Skip to main content

'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' की पहली वर्षगाँठ पर सुलझाइये कुछ नई आवाज़ों की 'सिने पहेली'


1 दिसम्बर, 2012
सिने-पहेली - 48  में आज

पहचानिए कुछ नये स्वरों को  


 
'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी पाठकों और श्रोताओं को सुजॉय चटर्जी का सप्रेम नमस्कार। आज का दिन 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' से जुड़े सभी प्रस्तुतकर्ताओं, पाठकों और श्रोताओं के लिए बेहद महत्त्वपूर्ण दिन है क्योंकि पिछले साल आज ही के दिन इसकी नीव रखी गई थी। देखते ही देखते हमने तय कर लिए 365 दिन का सफ़र। गत एक साल में (इस पोस्ट के बनने तक) इस ब्लॉग पर कुल 2283 प्रस्तुतियाँ (पोस्ट) हुई हैं, और देश-विदेश मिलाकर कुल 82215 बार इस ब्लॉग पर लोगों की हाज़िरी लगी है। अर्थात 6.25 प्रस्तुति प्रतिदिन और 225.24 ब्लॉग-विज़िट प्रतिदिन, जिसे आप हमारी उपलब्धि भी कह सकते हैं। और यह सम्भव हुआ आप सबके प्यार से। 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी पाठकों और श्रोताओं को धन्यवाद देते हुए आइए, आज की 'सिने पहेली' को आगे बढ़ाया जाए।


दोस्तों, आज से कुछ साल पहले तक फ़िल्म इंडस्ट्री में हर दौर की कुछ गिने-चुने पार्श्वगायक-गायिकाओं की आवाज़ें ही राज किया करती थीं। इन आवाज़ों को सुन कर पल में ही इनके नाम मस्तिष्क में आ जाया करता था। 2000 के दशक के मध्यकाल में गायिकाओं में सुनिधि चौहान और श्रेया घोषाल तथा गायकों में के.के, शान, कुणाल गाँजावाला, सोनू निगम जैसी आवाज़ें भी झट से पहचान ली जाती थी। पर उसके बाद जो दौर चल पड़ा, उसमें बहुत सी नई आवाज़ें एकदम से सिने-संगीत में आ गईं। कारण क्या था, यह तो वाद-विवाद का विषय है, पर जो भी है, इन नई आवाज़ों को अभी अपनी पहचान बनानी होगी ताकि दुनिया इन्हें सही मायने में पहचान सके। आप इन आवाज़ों को पहचान पाने में कितने सक्षम हैं? कितने अप-टू-डेट हैं आप, आज के फ़िल्म संगीत में? क्या नए फ़िल्मी गीतों के गायक-गायिकाओं के नाम आप याद रखते हैं? इसी की परीक्षा हम आज आपकी लेने जा रहे हैं। तैयार हैं न आप, आज की पहेली को सुलझाने के लिए? तो यह रही आज की 'सिने पहेली'।

आज की पहेली : नई तरंगें, नई आवाज़ें

नीचे दिये गये ऑडियो प्लेयर पर क्लिक करें और ध्यान से मेडली को सुनें। इसमें आपको दस अलग-अलग फ़िल्मी गीतों के अंश सुनने को मिलेंगे और हर अंश में एक गायक या गायिका की आवाज़ शामिल होगी। आपको इन दस गायक/ गायिकाओं को पहचानना है। फ़िल्म या गीत के बोल बताने की आवश्यक्ता नहीं है, बस गायक/गायिका के नाम लिख भेजिये उसी क्रम में जिस क्रम में ये गानें मेडली में दिये गए हैं।



ऑडियो का डाउन लोड लिंक
जवाब भेजने का तरीका

उपर पूछे गए सवालों के जवाब एक ही ई-मेल में टाइप करके cine.paheli@yahoo.com के पते पर भेजें। 'टिप्पणी' में जवाब कतई न लिखें, वो मान्य नहीं होंगे। ईमेल के सब्जेक्ट लाइन में "Cine Paheli # 48" अवश्य लिखें, और अन्त में अपना नाम व स्थान लिखें। आपका ईमेल हमें गुरुवार, 6 दिसम्बर, शाम 5 बजे तक अवश्य मिल जाने चाहिए। इसके बाद प्राप्त होने वाली प्रविष्टियों को शामिल नहीं किया जाएगा।

नये प्रतियोगियों का आह्वान 
नये प्रतियोगी, जो इस मज़ेदार खेल से जुड़ना चाहते हैं, उनके लिए हम यह बता दें कि अभी भी देर नहीं हुई है। इस प्रतियोगिता के नियम कुछ ऐसे हैं कि किसी भी समय जुड़ने वाले प्रतियोगी के लिए भी पूरा-पूरा मौका है महाविजेता बनने का। दो सप्ताह बाद से नया सेगमेण्ट शुरू हो रहा है, इसलिए नये खिलाड़ियों का आज हम एक बार फिर आह्वान करते हैं। अपने मित्रों, दफ़्तर के साथी, और रिश्तेदारों को 'सिने पहेली' के बारे में बताएँ और इसमें भाग लेने का परामर्श दें। नियमित रूप से इस प्रतियोगिता में भाग लेकर महाविजेता बनने पर आपके नाम हो सकता है 5000 रुपये का नगद इनाम। अब महाविजेता कैसे बना जाये, आइए इस बारे में आपको बतायें।

कैसे बना जाए 'सिने पहेली महाविजेता'

1. सिने पहेली प्रतियोगिता में होंगे कुल 100 एपिसोड्स। इन 100 एपिसोड्स को 10 सेगमेण्ट्स में बाँटा गया है। अर्थात्, हर सेगमेण्ट में होंगे 10 एपिसोड्स। 
2. प्रत्येक सेगमेण्ट में प्रत्येक खिलाड़ी के 10 एपिसोड्स के अंक जुड़े जायेंगे, और सर्वाधिक अंक पाने वाले तीन खिलाड़ियों को सेगमेण्ट विजेताओं के रूप में चुन लिया जाएगा। 
3. इन तीन विजेताओं के नाम दर्ज हो जायेंगे 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में। सेगमेण्ट में प्रथम स्थान पाने वाले को 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में 3 अंक, द्वितीय स्थान पाने वाले को 2 अंक, और तृतीय स्थान पाने वाले को 1 अंक दिया जायेगा। चौथे सेगमेण्ट की समाप्ति तक 'महाविजेता स्कोरकार्ड' यह रहा...


4. 10 सेगमेण्ट पूरे होने पर 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में दर्ज खिलाड़ियों में सर्वोच्च पाँच खिलाड़ियों में होगा एक ही एपिसोड का एक महा-मुकाबला, यानी 'सिने पहेली' का फ़ाइनल मैच। इसमें पूछे जायेंगे कुछ बेहद मुश्किल सवाल, और इसी फ़ाइनल मैच के आधार पर घोषित होगा 'सिने पहेली महाविजेता' का नाम। महाविजेता को पुरस्कार स्वरूप नकद 5000 रुपये दिए जायेंगे, तथा द्वितीय व तृतीय स्थान पाने वालों को दिए जायेंगे सांत्वना पुरस्कार।

पिछली पहेली के सही जवाब

पिछले सप्ताह की पहेली का समाधान यह रहा...

1- Men's Health
2- TV Media
3- TULIP
4- Film Fare
5- GQ
6- Elle
7- Grazia Men
8- Harpers Bazaar
9- The Man
10- Marie Claire

पिछली पहेली के परिणाम

'सिने पहेली' की पिछली कड़ी में हमसे एक नई प्रतियोगी जुड़ी हैं, गुड़गाँव हरियाणा की सीमा गुप्ता। सीमा जी, आपका हार्दिक स्वागत है 'सिने पहेली' में। क्योंकि 'सिने पहेली' का वर्तमान सेगमेण्ट समाप्ति की ओर बढ़ा जा रहा है, इसलिए अगले सेगमेण्ट से नियमित भाग लेकर आप भी महाविजेता की लड़ाई में शामिल हो सकती हैं।

'सिने पहेली - 47' में कुल 10 प्रतियोगियों ने भाग लिया और सभी के 100% जवाब आये। सबसे पहले सही जवाब भेज कर इस सप्ताह के 'सरताज प्रतियोगी' बने हैं पिट्सबर्ग, अमरीका के महेश बसंतनी। महेश जी, बहुत-बहुत बधाई आपको।
और अब ये रहा 'सिने पहेली सेगमेण्ट-5' के अब तक का सम्मिलित स्कोरकार्ड...



'सिने पहेली' को और भी ज़्यादा मज़ेदार बनाने के लिए अगर आपके पास भी कोई सुझाव है तो 'सिने पहेली' के ईमेल आइडी पर अवश्य लिखें। आप सब भाग लेते रहिए, इस प्रतियोगिता का आनन्द लेते रहिए, क्योंकि महाविजेता बनने की लड़ाई अभी बहुत लम्बी है। आज के एपिसोड से जुड़ने वाले प्रतियोगियों के लिए भी 100% सम्भावना है महाविजेता बनने का। इसलिए मन लगाकर और नियमित रूप से (बिना किसी एपिसोड को मिस किए) सुलझाते रहिए हमारी सिने-पहेली, करते रहिए यह सिने मंथन, आज के लिए मुझे अनुमति दीजिए, अगले सप्ताह फिर मुलाक़ात होगी, नमस्कार। 




Comments

Sajeev said…
सालगिरह की बहुत बहुत बधाई...चियर्स टू रेडियो प्लेबैक इंडिया
सालगिरह की बहुत बहुत बधाई...यदि संभव हो तो पहेली की आडियो फाइल का डाऊनलोड लिंक दे दें
बहुत बधाई!!
Sajeev said…
download link de diya hai
cgswar said…
प्रथम सालि‍गरह मुबारक हो रेडि‍योप्‍लेबैक इंडि‍या के सभी प्रस्‍तोताओं और श्रोताओं को..कामना है कि सालों साल चलता रहे ये सुहाना सफर...
Vijay Vyas said…
हार्दिक बधाई ।
Cheers...!!
Pankaj Mukesh said…
bahut bahut badhaiyaan pahlee salgirah ki!!agle mahine/ yani naye saal mein new year ke sath hum ek aur saal girah manane waale hain, cine paheli ka!!!mujhe yaad hai, 02 january 2012 cine paheli start huwa tha, jismein main participate nahin kar paya tha. main 13 january ki raat ko achanak "radioplaybackindia" se juda. kuchh search kar raha tha google par ye link mila aur dekha cine paheli ko jiska jawaab bejne ka last date tha, maine 2-3 aasaan saawalom ka answer next day morning sujoy ji ko send kar diya, unke accept karne par mera utsaah badha gaya, phir to har saptah monday ko cinepaheli ka intezaar rahta tha, tab cine paheli monday ko post hota tha....
bhagwaan kare ye aur bhadhe! badhta hi rahe aur phoole phale!!!!
aabaar sabhi team members ka!!!
Smart Indian said…
बार बार दिन ये आए! हार्दिक बधाई!

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया