मंगलवार, 5 जनवरी 2010

साल 2010 की पहली गीतों भरी कहानी

गुनगुनाते लम्हे- 4

आज जनवरी महीना का पहला मंगलवार है। पहला मंगलवार मतलब गुनगुनाते लम्हे का दिन। वैसे देखा जाये तो आज का दिन साल 2010 का भी पहला मंगलवार है। तो चलिए आज के दिन को गीतों भरी कहानी से रुमानी बनाते हैं। अपराजिता की दिकलश आवाज़ में गुनते हैं रश्मि प्रभा की कहानी।



'गुनगुनाते लम्हे' टीम
आवाज़/एंकरिंगकहानीतकनीक
Aprajita KalyaniRashmi PrabhaKhushboo
अपराजिता कल्याणीरश्मि प्रभाखुश्बू


आप भी चाहें तो भेज सकते हैं कहानी लिखकर गीतों के साथ, जिसे दूंगी मैं अपनी आवाज़! जिस कहानी पर मिलेगी शाबाशी (टिप्पणी) सबसे ज्यादा उनको मिलेगा पुरस्कार हर माह के अंत में 500 / नगद राशि।

हाँ यदि आप चाहें खुद अपनी आवाज़ में कहानी सुनाना तो आपका स्वागत है....


1) कहानी मौलिक हो।
2) कहानी के साथ अपना फोटो भी ईमेल करें।
3) कहानी के शब्द और गीत जोड़कर समय 35-40 मिनट से अधिक न हो, गीतों की संख्या 7 से अधिक न हो।।
4) आप गीतों की सूची और साथ में उनका mp3 भी भेजें।
5) ऊपर्युक्त सामग्री podcast.hindyugm@gmail.com पर ईमेल करें।

2 टिप्‍पणियां:

सजीव सारथी ने कहा…

वाह जी वाह बढ़िया कहानी और बड़े ही शानदार गीत भी चुने हैं आपने...ग्रेट

ρяєєтii ने कहा…

बहुत ही बेहतरीन रही यह गीतों भरी कहानी... शायद सभी गाने और character जाने माने लगे इसलिए ... it is toooo good.. अंकु , I mean Aprajita's voice is amazing...खुशबू तो तकनिकी काम में माहिर है ही ... और रश्मि माँ तो हमेशा की तरह माशा अल्लाह ....!

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ