मंगलवार, 6 मार्च 2012

मिलिए सागर से जिन्हें लायीं है रश्मि जी ब्लोग्गेर्स चोईस में


सागर को जानना हो तो उसकी लहरों से पूछो, हिम्मत हो तो उसकी गहराई में जाओ - असली सीप असली मोती वहीँ मिलते हैं. चलिए यह जब होगा तब होगा ..... मैंने सागर से उसकी पसंद के ५ गाने मांगे.... सागर ने ४ दिए और कहा - एक पसंद आपकी शामिल हो तो एक सीप और पूर्ण हो.' क्योंकि सागर को ऐतबार है मेरी पसंद पर ('जी' लगाने से सागर की लहरें खो जातीं तो सागर ही लिखा है) तो ४ गाने सागर के, यह कहते हुए कि - 'सुनो और जानो इसमें क्या है !', और साथ में एक गीत मेरी पसंद का.

तो सुना जाए -

१. दिल ढूंढ़ता है फिर वही फुर्सत के रात दिन - दिल्ली में मशीन बना रहता हूँ, सर पर सलीब लटकती रहती है और ख्यालों को खेत में छोड़ आया हूँ इसलिए...


२. तेरे खुशबू में बसे ख़त मैं जलाता कैसे - गंगा, पुल, प्रेम और कोहरे में स्पष्ट दीखता धुंधला सा चेहरा...


३. माई री मैं का से कहूँ पीर अपने जिया की - इसके कुछ शब्द बेहद मौलिक और आत्मीय लगते हैं.


४. वहां कौन है तेरा मुसाफिर जाएगा कहाँ - एस. डी. बर्मन की भटियाली आवाज़... जैसे खाई में कूद जाने का मन होता है.


५. अंत में
एक जो आपको सबसे ज्यादा पसंद हो - अबकी कारण बताने की जरुरत नहीं, आप बेहतर जानती होंगी.
तो आपके साथ मेरी पसंद.

4 टिप्‍पणियां:

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

सारे ही गीत बड़े सुन्दर हैं.

Amit ने कहा…

आँखें बंद करिये और इन गानों को सुनिए आप एक अलग ही दुनिया में पहुँच जायेंगे

Dev K Jha ने कहा…

wah.

Smart Indian ने कहा…

सागर की पसंद के गीत सुनना अच्छा लगा। मगर जिसकी पसन्द सुन रहे हैं उसका थोड़ा सा मौलिक परिचय और चित्र आदि भी पोस्ट में हो तो और अच्छा लगेगा।

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ