Skip to main content

मैं तो प्यार से तेरे पिया मांग सजाऊँगी....नौशाद का रचा ये शृंगार रस से भरपूर गीत है सभी भारतीय नारियों के लिए खास

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 491/2010/191

भाव या जज़्बात वह महत्वपूर्ण विशेषता है जो जीव जंतुओं को उद्‍भीद जगत से अलग करती है। संस्कृत में 'रस' शब्द का अर्थ भले ही स्वाद, जल, सुगंध या फलों के रस के इर्द-गिर्द घूमता हो, लेकिन 'रस' शब्द को जीव जगत के नौ भावों या जज़्बात के लिए भी प्रयोग किया जाता है। ये वो नौ रस हैं जो हमारे मन का हाल बयान करते हैं। अगर हम इन नौ रसों के महत्व को अच्छी तरह समझ लें और किस रस को किस तरह से अपने में नियंत्रित रखना है, उस पर सिद्धहस्थ हो जाएँ, तो जीवन में सच्चे सुख की अनुभूति कर सकते हैं और हमारा जीवन सही मार्ग पर चल सकता है। 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के दोस्तों, नमस्कार और बहुत बहुत स्वागत आप सब का फिर एक बार इस महफ़िल में। आप सोच रहे होंगे कि मैं फ़िल्मी गीतों को छोड़ कर अचानक रस की बातें क्यों करने लगा। दरअसल, हमारे जो फ़िल्मी गीत हैं, वो ज़्यादातर कहानी के सिचुएशन के हिसाब से बनते हैं। और अगर कहानी है तो उसमें किरदार भी हैं, घटनाएँ भी हैं ज़िंदगी से जुड़े हुए, और तभी तो हर फ़िल्मी गीत में भी किसी ना किसी भाव का, किसी ना किसी जज़्बात का, किसी ना किसी रस का संचार होता ही है। इसलिए हमने सोचा कि क्यों ना एक ऐसी शृंखला चलाई जाए जिसमें इन नौ रसों पर आधारित एक एक गीत सुनवाकर इन रसों से जुड़े कुछ तथ्यों से भी आपका परिचय करवाया जाए! क्या ख़याल है आपका! आइए शुरु करें नौ रसों पर आधारित नौ फ़िल्मी गीतों से सजी लघु शृंखला 'रस माधुरी'! वेदिक काल से जो नौ रस निर्दिष्ट किए गए हैं, उनके नाम हैं शृंगार, हास्य, अद्‍भुत, शांत, रौद्र, वीर, करुण, भयानक, विभत्स। आइए शुरुआत करते हैं शृंगार रस से। शृंगार रस ही वह रस है जिस पर सब से ज़्यादा गीत बनते हैं, क्योंकि यह वह रस है जिसमें है प्यार, पूजा, कला, सौंदर्य और आकर्षण। इसे रसों का राजा (या रानी) माना जाता है और इसी रस पर यह दुनिया टिकी हुई है ऐसी धारणा है। शृंगार शब्द का शाब्दिक अर्थ है सजना सँवरना, लेकिन जब शृंगार रस की बात करें तो इसका अर्थ काफ़ी विशाल हो जाता है और उपर लिखे तमाम भाव इससे जुड़ जाते हैं। यहाँ तक कि भक्ति भी शृंगार रस का ही अंग होता है। शृंगार के भाव के भी दो पहलू हैं - एक है संभोग शृंगार (मिलन) और एक है विप्रलम्भ शृंगार (विरह)।

दोस्तों, १२ सितंबर से 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर लगातार आप लता मंगेशकर के गाए गानें सुनते चले आ रहे हैं। आज २६ सितंबर है और दो दिन बाद ही लता जी का जन्मदिन है। ऐसे में उनके गाए गीतों की इस लड़ी को भला हम कैसे टूटने दे सकते हैं! इसलिए हमने यह निर्णय लिया कि २८ सितंबर तक लता जी की आवाज़ ही छायी रहेगी 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की महफ़िल में। और वैसे भी शृंगार रस की बात हो, आदर्श भारतीय नारी और शृंगार की बात हो, ऐसे में लता जी की आवाज़-ओ-अंदाज़ से बेहतर इस रस के लिए और क्या हो सकती है। युं तो लता जी के गाए असंख्य शृंगार रस के गानें हैं जिनकी लिस्ट बनाने बैठें तो पता नहीं कितने दिन लग जाएँगे, लेकिन हमने इस कड़ी के लिए एक ऐसा गीत चुना है जो हमारे ख़याल इस रस की व्याख्या करने के लिए एक बेहद असरदार गीत है। और यह हम नहीं बल्कि महिलाएँ ख़ुद कह रही हैं। जी हाँ, नौशाद साहब ने ख़ुद इस गीत का ज़िक्र करते हुए ऐसा कहा था। इस गीत के बारे में जानिए ख़ुद नौशाद साहब के ही शब्दों में जिन्होंने इस गीत की रचना की थी। "मद्रास के वीनस कृष्णमूर्ती ने अपनी फ़िल्म 'साथी' के लिए मुझे म्युज़िक डिरेक्टर लिया और मजरूह सुल्तानपुरी को गीतकार। मैंने उनसे कह दिया कि आप मुझे स्टोरी, सिचुएशन समझा दीजिए, मैं उसे डायजेस्ट कर लूँगा, फिर मेरा काम शुरु होगा, शायर मेरे साथ बैठेगा, और मैं गानें बनाकर आपको दे दूँगा, यही मेरे काम करने का स्टाइल है। तो पहला गाना रेकॊर्ड करके मद्रास भेज दिया। फिर मुझे मद्रास बुलाया गया। वहाँ पहुँचा तो पता चला कि गाना सभी को बहुत अच्छा लगा है लेकिन डायरेक्टर श्रीधर साहब चाहते हैं कि गाना थोड़ा सा मॊडर्ण हो। मैंने उनसे कहा कि तब आप सीन भी बदल दीजिए। लगन मंडप और कृष्ण की मूर्ती की जगह चर्च में शूट कर लीजिए, फिर मैं सितार के बदले सैक्सोफ़ोन डाल दूँगा। फिर मैंने दूसरा गाना कॊंगो, बॊंगो वगेरह के साथ मॊडर्ण टाइप का बनाकर मद्रास ले गया। यह गाना भी सभी को पसंद आ गया और यह सवाल खड़ा हो गया कि कौन सा गाना रखा जाए। मैंने उनको यह सजेस्ट किया कि अगर हिंदी समझने वाले लेडीज़ हैं तो उन्हें प्रिव्यू थिएटर में सिचुएशन समझाकर दोनों गानें सुनवाया जाए और फिर उनकी राय ली जाए, उन्हीं को डिसाइड करने दीजिए कि कौन सा गाना अच्छा लगेगा क्योंकि यह गाना एक आम भारतीय स्त्री की भावनाओं से जुड़ी हुई है। सब को यह सुझाव पसंद आया और प्रिव्यू थिएटर में लेडीज़ को बुलाया गया और दोनों गानें बजाए गए। पहला गाना था "मैं तो प्यार से तेरे पिया माँग सजाउँगी" और दूसरा गाना था "मेरे जीवन साथी कली थी मैं तो प्यासी"। तो लेडीज़ जिन्हें हिंदी आती थी, बोलीं कि पहला गाना हमें दे दीजिए, हम हर सुबह अपने शौहर को इसी गाने से जगाया करेंगे।" तो लीजिए, शृंगार रस से भरा हुआ लता जी की मीठी आवाज़ में सुनिए फ़िल्म 'साथी' का यह गीत, मजरूह - नौशाद की रचना, इस फ़िल्म से संबंधित जानकारी हम फिर कभी देंगे जब इस फ़िल्म का कोई और गीत इस महफ़िल में शामिल होगा।



क्या आप जानते हैं...
कि नौशाद साहब शिकार और मछली पकड़ने का बड़ा शौक रखते थे। शक़ील और मजरूह के साथ पवई झील में मछली पकड़ा करते थे। बाद में वे 'महाराष्ट्र स्टेट ऐंगलिंग एसोसिएशन' के अध्यक्ष भी रहे।

पहेली प्रतियोगिता- अंदाज़ा लगाइए कि कल 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर कौन सा गीत बजेगा निम्नलिखित चार सूत्रों के ज़रिए। लेकिन याद रहे एक आई डी से आप केवल एक ही प्रश्न का उत्तर दे सकते हैं। जिस श्रोता के सबसे पहले १०० अंक पूरे होंगें उस के लिए होगा एक खास तोहफा :)

१. अद्‍भुत रस पर आधारित है यह गीत और गीत के मुखड़े का पहला शब्द भी "अद्‍भुत" का ही पर्यायवाची शब्द है। गीतकार का नाम बताएँ। ४ अंक।
२. इस गीत के मुखड़े के पहले चंद शब्द एक दूसरी फ़िल्म का शीर्षक है जो बनी थी १९९७ में और जिसके निर्देशक थे अजय गोयल। गीत के बोल बताएँ। १ अंक।
३. इस फ़िल्म का जो शीर्षक है उससे प्रेरीत हो कर हमने अभी हाल ही में 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की एक लघु शृंखला चलाई थी। फ़िल्म का नाम बताएँ। २ अंक।
४. संगीतकार बताएँ। ३ अंक।

पिछली पहेली का परिणाम -
पवन जी, प्रतिभा जी और नवीन जी को तो हम बधाई देते ही हैं, पर आज का दिन तो खास है अवध जी के नाम. अवध जी पहले भी कई बार लक्ष्य के करीब आ आकर चूक गए हैं पर इस बार उन्होंने सफलता पूर्वक इस लक्ष्य को साध लिया है. सभी दोस्तों से अनुरोध है कि वो हमारे अवध भाई को संगीतमयी बधाई देन....अवध जी ओल्ड इस गोल्ड और पूरे आवाज़ परिवार की तरफ़ से भी आपको इस शतक के लिए शत शत बधाई

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

singhSDM said…
गीतकार का नाम shailendra
*****
PAWAN KUMAR
AVADH said…
प्रिय सुजॉय जी,
बहुत बहुत धन्यवाद.
इज्ज़त अफ़ज़ाई के लिए शुक्रिया आपका और अपने सब संगीतप्रिय मित्रों का.
अब नियमों के अनुसार मैं केवल रोज़ हाज़िरी लगाऊँगा .आप सब को शुभ कामनाओं सहित,
अवध लाल
अवध सर! बधाई.
हा हा हा अब तो आपके पसंद के गाने सुनने को मिलेंगे.इंतज़ार करेंगे.
आशा है घर पर सब राजी खुशी होंगे.
बधाई हो अवध जी ! अभी थोडे दिन आपको भी वनवास झेलना पडेगा ।
manu said…
पहला गाना था "मैं तो प्यार से तेरे पिया माँग सजाउँगी" और दूसरा गाना था "मेरे जीवन साथी कली थी मैं तो प्यासी"। तो लेडीज़ जिन्हें हिंदी आती थी, बोलीं कि पहला गाना हमें दे दीजिए, हम हर सुबह अपने शौहर को इसी गाने से जगाया करेंगे।"...


bechaare mazrooh saahib...
mastkalandr said…
प्रिय सुजॉय जी..शुक्रिया
आपने बताया शृंगार के भाव के भी दो पहलू हैं - एक आपने सुनाया दूसरा हम से सुनिए ... अब के बरस भेज भैया को बबूल..फिल्म बंदिनी..मक् here with iam sending a link,i have uploaded few month ago in youtube

http://www.youtube.com/watch?v=IJ49phOAJnc

Song : Lakhi babul morey kahe ko biyahi bides...with ab ke baras bhej bhaiya ko babool..film bandidni
Enjoy original lyrics with English translation ...
Movie : Suhag Raat (1948),
Lyrics ; Ameer Khusaro
Music Director : Snehal Bhatkar
Cast ;Bharat Bhushan, Begum Para,Geeta Bali, Maruti ,
Director : Kidar Nath Sharma,

http://www.youtube.com/mastkalandr
http://www.youtube.com/9431885

Enjoy with me real rare GEM from hindi old is gold ..mastkalandr
बहुत दिन से सपीकर खराब होने से कुछ भी नही सुन सकी । कल ही ठीक हुये हैं तो आज हाजिर हूँ। आपकी प्र्स्तुति तो हमेशा ही ग्यानवर्द्धक और लाजवाब होती है। धन्यवाद।

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया