Skip to main content

दिल का दिया जला के गया ये कौन मेरी तन्हाई में...संगीतकार चित्रगुप्त ने रचा था इस मधुर गीत को

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 143

ज 'ओल्ड इस गोल्ड' में संगीतकार चित्रगुप्त के संगीत की बारी। इससे पहले हमने आप को उनके संगीत से सजी भोजपुरी फ़िल्म 'लागी नाही छूटे राम' का लोक रंग में डूबा एक गीत सुनवाया था। आज का गीत लोक संगीत पर तो आधारित नहीं है लेकिन गीत इतना मधुर बन पड़ा है कि बार बार सुनने को जी चाहता है। लता मंगेशकर की आवाज़ में यह गीत है फ़िल्म 'आकाशदीप' का, जिसे लिखा था मजरूह सुल्तानपुरी ने। "दिल का दीया जलाके गया ये कौन मेरी तन्हाई में, सोये नग़में जाग उठे होठों की शहनाई में"; पहला पहला प्यार किस तरह से नायिका के नाज़ुक दिल पर असर करती है, उसका बेहद बेहद ख़ूबसूरत वर्णन हुआ है इस कोमल गीत में। मजरूह साहब ने क्या ख़ूब लिखा है कि "प्यार अरमानों का दर खटकाये, ख़्वाब जागी आँखों से मिलने को आये, कितने साये डोल पड़े सूनी सी अँगनाई में"। बोल, संगीत और गायकी के लिहाज़ से यह गीत उत्कृष्ट है, उत्तम है। 'आकाशदीप' फ़िल्म आयी थी १९६५ में फणी मजुमदार के निर्देशन में। फ़िल्म के मुख्य कलाकार थे धर्मेन्द्र, नंदा, निम्मी, अशोक कुमार, और महमूद। इस फ़िल्म में धर्मेन्द्र पर फ़िल्माया गया रफ़ी साहब का गाया "मुझे दर्द-ए-दिल का पता न था मुझे आप किसलिए मिल गये" गीत भी चित्रगुप्त की बेहतरीन रचनायों में गिना जाता है।

चित्रगुप्त जी के बेटे आनंद और मिलिंद ने भी बतौर संगीतकार जोड़ी अच्छा नाम कमाया है फ़िल्म जगत में। अपने बचपन के दिनों को याद करते हुए, अपने पिता को याद करते हुए और ख़ासकर 'आकाशदीप' फ़िल्म के गीतों को याद करते हुए मिलिंद जी बताते हैं (सौजन्य: विविध भारती) - "मुझे कई बार याद है, हमारे घर में राईटर्स और म्युज़िक डिरेक्टरस की मीटिंगस हुआ करती थी, खाना वाना भी बनता था। एक दिन स्कूल से आया तो देखा कि बक्शी साहब (आनंद बक्शी) बाहर बैठे हैं, उस समय उन्हे ब्रेक नहीं मिला था। अंदर गया तो देखा कि प्रेम धवन बैठे हैं, दूसरे दिन मजरूह सुल्तानपुरी बैठे थे। लता जी से भी मुलाक़ात हुई, उन्हे हम लता दीदी नहीं बल्कि लता आंटी कहते थे। मेरा नाम 'मिलिंद', जो कि महाराष्ट्रीयन नाम है, लता आंटी ने ही रखा है। पिताजी हमेशा यही कहते थे कि जितना मेलडी पर कन्सेन्ट्रेट करोगे, गाना उतना ही अच्छा बनेगा। हम दोनों ने कुछ बनाकर एक दिन जब उनको सुनाया तो उन्होने कहा कि 'यह आप का कलर है, मेरा नहीं, मैं यही चाहता था कि आप के संगीत में मेरा प्रभाव न पड़े, क्यूंकि समय के हिसाब से आप को चलना है'. उनके बहुत से गानें हम दोनों को पसंद है, लेकिन जो 'फ़र्स्ट थौट' पे याद आ जाते हैं वो हैं "जाग दिल-ए-दीवाना", "मुझे दर्द-ए-दिल का पता न था", और "दिल का दीया जलाके गया"। लताजी के गाये इस गीत के बारे में मिलिंद का कहना है "यह गीत दुर्लभ है क्यूंकि लता आंटी ने इसे 'हस्की टोन' में गाया है, 'हस्की सॊफ़्ट टोन' में। इस तरह से उन्होने बहुत कम गाये हैं, उनके गीत ऊँची 'टोन' में होते हैं। तो यह जो 'हस्की फ़ील' थी, बहुत कमाल की थी।" वाक़ई दोस्तों, लता जी की आवाज़ बड़ा ही अनोखा सुनाई देता है इस गीत में। ख़ास कर जब वो गाती हैं कि "काँपते लबों को मैं खोल रही हूँ" तो सचमुच जैसे काँपते हुए लब हमारी आँखों के सामने आ जाते हैं। लता जी ने अपनी आवाज़ और गायकी के ज़रिए इस गीत में जो अभिनय किया है वो शायद बड़ी बड़ी अभिनेत्रियाँ न कर पाये। सुनिये यह गीत, और इसमे अपनी पसंद के साथ साथ मेरी पसंद भी शामिल कर लीजिए, क्युंकि मुझे यह गीत बेहद बेहद बेहद पसंद है।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा पहला "गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

1. इस्मत चुगताई की लिखी कहानी पर आधारित थी ये फिल्म.
2. इस गीत के गायक ने इस फिल्म में अभिनय भी किया था. अभिनेत्री थी नूतन.
3. मुखड़े की पहली लाइन में शब्द है -"बस" (कंट्रोल).

पिछली पहेली का परिणाम -
वाह पराग जी आखिरकार बाज़ी मार ही ली आपने. ८ अंकों के लिए बधाई. कल शरद जी हमारे चूक गए हम तो ये मान बैठे थे कि हमें हमारा पहला विजेता मिल गया, खैर कल नहीं शरद जी आज सही. कल ओल्ड इस गोल्ड की रौनक लौटी बहुत दिनों बाद, हमारा मतलब स्वप्न मंजूषा जी लौटी. ओल्ड इस गोल्ड की पूरी टीम और आवाज़ परिवार उनके पति के शीघ्र स्वस्थ लाभ की दुआ कर रहा है ताकि मोहतरमा जल्दी से वापस एक्टिव हो जाये. मनु जी अब आप भी थोडी फुर्ती दिखाएँ ज़रा...

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

प्यार पर बस तो नही है मेरा लेकिन फिर भी
गायक तलत मेहमूद
'अदा' said…
badahi shard ji bahut bahut bahut badhai, main chali ab hospital, aaj to bas isi ke liye baithi thi...
'अदा' said…
pyar par bas
Disha said…
प्यार पर बस तो नही है मेरा लेकिन फिर भी
तू बता दे के तुझे प्यार करुँ या ना करुँ
फिल्म- सोने की चिड़िया
संगीत -ओ.पी. नैय्यर
गायक/गायिका-तलत महमूद- आशा
manu said…
hnm...
ek dam sahi..
Parag said…
mere khaas pasandeeda gaanon mein se ek hai. Sharad jee ko badahi. Aap ban gaye pehle vijeta.

Parag
rachana said…
सही है जवाब आप का
आप ने भी हमें याद किया आप का धन्यवाद .जब आप के पति अच्छे हो के घर आजायें तो कृपा कर बताइयेगा जरूर
सादर
रचना
इस गाने के बारे में जो भी बताया उससे इस गाने को सुनने का मज़ा और दुगना हो गया.

वैसे ये हस्की टोन इसलिये लायी गयी थी क्योंकि ये गीत फ़िल्म की नायिका निम्मी पर फ़िल्माया गया था, जो गूंगी होने के कारण गा नही सकती , और इसीलिये ...

प्यार पर बस तो नही है ये गीत भी बहुत ही बढि़यां है.
Shamikh Faraz said…
बहुत ही ख़ूबसूरत नग्मा
Manju Gupta said…
ऊपर के अब तक की सभी के गाना सही है

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया