Skip to main content

हम मतवाले नौजवान मंजिलों के उजाले...युवा दिलों की धड़कन बनी किशोर कुमार की आवाज़

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 168

न्म से लेकर मृत्यु तक आदमी की ज़िंदगी उसे कई पड़ावों से पार करवाता हुआ अंजाम की ओर ले जाती है। इन पड़ावों में एक बड़ा ही सुहाना, बड़ा ही आशिक़ाना, और बड़ा ही मस्ती भरा पड़ाव होता है, जिसे हम जवानी कहते हैं। ज़िंदगी में कुछ बड़ा बनने का ख़्वाब, दुनिया को कुछ कर दिखाने का इरादा, अपने परिवार के लिए बेहतर से बेहतर ज़िंदगी की चाहत हर जवाँ दिल की धड़कनों में बसी होती है। साथ ही होता है हला-गुल्ला, ढ़ेर सारी मस्ती, और बिन पीये ही चढ़ता हुआ नशा। नशा आशिक़ी का, प्यार मोहब्बत का। जी हाँ, जवानी के जस्बों की दास्तान आज सुनिए किशोर दा की सदा-जवाँ आवाज़ में। यह है फ़िल्म 'शरारत' का गीत "हम मतवाले नौजवाँ मंज़िलों के उजाले, लोग करे बदनामी कैसे ये दुनियावाले". सन् १९५९ में बनी फ़िल्म 'शरारत' के निर्देशक थे हरनाम सिंह रावल और मुख्य कलाकार थे किशोर कुमार, मीना कुमारी, राजकुमार और कुमकुम। आप को याद होगा 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में इससे पहले हमने आप को किशोर कुमार और मीना कुमारी पर फ़िल्माया हुआ फ़िल्म 'नया अंदाज़' का "मेरी नींदों में तुम" सुनवाया था। इस फ़िल्म 'शरारत' में भी एक और बड़ा ही ख़ूबसूरत युगल गीत है इस जोड़ी पर फ़िल्माया हुआ, जिसे किशोर दा और गीता दत्त ने गाये हैं और गीत है "तूने मेरा दिल लिया, तेरी बातों ने जादू किया"। इस गीत को हम फिर कभी आपको सुनवायेंगे।

'शरारत' में शंकर जयकिशन का संगीत था। आम तौर पर शंकर जयकिशन ने मुकेश और मोहम्मद रफ़ी से ही ज़्यादा गानें गवाये, लेकिन उन फ़िल्मों में जिनमें किशोर कुमार ख़ुद नायक थे, उनमें किशोर कुमार से गानें गवाना ज़रूरी था। ऐसी ही एक फ़िल्म थी 'करोड़पति' जिसमें किशोर कुमार और शशीकला थे। यह फ़िल्म शशीकला की होम प्रोडक्शन फ़िल्म थी और इस वजह से उन्हे किशोर दा के साथ काफ़ी समय बिताने का मौका भी मिला। किशोर की यादों के उजालों को कुछ इस तरह से शशीकला जी ने विविध भारती पर बिखेरा था - "'करोड़पति' हमारे घर की फ़िल्म थी। उसमें मैं थी, और हमारे किशोर कुमार थे। 'म्युज़िक' था शंकर जयकिशन का। लेकिन फ़िल्म बिल्कुल नहीं चली। गानें भी नहीं चले। शंकर जयकिशन म्युज़िक डिरेक्टर थे, फिर भी नहीं चले। हम कहते थे कि 'करोड़पति' बनाते बनाते हम कंगालपति बन गये। उन दिनों में, मेरा ख़याल है सिर्फ़ ३ या ४ आर्टिस्ट्स टॊप में थे - दिलीप कुमार, राज कपूर, देव आनंद और किशोर कुमार। उनको मिलना मुश्किल था। किशोर दा 'टाइम' देते थे, मिलते नही थे। 'टाइम' देते थे, कभी नहीं आते थे। आप को मैं उनका आख़िरी क़िस्सा सुनाती हूँ। फ़िल्म तो बन गयी, फ्लॉप भी हो गयी, चली भी नहीं, ये सब हुआ, एक दिन मुझे फ़ोन आता है उनका कि 'शशी, तुम मुझे मिलने आओ'। तो मैं गयी अपने 'फ़्रेन्ड' के साथ मिलने के लिए। तो बात कर रहे हैं, 'मुझे 'हर्ट अटैक' हो गया, ऐसा हुआ, वैसा हुआ'। और 'सडेन्ली' मुझे आवाज़ आती है 'टाइम अप, टाइम अप, टाइम अप '। मैं तो घबरा गयी, मैने कहा 'अरे ये कहाँ से आवाज़ आ रही है?' हँसने लगे 'हा हा हा हा हा... पता है मैं 'हर्ट' का 'पेशंट' हूँ ना, इसलिए यहाँ पे एक 'रिकॉर्डिंग' करके रखी है, ५ मिनट से ज़्यादा किसी से बात नहीं करनी है'। मैने कहा 'किशोर दा, आप ने मुझे डरा ही दिया बिल्कुल!' और बहुत 'ईमोशनल' थे मेरा ख़याल है, 'very emotional person'। उनके तो कितने क़िस्से हैं, जितना सुनायें कम है, पर बहुत ही अच्छे, बहुत ही कमाल के 'आर्टिस्ट', 'जीनियस' भी कहना चाहिए, देखिए गाने भी उन्होने कितने अच्छे लिखे, 'म्युज़िक' भी कितना अच्छा दिया, 'सिंगिंग' तो अच्छा करते ही थे।" दोस्तों, हमने आज के गीत को थोड़ी देर के लिए अलग रख कर आप को शशीकला जी के एक साक्षात्कार के एक अंश से अवगत करवाया जिसमें उन्होने किशोर दा के बारे में बातें कहीं थीं। आशा है आप को अच्छा लगा होगा। तो अब वापस आ जाते हैं आज के गीत पर, और सुनते हैं जवानी के क़िस्से, हसरत जयपुरी के शब्दों में, जो शंकर जयकिशन के संगीत में रच कर किशोर दा की आवाज़ में ढल कर आप तक पहुँच रहा है।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

1. किशोर दा का गाया एक बेहद "सेन्शुअस" गीत.
2. कल के गीत का थीम है - "रोमांस".
3. एक अंतरा शुरू होता है इस शब्द से -"रात".

पिछली पहेली का परिणाम -
रोहित जी बधाई ६ अंक हुए आपके अब आप तीसरे स्थान पर हैं. पराग जी (१२), दिशा जी (१०), मनु जी हैं ठीक आपके पीछे ४ अंकों के साथ. लगता है मुकाबला दिलचस्प होने वाला है.

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

आज तो लगता है इस गीत को पहचानने में बहुत से लोग भूल करेंगे ।
आज तो अभी तक कोई नहीं आया मुझ पर अगर रोक नहीं लगी होती तो मै बता देता
Anonymous said…
raat nashili mast sama hai, aaj nashe me sara jahan hai.

ROHIT RAJPUT
'अदा' said…
This post has been removed by the author.
'अदा' said…
sharad ji,
main late ho gayi..
kal to aa hi nahi paayi
lekin yakeen kijiye miss bahut kiya maine...
Parag said…
रूप तेरा मस्ताना प्यार मेरा दीवाना यही सही जवाब लग रहा है

पराग
manu said…
hnm...
shaayad yahi..
:)
sumit said…
mujhe bhi yehe geet lag raha hai.......
sumit said…
mujhe bhi yehe geet lag raha hai.......
Manju Gupta said…
सुमित जी की हाँ में हाँ मिला रही हूँ .
Shamikh Faraz said…
चलो किसी ने जवाब तो दिया.

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट 'तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर बनेगी प्रीत...'   ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस लघु श्रृंखला में हम आपसे भारतीय संगीत के रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था पर चर्चा कर रहे हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। व