Skip to main content

जीवन के सफर में राही मिलते है बिछुड़ जाने को...और बिछड़ गया वो संजीदा शायर हमसे

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 242

"रो..रो के इन्ही राहों में खोना पड़ा एक अपने को, हँस हँस के इन्ही राहों में अपनाया था बेगाने को। जीवन के सफ़र में राही मिलते हैं बिछड़ जाने को, और दे जाते हैं यादें तन्हाई में तड़पाने को"। ये पंक्तियाँ सुनने में निराशावादी भले ही लगे, लेकिन है बिल्कुल सच। आज २५ अक्तुबर का दिन हम सब के लिए एक आम तारीख़ हो सकता है, लेकिन साहित्य और फ़िल्म संगीत के रसिकों के लिए आज का दिन यादगार दिन है, क्योंकि आज है महान शायर व गीतकार साहिर लुधियानवी साहब की पुण्यतिथि। २५ अक्तुबर १९८० के दिन इस दुनिया-ए-फ़ानी को हमेशा के लिए छोड़ गये थे साहिर साहब, और अपने पीछे छोड़ गए अपने शब्दों का एक ऐसा महासागर जिसमें मोतियाँ हैं अनगिनत, और जिनमें सुरीली तरंगें हैं बेशुमार! साहिर लुधियानवी और सचिन देव बर्मन पर केन्द्रित शृंखला 'जिन पर नाज़ है हिंद को' का आज का यह अंक समर्पित है साहिर साहब की पुण्य स्मृति को। मोह भंग, विद्रोह और निराशा के सुर साहिर लुधियानवी की ज़िंदगी के हिस्से बन गए थे। पिता का दुर्व्यवहार और कॊलेज का पहला असफ़ल प्रेम उनके कोमल मन पर गहरा असर कर गया था। इसलिए फ़िल्मों में भी गानें लिखते वक़्त अक्सर उनके मन की भड़ास और दर्द बार बार उनके गीतों से छलक पड़ी है। कई बार व्यंगात्मक तरीके से, कभी सीधे सीधे। हमने आज जिस गीत को चुना है, वह है फ़िल्म 'मुनीमजी' का "जीवन के सफ़र में राही मिलते हैं बिछड़ जाने को"। वैसे तो इस गीत का एक सैड वर्ज़न भी है लता जी की आवाज़ में, लेकिन आज हम आपको इसका ज़्यादा लोकप्रिय वर्ज़न सुनवा रहे हैं जिसे किशोर कुमार ने गाया है। 'मुनीमजी' १९५५ की सुबोध मुखर्जी की फ़िल्म थी, जिसमें कलाकार थे देव आनंद और नलिनी जयवंत। इसी फ़िल्म से देव साहब अपने उन मैनरिज़्म्स में नज़र आए जिनकी वजह से वो आगे जाने गए और जो उनका ट्रेडमार्क बना रहा, और आज भी है। इस फ़िल्म में बर्मन दादा के संगीत और साहिर साहब के गीत तो थे ही, शैलेन्द्र ने भी कुछ गानें इस फ़िल्म में लिखे थे। लेकिन फ़िल्म का सब से ज़्यादा लोकप्रिय गीत साहिर साहब की कलम से ही निकला था। जी हाँ, हमारा इशारा आज के प्रस्तुत गीत की तरफ़ ही है।

फ़िल्म 'मुनीमजी' के इस गीत को अगर किशोर कुमार का गाया हुआ पहला ब्लॊकबस्टर गीत कहा जाए तो शायद बहुत ज़्यादा ग़लत बात नहीं होगी। इस गाने की चरम लोकप्रियता का एक ही कारण मुझे जो लगता है, वह यह कि बहुत ही सीधे सरल शब्दों में जीवन दर्शन की गहरी बात कही गई है, और धुन भी ऐसा है कि जिसे आम जनता आसानी के गा सके, गुनगुना सके। जैसा कि उपर हमने आपको बताया कि साहिर साहब अक्सर अपने दिल की भड़ास को कभी व्यंगात्मक अंदाज़ से तो कभी सीधे सीधे व्यक्त कर देते थे, तो इस गीत के साथ तो ये दोनों तरीके अपनाए गए हैं। मेरे कहने का मतलब है कि किशोर दा वाले वर्ज़न, जो कि ख़ुशनुमा सा सुनाई देता है, उसमें पहला तरीका अपनाया गया है, जब कि लता जी वाले सैड वर्ज़न में सीधे सीधे नायिका अपना दर्द बयान करती है। किशोर दा वाले गीत की एक उल्लेखनीय बात यह है कि गीत के बोल तो हैं बिछड़ने की, दग़ा देने की, बेवफ़ाई की, लेकिन संगीत बड़ा ही पेप्पी है, ख़ुशमिज़ाज है। इस तरह का विरोधाभास कई और गीतों में भी समय समय पर हुआ है, मस्लन, फ़िल्म 'सौतन' में आशा भोसले का गाया "जब अपने हो जाए बेवफ़ा तो दिल टूटे" कुछ कुछ इसी अंदाज़ का है। इससे पहले कि आप गीत सुनें, आपको बता दें कि इस फ़िल्म में लता जी के गाए साहिर साहब के कुछ बेहद सुरीले गानें थे जैसे कि "घायल हिरणिया मैं बन बन डोलूँ", "साजन बिन नींद ना आवे", "एक नज़र बस एक नज़र जानेतमन्ना देख इधर" और "आँख खुलते ही तुम छुप गए हो कहाँ"। लेकिन आज बारी है किशोर दा के आवाज़ की, तो सुनते हैं...



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा अगला (पहले तीन गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी, स्वप्न मंजूषा जी और पूर्वी एस जी)"गेस्ट होस्ट".अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. साहिर साहब का लिखा एक यादगार गीत.
२. संगीत बर्मन दा का है.
३. इस चंचल से गीत में गायिका ने बड़े शरारती अंदाज़ में कई बार "उई" शब्द का इस्तेमाल किया है.

पिछली पहेली का परिणाम -

पराग जी अभी आपको लगता है इंतज़ार करना पड़ेगा, क्योंकि शरद जी ने एक और सही जवाब देकर २ अंक कमा लिए हैं, आपका स्कोर हुआ २६. बधाई

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

उई देख के अकेली मोहे बरखा सताए
गायिका : गीता दत्त और साथी
फ़िल्म : बाज़ी
बहुत सुंदर गीत सुन कर मजा आ गया.
धन्यवाद
AVADH said…
भाई शरद जी,
दाद देते हैं आपकी याददाश्त और संगीत ज्ञान की.
वाकई कितना भी सर खुजाने पर भी इस गीत को समझना बहुत मुश्किल था.
अवध लाल
उन दिनों हमारे कसबे में आखिरी क्लास जमीन वाली होती थी. इसके लिए २ आने लगते थे. हमने इस गाने के लिए इस फिल्म को ८ बार देखी थी. मजा आ गया
'मुनीमजी' किशोर कुमार और देव आनंद के सफल जोड़ी का एक बेहतरीन नमूना है |

मैंने कई बार देखी है इसे |
लेख के लिए
धन्यवाद |

अवनीश तिवारी

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया