Skip to main content

एक नया दिन चला, ढूँढने कुछ नया - मालविका निराजन की पेशकश

Season 3 of new Music, Song # 06

हिन्द-युग्म के संगीत सत्र में ऐसा बहुत कम ही बार हुआ है जब गीत को लिखने वाला, संगीतबद्ध करने वाला और गाने वाला कोई एक ही हो। हिन्दी फिल्मी संगीत में भी कुल गानों की तुलना में इनका प्रतिशत निकाला जाय तो शायद नगण्य ही आये। पर जब भी इस तरह के गाने बनते हैं तो बहुत ही खूबसूरत बन पड़ते हैं। सुधी श्रोताओं को कई फिल्मी गाने याद आने लगे होंगे। असल में लिखने वाला अगर संगीतकार हो तो उसे इस बात की बेहतर समझ होती है कि गीत में कहाँ कैसा उतार-चढ़ाव है। हिन्द-युग्म के पहले संगीतबद्ध एल्बम 'पहला-सुर' में गायिका-संगीतकार और कवयित्री सुनीता यादव का गीत तू है दिल के पास एक ऐसा ही गीत था। दूसरे संगीतबद्ध सत्र में गायक-संगीतकार और कवि सुदीप यशराज के दो गीत 'बेइंतहा प्यार' और 'उड़ता परिंदा' रीलिज हुये। आज हम तीसरे संगीतबद्ध सत्र में मालविका निराजन द्वारा रचित एक गीत रीलिज कर रहे हैं जिस इन्होंने ही गाया भी है और संगीतबद्ध भी किया है। इनको आवाज़ मंच तक लाने का श्रेय रश्मि प्रभा को जाता है।

गीत के बोल -

एक नया दिन चला, ढूँढने कुछ नया
मिलेगा क्या, किसे खबर, नही फिकर, नही पता..

मैने तो चाहा आसमान ही मेरा हो, पर वो बन के सपना ही रहा
ओर जब मैं जागूँ, एक नया सवेरा हो, पर ना पाई वैसी एक सुबह
होओओ...फिर भी ना जानूँ, ये अरमान क्यूँ जागे हैं
पा लूँगा/लूँगी उनको, जिनको सपनो में जिया...

अनजानी राहें, चल पड़ी मुझे लेकर, एक सफ़र पे जानूँ ना कहाँ
मुड़ के जो देखा, जाने सब कहाँ छूटा, सपनों का मेरा वो जहाँ
अबके दिल चाहे, उनको कह दूँ अलविदा
अलबेले दिन की होगी अलबेली अदा...
चुन के जो, वो लाएगा, जानूँ मैं वो भायेगा
मिल जाएगी, मुझको कोई, जीने की फिर...मीठी वजह...



मेकिंग ऑफ़ "एक नया दिन चला"

मालविका निराजन: आज जब मेरा बेटा चार महीने का हो गया है तो यही लगता है की शायद उसके आने की आहट ने ही मुझसे ये गीत लिखवाया. मेरे गुरु श्री मधुप मुदगल भी हमेशा यही कहते हैं की किसी भी कलाकार को ये नहीं कहना चाहिए की 'मैंने ये रचना की', बल्कि ये कहना चाहिए की 'मुझसे ये रचना बन गयी'. मेरा सच यही है और ये बात मेरे दिल के बहुत करीब है. मै यही मानती हूँ की हर रचना के पीछे कारण कहीं कुछ अनदेखा, अनसुना सा ही होता है. ऐसा कुछ दिल, दिमाग में चल रहा था ये भी पता तब चलता है जब हम कुछ अचानक ही लिख लेते हैं; गा लेते हैं; कह लेते हैं; किसी भी माध्यम से.

गीत की शुरुआत तो २००८ में ही हुयी होगी जब पुनीत ने पहली बार ये धुन सुनाई होगी. आदतन वो अपनी धुनों पर कुछ शब्द बना ही लेता है. उस समय जो उसने सुनाया उसके शब्द थे.."शाम तो जाएगी, तभी सुबह आयेगी, किसी को तो पता नहीं, किसी को तो पता नहीं". हम आखिरी पंक्ति पर खूब हँसते थे क्योंकि धुन पर गाने के लिए कुछ तो होना चाहिए था और यही रोल उस पंक्ति का था:)

ये तो थी शुरुआत. पर ये हलकी-फुल्की, खुशनुमा सी धुन हमेशा मेरे आस पास रहती थी. पुनीत ने भी कई बार कहा और मुझे भी ये लगता रहा की बिना किसी कोशिश के ही इस धुन पर मेरा मन कई सारी बातें कह सकता था जो की प्रेम या श्रृंगार से जुडी नहीं थी. बस बातें थीं मेरे मन की. पहली दो पंक्ति लिख कर मैंने सोमप्रभ (मेरे पति) को सुनाई. उसे पसंद आयीं. फिर उसी जोश में मैंने ऑफिस में बैठे बैठे ही पूरा गाना लिख लिया.

फिर मन हुआ उसे रिकॉर्ड करने का. किसी ख़ास उद्देश्य से नहीं, बस ऐसे ही. मज़ा आ रहा था क्योंकि सारी चीज़ें अपनी थीं. धुन, शब्द, और अपने तरीके से गाने के लिए खुली छूट. ये बताना चाहूंगी की मैंने इस गाने को इक वोयस डेमो की तरह ही रखना चाहा इसीलिए इसके म्यूजिक tracks मिक्स्ड नहीं हैं. तो पुनीत के ही इक दोस्त (नारायणन) ने चेन्नई से इसका म्यूजिक अर्रंजेमेंट कर के भेजा और ५ अप्रैल, २००९ में हमने रिकॉर्ड किया - 'इक नया दिन चला, ढूँढने कुछ नया, मिलेगा क्या किसे खबर, नहीं फिकर, नहीं पता"

और इस गीत के जैसी ही मेरी मनःस्थिति थी क्योंकि इन सब के बीच चल रहा था इक इंतज़ार. लम्बा और संघर्षपूर्ण. आशावादी होना इक और बात है पर जब ये गीत लिख भी रही थी तो भी हमेशा ये लगता था की 'क्या कुछ ऐसी नयी-नयी सी बात होगी जो मेरे इस गीत जैसी होगी ?'..'क्या सच में कुछ ऐसा होगा जो मुझे बहुत खुश कर जायेगा?"

"चुन के वो , जो लायेगा, जानूँ मै वो भायेगा, मिल जाएगी, मुझको कोई, जीने की फिर, मीठी वजह..."

ऐसा होने वाला था. २१ अप्रैल, २००९ को ही मुझे वो वजह मिली - अपने बेटे श्रेहान के आने की पहली खबर:). उस ख़ुशी को शब्दों में व्यक्त करना तो शायद बहुत मुश्किल होगा. इक और गीत ही उस ख़ुशी के नाम करना होगा. और संयोग ऐसा है की गीत रिकॉर्ड होने के ठीक इक साल बाद, ५ अप्रैल, २०१० को ही रश्मि प्रभा ने, जो की मेरी मौसी हैं और हिन्दीयुग्म की सक्रिय सदस्य, मुझे इस गीत को प्रतियोगिता में भेजने को कहा.

शायद यह गीत अब मेरी पहचान है. मेरे जीवन, मेरे संगीत में होने वाले उतार चढ़ाव का इक सुरीला इशारा:-)

मालविका निराजन
मालविका निराजन ने हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत गायन में प्रशिक्षण लिया है। और सोनू निगम के साथ सारेगामा के स्टेज पर भी रही हैं। इससे पहले इन्होंने गायक और कत्थक उस्ताद पं॰ बिरजू महाराज और उनके विद्यार्थियों के साथ ढेरों प्रोग्रेम किये हैं। इसके अलावा पंडित बिरजू महाराज द्वारा उनके विद्यार्थियों के लिए तैयार किये गये एल्बम 'छंद काव्य' में मालविका ने एकल और युगल गाया है।
Song - Ek Naya Din Chala
Voices, Music & Lyrics - Malvika Nirajan
Graphics - Samarth Garg


Song # 05, Season # 03, All rights reserved with the artists and Hind Yugm

इस गीत का प्लेयर फेसबुक/ऑरकुट/ब्लॉग/वेबसाइट पर लगाइए

Comments

Anonymous said…
bahut sundar geet :)
-kuhoo
Anonymous said…
thanks kuhoo...i have heard your voice on this site..sweet one! - malvika.
Anonymous said…
thanks kuhoo..I have heard your voice on this site..sweet one!
Anonymous said…
Very nice song. Good voice Malvika. All the best for future - Bips

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट 'तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर बनेगी प्रीत...'   ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस लघु श्रृंखला में हम आपसे भारतीय संगीत के रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था पर चर्चा कर रहे हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। व