Skip to main content

तू चंदा मैं चांदनी.....शब्द संगीत और आवाज़ का अद्भुत संगम

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 228

"जब मेरे देश की जनता युद्ध में जाते थे लड़ने के लिए अपने उस राजा की ख़ातिर जिसे शायद उन लोगों ने कभी देखा भी नहीं होगा, तब मैने उनके कुशलता की कामना की और युद्ध जीत कर जब वे वापस आए तो मैने ही उनका स्वागत किया। जब सावन की पहली बौछार इस सूखी धरती पर पड़ी और गन्ने की कोमल कोपलें मिट्टी से बाहर झाँकने लगीं सूरज को ढ़ूढते हुए, उस समय भी मैं ही वहाँ मौजूद था। मेरा नाम है मांड।" जी हाँ दोस्तों, मांड ही वह राग है जो शास्त्रीय होते हुए भी लोक धुनों में अपना परिचय खोजता है। यह मिट्टी से जुड़ा हुआ राग है, ख़ास कर के राजस्थान की मिट्टी से जुड़ा हुआ है मांड। तभी तो जब भी कभी राजस्थान के पार्श्व पर किसी फ़िल्म का निर्माण हुआ है, उन फ़िल्मों के संगीतकारों ने इस राग का भरपूर फ़ायदा उठाया है। मांड का सब से सुपरिचित उदाहरण है "केसरिया बालमा ओ जी", जिसे अलग अलग अंदाज़ में कई संगीतकारों ने अपने फ़िल्मों में जगह दी है। हृदयनाथ मंगेशकर ने फ़िल्म 'लेकिन' में लता जी से इसे गवाया था "केसरिया बालमा ओ जी, के तुमसे लागे नैन", और हाल ही में 'नन्हा जयसल्मेर' फ़िल्म में हिमेश रेशम्मिया के संगीत में जयेश गांधी और सोनू निगम ने गाया था "केसरिया बालमा ओ जी, पधारो म्हारे देस" जिसमें मांड और पाश्चात्य रीदम का फ़्युज़न किया गया था। राजस्थान की मिट्टी की ख़ुशबू है इस राग में, जिसे सुनते ही मन जैसे पंख लगाकर उड़ जाता है उस रंगीले सरज़मीन पर, मरुभूमी पर ऊँटों की चलती कतारें, रंग बिरंगी पगड़ियाँ सर पर बांधे वहाँ के सजीले लोग, बंजारों का सुरीला संगीत, मुँह में पानी लाता वहाँ का स्वादिष्ट खानपान, कुल मिलाकर इन सभी चीज़ों की एक झलक दिखा जाती है राग मांड। युं तो इस राग का प्रयोग ज़्यादातर राजस्थानी लोक संगीत पर बने गीतों में किया गया है, लेकिन सचिन देव बर्मन ने इस राग का इस्तेमाल फ़िल्म 'अभिमान' के उस हिट गीत में भी किया था, याद है ना आपको, "अब तो है तुमसे हर ख़ुशी अपनी"? लेकिन आज हम जिस गीत को सुनने जा रहे हैं वह है जयदेव की धुन पर बालकवि बैरागी के बोल, लता जी का गाया फ़िल्म 'रेशमा और शेरा' का गीत "तू चंदा मैं चाँदनी तू तरुवर मै शाख रे, तू बादल मैं बिजली, तु पंछी मैं प्यास रे"। यह बिल्कुल सच बात है कि जब भी साहित्य जगत के कवियों ने फ़िल्मों में गानें लिखे हैं, हर बार एक अलग ही मुकाम तक पहुँचाया है उन गीतों को। बैरागी जी का लिखा यह गीत फ़िल्मी गीतकारों के लिए किसी बाइबल से कम नहीं। शब्दों की ख़ूबसूरती किसे कहते हैं बैरागी जी ने इस गीत में दिखाया है। और लता जी की आवाज़ की क्या तारीफ़ भला, ख़ुद तारीफ़ ही शर्मा जाए ऐसी आवाज़-ओ-अंदाज़ को सुनकर!

दोस्तों, इससे पहले कि आप यह गीत सुनें, आइए आज कुछ बातें हो जाए संगीतकार जयदेव के बारे में। जयदेव एक ऐसे संगीतकार रहे जिनका हर एक गीत अपने आप में एक अनमोल मोती के बराबर है। उन्हे बहुत ज़्यादा फ़िल्मों में काम करने का मौका नहीं मिला, लेकिन 'क्वांटिटी' का उन्होने 'क्वालिटी' से भरपाई ज़रूर की। आज के दौर के संगीतकार और उनके समकालीन संगीतकार उनका नाम बड़े ही सम्मान के साथ लेते हैं। पार्श्व गायक सुरेश वाडेकर जयदेव जी को पापाजी कह कर बुलाते थे। सुरेश जी के शब्दों में - "पापाजी ने बहुत मेलडियस काम किया है, ख़ूबसूरत ख़ूबसूरत गानें दिए श्रोताओं के लिए। मैं भाग्यशाली हूँ कि मैने उनको ऐसिस्ट किया ६/८ महीने। 'सुर सिंगार' प्रतियोगिता जीतने के बाद मुझे उनके साथ काम करने का मौका मिला। वो मेरे गुरुजी के क्लोज़ फ़्रेंड्स में थे। मेरे गुरुजी थे पंडित जियालाल बसंत। लाहौर से वो उनके करीबी दोस्त थे। पापाजी ने मेरे गुरुजी से कहा कि इसे मेरे पास भेजो, एक्स्पिरीयन्स हो जाएगा कि गाना कैसे बनता है, एक अच्छा अनुभव हो जाएगा। मैं गया उनके पास, वहीं पे मेरी लता जी से जान पहचान हो गई, उस समय वो फ़िल्म 'तुम्हारे लिए' का गाना "तुम्हे देखती हूँ तो लगता है ऐसे" के लिए आया करती थीं। मुझे वहाँ मज़ा आता था। कभी रीदम सेक्शन, कभी सिटिंग्स में जाया करता था, तबला लेकर उनके साथ बैठता, कैसे गाना बनता है, शायर भी होते थे वहाँ, फिर गाना बनने के बाद 'ऐरेंजमेंट' कैसे किया जाता है, ये सब मैने देखा और सीखा। जयदेव जी के गीतों में फ़ोक का एक रंग होता था मीठा मीठा सा, गीत क्लासीक़ी और मेलडी भरा होता था, गाने में चैलेंज हमेशा होता था। पापाजी की साँस थोड़ी कम थी, इसको ध्यान में रख कर गाना बनाते थे कमाल का। "मैं ज़िंदगी का साथ निभाता चला गया" में छोटे छोटे टुकड़ों में इतना अच्छा लगता है। गाना शुरु होते ही लगता है कि ये तो पापाजी का गाना है। उनकी पहचान, उनका स्टैम्प उनके गानों में होता था। मैं बहुत भाग्यशाली रहा, उनसे बहुत कुछ सीखने को मिला।" वैसे दोस्तों, भाग्यशाली तो हम सभी हैं कि जयदेव जी की ऐसी मीठी, सुरीली रचनाएँ आज हमारे पास सुरक्षित हैं जो युगों युगों तक उनकी याद हमें दिलाती रहेंगी। चाहे शास्त्रीय संगीत हो या लोक संगीत, जयदेव के गीतों में कुछ भी अनावश्यक नहीं लगता। गीत के अनुरूप धुन की पूर्णता का अहसास कराता है उनका संगीत, ना कुछ कम ना कुछ ज़्यादा, बिल्कुल आज के इस प्रस्तुत गीत की तरह, सुनिए...



तू चन्दा मैं चाँदनी, तू तरुवर मैं शाख रे
तू बादल मैं बिजुरी, तू पंछी मैं पाख रे ।
न सरवर ना बावडी़ ना कोई ठ्ण्डी छांव
ना कोयल ना पपीहरा ऐसा मेरा गांव री
कहाँ बुझे तन की तपन
ओ सैयां सिरमोर
चन्द्र किरन को छोड़कर
जाए कहाँ चितचोर
जाग उठी है सावंरे
मेरी कुआंरी प्यास रे
अंगारे भी लगने लगे पिया
आज मुझे मधुमास रे ।
तुझे आँचल में रक्खूंगी ओ सांवरे
काळी अलकों से बाधूंगी ये पांव रे
गलबहियां वो डालूं कि छूटे नहीं
मेरा सपना सजन अब टूटे नहीं
मेंह्दी रची हथेलियां मेरे काजर वारे नैन रे
पल पल तोहे पुकारते पिया
हो हो कर बैचेन रे ।
ओ मेरे सावन सजन, ओ मेरे सिन्दूर
साजन संग सजनी भली मौसम संग मयूर
चार पहर की चाँदनी
मेरे संग बिता
अपने हाथों से पिया मुझे लाल चुनर उढ़ा
केसरिया धरती लगे, अम्बर लालम लाल रे
अंग लगा कर सायबा
कर दे मुझे निहाल रे..
.

और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. अभी हाल में प्रर्दशित "स्लम डॉग करोड़पति" में इस भजन के मूल रचेता का नाम पूछा गया था.
२. राग है - "केदार".
३. इस समूह गीत में महिला स्वर सुधा मल्होत्रा का है.

पिछली पहेली का परिणाम -

चलिए शरद जी ने राह छोडी और पूर्वी जी पहुँच गयी ४६ के निजी स्कोर पर, बधाई, दिलीप जी आपको एक मेल किया है देखिएगा.

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

दरशन दो घन्श्याम नाथ मोरी अंखियां प्यासी रे
स्लमडॊग करोड़्पति में इस भजन के रचयिता का नाम सूरदास बताया गया था जबकि इसके रचनाकार है गोपालसिंह नेपाली
मेल के लिये धन्यवाद, मगर आश्चर्य है, अभी तक मिला नहीं है. dilipkawathekar@gmail.com.
तू चन्दा मैं चांदनी गाने की मेलोडी अल्टिमेट कही जा सकती है.

जयदेव जी से एक मुलाकात हुई थी तो उनके पसंदीदा ५ गीतों में इस गीत का नंबर था.इसके लिये उन्होने खूब मेहनत ली थी बनाने में , मगर वे हंस कर बोले, लता जी नें एक दम कम रिहल्सल में ही इतना परफ़ेक्ट गा डाला!!!!

She is Really Great!!
संगीत मे सुजाय जी का ग्यान देख कर हैरानी होती है हमेशा ही सुन्दर गीतों का चुनाव आनन्द दायक रहता है आभार इस सुन्दर गीत के लिये भी।
अजी गीत ने मस्त कर दिया, बहुत सुंदर हम ने दो बार सुना. धन्यवाद
Shamikh Faraz said…
शरद जीको बधाई.

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया