'रविकला चित्र' के बैनर तले। त्रिपाठी जी के ही निर्देशन में इस फ़िल्म में मुख्य भूमिकाएँ निभाई भारत भूषण और निरुपा राय ने।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. दक्षिण की एक मशहूर गायिका जिन्हें 3 बार पार्श्व गायन के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार मिला, उनकी आवाज़ है उस गीत में.
२. गुलज़ार साहब ने लिखा इस गीत को.
३. ये गीत आधारित है राग मिया मल्हार पर.

पिछली पहेली का परिणाम -

शरद जी के अब १२ अंक हो चुके हैं...बधाई जनाब, पूर्वी जी फुर्ती दिखाईये, वर्ना शरद जी किसी को टिकने नहीं देंगें :)

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

बोले रे पपीहरा / फिल्म गुड्डी / वाणी जयराम
purvi said…
sharad ji pahunch gaye :) :)
Anonymous said…
BOL RE PAPIHARA

ROHIT RAJPUT
purvi said…
bole re papihara
purvi said…
sharad ji,
ab 50 ank poore karne men mujhe sirf 4 hi episode chahiye, bas itne ank le lene dijiye, fir aapke liye maidan khali chhod dungi :)

ab maan bhi jaaiye :) :)
बढिया गीत सुनवाने ले लिये धन्यवाद.

ये शृंखला तो बेहद ही रोचक, कर्णप्रिय , और सुरीली होने के साथ informative भी है. रागों के बारे में जो भी जानकारी है, वह आम श्रोता के लिये काफ़ी है, और उपयुक्त भी है.

मेरी पोस्ट का लिंक देना रह गया था. मुझे लगता है, कि मेरे नाम पर डबल क्लिक करके वहां पहुंचा जा सकता है.

वैसे उस पोस्ट का लिंक है-

http://dilipkawathekar.blogspot.com/2009/09/blog-post_22.html

मेरी टिप्पणीयों को महत्व देने के लिये धन्यवाद.

वैसे शरद जी से अपेक्षा रहेगी कि वे पूर्वीजी के लिये मार्ग प्रशस्त करें. वैसे वे स्वयं एक सिद्धहस्त गायक है, कलाकार हैं, इसलिये इन मूल्यों को जानते हैं , कि लेने से देना अधिक श्रेयस्कर है.
rachana said…
ये गीत मुझे बहुत पसंद है .आप जो भी जानकारी रगों के बारे में देते हैं बहुत अच्छे तरीके से लिखते है .बहुत रोचक लगता है
आप को बधाई हो
सादर
रचना
Shamikh Faraz said…
बहुत ही सुन्दर गीत.

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया