Sunday, June 19, 2011

सुर संगम में आज - गंभीर प्रकृति के राग यमन की बात

सुर संगम - २५ - राग यमन

प्रचीन काल से यह राग 'कल्याण' के नाम से ही प्रचलित था परंतु मुग़ल शासन काल के दौरान इस राग का नाम 'राग ईमान' या 'राग यमन' पड़ा।

योऽयं ध्वनि-विशेषस्तु स्वर-वर्ण-विभूषित:।
रंजको जनचित्तानां स राग कथितो बुधै:।।

उपरोक्त श्लोक का अर्थ है - स्वर और वर्ण से विभूषित ध्वनि, जो मनुष्यों का मनोरंजन करे, राग कहलाता है। सुर-संगम के २५वें साप्ताहिक अंक में मैं सुमित चक्रवर्ती आप सभी संगीत प्रेमियों का स्वागत करता हूँ। सुर-संगम का स्तंभ मूलत: आधारित है भारतीय शास्त्रीय संगीत पर। तो हमने सोचा कि क्यों न आज के इस विशेष अंक में चर्चा की जाए भारतीय शास्त्रीय संगीत के अर्क की - यानी 'राग' की। राग सुरों के आरोहण और अवतरण का ऐसा नियम है जिससे संगीत की रचना की जाती है। कोई भी राग कम से कम पाँच और अधिक से अधिक ७ स्वरों के मेल से बनता है। राग का प्राचीनतम उल्लेख सामवेद में मिलता है। वैदिक काल में ज्यादा राग प्रयुक्त होते थे, किन्तु समय के साथ-साथ उपयुक्त राग कम होते गये। सुगम संगीत व अर्धशास्त्रीय गायनशैली में किन्ही गिने चुने रागों व तालों का प्रयोग होता है, जबकि शास्त्रीय संगीत में रागों की भरपूर विभिन्नता पाई जाती है। इन्हीं भिन्नताओं के आधार पर भारतीय शास्त्रीय संगीत को २ पद्धतियों में बाँटा गया है - हिंदुस्तानी व कर्नाटिक। सुर-संगम के आगामी अंकों में हम विभिन्न रागों को लेकर भी चर्चा करेंगे। आइए इसकी शुरुआत करते हैं राग 'यमन' से, किंतु इस राग के बारे में जानने से पहले सुन लेते हैं उस्ताद मुनव्वर खाँ द्वारा राग यमन की यह प्रस्तुति।

उस्ताद मुनव्वर खाँ - राग यमन


प्रथम पहर निशि गाइये ग नि को कर संवाद

जाति संपूर्ण तीवर मध्यम यमन आश्रय राग

इस राग को राग कल्याण के नाम से भी जाना जाता है। इसकी उत्पत्ति कल्याण थाट से होती है अत: इसे आश्रय राग भी कहा जाता है। जब किसी राग की उत्पत्ति उसी नाम के थाट से हो तो उसे आश्रय राग कहा जाता है। राग यमन की विशेषता है कि इसमें तीव्र मध्यम और अन्य स्वर शुद्ध प्रयोग किये जाते हैं। ग वादी और नि सम्वादी माना जाता है। इस राग को रात्रि के प्रथम प्रहर या संध्या समय गाया-बजाया जाता है। इसके आरोह और अवरोह दोनों में सातों स्वर प्रयुक्त होते हैं, इसलिये इसकी जाति सम्पूर्ण है। प्रचीन काल से यह राग 'कल्याण' के नाम से ही प्रचलित था परंतु मुग़ल शासन काल के दौरान इस राग का नाम 'राग ईमान' या 'राग यमन' पड़ा।

आरोह- सा रे ग, म॑ प, ध नि सां अथवा ऩि रे ग, म॑ प, ध नि सां ।

अवरोह- सां नि ध प, म॑ ग रे सा ।

पकड़- ऩि रे ग रे, प रे, ऩि रे सा ।


इस राग को गंभीर प्रकृति का राग माना गया है। इसमें बड़ा और छोटा ख्याल, तराना, ध्रुपद, तथा मसीतख़ानी और रज़ाख़ानी भी सामान्य रूप से गाई-बजाई जाती है। राग यमन जहाँ मुख्यतः हिन्दुस्तानी शैली में गाया-बजाया जाता है वहीं इसे दक्षिण भारत की कर्नाटिक शैली में राग कल्याण के रूप में गाया-बजाया जाता है। लीजिए प्रस्तुत है पं० द्त्तात्रेय विष्णु पालुस्कर द्वारा राग कल्याण में यह प्रस्तुति।

पं० डी. वी. पालुस्कर - राग कल्याण


और अब बारी है इस कड़ी की पहेली की जिसका आपको देना होगा उत्तर तीन दिनों के अंदर इसी प्रस्तुति की टिप्पणी में। प्रत्येक सही उत्तर के आपको मिलेंगे ५ अंक। 'सुर-संगम' की ५०-वीं कड़ी तक जिस श्रोता-पाठक के हो जायेंगे सब से अधिक अंक, उन्हें मिलेगा एक ख़ास सम्मान हमारी ओर से।

पहेली: एक महान रूद्रवीणा वादक जिनका हाल ही में निधन हुआ, सुर-संगेम देगा उन्हें आगामी अंक में श्रद्धांजलि।

पिछ्ली पहेली का परिणाम: अमित जी को बधाई! क्षिति जी एक बार चूक गईं तो क्या? टक्कर तो आप बराबरी का दे रहीं हैं!

अब समय आ चला है आज के 'सुर-संगम' के अंक को यहीं पर विराम देने का। आशा है आपको यह प्रस्तुति पसन्द आई। हमें बताइये कि किस प्रकार हम इस स्तंभ को और रोचक बना सकते हैं!आप अपने विचार व सुझाव हमें लिख भेजिए oig@hindyugm.com के ई-मेल पते पर। शाम ६:३० बजे सुजॉय के साथ 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की महफ़िल में पधारना न भूलिएगा, नमस्कार!

खोज व आलेख- सुमित चक्रवर्ती



आवाज़ की कोशिश है कि हम इस माध्यम से न सिर्फ नए कलाकारों को एक विश्वव्यापी मंच प्रदान करें बल्कि संगीत की हर विधा पर जानकारियों को समेटें और सहेजें ताकि आज की पीढ़ी और आने वाली पीढ़ी हमारे संगीत धरोहरों के बारे में अधिक जान पायें. "ओल्ड इस गोल्ड" के जरिये फिल्म संगीत और "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" के माध्यम से गैर फ़िल्मी संगीत की दुनिया से जानकारियाँ बटोरने के बाद अब शास्त्रीय संगीत के कुछ सूक्ष्म पक्षों को एक तार में पिरोने की एक कोशिश है शृंखला "सुर संगम". होस्ट हैं एक बार फिर आपके प्रिय सुजॉय जी.

4 comments:

अमित तिवारी said...

This post has been removed by the author.

अमित तिवारी said...

Asad Ali Khan

Kshiti said...

Rudra vina player ustad asad ali khaan.

अमित तिवारी said...

बाल बाल बचा हूँ इस बार. पहले गलती कर दी थी पर जब तक सही उत्तर दिया ब्लोगर ने error दे दी. दुबारा submit करा और तब तक क्षिती जी ने भी उत्तर दिया.

ऐसा पहले भी हुआ है कि ब्लोगर ने error दी हो. शायद अगर एक समय पर दो लोग submit करते हैं तो ब्लोगर लोंक हो जाता है. मेरा ऐसा अनुमान है.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ