Skip to main content

छू लेने दो नाज़ुक होंठों को...राज कुमार का संजीदा अंदाज़ और रफी साहब की गलाकारी

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 155

मोहम्मद रफ़ी पर केन्द्रित विशेष शृंखला 'दस चेहरे एक आवाज़' के लिए आज हम ने जिस चेहरे को चुना है, वो ज़्यादातर जाने जाते हैं अपने संवाद अदायगी के ख़ास अंदाज़ की वजह से। जी हाँ, ज़िक्र है राजकुमार साहब का। राजकुमार जैसे अभिनेताओं पर गानें नहीं फ़िल्माये जाते, उनकी संवाद अदायगी और अभिनय ही उनके निभाये किरदारों के केन्द्रबिंदु में रहे। लेकिन फिर भी कुछ फ़िल्मों में उन्होने परदे पर कुछ गानें भी गाये, और जिनमें से अधिकतर रफ़ी साहब की ही आवाज़ में थे। 'नीलकमल', 'हीर रांझा', और 'काजल' कुछ ऐसी ही फ़िल्में हैं। आज इनमें से सुनिये फ़िल्म 'काजल' का वह सदाबहार नग़मा जिसमें है अजीब सा एक नशा है जिसे सुनकर यकायक मन बहकने लगे, क़दम डगमागाने लगे। "छू लेने दो नाज़ुक होठों को, कुछ और नहीं है जाम है ये, कुदरत ने जो हमको बख़्शा है, वो सब से हसीं इनाम है ये"। सन्‍ १९६५ में बनी फ़िल्म 'काजल' का निर्माण व निर्देशन किया था राम महेश्वरी ने और राजकुमार के अलावा फ़िल्म के प्रमुख कलाकार थे मीना कुमारी और धर्मेन्द्र। कहानी गुल्शन नंदा की थी और पटकथा फणी मजुमदार का। गीतकार साहिर और संगीतकार रवि के गीत संगीत का भी बड़ा हाथ रहा फ़िल्म की कामयाबी में। प्रस्तुत गीत के अलावा रफ़ी साहब का गाया एक और गीत जो बड़ा ही मशहूर हुआ था वह है "ये ज़ुल्फ़ अगर खुल के बिखर जाये तो अच्छा"। आशा भोंसले की आवाज़ में "मेरे भ‍इया मेरे चंदा मेरे अनमोल रतन" और "तोरा मन दर्पण कहलाये" भी ख़ूब चले थे।

विविध भारती पर एक बार शायर व गीतकार साहिर लुधियानवी पर एक विश्लेषण सभा का आयोजन किया गया था जिसमे शरीक़ हुये थे संगीतकार रवि, शायर अहमद वसी, और विविध भारती के वरिष्ठ उद्‍घोषक रज़िया रागिनी व कमल शर्मा। उसमें फ़िल्म 'काजल' के प्रस्तुत गीत के बारे में रवि साहब ने कहा था - "फ़िल्म 'काजल' के 'प्रोड्युसर डिरेक्टर' ने साहिर साहब को कहा कि फ़िल्म में राजकुमार मीना कुमारी को शराब पीने के लिए ज़िद कर रहे हैं, इस 'सिचुयशन' पर दो शेर लिख दें। तो अगले दिन साहिर साहब दो शेर लिख कर ले आये, "छू लेने दो नाज़ुक होठों को, कुछ और नहीं है जाम है ये, कुदरत ने जो हमको बख़्शा है, वो सब से हसीं इनाम है ये"। मैने जब इस शेर को सुना तो मैने उनसे कहा कि 'इतना अच्छा लिखा है आप ने, इस का तो गाना बनना चाहिए'। लेकिन प्रोड्युसर साहब ने कहा कि 'राजकुमार साहब गाने वाने नहीं गायेंगे, वो कहाँ गाते हैं?' लेकिन मैने भी ज़िद नहीं छोड़ी और यह गीत बनकर रहा। रफ़ी साहब ने जब इसे गाया तो 'रिकॉर्डिंग' पर मौजूद सभी लोग वाह वाह कर उठे। और जब फ़िल्म के डिस्ट्रिब्युटरों ने यह गीत सुना तो कहने लगे कि 'इतने अच्छे गाने में बस दो ही शेर (दो अंतरे)?' तब लोगों ने साहिर साहब को चारों तरफ़ ढूँढा पर पूरे शहर में कहीं उनका पता न चल सका, और इस तरह से दो ही अंतरे इस गाने में रह गये।" तो दोस्तों, यह थी इस गीत के बनने की कहानी, अब वक़्त हो चुका है गीत को सुनने का, सुनिये...



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा दूसरा (पहले गेस्ट होस्ट हमें मिल चुके हैं शरद तैलंग जी के रूप में)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

1. बेहद खुशमिजाज़ अंदाज़ में गाया है रफी साहब ने इस गीत को.
2. कलाकार हैं -"शशि कपूर".
3. एक अंतरा खत्म होता है इन शब्दों पर -"जुल्फ लहराई".

सुनिए/ सुनाईये अपनी पसंद दुनिया को आवाज़ के संग -
गीतों से हमारे रिश्ते गहरे हैं, गीत हमारे संग हंसते हैं, रोते हैं, सुख दुःख के सब मौसम इन्हीं गीतों में बसते हैं. क्या कभी आपके साथ ऐसा नहीं होता कि किसी गीत को सुन याद आ जाए कोई भूला साथी, कुछ बीती बातें, कुछ खट्टे मीठे किस्से, या कोई ख़ास पल फिर से जिन्दा हो जाए आपकी यादों में. बाँटिये हम सब के साथ उन सुरीले पलों की यादों को. आप टिपण्णी के माध्यम से अपनी पसंद के गीत और उससे जुडी अपनी किसी ख़ास याद का ब्यौरा (कम से कम ५० शब्दों में) हम सब के साथ बाँट सकते हैं वैसे बेहतर होगा यदि आप अपने आलेख और गीत की फरमाईश को hindyugm@gmail.com पर भेजें. चुने हुए आलेख और गीत आपके नाम से प्रसारित होंगें हर माह के पहले और तीसरे रविवार को "रविवार सुबह की कॉफी" शृंखला के तहत. आलेख हिंदी या फिर रोमन में टंकित होने चाहिए. हिंदी में लिखना बेहद सरल है मदद के लिए यहाँ जाएँ. अधिक जानकारी ये लिए ये आलेख पढें.


पिछली पहेली का परिणाम -

अदा जी गलत जवाब, कोई बात नहीं हो जाता है कई बार, पर इसी बहाने एक नए विजेता से हमारा साक्षात्कार हुआ. किश या एरोशिक जो भी इनका नाम है उनको बधाई. २ अंक मिले आपको. दिलीप जी बहुत अच्छी जानकारी दी आपने, बाकी सभी श्रोताओं से भी अनुरोध है कि अपनी पसंद के गीत और लघु आलेख रक्षा बंधन वाले रविवार सुबह की कॉफी एपिसोड के लिए जल्दी भेजें

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

क्या हुआ? अभी तक गीत ढूंढ ही रहे है क्या सब लोग ? मैं तरस रहा हूँ जवाब देने के लिए ।
Disha said…
likhe jo khat tujhe
Disha said…
लिखे जो खत तुझे वो तेरि याद में हजारों रंग के नजारे बन गये
सवेरा जब हुआ तो फूल बन गये जो रात आयी तो सितारे बन गये
अदा जी
मन्ज़िल के इतने करीब आ कर भी आपको क्या हो गया है ।
Disha said…
लिखे जो खत तुझे वो तेरि याद में हजारों रंग के नजारे बन गये
सवेरा जब हुआ तो फूल बन गये जो रात आयी तो सितारे बन गये
कोइ नग्मा कहीं गूँजा, कहा दिल ने ये तू आयी
कहीं चटकी कली कोइ, मैं ये समझा तू शरमायी
कोइ खुशबू कहीं बिखरी, लगा ये जुल्फ लहरायी
लिखे जो खत तुझे वो तेरि याद में हजारों रंग के नजारे बन गये
गायक- मोहम्मद रफी
गीतकार- नीरज
संगीत-शंकर जयकिशन
फिल्म- कन्यादान
sumit said…
अगर सिर्फ लहरायी शब्द होता तो मैं ये गाना लिखता दिल ने फिर याद किया बर्क़ सी लहरायी है


disha जी को सही जवाब के लिए बधाई
sumit said…
vaise मुझे ये नहीं पता दिल ने फिर याद........gaane में कौन सा hero है
'ada' said…
chalo ji ye to hona hi tha kaam se mujhe jana pada abhiaadhe ghante pahle aayi hun aur sab mamla ho chuka hai
Disha ji bahu bahut badhai..
Sharad ji aapko nahi maloom kitni dukhi hun main

Sumit ji
dil ne fir yaad kiya ko screen par gaya hai Dharmendra ne Nutan aur rehmaan ke saamne kashti par baith kar...
manu said…
तेरी खुशबू कहीं बिखरी लगा ये जुल्फ लहराई...
erohsik said…
likhe jo khat tujhe woh teri yaad mein hazaaron rang ke nazaaren ban gaye
Singer: Rafi
Film: Kanyadaan
Year: 1968
Music: Shankar-Jaikishan
Lyrics: Gopaldas Neeraj

Kish...
A.I.M. Team said…
likhe jo khat tujhe woh teri yaad mein hazaaron rang ke nazaaren ban gaye
Singer: Rafi
Film: Kanyadaan
Year: 1968
Music: Shankar-Jaikishan
Lyrics: Gopaldas Neeraj
erohsik said…
likhe jo khat tujhe woh teri yaad mein hazaaron rang ke nazaaren ban gaye
Singer: Rafi
Film: Kanyadaan
Year: 1968
Music: Shankar-Jaikishan
Lyrics: Gopaldas Neeraj
Manju Gupta said…
लिखे जो ख़त तुझे,तेरी याद में, ........
Shamikh Faraz said…
दिशा जी को सही जवाब के लिए मुबारकबाद.

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया