Skip to main content

सारी बस्ती निगल गया है (नई धुन, नई ग़ज़ल)

दूसरे सत्र के २५वें गीत के रूप में सुनिए एक ग़ज़ल


कुमार आदित्य
नाज़िम नक़वी
हम वर्ष २००८ के समापन की ओर बढ़ रहे हैं। हिन्द-युग्म की बड़ी उपलब्धियों में से एक उपलब्धि यह भी रही कि ४ जुलाई से अब तक हमने हर शुक्रवार एक नया गाना रीलिज किया। अब तक १७ संगीतकारों से अपना तार जोड़ा। ऐसे ही एक संगीतकार हमें मिले जो फिल्मों में जाने की तमन्ना रखते हैं, जिनके द्वारा कम्पोज एक गीत हमने पिछले शुक्रवार इस सत्र के २४वें गीत के रूप में ज़ारी किया था। आप इनके ऊर्जावान होने का अंदाज़ा यहाँ से लगा सकते हैं कि यह शुक्रवार आया और इन्हें एक नया गीत तैयार कर लिया। जिसमें फिर से इन्हीं की आवाज़ है। जी हाँ, हम अपने २५ गीत के रूप में हिन्द-युग्म के कवि नाज़िम नक़वी की एक ग़ज़ल 'जिस्म कमाने निकल गया है' रीलिज कर रहे हैं, जिसे संगीतबद्ध किया है ग्वालियर के संगीतकार कुमार आदित्य विक्रम ने और आवाज़ है खुद संगीतकार की। तो चलिए सुनते हैं हिन्द-युग्म का २५वाँ गीत-

value="transparent">
(सही उच्चारण के साथ)


We are heading towards the end of present session. We have releasing released a fresh song on every friday since 4 July 2008. This is one of the big achievements of Hind-Yugm. Today, we are going to rock you with a fresh Ghazal that is written by Poet Nazim Naqvi and composed by Kumar Aditya Vikram. Kumar Aditya Vikram has also given his voice to this new combo . Please listen and leave your comment.

value="transparent">
(With right pronounciation)

ग़ज़ल के अशआर

सूरज हाथ से फिसल गया है
आज का दिन भी निकल गया है

तेरी सूरत अब भी वही है
मेरा चश्मा बदल गया है

ज़ेहन अभी मसरूफ़ है घर में
जिस्म कमाने निकल गया है

क्या सोचें कैसा था निशाना
तीर कमां से निकल गया है

जाने कैसी भूख थी उसकी
सारी बस्ती निगल गया है

ग़ज़ल पसंद आने पर इसे अपने मित्रों तक पहुँचायें। अपने ब्लॉग/वेबसाइट/ऑरकुट स्क्रैपबुक/माईस्पैस/फेसबुक में 'जिस्म कमाने निकल गया है' का पोस्टर लगाने के लिए पसंदीदा पोस्टर का कोड कॉपी करें।



SONG # 25, SEASON # 02, JISM KAMANE NIKAL GAYA HAI, OPENED ON AWAAZ, HIND YUGM.
Music @ Hind Yugm, Where music is a passion.



Comments

बहुत अच्छे!
neelam said…
music is superb,and voice quality is also very gud ,sur taal to hume pata nahi ,magar behad karnpriya gajal hai .heartiest congratulations
to whole team for this nice presentation .
jehan ko kya aisa gaana theek tha ?thoda sa atak raha hai ,anyhow very gud ,great job .
सूरज हाथ से फिसल गया है

मन को छू लिया इस गजल ने

इसे गुनगुनाते हुए , कुछ पंक्तियाँ मेरे मन ने भी लिख डालीं
मेरी तरह वो भी तन्हाँ है
आग है इतनी , पिघल गया है

बहके क़दमों , मय को कोसे
हसरत सारी निगल गया है

छूटा निवाला , वक़्त के हाथों
ख्वाब तो सारा बिखर गया है

दिन दिन कर ये ,इक युग बीता
जीवन हाथ से फिसल गया है

आस सँजोये , रोज नई सी
सफर आसमाँ के निकल गया है
आदित्य, आपने बहुत सुंदर धुन बनाई है इस ग़ज़ल की और गायकी भी मुझे पिछले गीत से बेहतर और सधी हुई लगी....लेकिन ग़ज़ल हो या गीत शब्द स्पष्ट और सही उच्चारित होने जरूरी हैं...."जेहन" का उच्चारण पूरी तरह से ग़लत है....आपको भाषा पर श्याद थोड़ा और काम करना चाहिए
shanno said…
आदित्य जी,
इस गज़ल को इतनी खूबसूरत धुन देने के लिए धन्यबाद. मन होता है कि बस सुने ही जायें. ऐसा लगता है कि किसी सादी बस्तु को सजा दिया हो आपने. धुन इतनी आकर्षित करने वाली है कि जितनी तारीफ करुँ उतनी कम होगी.
shivani said…
आवाज़ के श्रोताओं को इस सत्र की २५वी रचना सुनवाने के लिए हिंद युग्म का बहुत बहुत धन्यवाद !इस उपलक्ष्य पर ये और भी ख़ुशी की बात है की ये ग़ज़ल भी हिंद युग्म के कवि नाजिम नकवी जी ने लिखी है !आदित्य जी आपने इस ग़ज़ल की शुरुआत बहुत मधुरता से की है !मुझको ये ग़ज़ल बहुत पसंद आई !आप दोनों को मेरी ओर से अनेकानेक शुभकामनाएं !
aditya ji ab perfect hai....thanks
Anonymous said…
bahut dard hai gazal me, sadhubad ! radhakrishna mangalam

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट 'तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर बनेगी प्रीत...'   ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस लघु श्रृंखला में हम आपसे भारतीय संगीत के रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था पर चर्चा कर रहे हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। व