Skip to main content

मानसून की आहटें और कवि मन की छटपटाहटें

शब्दों की चाक पर - एपिसोड 03

शब्दों की चाक पर निरंतर सज रही हैं कवितायेँ...इस बार हमने थीम दिया था अपने कवियों को "मानसून की आहटें", इससे पहले कि आप ग्रीष्म ऋतु में मानसून की आहटों पर कान धरे हमारे कवियों के मनो भाव सुनें आईये एक बार फिर समझ लें इस कार्यक्रम की रूप रेखा -


1. कार्यक्रम की क्रिएटिव हेड रश्मि प्रभा के संचालन में शब्दों का एक दिलचस्प खेल खेला जायेगा. इसमें कवियों को कोई एक थीम शब्द या चित्र दिया जायेगा जिस पर उन्हें कविता रचनी होगी...ये सिलसिला सोमवार सुबह से शुरू होगा और गुरूवार शाम तक चलेगा, जो भी कवि इसमें हिस्सा लेना चाहें वो रश्मि जी से संपर्क कर उनके फेसबुक ग्रुप में जुड सकते हैं, रश्मि जी का प्रोफाईल यहाँ है.


2. सोमवार से गुरूवार तक आई कविताओं को संकलित कर हमारे पोडकास्ट टीम के हेड पिट्सबर्ग से अनुराग शर्मा जी अपने साथी पोडकास्टरों के साथ इन कविताओं में अपनी आवाज़ भरेंगें. और अपने दिलचस्प अंदाज़ में इसे पेश करेगें.

3. हर मंगलवार सुबह ९ से १० के बीच हम इसे अपलोड करेंगें आपके इस प्रिय जाल स्थल पर. अब शुरू होता है कार्यक्रम का दूसरा चरण. मंगलवार को इस पोडकास्ट के प्रसारण के तुरंत बाद से हमारे प्रिय श्रोता सुनी हुई कविताओं में से अपनी पसंद की कविता को वोट दे सकेंगें. सिर्फ कवियों का नाम न लिखें बल्कि ये भी बताएं कि अमुख कविता आपको क्यों सबसे बेहतर लगी. आपके वोट और हमारी टीम का निर्णय मिलकर फैसला करेंगें इस बात का कि कौन है हमारे सप्ताह का सरताज कवि. 

चलिए अब लौटे हैं अनुराग शर्मा और अभिषेक ओझा की तरफ और आनंद लें मानसून की ठंडी ठंडी फुहारों का , और साथ में जानिये कि कौन है इस सप्ताह का सरताज कवि. सुनिए सुनाईये और छा जाईये...

(नीचे दिए गए किसी भी प्लेयेर से सुनें)



या फिर यहाँ से डाउनलोड कर सुने

Comments

न शब्द कमज़ोर , न चाक .... सबकी क्षमताएं हैं बेबाक - तराशे भाव और आवाज़ - सब एक से बढ़कर एक
रिमझिम के तराने तो बूंदों की तरह छू गए
इसमें जो लगातार बारिश की आवाज़ आ रही है , उसे सुनकर मैं कई बार बालकनी में गई , अभी पता चला कि अरे ये तो इसमें बज रहा है
न शब्द कमज़ोर , न चाक .... सबकी क्षमताएं हैं बेबाक - तराशे भाव और आवाज़ - सब एक से बढ़कर एक
अनुराग शर्मा जी और अभिषेक ओझा जी का कार्य बहुत ही सराहनीय है और गाने तो सोने पर सुगंध का काम कर रहे हैं .... !!
मॉनसून की कविताओं से मन मयूर नाच उठा .... !!
sushila said…
मनोरम प्रस्तुति! कविता पाठ ही नहीं, बारिश की बूँदों की मन भिगोती टिप-टिप, मद्धिम संगीत और मधुर गीत ! आनंद का संचार करती मोहक प्रस्तुति के लिए बधाई!
Rajesh Kumari said…
बहुत खूबसूरत अद्दभुत मनोरम प्रस्तुति अनुराग शर्मा जी और अभिषेक ओझा जी का यह सरह्निये प्रयास है आवाज और प्रस्तुति दोनों बहुत खूब सूरत हैं.
vandan gupta said…
अनुराग शर्मा जी और अभिषेक ओझा जी कविताओं से न्याय करते अपने स्वरों से बहुत मन से सुसज्जित कर रहे हैं मुझे भी शामिल करने के लिये हार्दिक आभार्……बहुत सुन्दर व सराहनीय अन्दाज़…………मनमोहक प्रस्तुति………सभी एक से बढकर एक्।शिखा को हार्दिक शुभकामनाए
Shaifali said…
कानों में शहद सा घुलता इस बार का कार्यक्रम बेहद मजेदार रहा. रश्मिजी की तरह मैंने भी सोचा की कैलिफोर्निया में अभी बारिश कैसे आ गयी? सजीवजी, अनुरागजी और अभिषेकजी का काम अति उत्तम है. मेरी कविता शामिल कर उत्साह बढाने के लिए बहुत धन्यवाद.
Anonymous said…
शीतल फुहार की तरह लगी आप की आवाज में प्रस्तुति अभिषेक जी + अनुराग जी ...आभार! एक चित्र खींच दिया आपने ! आपने मेरी कच्ची मिटटी सी कविताओं को अपनी आवाजों के चाक से निखार दिया !
डॉ सरस्वती माथुर
dr saraswati Mathur said…
डॉ सरस्वती माथुर

शीतल फुहार की तरह लगी आप की आवाज में प्रस्तुति अभिषेक जी + अनुराग जी ...आभार! एक चित्र खींच दिया आपने ! आपने मेरी कच्ची मिटटी सी कविताओं को आपने अपनी आवाजों के चाक से निखार दिया !डॉ सरस्वती माथुर
Smart Indian said…
आप सभी का हार्दिक आभार!
मानसून की कवितायेँ , गीत और प्रस्तुतीकरण ..मधुरं मधुरं !
शिखाजी को बहुत बधाई !
अनुराग शर्मा जी और अभिषेक ओझा जी, सराहनीय प्रयास है. कविताओं को सुनते हुए खो गया. बहुत आनंद आया. ...... हार्दिक आभार.
लौट आओ पुराने दिन

आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शनिवार 24 जून 2017 को लिंक की जाएगी ....
http://halchalwith5links.blogspot.in
पर आप भी आइएगा ... धन्यवाद!

सराहनीय सृजनात्मक पहल.

Popular posts from this blog

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया

राग कलिंगड़ा : SWARGOSHTHI – 439 : RAG KALINGADA

स्वरगोष्ठी – 439 में आज भैरव थाट के राग – 5 : राग कलिंगड़ा कौशिकी चक्रवर्ती से राग कलिंगड़ा में एक दादरा और लता मंगेशकर से फिल्मी गीत सुनिए लता मंगेशकर विदुषी कौशिकी चक्रवर्ती “रेडियो प्लेबैक इण्डिया” के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी हमारी श्रृंखला “भैरव थाट के राग” की पाँचवीं कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट-व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट, रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्र

‘बरसन लागी बदरिया रूमझूम के...’ : SWARGOSHTHI – 180 : KAJARI

स्वरगोष्ठी – 180 में आज वर्षा ऋतु के राग और रंग – 6 : कजरी गीतों का उपशास्त्रीय रूप   उपशास्त्रीय रंग में रँगी कजरी - ‘घिर आई है कारी बदरिया, राधे बिन लागे न मोरा जिया...’ ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी लघु श्रृंखला ‘वर्षा ऋतु के राग और रंग’ की छठी कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र एक बार पुनः आप सभी संगीतानुरागियों का हार्दिक स्वागत और अभिनन्दन करता हूँ। इस श्रृंखला के अन्तर्गत हम वर्षा ऋतु के राग, रस और गन्ध से पगे गीत-संगीत का आनन्द प्राप्त कर रहे हैं। हम आपसे वर्षा ऋतु में गाये-बजाए जाने वाले गीत, संगीत, रागों और उनमें निबद्ध कुछ चुनी हुई रचनाओं का रसास्वादन कर रहे हैं। इसके साथ ही सम्बन्धित राग और धुन के आधार पर रचे गए फिल्मी गीत भी सुन रहे हैं। पावस ऋतु के परिवेश की सार्थक अनुभूति कराने में जहाँ मल्हार अंग के राग समर्थ हैं, वहीं लोक संगीत की रसपूर्ण विधा कजरी अथवा कजली भी पूर्ण समर्थ होती है। इस श्रृंखला की पिछली कड़ियों में हम आपसे मल्हार अंग के कुछ रागों पर चर्चा कर चुके हैं। आज के अंक से हम वर्षा ऋतु की