Skip to main content

छम छम नाचत आई बहार....एक ऐसा मधुर गीत जिसे सुनकर कोई भी झूम उठे

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 366/2010/66

"एक बार फिर बसंत जवान हो गया,
जग सारा वृंदावन धाम हो गया,
आम बौराई रहा, सरसों भी फूल रहा,
खेत खलिहान शृंगार हो गया,
पिया के हाथ दुल्हन शृंगार कर रही,
आज धूप धरती से प्यार कर रही,
बल, सुंदरता के आगे बेकार हो गया,
सृष्टि पे यौवन का वार हो गया,
रात भी बसंती, प्रभात भी बसंती,
बसंती पिया का दीदार हो गया,
सोचा था फिर कभी प्यार ना करूँगा, पर
'अंजाना' बसंत पे निसार हो गया,
एक बार फिर बसंत जवान हो गया।"

अंजाना प्रेम ने अपनी इस कविता में बसंत की सुंदरता को शृंगार रस के साथ मिलाकर का बड़ा ही ख़ूबसूरत नज़ारा प्रस्तुत किया है। दोस्तों, इन दिनों आप 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर सुन रहे हैं इस रंगीले मौसम को और भी ज़्यादा रंगीन बनानेवाले कुछ रंगीले गीत इस 'गीत रंगीले' शृंखला के अंतर्गत। आज प्रस्तुत है राग बहार पर आधारित लता मंगेशकर की आवाज़ में फ़िल्म 'छाया' का गीत "छम छम नाचत आई बहार"। राजेन्द्र कृष्ण के लिखे इस गीत की तर्ज़ बनाई है सलिल चौधरी ने। १९६१ की यह फ़िल्म ऋषिकेश मुखर्जी की फ़िल्म थी जिसमें मुख्य कलाकार थे सुनिल दत्त और आशा पारेख।

दोस्तों, उपर अभी हमने एक कविता से आपका परिचय करवाया, और तभी मुझे यह ख़याल आया कि आज का यह गीत भी किसी कविता से कम नहीं। इस गीत में बहार की इतनी सुंदरता के साथ वर्णन किया गया है, और हर दृष्टि से यह गीत इतना पर्फ़ेक्ट है कि इस गीत के बारे में कुछ भी कहने की आवश्यक्ता नहीं है। इसलिए हमने सोचा कि इस गीत के बोल ही यहाँ पर प्रस्तुत कर दिए जाएँ। गीत तो आप सुनेंगे ही, लेकिन इन बोलों का आप कविता के रूप में भी आनंद ले सकते हैं।

"छम छम नाचत आई बहार,
पात पात ने ली अंगड़ाई,
झूम रही है डार डार,
छम छम नाचत आई बहार।

महक रही फुलवारी,
निखरी क्यारी क्यारी,
फूल फूल पर जोबन आया,
कली कली ने किया सिंगार,
छम छम नाचत आई बहार।

मन मतवारा डोले,
जाने क्या क्या बोले,
नई नवेली आशा जागी,
झूमत मनवा बार बार,
छम छम नाचत आई बहार।



क्या आप जानते हैं...
कि सलिल चौधरी ने कई टीवी धारावाहिकों के लिए शीर्षक गीत/संगीत तय्यार किया था, जिनमें चर्चित हैं 'दर्पण', 'कुरुक्षेत्र', 'चरित्रहीन' और 'अलग'।

चलिए अब बूझिये ये पहेली, और हमें बताईये कि कौन सा है ओल्ड इस गोल्ड का अगला गीत. हम आपसे पूछेंगें ४ सवाल जिनमें कहीं कुछ ऐसे सूत्र भी होंगें जिनसे आप उस गीत तक पहुँच सकते हैं. हर सही जवाब के आपको कितने अंक मिलेंगें तो सवाल के आगे लिखा होगा. मगर याद रखिये एक व्यक्ति केवल एक ही सवाल का जवाब दे सकता है, यदि आपने एक से अधिक जवाब दिए तो आपको कोई अंक नहीं मिलेगा. तो लीजिए ये रहे आज के सवाल-

1. मुखड़े की पहली पंक्ति में शब्द है -"आज".गीत बताएं-३ अंक.
2. लता के साथ किस पुरुष गायक ने इस गीत में आवाज़ मिलायी है-२ अंक.
3. वी शांताराम निर्देशित इस फिल्म का नाम बताएं -२ अंक.
4. शुद्ध हिंदी में रचे इस गीत के गीतकार कौन हैं -२ अंक.

विशेष सूचना -'ओल्ड इज़ गोल्ड' शृंखला के बारे में आप अपने विचार, अपने सुझाव, अपनी फ़रमाइशें, अपनी शिकायतें, टिप्पणी के अलावा 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के नए ई-मेल पते oig@hindyugm.com पर ज़रूर लिख भेजें।

पिछली पहेली का परिणाम-
शाबाश अवध जी, अब आप इंदु जी से मात्र १ अंक पीछे हैं, शरद जी एकदम सही जवाब, इंदु जी, चलिए आपकी चीटिंग माफ, और आपकी खुशमिजाजी को एक बार फिर सलाम. पदम सिंह जी ने भी खाता खोला है नए संस्करण में बधाई...
खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी
पहेली रचना -सजीव सारथी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

AVADH said…
Are Ja Re Hat Natkhat
Na Chhoo Re Mera Ghoonghat
Palat Ke Dongi AAJ Tujhe Gaali Re
Mujhe Samjho Na Tum Bholi bhali Re
Avadh Lal
AVADH said…
अरे मैं तो समझा था कि मैं आज लेट हो गया. फिर आज रविवार भी था.
पर नए रंगों के उत्सव सम्बन्धी इस श्रृंखला में और उत्तर शीघ्र क्यों नहीं आ रहे हैं?
क्या श्री कृष्ण और रामचंद्र जी के भारत में कोई कमी है?
अवध लाल
AVADH said…
अरे कहाँ गए सब लोग?
राजेंद्र, धर्मेन्द्र, महेंद्र, शैलेन्द्र वगैरह कुछ तो बोलिए.
अवध लाल
indu puri said…
aaj madhutsav dole
अवध जी
ये गीत तो शायद आशा भोसले ने और महेन्द्र कपूर ने गाया है लता ने नही फिर ’आज” भी पहली पंक्ति में नहीं है
गीतकार : भरत व्यास
padm singh said…
lata mangeshkar.and mahendra kapoor sang this song
कुछ गलत टाइप हो गया था अभी देखा
गाना है-
आज मधुवातक डोले मधुरिमा से प्राण बहार लो
AVADH said…
शरद जी,
सचमुच कितनी बड़ी भूल हो गयी.
वोह कहते हैं न जल्दी का काम शैतान का.
इसीलिए जिन सूत्रों का आपने ज़िक्र किया उन पर मैंने बिलकुल ध्यान ही नहीं दिया था.
आपको और इन्दुजी को धन्यवाद और बधाई.
अवध लाल
इन्दु जी
अभी भी गलत है ये सही है :

आज मधुवातास डोले मधुरिमा से प्राण भर लो
चाँद को चुपचाप निरखो चाँदनी में स्नान कर लो ।

ये चमेली सी सुगन्धित रात मधु मुस्का रही
झींगुरों की बीन के झंकार पर कुछ गा रही
चहचहाते विहग भोले किस दिशा में खो गए
मौन है प्राकृति जगत के सकल प्राणी सो गए
मैं कहूँ कुछ कान में तुम जान कर अनजान कर लो

आज तुम क्यों मौन हो कुछ आज मुख से बोल दो
आज अपनी चिर लजीली लाज के पट खोल दो
मूक कलियों से सुनो कुछ प्रणय की पागल कहानी
मद भरी गीली हवा से बात कर लो कुछ सुहानी
बन्द कर पलकें किसी का आज मन मन ध्यान कर लो ।
आज कितने ही युगों के बाद ऐसी चाँदनी
आज कितने ही दुखॊं के बाद ऐसी चाँदनी
आज दोनों अवनि अम्बर पर मधुरिमा छा रही
चाँद अम्बर में अवनि में तुम प्रिये मुस्का रही
आज सपनों में डुबो कर सुनहरे अरमान कर लो ।
indu puri said…
sharad bhaiya jra upar najar daliye speling mistake ho gai hai gana wo hi likha hai maine jo aap bta rhe hain .
arre apne pote hain na tbla bna diya hai is key bord ka .jldi me gane ki ek pnkti hi likhi,pr wo identify ho rhi hai.
bhai sahb kyo gareeb ke pet pr numbers ki laat maarte hain ?

avadha ji aap bhi pdhiye kya maine wo hi gana nhi likha hai ? wo bhi - baar
hi ha hi ha
avadhji aap aur main mil jate hain fir sharad ji ki chlniiiiiich nhi denge
dekho to ekaadhikaar kr rkha hai 'AAWAZ' PR

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया