Skip to main content

वार्षिक गीतमाला (पायदान ५० से ४१ तक)

वर्ष २००८ के श्रेष्ट ५० फिल्मी गीत (हिंद युग्म के संगीत प्रेमियों द्वारा चुने हुए),पायदान संख्या ५० से ४१ तक

५० वीं पायदान

नम्बर ५० पर है फ़िल्म "किड्नाप" का दर्द भरा गीत जिसे गाया है संदीप व्यास ने और वही इस गीत की सबसे बड़ी खासियत भी हैं. संगीत भी ख़ुद संदीप और उनके भाई संजीव का बनाया हुआ है, बोल भी ख़ुद संदीप और संजीव ने ही रचे हैं. संजय गाधवी की इस फ़िल्म को दर्शकों का प्यार नही मिला, इस साल के हॉट शॉट हीरो इमरान खान की खलनायकी भी इसे डूबने से नही बचा पायी. पर संगीत प्रेमियों के इस बेहद प्रभाशाली संगीत जोड़ी का काम अनदेखा नही होने दिया. "मिट जाए" मिट कर भी नही मिटा, तभी कोई इसे पचासवीं पायदान से नही पाया हटा.


४९ वीं पायदान

४९ वीं पायदान पर है अज़ीज़ मिर्जा के निर्देशन में बनी रोमांटिक फ़िल्म किस्मत कनेक्शन का गीत "कहीं न लागे मन", पहला नशा की तर्ज पर बने इस गीत में वही सवाल है जो हर नया नया प्रेमी ख़ुद से पूछता है यानी - क्या यही प्यार है. थीम वही पुराना है पर गीत फ़िर भी सुनने में मधुर लगता है. शब्बीर अहमद के बोलों को सुरों से सजाया है प्रीतम ने और आवाजें हैं श्रेया घोसाल और मोहित चौहान की. "डूबा डूबा" से शुरुआत करने वाले मोहित अब इंडस्ट्री में अपने पैर जमा चुके हैं, उनकी आवाज़ में मिठास भी है और मौलिकता भी. "कहीं न लागे मन" ने हासिल किया है ४९ वां स्थान, श्रेया और मोहित की आवाजों ने दिया गीत को नया आसमान...



४८ वीं पायदान

अन्विता दत्त गुप्तन के बोलों को विशाल शेखर ने संगीत से सजाया है और गाया है इसी जोड़ी ने विशाल ददलानी ने अपने अलग अंदाज़ में. दोस्ती और दोस्ताने पर पहले भी हिन्दी फिल्मों में ढेरों गीत लिखे जा चुके है. पर ये पूरी तरह से आज के दौर का गीत है. इसकी मौलिकता ही इसकी सबसे बड़ी खासियत है. अभिषेक बच्चन, जॉन अब्राहम और प्रियंका चोपडा के अभिनय से सजी ये फ़िल्म बेहद मनोरंजक है. और ये गीत भी है कुछ विशिष्ट. ४८ वीं पायदान पर जमाया कब्जा दोस्ताना के दोस्ताने ने, फ़िल्म को भी खूब सराहा शहरों के जवानों ने....


४७ वीं पायदान

बच्चों के लिए एक बेहद मनोरंजक फ़िल्म आई थी साल के शुरू में, थोड़ा प्यार थोड़ा मैजिक. जिसके लेखक निर्माता और निर्देशक थे कुणाल कोहली. यश राज बैनर के तले बनी ये फ़िल्म कुणाल की पिछली फ़िल्म फ़ना जैसी कमियाबी तो नही पा सकी पर गीत सभी बेहद बेहद अच्छे बने थे इस फ़िल्म के. प्रसून जोशी यहाँ अपने तारे ज़मीन पर वाले फॉर्म में नज़र आए तो शंकर एहसान और लॉय का संगीत भी दमदार रहा, इस मधुर गीत की आवाज़ दी है ख़ुद शंकर महादेवन ने. "प्यार के लिए" थोड़ा प्यार थोड़ा मैजिक मांगता है, इस मधुर गीत में प्रसून में शब्दों का जादू बोलता है.



४६ वीं पायदान

एक कदम और आगे बढ़ते हैं. मुंबई हादसे के बाद इस गीत ने सबका ध्यान अपनी तरफ़ खींचा. इस साल की एक बेहद चर्चित लीक से हट कर बनी फ़िल्म आमिर ने फ़िल्म निर्माण का एक नया पहलू दुनिया के लिए खोला. गीत को लिखा है अमिताभ वर्मा ने और स्वरबद्ध किया है अमित त्रिवेदी ने. अमिताभ वर्मा और शिल्पा राव की के गाये इस गीत में संवेदनाएं उभरकर सामने आती है. "एक लौ" ने रुलाया हर हिन्दुस्तानी को, सबने याद किया शहीदों की कुर्बानी को.


४५ वीं पायदान

जावेद जब्बार की लिखी एक बेहद सशक्त कहानी जो सच्ची घटनाओं पर आधारित है, को निर्देशित किया महरीन जब्बार ने और यकीन मानिये अपने पहली ही निर्देशित फ़िल्म में इस निर्देशक ने कमाल का काम किया है. जी हाँ हम बात कर रहे हैं फ़िल्म रामचंद पाकिस्तानी की जिसके इस नर्मो नाज़ुक गीत को बेहद उन्दा गाया है शफ़क़त अमानत अली ने. बोल लिखे हैं अनवर मक़सूद ने और संगीतकार हैं देब्याज्योती मिश्रा. "फ़िर वही रास्ते" गीत ने मिटाई सरहदी रेखा, रॉक बैंड फ़ुज़ोन के लीड गायक का एक नया रूप सबने देखा...



४४ वीं पायदान

तारा राम पम और सलाम नमस्ते जैसी फिल्में बनाने के बाद निर्देशक सिद्धार्थ आनंद ने अपनी नई फ़िल्म बचना ऐ हसीनों के लिए चुना रणबीर कपूर और दीपिका पदुकोन की चर्चित रोमांटिक जोड़ी को. हिट संगीत दिया एक बार फ़िर विशाल शेखर ने. अन्विता दत्त गुप्तन ने एक बार फ़िर कलम का जौहर दिखलाया. इस गीत की एक और खासियत है बहुत दिनों में सुनायी पड़ी लक्की अली की आवाज़, साथ में है श्रेया घोसाल. चढ़ता है नशा इस गीत का अहिस्ता अहिस्ता, सुन कर लक्की और श्रेया की मधुर आवाजें होश हो जाते हैं लापता...


४३ वीं पायदान

नीरज श्रीधर और सुनिधि चौहान का गाया "ख्वाब देखे" गीत है इस पायदान पर. संगीतकार हैं प्रीतम और लिखा है इसे समीर ने. इस तेज़ रफ़्तार फ़िल्म का संगीत भी काफी तेज़ रफ़्तार है. सितारों से भरी इस फ़िल्म की खासियत ये है की इस फ़िल्म में सभी किरदार नेगेटिव हैं. "ख्वाब देखे झूठे मूठे" गाया जब सुनिधि ने, जवान दिल झूम उठे वो समां बंधा सुनिधि ने.



४२ वीं पायदान

माँ दा लाडला एक साधारण गीत नही एक स्टेटमेंट है. बेशक फ़िल्म विदेश में शूट हुई है और अजय ब्रहमत जी ने इस कहा कि ये भारतीय परिवेश की फ़िल्म नही है. सही है, पर इस फ़िल्म में एक संवेदनशील मुद्दे को बेहद हलके फुल्के अंदाज़ में दिखाया गया है. बिगड़ रहे हैं कहीं न कहीं माँ दे लाडले अगर हम संकेत समझें इस गीत का. समीर मर्चंट के गाये इस गीत को लिखा है अन्विता दत्त गुप्तन ने और संगीत है एक बार फ़िर विशाल शेखर का. बिगड़ रहे हैं माँ दे लाडले संकेत है ऐसा मिलता, बिन आग के कभी धुवाँ नही उठता...


४१ वीं पायदान

साल की सबसे अन्तिम फ़िल्म गजिनी को मिला संगीतकार ऐ आर रहमान का साथ, प्रसून अपने बेहतरीन फॉर्म में नही हैं यहाँ पर रहमान के प्रिये गायक बेन्नी दयाल और श्रेया ने अपनी आवाजों से इस गीत में जान डाल दी है. फ़िल्म को खासी लोकप्रियता मिल रही है और संगीत भी लोगों की जुबान पे चढ़ रहा है. "कैसे मुझे तू मिल गयी" पुछा जब बेन्नी दयाल ने, गीत को पहुँचाया ४१ वीं पायदान पर रहमान के कमाल ने





चुनिए वर्ष के सर्वश्रेष्ठ संगीतकार, आवाज़ की टीम द्वारा चुने गए इन ४ नामों में से -

ऐ आर रहमान फ़िल्म जोधा अकबर के लिए

ऐ आर रहमान फ़िल्म जाने तू या जाने न के लिए

शंकर एहसान लॉय फ़िल्म रॉक ऑन के लिए और

सलीम सुलेमान फ़िल्म रब ने बना दी जोड़ी के लिए

या कोई अन्य

आप अपनी पसंद यहाँ टिपण्णी कर दे सकते हैं या फ़िर मेल करें podcast.hindyugm@gmail.com पर

Comments

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट 'तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर बनेगी प्रीत...'   ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस लघु श्रृंखला में हम आपसे भारतीय संगीत के रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था पर चर्चा कर रहे हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। व

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक