Skip to main content

मेरी जीवन नैय्या बीच भंवर में गुड़ गुड़ गोते खाए....कैसे रहेंगे मुस्कुराए बिना किशोर दा और पंचम दा के सदाबहार गीत को सुनकर

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 307/2010/07

'पंचम के दस रंग' शृंखला में आज है हमारी आपको गुदगुदाने की बारी। राहुल देव बर्मन ने बहुत सारी फ़िल्मों में हास्य रस के गानें बनाए हैं। इससे पहले कि हम आज के गीत पर आएँ, हम उन तमाम हिट व सुपरहिट गीतों का ज़िक्र करना चाहेंगे जिनमें पंचम ने हास्य रस के रंग भरे हैं। नीचे हम एक पूरी की पूरी फ़ेहरिस्त दे रहे हैं, ज़रा याद कीजिए इन गीतों को, इनमें से कुछ गीत आगे चलकर 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में भी शामिल होंगे ऐसी हम उम्मीद करते हैं।

१. कालीराम का फट गया ढोल (बरसात की एक रात)
२. गोलमाल है भई सब गोलमाल है (गोलमाल)
३. एक दिन सपने में देखा सपना (गोलमाल)
४. मास्टर जी की आ गई चिट्ठी (किताब)
५. कायदा कायदा आख़िर फ़ायदा (ख़ूबसूरत)
६. सुन सुन सुन दीदी तेरे लिए (ख़ूबसूरत)
७. नरम नरम गरम गरम (नरम गरम)
८. एक बात सुनी है चाचाजी (नरम गरम)
९. ये लड़की ज़रा सी दीवानी लगती है (लव स्टोरी)
१०. दुक्की पे दुक्की हो (सत्ते पे सत्ता)
११. जयपुर से निकली गाड़ी (गुरुदेव)

और इन सबसे उपर, फ़िल्म 'पड़ोसन' के दो गानें - "एक चतुर नार" तथा "मेरे भोले बलम"। और भी कई गीत हो सकते हैं जो इस वक़्त मेरे ज़हन में नहीं आ रहे हैं, लेकिन फ़िल्म 'पड़ोसन' के इन दो गीतों के सामने कोई और गीत टिक नहीं सकता ऐसा मेरा विचार है। 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर कालजयी "एक चतुर नार" आप सुन चुके हैं और गीत के पीछे की कहानी भी हमने आपको उस दिन विस्तार से बताई थी। आज आइए सुनते हैं दूसरा गीत "मेरे भोले बलम", किशोर दा की सिर्फ़ आवाज़ ही नहीं बल्कि उनका अंदाज़-ए-बयाँ ही इस गीत की जान है, इस गीत की शान है।

राहुल देव बर्मन ने सब से ज़्यादा जिन प्रमुख गीतकारों के साथ काम किया है, वे हैं मजरूह सुल्तानपुरी, आनंद बक्शी, गुलशन बवारा और गुलज़ार। लेकिन फ़िल्म 'पड़ोसन' में ये कालजयी गीत लिखे थे राजेन्द्र कृष्ण जी ने। वैसे इस तरह के हास्य रस वाले गीतों के लिए राजेन्द्र कृष्ण साहब बहुत पहले से ही जाने जाते रहे हैं। ख़ास कर ५० के दशक में सी. रामचन्द्र के साथ कई फ़िल्मों में उन्होने इस तरह के गुदगुदाने वाले गानें लिख चुके थे। आइए आज "मेरे भोले बलम" गीत का थोड़ा सा विश्लेषण किया जाए। गीत शुरु होता है किशोर दा के सचिन देव बर्मन वाले अंदाज़ से, जिस तरह से "धीरे से जाना बगियन में" में सचिन दा का अंदाज़ था। उसके तुरंत बाद बंगाल के कीर्तन के रीदम में प्रील्युड म्युज़िक शुरु होता है और पूरे गीत में यही वैष्णव कीर्तन का अंदाज़ छाया रहता है। और साज़ भी वो ही इस्तेमाल हुए हैं जैसे कि कीर्तन में होता है, खोल, एकतारा वगेरह। मुखड़े की पंक्ति है "मेरे भोले बलम, मेरे प्यारे रे बलम, मेरा जीवन तेरे बिना, मेरे पिया, है वो दीया के जिसमें तेल ना हो..."। अजीब-ओ-ग़रीब उपमाओं का इस्तेमाल होता है जो आपको हँसाए बिना नहीं रहते। ये पंक्तियाँ दरअसल किशोर गा रहे हैं सुनिल दत्त साहब को यह समझाते हुए कि नायिका सायरा बानु इस तरह से उनके लिए गाएँगी। तो अब इसके बाद सुनिल दत्त उर्फ़ भोला किशोर दा से पूछ ही लेते हैं कि "गुरु, जब वो ऐसा कहेगी न, तब मैं जवाब क्या दूँगा?" इस पर किशोर दा जिस तरह से हँसते हैं, और जिस अंदाज़ में इस सवाल का जवाब देते हैं, बस किशोर दा ही कर सकते हैं। वो कहते हैं "कहना अनुराधा...", यह उस अंदाज़ में कहते हैं जिस अंदाज़ में १९३७ की फ़िल्म 'विद्यापति' में के. सी. डे ने "गोकुल से गए गिरिधारी" गीत में कहा था। सुनिल दत्त साहब ग़लती सुधार देते हैं कि उनकी नायिका अनुराधा नहीं बल्कि बिंदु है। तब गीत "मेरे भोले बलम" से बदल कर हो जाता है "मेरी प्यारी बिंदु" और अंत तक यही रहता है। इस गीत में गायन के अलावा किशोर दा ने अभिनय करते वक़्त जिन दो कलाकारों के नकल उतारे वो हैं संगीतकार खेमचंद प्रकाश और सचिन देव बर्मन। सचिन दा के चलने का अंदाज़ और खेमचंद जी के आँखों में सूरमा लगाने की अदा को बख़ूबी उतारा जिनीयस किशोर दा ने। गीत के आख़िर में किशोर दा बहुत ही ऊँचे सुर में बिल्कुल उसी तरह से आवाज़ लगाते हैं जिस तरह से किसी वैष्णव कीर्तन के आख़िरी हिस्से में होता है। दोस्तों, अब आप यह गीत सुनिए और गीत को सुनते हुए इन पहलुओं पर ग़ौर कीजिएगा जो अभी हमने आप को बताए, तो गाना सुनने का मज़ा और भी बढ़ जाएगा। चलते चलते राजेन्द्र कृष्ण, राहुल देव बर्मन, और किशोर कुमार को सलाम इस मास्टरपीस के लिए!



चलिए अब बूझिये ये पहेली, और हमें बताईये कि कौन सा है ओल्ड इस गोल्ड का अगला गीत. हम रोज आपको देंगें ४ पंक्तियाँ और हर पंक्ति में कोई एक शब्द होगा जो होगा आपका सूत्र. यानी कुल चार शब्द आपको मिलेंगें जो अगले गीत के किसी एक अंतरे में इस्तेमाल हुए होंगें, जो शब्द बोल्ड दिख रहे हैं वो आपके सूत्र हैं बाकी शब्द बची हुई पंक्तियों में से चुनकर आपने पहेली सुलझानी है, और बूझना है वो अगला गीत. तो लीजिए ये रही आज की पंक्तियाँ-

वो मुलाकातें याद है क्या,
जब हवाएं और भी रेशमी हो जाया करती थी, तुम्हारा बदन चूमकर,
और फूल खिलते थे तुम्हारी मुस्कराहट देखकर,
मौसम रंग बदलता था पाकर तुम्हारी आँखों के इशारे...

पिछली पहेली का परिणाम-
शरद जी २ और अंक जुड़े आपके खाते में, अवध जी देखिये आज अच्छा मौका है, आज शायद शरद जी जवाब न दें क्योंकि उन्हें मात्र एक ही अंक मिलेगा, पर आप सही जवाब देकर २ अंक कमा सकते हैं आज. पारो जी, यूनी कवि प्रतियोगिता मासिक है, और यहाँ भी यदि कोई विजेता बन जाता है तो कम से कम अगले दो और विजेताओं के आने बाद या फिर कोई माईल स्टोन एपिसोड के बाद ही हम उन्हें दोबारा खेलने का मौका देते हैं, धुरंधरों से टकरायेंगे तभी तो आपको अपनी ताकत का अंदाजा होगा :)

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी
पहेली रचना -सजीव सारथी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

आज की पहेली बहुत सरल है किन्तु जैसा कि आपने कहा मुझे सिर्फ़ एक अंक ही मिलेगा इसलिए आज जवाब नहीं दे रहा हूँ ।
धमे तो बस गीत सुन कर चले जाना है धन्यवाद्
anupam goel said…
पंचम दा और मुकेश जी का यादगार गीत, फिल्म मुक्ति से:
तुम्हारे रेशमी जुल्फ़ों में दिल के फूल खिलते थे
इन्हीं फूलों के मौसम में हम तुम भी मिलते थे
पुरानी वो मुलाकातें, हमें सोने नही देतीं
तुम्हारे प्यार की बातें, हमें सोने नहीं देतीं
सुहानी चाँदनी रातें ...

अनुपम गोयल
AVADH said…
बधाई हो, अनुपम जी,.
क्या सही पहचाना है.
अवध लाल
वाकई, निस्संदेह ये दोनों गीत मास्टरपीस हैं. एक चतुर नार और उसके बाद बिंदु.

किशोर दा के मामा भी कुछ ऐसे ही दिखते थे जैसा कि चरित्र उसमें निभाया है किशोर दा नें, इसलिये उनकी नकल की गयी थी.

एक और गीत जोडना चाहूंगा-

कहां आ गये , ये हम दोनों के नर्क में फ़ंसे, बेमौत मर गये, इधर भी भूत, ऊधर भी भूत , के जायें हम कहां से.....

फ़िल्म भूत बंगला का दोगाना खुद RD नें भी गाया था और Acting भी की थी.

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट 'तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर बनेगी प्रीत...'   ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस लघु श्रृंखला में हम आपसे भारतीय संगीत के रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था पर चर्चा कर रहे हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। व

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक