Skip to main content

लिखे जो ख़त तुझे वो तेरी याद में...शशि कपूर का रोमांस और रफी साहब का अंदाज़-ए-बयां

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 156

भी दो दिन पहले हम ने आप को प्रेम-पत्र पर लिखा एक मशहूर गीत सुनवाया था फ़िल्म 'संगम' का। रफ़ी साहब का गाया एक और ख़त वाला मशहूर गीत है फ़िल्म 'कन्यादान' का "लिखे जो ख़त तुझे वह तेरी याद में हज़ारों रंग के नज़ारे बन गये"। यह गीत भी उतना ही लोकप्रिय हुआ जितना कि फ़िल्म 'संगम' का गीत। इन दोनों गीतों में कम से कम दो बातें सामान थी, एक तो रफ़ी साहब की आवाज़, और दूसरा शंकर जयकिशन का संगीत। "ये मेरा प्रेम-पत्र" फ़िल्माया गया था राजेन्द्र कुमार पर और फ़िल्म 'कन्यादान' का यह गीत है शशी कपूर के अभिनय से सजा हुआ। जी हाँ, 'दस चेहरे एक आवाज़ - मोहम्मद रफ़ी' के अंतर्गत आज हम जिस चेहरे पर फ़िल्माये गीत से आप का रु-ब-रु करवा रहे हैं, वो शशी कपूर ही हैं। फ़िल्म 'कन्यादान' बनी थी सन् १९६८ में जिसमें शशी कपूर के साथ नायिका की भूमिका में थीं आशा पारेख। मोहन सहगल की यह फ़िल्म एक पारिवारिक सामाजिक फ़िल्म थी जिसका आधार था शादी, झूठ, तथा पुराने और नये ख़यालातों में द्वंद। फ़िल्म तो कामयाब थी ही, उसका गीत संगीत भी ज़बरदस्त कामयाब रहा। इस फ़िल्म के गीतों को हसरत जयपुरी और कवि नीरज ने लिखे हैं। आज का प्रस्तुत गीत नीरज का लिखा हुआ है। नीरज की फ़िल्मी रचनायें संख्या में बहुत ही सीमित हैं, लेकिन उनके लिखे हर एक गीत का असर इतना व्यापक हुआ करता था कि गीत सीधे दिल में बस जाता था। तभी तो आज ४० सालों के बाद भी इस गीत को सुनते हुए उसी ताज़गी का अहसास होता है।

मोहम्मद रफ़ी साहब ने इस गीत को रुमानीयत के सजीले रंग से कुछ इस क़दर भर दिया है कि हर एक प्यार करनेवाले की ज़ुबाँ पर चढ़ गया था यह गीत उस ज़माने में। रफ़ी साहब की आवाज़ कुदरत की देन है, पर जो बात उन्हे दूसरे गायकों से अलग करती है वह है उनकी गायकी जो बेहद निराली थी और यही अदायगी दूसरे गायकों को उनसे मीलों पीछे छोड़ देती थी। उनकी गायकी का अंदाज़ ऐसा था कि सरगम के सौ धारे निकल पड़े, मंद मंद पुरवाई चलने लग जायें, बाग़ों में सैंकड़ों गुंचे खिल उठे, समां शराबी शराबी हो जाये! बाबुल गाया तो आँखें गीली कर दी, भजन गाया तो मन को श्रद्धा और भक्ति भाव से भर दिया, और ग़ज़ल गाया तो रुमानी लम्हात से भर दिया दिल को। उनकी अदायगी हर गीत में अपना ख़ास हस्ताक्षर छोड़ देती थी। उनके गाये किसी भी गीत को सुन कर फ़िल्म के नायक का चेहरा ख़ुद ब ख़ुद ज़हन में आ जाता है। फिर चाहे वो शम्मी कपूर हो या दिलीप कुमार, धर्मेन्द्र हो या फिर शशी कपूर। यहाँ तक कि ऐसा भी कहा गया है कि हास्य अभिनेता जौनी वाकर का अगर कोई नकल कर सकता है तो वो हैं केवल रफ़ी साहब, और वह भी गीतों के ज़रिये। सच, रफ़ी साहब सही मायने में एक पार्श्व-गायक रहे हैं। असरदार और सफल पार्श्व-गायक वही है जिसके गाये गीत को सुनकर आप परदे पर अभिनय करते हुए नायक की कल्पना कर सकें। रफ़ी साहब के गाये गीतों को सुनते हुए फ़िल्म का नायक आँखों के सामने आ ही जाता है। जैसे कि फ़िल्म 'कन्यादान' के इस गीत को सुनते हुए शशी कपूर के वो 'मैनरिज़्म्स' यकायक आँखों के सामने तैरने लग जाते हैं। तो लीजिए, फिर देर किस बात की, शशी कपूर के सजीले अंदाज़ को कीजिए याद रफ़ी साहब की आवाज़ के साथ। गीत के बोल इतने अच्छे हैं कि इनके बारे में कुछ कहने की ज़रूरत नहीं, बस सुनते जाइये।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा दूसरा (पहले गेस्ट होस्ट हमें मिल चुके हैं शरद तैलंग जी के रूप में)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

1. एक बेहद दर्द भरा नगमा रफी साहब का गाया.
2. कलाकार हैं -"धर्मेन्द्र".
3. मुखड़े में शब्द है -"चिंगारी".

सुनिए/ सुनाईये अपनी पसंद दुनिया को आवाज़ के संग -
गीतों से हमारे रिश्ते गहरे हैं, गीत हमारे संग हंसते हैं, रोते हैं, सुख दुःख के सब मौसम इन्हीं गीतों में बसते हैं. क्या कभी आपके साथ ऐसा नहीं होता कि किसी गीत को सुन याद आ जाए कोई भूला साथी, कुछ बीती बातें, कुछ खट्टे मीठे किस्से, या कोई ख़ास पल फिर से जिन्दा हो जाए आपकी यादों में. बाँटिये हम सब के साथ उन सुरीले पलों की यादों को. आप टिपण्णी के माध्यम से अपनी पसंद के गीत और उससे जुडी अपनी किसी ख़ास याद का ब्यौरा (कम से कम ५० शब्दों में) हम सब के साथ बाँट सकते हैं वैसे बेहतर होगा यदि आप अपने आलेख और गीत की फरमाईश को hindyugm@gmail.com पर भेजें. चुने हुए आलेख और गीत आपके नाम से प्रसारित होंगें हर माह के पहले और तीसरे रविवार को "रविवार सुबह की कॉफी" शृंखला के तहत. आलेख हिंदी या फिर रोमन में टंकित होने चाहिए. हिंदी में लिखना बेहद सरल है मदद के लिए यहाँ जाएँ. अधिक जानकारी ये लिए ये आलेख पढें.


पिछली पहेली का परिणाम -

दिशा जी बहुत बहुत मुबारक आखिर आप का भी खाता खुल ही गया २ अंकों के साथ. एरोशिक (?) जी आपके जवाब सही होते हैं पर थोडा और जल्दी अगर आयेंगें तो टक्कर दे पायेंगें दिग्गजों को. मनु जी, सुमित जी, शरद जी, मंजू जी, शमिख जी, और अन्य सभी श्रोताओं का आभार.

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

'ada' said…
Jaane kya dhoondti rehti hai ye aankhen mujh mein Raakh ke dher mein, shola hai na chingari hai
'ada' said…
film : shola aur shabnam
awaaz wahi purnoor Rafi sahab ki
aur nayak ? haaayyyyyy... DDDDarmendra
'ada' said…
Sharad ji,
yunki ab lagta hai manzil aahi gayi hai .... ha ha ha
main itni khush ho rahi hun pata chala ki sujoy ji ne koi aur hi gana soch rakha hai....
to mera kya hoga kaliyaaaa.....
अजीब इत्तफ़ाक है सबेरे से ही यह गीत गुनगुना रहा था । ’ज़िन्दगी हँस के गुज़रती तो बहुत अच्छा था
खैर हँस के न सही रो के गुज़र जाएगी । राख बरबाद मुहब्बत की बचा रक्खी है , बारहा इसको जो छेडा तो बिखर जाएगी’ । अदा जी बधाई !
Disha said…
adaa ji badhae
Disha said…
आप भूल गये है ४ अंक हो गये है. मोहम्मद रफी की पहली पहेली का जवाब भी हमने ही दिया था.
दीवाना मुझसा नहीं इस अम्बर के नीचे
erohsik said…
Jaane Kya Dhoondhti Rehti Hai Ye Aankhen Mujh Mein Raakh Ke Dhher Mein Shola Hai Na Chingari Hai

Film: Shola Aur Shabnam
Year: 1961
Music: Khaiyyam
Lyrics: Kaifi Azmi

Kish
manu said…
hnmn
yahi geet hai...
'अदा' said…
disha ji,
aapke 4 ank hi hue hain....
bilkul..
main bhi nahi bhooli hun kaise bhoolungi bhala mera jawab is muye GOOGLE account ki wajah se gaya hi nahi jaise aaj bhi ho raha hai. ab main uske 'CHHAKAR' mein hi nahi rehti seedha NAME enter karti hun, abhi koshish kar rahi hun hua to theek nahi to....kya kar sakte hain ho ho ho ho
Manju Gupta said…
जवाब है -चिंगारी जब भड़के तो सावन उसे बुझाए ...........
erohsik said…
Sujoyji,

jaldi aane ki koshih jari hai, parantu office ka kaam izzazat nahi deta...

Need Help to type in Hindi??

'Ada'ji ko dher saari badhai

Kish "Rashoki Ramaaku"
sumit said…
jaane kya dhoondti hai wo aankhe mujhme raakh k dher mein shola hai na chingari hai......
bahut he dard bhara pyaara geet......
sumit said…
aur shayad hero bhi koi aur hai.......
sumit said…
Manju Gupta ji
chingari koi bhadke....... kishore ji ne gaaya hai..........
sumit said…
erohsik ji
yadi aap hindi mein likhna seekhna chahte ho to

http://uninagari.kaulonline.com/index.htm

is link par click kijiye
sumit said…
ya hind yugm k home page par aaiye, wahan par aapko hindi mei likhne k liye box milega, aapko bus english mei likhna hoga hindi mei apne aap change ho jaayega

yadi koi problem ho to aap mujhe sumit306210@gmail.com par mail kar sakte hain..
sumit said…
अच्छा अब मै चलता हूँ

सुमित भारद्वाज
Shamikh Faraz said…
अदा जी के लिए कहना चाहूँगा की
"छा गए गुरु छा गए"
erohsik said…
सुमितजी,

बहुत बहुत धन्यवाद

एरोह्सिक
लिखे जो खत तुझे गीत के अंतरे तक पहुंचने से पहले जिस इंटरल्युड से गुज़रना पडता है, वही नायक की मनस्थिति का बखूबी बयां करता है.गीत की धुन और वाद्य संरचना इस गीत के स्थाई भाव को , उसके एम्बियेंस को और नीरज जी के लिखे हुए बोलों के अहसास को सीधे आपके दिलों में उतार देतें है.

गुज़श्तः दिनों के संगीत में यही तो खासियत होती थी, जो आज अमूमन नही पायी जाती.

रफ़ी जी के बारे में आपने क्या बेहतरीन अशार लिखे हैं!! उन हज़ारों रंग के नज़ारों का इंतिखा़ब करने को जी चहता है.
Manju Gupta said…
सुमित जी ,
आपने सही कहा है .धन्यवाद
Manju Gupta said…
सुमित जी ,
आपने सही कहा है .धन्यवाद

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया