Skip to main content

'ओल्ड इज़ गोल्ड' - ई-मेल के बहाने यादों के ख़ज़ानें - ०१

नमस्कार दोस्तों! आज आप मुझे यहाँ 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के स्तंभ में देख कर हैरान ज़रूर हो रहे होंगे कि भई शनिवार को तो 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की महफ़िल नहीं सजती है, तो फिर यह व्यतिक्रम कैसा! है न? दरअसल बात कुछ ऐसी है कि जब से हमने 'ओल इज़ गोल्ड' को दैनिक स्तंभ से बदल कर सप्ताह में पाँच दिन कर दिए हैं, हम से कई लोगों ने समय समय पर इसे फिर से दैनिक कर देने का अनुरोध किया है। हमारे लिए यह आसान तो नहीं था, क्योंकि अपनी रोज़-मर्रा की व्यस्त ज़िंदगी से समय निकाल कर ऐसा करना ज़रा मुश्किल सा हो रहा था, लेकिन आप सब के आग्रह और 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में आपकी दिलचस्पी को हम नज़रंदाज़ भी तो नहीं कर सकते थे। इसलिए हमें एक नई बात सूझी। और वह यह कि कम से कम शनिवार को हम 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की महफ़िल सजाएँगे ज़रूर, लेकिन उस स्वरूप में नहीं जिस स्वरूप में रविवार से गुरुवार तक सजाते हैं। बल्कि क्यों ना कुछ अलग हट के किया जाए इसमें। नतीजा यह निकला कि आज से सम्भवत: हर शनिवार की शाम यह ख़ास महफ़िल सजेगी, जो कहलाएगी 'ओल्ड इज़ गोल्ड - ईमेल के बहाने यादों के ख़ज़ानें'।

'ईमेल के बहाने यादों के ख़ज़ाने' एक तरह से 'ओल्ड इज़ गोल्ड' का साप्ताहिक विशेषांक होगा जिसमें बातें होंगी आपकी, आपके मनपसंद गीतों की, उनसे जुड़ी हुई आपकी यादों की। इसके अलावा आप पुराने फ़िल्मों और फ़िल्मी गीतों के बारे में जो भी विचार रखना चाहें इस विशेषांक के लिए भेज सकते हैं। इस स्तंभ में आगे चलकर हम पुराने फ़िल्मी गीतों से जुड़े पहलुयों पर बहस भी करेंगे जैसे कि डिबेट में होता है, और भी कई नई चीज़ें शामिल होंगी इन विशेषांकों में। तो आपको बस इतना करना होगा कि अपने विचार, अपने पसंद के गानें और उनसे जुड़ी बातें और यादें, या फिर फ़िल्म-संगीत से जुड़ी आपका कोई भी अनुभव या संस्मरण या फ़ोटो हमारे ईमेल पते oig@hindyugm.com पर लिख भेजना होगा, और हम उन्हे पेश करेंगे 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के इस ख़ास अलबेले, सजीले, सुरीले विशेषांक में जिसका नाम है 'ईमेल के बहाने यादों के ख़ज़ानें'।

यह तो थी इस विशेषांक के स्वरूप और नियमों की जानकारी। तो आइए अब शुरु किया जाए 'ईमेल के बहाने यादों के ख़ज़ाने' की पहली कड़ी। आज का यह अंक रोशन है हमारे 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के एक वरिष्ठ श्रोता व पाठिका की यादों के उजालों से। आप हैं हम सब की प्यारी गुड्डो दादी, जो रहती हैं अमरीका के शिकागो शहर में। गुड्डो दादी ने समय समय पर हमें टेलीफ़ोन कर और ईमेल के ज़रिए हमारा हौसला बढ़ाया है, हमारी तारीफ़ें की हैं, और अपनी स्नेहाशीष दी है। दादी से हमें पता चला कि गुज़रे ज़माने के कई फ़िल्मी कलाकारों से उनके परिवार का संबंध रहा है। उनके और उनके परिवार की कई तस्वीरें भी हैं जिनमें फ़िल्म जगत के नामचीन हस्तियों के चेहरे नज़र आ जाते हैं। ऐसी ही एक तस्वीर उन्होने हमें भेजी हैं जिसमें वो नज़र आ रही हैं गायिका सुरिंदर कौर के एक कार्यक्रम का आनंद उठाते हुए.


दरअसल हुआ युं था कि जब हमने 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में 'दुर्लभ दस' के अंतर्गत सुरिंदर कौर का गाया फ़िल्म 'नदिया के पार' का गीत सुनवाया था "अखियाँ मिलाके अखियाँ", उसे सुन कर दादी की उस ज़माने की यादें ताज़ा हो गईं, और ईमेल के माध्यम से उन्होने अपने विचार कुछ इस तरह से व्यक्त किये - "आपके पास तो कुबेर का ख़ज़ाना है। सुरिंदर कौर जी का गीत सुनवाकर कहाँ पहुँचा दिया सितारों से आगे! सुरिंदर कौर जी का शो १९६७ में दिल्ली के रिज़र्व बैंक के आगे जिसका चित्र भी भेज रही हूँ। १९५२ से जानती हूँ सुरिंदर कौर जी को और उनकी बहन प्रकाश कौर जी को। इस चित्र में साथ में बेटी है और दूसरी ओर मुंह किये बेटा बैठा है।" दोस्तों, क्योंकि यह अंक यादों के ख़ज़ाने को और ज़्यादा समृद्ध करने का है, और गुड्डो दादी की यादें हम अनुभव कर रहे हैं जो रहती हैं अमरीका में, तो क्यों ना सुरिंदर कौर के गानें किस तरह से 'वॊयस ऒफ़ अमेरिका' पर बजाया गया था ३१ दिसंबर १९९२ को, उसका एक ज़िक्र यहाँ पेश किया जाए। यह जानकारी हमने प्राप्त की है 'लिस्नर्स बुलेटिन' के अंक-९१ से जो प्रकाशित हुआ था मार्च १९९३ में। रेडियो सीलोन पर १५-१६ वर्षों तक कार्य करने के बाद १९८४-८५ से Voice of America (VOA), वाशिंगटन में कार्यरत श्रीमती विजयलक्ष्मी डिसेरम एक अनोखी उद्‍घोषिका हैं। वे 'मनोरंजन' एवं 'संगीतकार' कार्यक्रमों में अक्सर हिंदी फ़िल्मों के गायकों, संगीतकारों, निर्माता-निर्देशकों, आदि पर प्रोग्राम पेश करती आईं हैं। ३१ दिसंबर १९९२ को इन्होंने गायिका सुरिंदर कौर के गाए हमेशा जवान गीतों को लेकर एक आकर्षक कार्यक्रम पेश किया था। गायिका के बारे में उन्होंने संगीतकार एस. मोहिंदर तथा 'हिंदी फ़िल्म गीत कोश' के संकलक हर मंदिर सिंह 'हमराज़' के विचार प्रस्तुत कर प्रोग्राम में चार चांद लगा दिए। गायिका सुरिंदर कौर के बारे में नई जानकारी देते हुए 'हमराज़' साहब ने बताया कि उनका गाया प्रथम गीत "इतने दूर है हुज़ूर, कैसे मुलाक़ात हो" (फ़िल्म- प्यार की जीत, '४९) था, न कि "बदनाम ना हो जाए मोहब्बत का फ़साना" (फ़िल्म- शहीद, '४९)। दरअसल 'प्यार की जीत' के लिए ही उन्होंने सब से पहले गीत गाए थे लेकिन उसी वर्ष निर्मित 'शहीद' (जिसमें उन्होंने बाद में गीत गाए) पहले रिलीज़ हो जाने के कारण यह भान्ति पैदा हो गई थी। तो दोस्तों, आइए आज के इस विशेषांक में सुना जाए सुरिंदर कौर की आवाज़ में फ़िल्म 'शहीद' के उसी हिट गीत को जिसके बोल हैं "बदनाम ना हो जाए मोहब्बत का फ़साना"।



तो ये था आज का 'ओल्ड इज़ गोल्ड - ईमेल के बहाने यादों के ख़ज़ाने' जिसमें हमने गुड्डो दादी की यादों का सहारा लेकर गायिका सुरिंदर कौर को याद किया।

और अब एक सूचना: १४ अगस्त शनिवार को स्वतंत्रता दिवस की पूर्वसंध्या पर 'ओल्ड इज़ गोल्ड - ईमेल के बहाने यादों के ख़ज़ानें' में हम चढ़ाएँगे देश भक्ति रंग। आपको इतना करना है कि इस ख़ास दिन से जुड़ी अपने बचपन की यादों को हमारे साथ बांटिए। कैसे मनाया करते थे इस पर्व को? बचपन में कौन कौन सी देश भक्ति और बच्चों की फ़िल्में देखी है आपने? कौन सा देश भक्ति गीत आपको सब से ज़्यादा पसंद है? देश भक्ति और देश भक्ति फ़िल्मों और गीतों से जुड़ी कोई भी याद, कोई भी संस्मरण आप हमें oig@hindyugm.com के पते पर लिख भेजिए अगले ७ दिनों के अंदर। आपकी यादों को हम पूरी दुनिया के साथ बांटेंगे १४ अगस्त की शाम।

अब आज के लिए इजाज़त दीजिए, कल 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के नियमित अंक के साथ पुन: हाज़िर होंगे। मोहम्मद रफ़ी साहब को उनकी पुण्यतिथि पर श्रद्धा सुमन अर्पित हुए और यह भी बताते हुए कि कल के अंक में आप रफ़ी साहब की ही आवाज़ सुनेंगे, आपसे आज विदा ले रहे हैं, नमस्कार!



प्रस्तुति: सुजॊय चटर्जी

Comments

AVADH said…
बहुत सुन्दर विचार हैं आपके, सुजॉय जी, सजीव जी. आवाज़ टीम के सभी साथियों का आभार कि आप सब अपनी व्यस्तता के बावजूद हम सभी श्रोताओं की खातिर इतना कष्ट उठा कर रोज ब्लॉग पोस्ट करते हैं.
अवध लाल
RAJ SINH said…
सुजॉय दादा ,

अवध जी से पूर्णतः सहमत .ईमेल भेज दिया है .पढ़ लें .
singhSDM said…
स्वागत है इस नए अंदाज़ का....

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया